अग्नि (आयुर्वेद)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

आयुर्वेद के अनुसार पाचन एवं उपापचय की सभी क्रियाएं अग्नि के द्वारा सम्पन्न होतीं हैं। इसको 'पक्वाग्नि' कहते हैं। अग्नि को आहार नली, यकृत तथा ऊतक कोशिकाओं में मौजूद एंजाइम के रूप में समझा जा सकता है।

अग्नि चार प्रकार की होती है:

  1. समाग्नि (सम + अग्नि),
  2. मन्‍दाग्नि (मन्द + अग्नि),
  3. तीक्ष्‍णाग्नि (तीक्ष्ण + अग्नि), और
  4. विषमाग्नि (विषम +अग्नि)।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]