अखेनातेन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
फारो अखेनातेन

फारो अखेनातेन (१३५१-१३३४ ईपू) मिस्र के १८वें वंश का था। उसने मिस्र के प्राचीन धर्म पर प्रतिबन्ध लगाया और केवल अतेन नामी सूर्य की चक्रिका की उपासना का आदेश दिया। उसे पाश्चात्य विद्वान विश्व का पहला एकेश्वरवादी मानते हैं। पहले इसका नाम अमेनहोतेप ४ था। पर नया धर्म चलाने के पश्चात इसने यह बदलकर अखेनातेन कर दिया।

अखेनातेन और उसका परिवार सूर्य की पूजा करता हुआ

नेफरतिति उसकी पहली पत्नी थी। मित्तानी राजकुमारी तदुक्षिपा उसकी दूसरी रानी बनी। एक अवधारणा यह है कि इसका धार्मिक परिवर्तन तदुक्षिपा के आगम की भ्रमित समझ पर आधारित था। सुभाष काक के अनुसार उसके सूर्य स्तोत्र और ऋग्वेद के सूर्य सूक्तों में महत्वपूर्ण सादृश्य है।[1]

अखेनातेन का सूर्य स्तोत्र बाइबल के पूर्वविधान (Old Testament) में १०४वें स्तोत्र के रूप में मिलता है।

उसकी मृत्यु पशचात उसके नये धर्म दबाया गया। कुछ विद्वान समझते हैं[2] कि मूसा ने इसी के विचारों को दुबारा उठाना चाहा।

यदि यह सिद्धान्त सही है तो यह विडम्बना है कि अखेनातन की परम्परा, जिसे यहूदी ईसाई और इसलामी धर्मों का पूर्वरूप माना जाता है, स्वयं इसकी विरोधी सनातन धर्म की परम्परा पर आधारित है।

अखेनातेन , नेफरतिति और उनके बच्चे

अखेनातेन के उत्तराधिकारी[संपादित करें]

उसके राज के अन्त में स्मेन्खरे जो उसका अर्ध-भ्राता अथवा पुत्र था सहसम्राट बना। कुछ और देर में पुत्र तुथंखमुन सम्राट बना।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. सुभाष काक, in The Golden Chain (ed. G.C. Pande), Delhi, 2005.
  2. S. Freud, Moses and Monotheism.

बाह्य कडियां[संपादित करें]