९०३७७ सेडना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

९०२७७ सेडना एक बहुत बड़ी नेप्चून-पार वस्तु है, जो २०१२ को सूर्य से नेप्चून से भी लगभग तीन गुना दूर थी। स्पेक्ट्रोस्कोपी से पता चला है कि सेडना की सतह की संरचना इसी तरह की कुछ अन्य दूसरी नेप्चून-पार वस्तुओं के समान है, जो बड़े पैमाने पर जल, मीथेन और थोलिंस युक्त नाइट्रोजन बर्फ के एक मिश्रण से बनी हुई है। इसकी सतह सौरमंडल में सबसे अधिक लालिमायुक्त सतहों में से एक है। ना इसका द्रव्यमान ज्ञात है, ना इसका आकार अच्छी तरह से मालूम है और ना ही इसे आई..यु. से एक बौने ग्रह के रूप में औपचारिक मान्यता मिली है, हालांकि कई खगोलविदों द्वारा इसे उनमे से एक माना जाता है।

अपनी कक्षा में भ्रमण करते हुए यह वर्तमान की अपेक्षा सूर्य से और भी ज्यादा दूर होता है, अपने सूर्योच्च पर यह अनुमानतः ९६० खगोलीय इकाई ( नेप्चून से ३२ गुना अधिक दूर ) पर होता है, जो इसे दीर्घ-अवधि धूमकेतुओं के अलावा सौरमंडल में ज्ञात अन्य सबसे अधिक दूरी का निकाय बनाता है। सेडना की असाधारण लंबी और दीर्घीभूत कक्षा, पूर्ण होने के लिए अनुमानतः ११,४०० वर्ष लेती है और इसकी सूर्य से सबसे नजदीकी पहुँच ७६ ख.. पर है। हीन ग्रह केंद्र वर्तमान में सेडना को बिखरा चक्र में स्थान देती है। बिखरा चक्र उन निकायों का समूह है जिसे नेप्च्यून के गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव ने अत्यधिक दीर्घीभूत कक्षाओं में भेजा है। हालांकि, यह वर्गीकरण उम्मीदवारी के लिए लड़ चुका है, जैसा कि सेडना नेप्चून के इतना करीब कभी नहीं आया कि उसके द्वारा बिखरा दिया गया हो, कुछ खगोलविदों के प्रमुख निष्कर्ष है कि यह वास्तव में आंतरिक ऊर्ट बादल के पहले ज्ञात सदस्य है।