अगैथोकोलीया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अगैथोकोलीया, कवच में.खड़े स्त्रातो के साथ
अगैथोकोलीया का सिक्का
Obv: रानी अगैथोकोलीया प्रोफ़ाइल में
Rev:: ग्रीक सीधा धनुष और तीर कंटेनर।
स्त्रातो पहले का सोने का सिक्का, "दिव्य अगैथोकोलीया" के साथ।

अगैथोकोलीया थियोट्रोपोस (यूनानी: Ἀγαθόκλεια Θεότροπος; विशेषण संभवतः मतलब देवी जैसी) एक इंडो-ग्रीक रानी थी जिस ने उत्तरी भारत के कुछ हिस्सों में दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व में अपने बेटे स्त्रातो पहले के लिए रीजेंट के रूप में शासन किया था।

तारीख और वंशावली[संपादित करें]

पारंपरिक नज़रीया, जिसे टार्न द्वारा पेश किया गया और बोपारचाची ने देर बाद1998 में बचाव किया, यह है कि अगैथोकोलीया मेनैंडर पहले की विधवा थी। मेनैंडर की मृत्यु के बाद गृह युद्धों में, इंडो-ग्रीक साम्राज्य को विभाजित किया गया था, अगैथोकोलीया और उनके जवान पुत्र स्त्रातो गांधार और पंजाब के पूर्वी क्षेत्रों में खुद को बनाए रखा था। 

 स्त्रातो और अगैथोकोलीया के सिक्के

आधुनिक नज़रीया, जो आर सी सीनियर का था और शायद अधिक ठोस है न्यूज़माटिकल विश्लेषण पर आधारित है, यह सुझाव देता है कि अगैथोकोलीया बाद की रानी थी, शायद 110 ईसा पूर्व -100 बीसी या थोड़ी देर बाद से शासन किया था। इस मामले में, अगैथोकोलीया संभवतः एक और राजा की विधवा थी, संभवतः निकियास या थियोफिलस की। इस सूरत में, अगाथाकोलीया सिकंदर द ग्रेट के शासनकाल के बाद की अवधि में एक हेलेनिस्टिक किंगडम पर शासन करने वाली पहली महिलाएं में से एक थी।