अतिथिदेवो भव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

अतिथिदेवो भव (अर्थ : अतिथि को भगवान के समान समझो ), भारतीय संस्कृति में अतिथि के महत्व को इंगित करने वाला सूत्र है। यह अवधारणा नमस्ते (अर्थ : मैं आप के सामने नतमस्तक हूँ) से भी आगे जाती है। यह तैत्तिरीय उपनिषद के शिक्षावल्ली में आया हुआ है। शिक्षा प्रदान करने के बाद आचार्य विद्यार्थियों को विदाई के पहले यह कहते हैं:

मातृदेवो भव, पितृदेवो भव, आचार्यदेवो भव, अतिथिदेवो भव।
(माता को देवता समझो, पिता को देवता समझो, आचार्य को देवता समझो, अतिथि को देवता समझो।)