अनाड़ी (1993 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अनाड़ी
अनाड़ी.jpg
अनाड़ी का पोस्टर
निर्देशक के मुरलीमोहन राव
निर्माता डी रामानायडू
लेखक कमलेश पांडे (संवाद)
कहानी पी. वासु
अभिनेता दग्गुबती वेंकटेश,
करिश्मा कपूर,
राखी गुलज़ार,
सुरेश ओबेरॉय,
जॉनी लीवर,
लक्ष्मीकांत बेर्डे,
गुलशन ग्रोवर,
संगीतकार आनंद-मिलिंद
प्रदर्शन तिथि(याँ) 26 मार्च, 1993
देश भारत
भाषा हिन्दी

अनाड़ी 1993 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है जिसे डी रामानायडू द्वारा सुरेश प्रोडक्शंस बैनर के तहत बनाया गया है। इसका निर्देशन के. मुरली मोहन राव ने किया है और मुख्य भूमिकाओं में वेंकटेश और करिश्मा कपूर हैं। पहले यह फिल्म तमिल सिनेमा में चिन्न तंबी (छॉटा भाई) (1991) के नाम से बनायी गई था। फिर इस को तेलुगू भाषा में चंटी (1992) के नाम से बनाया गया था। तेलुगू और तमिल फिल्मों में नायिका मीना थी और तेलुगू और हिंदी फिल्मों में नायक वेंकटेश थे।

संक्षेप[संपादित करें]

कहानी जमींदारी की दुनिया में एक बच्ची, राज नंदिनी के जन्म से शुरू होती है। जमींदारों का हर शब्द ग्रामीणों के लिए कानून है। तीन भाई नंदिनी को अपने बच्चे की तरह पालते हैं क्योंकि उनके माता-पिता की मृत्यु हो चुकी है। 5 साल की उम्र में, एक ज्योतिषी भविष्यवाणी करता है कि नंदिनी परिवार में बहुत खुशी लाएगी। लेकिन उसकी शादी उसकी पसंद पर आधारित होगी, न कि उसके बड़े भाइयों की पसंद पर। ऐसा होने से रोकने के लिए, उसे घर की सीमाओं के भीतर रखा जाता है। उसकी पढ़ाई घर पर ही कराई जाती है और जब वह बाहर जाती है, तो सभी पुरुषों को नंदिनी से छिपने की चेतावनी दी जाती है।

राज नंदिनी (करिश्मा कपूर) युवावस्था तक पहुंचती है। उसके आस-पास के कुछ पुरुष, सेवा कर्मचारी और उसके अंगरक्षक हैं। इस बीच एक लड़का सीधा-सीधा जल्दी बातों में आनेवाला, रामा (वेंकटेश) गाँव में गाने गाकर समय व्यतीत करता है। वह कभी विद्यालय नहीं गया। उसको उसकी विधवा माँ सावित्री (राखी गुलज़ार) द्वारा पाला गया है। एक दिन अंगरक्षक रामा से लड़ाई करते हैं जो उन्हें पीट देता है। राम के भोलेपन और युद्ध कौशल से प्रभावित, नंदिनी के भाई रामा को नंदिनी के अंगरक्षक और बावरची के रूप में रख लेते हैं। इस बीच, नंदिनी, स्वतंत्रता की कमी से नाराज होना शुरू कर देती है। वह रामा को अपने भाइयों के ज्ञान के बिना गाँव दिखाने की कहती है। रामा उसकी इच्छाओं का अनुपालन करता है और उसे गाँव दिखाता है, जिसके परिणामस्वरूप नंदिनी बीमार पड़ जाती है। नंदिनी के बीमार होने के लिए रामा को दोषी ठहराया जाता है और भाइयों द्वारा पीटा जाता है। नंदिनी, जिसने अब रामा को पसंद करना शुरू कर दिया है, उसे दोषी ठहराए जाने के कारण बुरा महसूस करती है। नंदिनी को पता चलता है कि वह अब रामा से प्यार करती है।

एक दिन, एक कर्मचारी नंदिनी को भाइयों के स्वामित्व वाले नए कारखाने के उद्घाटन के अवसर पर मारने की योजना बनाता है। रामा साज़िश को सुन लेता है, और नंदिनी को बचाने के एक हताश प्रयास में, उसे सार्वजनिक रूप से छूता है। उसके भाई आगबबूला होते हैं। उन्होंने उसे लगभग मारने के बिंदु तक पीटा। जब रामा स्थिति के बारे में बताता है तो वे शर्म में अपने सिर लटकाते हैं। नंदिनी की मूक माफी के बावजूद रामा अपनी नौकरी छोड़ देता है। उस रात नंदिनी रामा से मिली और माफी माँगने का फैसला करती है। वह रामा को अपनी गर्दन के चारों ओर मंगलसूत्र बांधने के लिए आश्वस्त करती है जो उसे उसके भाइयों से बचाएगा। रामा, इस प्रक्रिया के पवित्रता को महसूस किए बिना, जैसा कहा गया करता है। उसे यह नहीं पता कि वह अब से विवाहित है। राम काम पर वापस आता है और नंदिनी के जीवन को बचाने के लिए भाइयों ने उसे उच्च स्तर का सम्मान दिया है। नंदिनी भी अपने पति की देखभाल करने में अपनी भाभियों का अनुकरण करना शुरू कर देती है। इससे रामा घबरा जाता है, लेकिन वह अभी भी अनजान रहता है। नंदिनी को यह एहसास हुआ कि उसके भाई उसकी शादी करने की कोशिश कर रहे हैं। वह रामा को यह समझाने की कोशिश करती है कि वे पहले ही विवाहित हैं। राम समझने से इंकार कर देता है और अपनी मां के पास चला जाता है। भाइयों को पता चलता है कि क्या हुआ और उन्होंने रामा की मां को अपमानित करने का प्रयास किया ताकि वह बताए कि उसका बेटा कहाँ छुपा है। वह अपने बेटे द्वारा समय पर बचाई जाती है जो लगभग भाइयों को जान से मार देता है। रामा अपनी पत्नी को बचाने के लिए वापस दौड़ता है और उसे गायन के साथ पुनर्जीवित करता है और फिल्म नंदिनी के ठीक होने के साथ समाप्त होती है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

संगीत आनंद-मिलिंद द्वारा दिया गया है और बोल समीर के हैं।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."फूलों सा चेहर तेरा"उदित नारायण6:49
2."क्या मौसम आया है"उदित नारायण, साधना सरगम6:23
3."बम अकर बम के"उदित नारायण5:07
4."छोटा सी प्यारी सी" (I)उदित नारायण4:34
5."जाने जाँ जाने जाँ" (I)साधना सरगम5:02
6."रोना चाहे रो ना पाए"उदित नारायण5:35
7."छोटा सी प्यारी सी" (II)अलका याज्ञिक4:29
8."जाने जाँ जाने जाँ" (II)उदित नारायण4:55
9."प्यार में दिल दे दिया"कुमार सानु, अलका याज्ञिक5:47
कुल अवधि:48:41

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

प्राप्तकर्ता और नामांकित व्यक्ति पुरस्कार वितरण समारोह श्रेणी परिणाम
राखी गुलज़ार फिल्मफेयर पुरस्कार फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री पुरस्कार नामित
उदित नारायण ("फूलों सा चेहर तेरा") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक पुरस्कार नामित

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]