अनुदैर्घ्य तरंग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अनुदैर्घ्य तरंगे (Longitudinal waves) वे तरंगें हैं जिनमें माध्यम के कणों का विस्थापन तरंग की गति की दिशा या उसके विपरीत दिशा में ही होता है। इन्हें "l तरंगें" भी कहते हैं। यांत्रिक अनुदैर्घ्य तरंगों को संपीडन तरंगें (compressional waves) भी कहते हैं क्योंकि इन तरंगों के संचरण के कारण माध्यम के अन्दर संपीडन (compression) और विरलन (rarefaction) का निर्माण होता है।

अनुप्रस्थ तरंगें (transverse wave) इससे अलग प्रकार की तरंगें हैं जिनमें कणों के कम्पन की गति, तरंग के संचरण की गति के लम्बवत होती है।