अंतः गर्भाशयी युक्ति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ताँबे की टी-आकार वाली अंतःगर्भाशयी युक्ति, जिसे निकालने के लिये डोरियाँ लगी हैं।

अंतः गर्भाशयी युक्ति (इंट्रा यूट्राइन डिवाइस - आई यू डी) गर्भधारण को रोकने वाला एक उपकरण है। यह छोटा, अक्सर T-आकार का होता है जिसे महिला के गर्भाशय में डाला जाता है। ये युक्तियाँ डॉक्टरों या अनुभवी नर्सों द्वारा योनि मार्ग से गर्भाशय में लगाई जाती हैं। यह युक्ति एक लंबे समय तक काम करने वाली प्रतिवर्ती जन्म नियंत्रण का एक रूप है।

जन्म नियंत्रण विधियों में, आईयूडी, गर्भनिरोधक प्रत्यारोपण के साथ, उपयोगकर्ताओं के बीच सबसे अधिक संतुष्टि देने वाली साबित हुई है। साक्ष्य, किशोरों में इसकी प्रभावशीलता और सुरक्षा का समर्थन करते हैं और उनमें भी समर्थन करते हैं जिनके पास पहले से या तो बच्चे थे या नहीं थे। एक बार इसे हटाने के बाद, लंबी अवधि के उपयोग के बाद भी, प्रजननशीलता जल्द ही सामान्य रूप में वापस आती है। विफलता दर तांबे के उपकरणों के साथ 0.8% और उपयोग के पहले वर्ष में हार्मोनल (लेवोनोर्जेस्ट्रल) उपकरणों के साथ 0.2% हैं।

तांबे की आईयूडी से मासिक धर्म में खून बह रहा हो सकता है और अधिक दर्दनाक ऐंठन में वृद्धि हो सकती है, जबकि हार्मोनल युक्ति मासिक धर्म के खून बहने को कम कर सकती है या मासिक धर्म पूरी तरह बंद कर सकती है। क्रैम्पिंग का गैर स्टेरॉयडल सूजन-विरोधी दवा के साथ इलाज किया जा सकता है। अन्य संभावित जटिलताओं में निष्कासन (2-5%) और कभीकभार ही गर्भाशय में छिद्र (0.7% से भी कम) शामिल हैं। अंतः गर्भाशयी युक्तियाँ स्तनपान को प्रभावित नहीं करती है और डिलीवरी के तुरंत बाद डाली जा सकती हैं। गर्भपात के तुरंत बाद भी उनका इस्तेमाल किया जा सकता है।

प्रकार[संपादित करें]

कॉपर टी (पैरागार्ड टी ३८०A

उपलब्ध अंतः गर्भाश्यी युक्तियों के नाम स्थान के आधार पर भिन्न होते हैं। मुख्य प्रकार की अंतः गर्भाशयी युक्तियाँ निम्न प्रकार की हैं।

  • औषधिरहित आई यू डी (लिप्पेस लूप)
  • ताँबा मोचक आईयूडी (कॉपर-टी, कॉपर-७, मल्टीलोड ३७५)
  • हॉर्मोन मोचक आई यू डी (प्रोजेस्टासर्ट, एल एन जी-२०)

क्रियाविधि[संपादित करें]

Intra uterine device hindi.png

आईयूडी मुख्यतः निषेचन को रोकने का काम करती है। हार्मोनल आईयूडी से जारी किए गया प्रोजेस्टेरॉन डिंबोत्सर्जन को आंशिक रूप से ही रोक सकता है। हार्मोन ग्रीवा बलगम को भी मोटा बनाता है जिससे शुक्राणु फैलोपियन ट्यूबों तक नहीं पहुंच पाता है। कॉपर आईयूडी में कोई हार्मोन नहीं होता है, लेकिन गर्भाशय ग्रीवा बलगम में ताँबा आयन मोचित होने से वह शुक्राणुओं के लिए विषाक्त हो जाता है। वे गर्भाशय और फैलोपिन ट्यूबों से सफेद रक्त कोशिकाओं, तांबे के आयनों, एंजाइमों और प्रोस्टाग्लैंडीन युक्त द्रव का उत्पादन करवाते हैं जिससे गर्भाशय में भ्रूण का रोपण अनुपयुक्त हो जाता है तथा गर्भाशय ग्रीवा शुक्राणुओं के लिए विरोधी हो जाती है। ताँबा मोचक आईयूडी की आपातकालीन गर्भनिरोधक के रूप में बहुत ही उच्च प्रभावशीलता है जो यह दर्शाता है की वे ब्लास्टोसिस्ट के आरोपण को रोकने के द्वारा भी कार्य कर सकते हैं। गैर-आपातकालीन उपयोग में, आरोपण को रोकना एक विशिष्ट क्रिया नहीं बल्कि एक असाधारण क्रियाविधि है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]