अनंगपाल तोमर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अनंगपाल तोमर तोमर वंश के एक राजा थे, जिन्होंने भारत में हरियाणा और दिल्ली के क्षेत्रों पर शासन किया था।[1][2]

अनंगपाल के बारे में बहुत कम जानकारी है, जिनके पूर्वज सहस्राब्दी शताब्दी के अंत में मुुस्लिम सुल्तान के दमन के कारण अरावली पहाड़ियों के क्षेत्र मेेवात में बस गए थे। अभिलेखो मे सालेरिया ब्रदर का उल्लेख मिलता हे सालेरिया काकुराणा ने अरावली मेे घासेडा को अपनी राजधानी बनाया! अनंगपाल की जानकारी के लिए प्राथमिक स्रोत पृथ्वीराज रासो से आता है, पृथ्वीराज चौहान का इतिहास जो बहुत बाद में लिखा गया था। कुछ सूत्रों का कहना है कि लाल कोट में भौतिक साक्ष्य (शाब्दिक रूप से लाल किला, वर्तमान लाल किले से भ्रमित न हो), जिसके बारे में लगता है कि उन्होनें इसका निर्माण करवाया था और जो इस क्षेत्र का सबसे पुराना पहचान योग्य शहर है, यह बताता है कि वह ग्यारहवीं शताब्दी रहते थे लेकिन अन्य लोग बताते हैं कि यह 8 वीं शताब्दी थी।[3] एतिहासिक पुस्तकों ने अनंगपाल तोमर को गुर्जर के रूप में वर्णित किया। राजपूत और जाट जैसे अन्य समुदायों ने भी अनंगपाल को अपना पूर्वज होने का दावा किया है।[4]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Mukherji, Anisha Shekhar (2003). The Red Fort of Shahjahanabad (अंग्रेज़ी में). Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-565775-3. मूल से 27 मार्च 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 मई 2020.
  2. Blake, Stephen P. (2002-04-30). Shahjahanabad: The Sovereign City in Mughal India 1639-1739 (अंग्रेज़ी में). Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-521-52299-1.
  3. Singh, Khushwant (2001). City Improbable: An Anthology of Writings on Delhi (अंग्रेज़ी में). Viking.
  4. Khari, Rahul (2007). Jats and Gujars: Origin, History and Culture (अंग्रेज़ी में). Reference Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-8405-031-8.