अइमाक़ लोग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ईरानी भाषाओं के विस्तार का नक्शा

अइमाक़​ (ایماق‎‎, Aimaq) हेरात नगर से उत्तर में पश्चिम-मध्य अफ़्ग़ानिस्तान में और ईरान के ख़ोरासान प्रांत​ में विस्तृत कुछ ईरानी भाषाएँ बोलने वाले ख़ानाबदोश क़बीलों का सामूहिक नाम है।[1][2] यह फ़ारसी की कई अइमाक़​ उपभाषाएँ बोलते हैं, हालांकि इनके तइमानी और मालेकी उपसमुदायों ने पश्तो भाषा और पश्तून संस्कृति अपना ली है। अफ़्ग़ानिस्तान के ग़ोर प्रान्त में अइमाक़ बहुसंख्यक समुदाय समझे जाते हैं। इसके अलावा यह बड़ी संख्या में हेरात और बादग़ीस प्रान्तों में और कम संख्या में फ़राह, फ़ारयाब, जोज़जान और सर-ए-पोल प्रान्तों में भी रहते हैं।[3]

समुदाय की जड़ें और शाखाएँ[संपादित करें]

अइमाक़ लोग जातीय रूप से हज़ारा लोगों और ताजिक लोगों से गहरा सम्बन्ध रखते हैं और अफ़्ग़ानिस्तान की सरकारी जनगणना में उन्हें ताजिक समुदाय का हिस्सा गिना जाता है। 'अइमाक़' मंगोल भाषा के अइमग शब्द का एक और रूप है, जिसका अर्थ 'क़बीला' या '(घास) चराने का क्षेत्र' होता है। 'अइमाक़' शब्द में 'क़' अक्षर के उच्चारण पर ध्यान दें क्योंकि यह बिना बिन्दु वाले 'क' से ज़रा भिन्न है। इसका उच्चारण 'क़रीब' और 'क़ीमत' के 'क़' से मिलता है। अइमाक़ों की चार मुख्य शाखाएँ मानी जाती है, जिस कारणवश इन्हें 'चहार अइमाक़' भी कहा जाता था (यानी 'चार क़बीले', क्योंकि 'चहार' शब्द फ़ारसी भाषा में 'चार' का ही रूप है)। यह चार मुख्य गुट तइमानी (Taimani), फ़िरोज़कोही (Firozkohi), तैमूरी (Taimuri) और जमशीदी (Jamshidi) हैं। इनके अतिरिक्त कुछ 'अन्य अइमाक़' गुट भी हैं जिन्हें 'अइमाक़-ए-दीगर' कहा जाता है, मसलन ताहिरी, ज़ूरी, मालेकी और मिशमस्त। कुछ स्रोत हज़ारा लोगों को चहार अइमाक़ की एक मुख्य शाखा बताते हैं और तैमूरी को अइमाक़-ए-दीगर में से एक कहते हैं।[4]

अन्य विवरण[संपादित करें]

अइमाक़ों की कुल संख्या २.५ लाख से २० लाख के बीच अनुमानित की जाती है। इसमें इतना संदेह इसलिए है क्योंकि एक तो अफ़्ग़ानिस्तान उन्हें ताजिकों से अलग नहीं गिनता और दूसरा इनमें से बहुत से बंजारों का जीवन व्यतीत करते हुए जगह-से-जगह जाते हैं। तैमूरी अइमाक़ का रूप-रंग मंगोलियाई होता है और वे मंगोल शैली के यर्तों (तम्बुनुमा घरों) में रहते हैं।[5] लेकिन तइमानी, फ़िरोज़कोही और जमशीदी अइमाक़ ईरानियों की तरह दिखते हैं और अक्सर अपने आप को ताजिक बुलाते हैं। हालांकि अइमाक़ हज़ारा लोगों से सम्बंधित हैं, अइमाक़ अधिकतर सुन्नी इस्लाम के अनुयायी होते हैं जबकि हज़ारा ज़्यादातर शिया हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदभ[संपादित करें]

  1. Tom Lansford -A bitter harvest: US foreign policy and Afghanistan 2003 Page 25 "The term Aimaq means "tribe" but the Aimaq people actually include several different ethnic groups. The classification has come to be used for a variety of nonaligned nomadic tribes"
  2. Aymaq Archived 2012-07-27 at the Wayback Machine, A. Janata, Ehsan Yarshater (editor), Encyclopædia Iranica Online Edition, Columbia University
  3. The Afghans Archived 2014-02-20 at the Wayback Machine, Willem Vogel, pp. 18, 382, Wiley-Blackwell, 2002, ISBN 0-631-19841-5, Accessed 23 जनवरी 2012
  4. The Afghans Archived 2014-02-20 at the Wayback Machine, Willem Vogel, pp. 37, Wiley-Blackwell, 2002, ISBN 0-631-19841-5, Accessed 23 जनवरी 2012
  5. "Afghanistan". Encyclopædia Britannica. Ultimate Reference Suite. Chicago: Encyclopædia Britannica, 2008.