555 टाइमर आईसी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
सिग्नेटिक्स द्वारा निर्मित ८-पिन वाली NE555

555 टाइमर आईसी अत्यन्त लोकप्रिय टाइमर आईसी है। इसे भांति-भांति के टाइमर, पल्स उत्पादन, एवं आसिलेटर अनुप्रयोगों में काम में लाया जाता है। इस आईसी की डिजाइन सन १९७० में प्रस्तावित की गयी थी।

आन्तरिक परिपथ का ब्लॉक-चित्र[संपादित करें]

NE555 आईसी के आन्तरिक परिपथ का ब्लॉक-चित्र

पिनों का विवरण[संपादित करें]

555 का पिन-आउट

५५५ आठ पिन वाली आईसी है। इसके पिनों के कार्य निम्नलिखित सारणी में दिए हैं:

पिन संख्या पिन का नाम कार्य
1 GND ग्राउण्ड पिन
2 TR (Trigger) जैसे ही यह पिन CTRL/2 से कम हो जाती है त्यों ही OUT पिन हाई हो जाता है। जब CTRL ओपेन हो तो इस पर वोल्टता का मान लगभग VCC/3 होता है)
3 Q (Output) यह आउटपुट हाई होने पर +VCC से लगभग 1.7V नीचे रहता है।
4 R (Reset) इस पिन को 'लो' (GND) कर देने से टाइमिंग अन्तराल रिसेट हो जाता है। तथा जब तक RESET लगभग 0.7 से ऊपर न चला जाय तब तक ताइमिंग शुरू नहीं होता।
5 CV (ControlVoltage) आन्तरिक वोल्टेज डिवाइडर को कंट्रोल प्रदान करता है। (न बदला जाय तो इसका मान लगभग 2/3 VCC होता है।).
6 THR (Threshold) जब इस पिन का वोल्टेज CTRL पिन के वोल्टेज से अधिक हो जाता है तब आउटपुट 'हाई' से 'लो' चला जाता है।
7 DIS (Discharge) यह 'ओपेन कलेक्टर' आउटपुट है जो OUT पिन के फेज में रहता है। प्रायः इसका उपयोग किसी संधारित्र को डिस्चार्ज करने के लिए करते हैं।
8 UCC यह इस आईसी का धनात्मक सप्लाई वोल्टेज है जो प्रायः 3 से 15 V के बीच रखा जाता है।

कार्य के विभिन्न मोड[संपादित करें]

555 को तीन मोड में काम में लिया जाता है-

  1. मोनो-स्टेबल
  2. अ-स्टेबल
  3. बाई-स्टेबल

अ स्टेबल मल्टीवाइव्रेटर[संपादित करें]

अ-स्टेबल मल्टीवाइव्रेटर के रूप में NE555 का उपयोग

अस्टेबल मल्टीवाइव्रेटर के रूप में काम लेने के लिए परिपथ कई प्रकार से बनाया जा सकता है। सामने चित्र में दिया परिपथ सामान्यतः इस कार्य के लिए प्रयोग में लाया जाता है। इसके संगत आउटपुट पिन पर प्राप्त आवृत्ति निम्नलिखित सूत्र से प्राप्त होती है-

f = \frac{1}{\ln(2) \cdot C \cdot (R_1 + 2R_2)}[1]

या,

f = \frac{1}{0.693 \cdot C \cdot (R_1 + 2R_2)}

मोनोस्टेबल मल्टीवाइव्रेटर[संपादित करें]

555 का मोनोस्टेबल (मोनोशॉट) के रूप में उपयोग

५५५ आई सी को मोनोशॉट के रूप में काम लेने के लिए पार्श्व चित्र के अनुसार जोड़ा जाता है।

आउटपुट में प्राप्त पल्स की अवधि निम्नलिखित सूत्र से दी जाती है-

 T = \ln(3) \cdot R \cdot C [s]

 T \approx 1,1 \cdot R \cdot C [सेकेण्ड]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. van Roon Chapter: "Astable operation".

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

डेटाशीट
लेख