३जी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंतरराष्ट्रीय मोबाइल दूरसंचार- 2000 (International Mobile Telecommunications) (IMT-2000), को ३जी या तीसरी पीढ़ी के रूप में बेहतर जाना जाता है, इसे अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ (International Telecommunication Union) के द्वारा मोबाइल दूरसंचार के लिए मानक वर्ग के रूप में परिभाषित किया गया है,[1] जिसमें GSM EDGE, UMTS और CDMA2000, साथ ही DECT और WiMAX भी शामिल है. इसकी सेवाओं में मोबाइल पर्यावरण में व्यापक क्षेत्र वायरलेस वोईस टेलीफोन, वीडियो कॉल्स और वायरलेस डेटा शामिल हैं. 2G और 2.5G सेवाओं की तुलना में, 3G उच्च डेटा दरों के साथ (HSPA+ के साथ डाउनलिंक पर 14.0 Mbit/s तक और अपलिंक पर 5.8 Mbit/s तक) स्पीच और डेटा सेवाओं के स्वतः उपयोग में मदद करता है. इस प्रकार, 3 G नेटवर्क की मदद से, नेटवर्क ऑपरेटर, उपयोगकर्ता के लिए, आधुनिक स्पेक्ट्रल कुशलता (improved spectral efficiency) के माध्यम से अधिक नेटवर्क क्षमता प्राप्त करके आधुनिक सेवाओं की व्यापक रेंज पेश कर पाता है. अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ (International Telecommunication Union) (ITU) ने विकास को बढ़ावा देने, बैंडविड्थ को बढ़ाने और अधिक विविध अनुप्रयोगों को समर्थन देने के लिए मोबाइल टेलीफोनी मानकों – IMT-2000 -की तीसरी पीढ़ी (3G) को परिभाषित किया. उदाहरण के लिए, GSM (वर्तमान में सबसे लोकप्रिय सेलुलर फोन मानक) न केवल आवाज (voice) की डिलीवरी कर सकती है, बल्कि साथ ही 14.4 kbps तक की डाउनलोड की दरों के साथ सर्किट-स्विच डेटा की भी डिलीवरी करती है. लेकिन मोबाइल मल्टीमीडिया अनुप्रयोगों का समर्थन करने के लिए, 3G को अधिक बैंडविड्थ पर, बेहतर स्पेक्ट्रल कुशलता से युक्त पैकेट-स्विच डेटा की भी डिलीवरी करनी होती थी.[संदिग्ध ]

अवलोकन[संपादित करें]

1999 में, ITU ने IMT-2000 के लिए ITU-R M.1457 सिफारिशों के एक हिस्से के रूप में, पांच रेडियो इंटरफेस को मंजूरी दी; WiMAX को 2007 में जोड़ा गया.[2] ऐसे विकास के मानक (evolutionary standards) हैं, जो पहले से उपस्थित 2G नेटवर्क के लिए पीछे रहने वाले संगत विस्तार हैं और साथ ही क्रांतिकारी मानक (revolutionary standards) हैं जिन्हें सभी नए नेटवर्क और आवृति आवंटन की आवश्यकता होती है.[3] UMTS वर्ग में बाद के समूह, जो IMT-2000 के लिए विकसित किये गए मानकों से युक्त हैं, साथ ही स्वतंत्र रूप से विकसित मानक DECT और WiMAX, जिन्हें इसलिए शामिल किया गया क्योंकि ये IMT-2000 की परिभाषा में फिट बैठते थे.

3G/IMT-2000 मानकों का अवलोकन
[4]
ITU IMT-2000 सामान्य नाम डेटा की बैंडविड्थ पूर्व-4G द्वैध (duplex) चैनल विवरण भौगोलिक क्षेत्र
TDMA एकल-कैरियर (IMT‑SC) EDGE (UWT-136) EDGE विकास कोई नहीं FDD TDMA GSM/GPRS के लिए विकासवादी उन्नयन[nb 1] जापान और दक्षिण कोरिया के आलावा विश्व्यापी
CDMA बहुल-कैरियर (IMT‑MC) CDMA2000 EV-DO UMB [nb 2] CDMA cdmaOne (IS-95) के लिए विकासवादी उन्नयन अमेरिका, एशिया, कुछ अन्य
CDMA प्रत्यक्ष फैलाव (IMT‑DS) UMTS[nb 3] W‑CDMA[nb 4] HSPA LTE क्रांतिकारी मानकों का वर्ग विश्वव्यापी
CDMA TDD (IMT‑TC) TD‑CDMA TDD यूरोप
TD‑SCDMA[nb 5] चीन
FDMA/TDMA (IMT‑FT) DECT कोई नहीं FDMA TDMA कम रेंज; कोर्डलेस फोन के लिए मानक यूरोप, संयुक्त राज्य अमरीका
IP‑OFDMA colspan="2" WiMAX (IEEE 802.16) OFDMA बाद का संस्करण विश्व्यापी

जहां EDGE 3G मानक का एक हिस्सा है, अधिकांश GSM/UMTS फोन अलग क्रियाशीलता के रूप में EDGE (“2.75G”) और MTS (“3G”) नेटवर्क उपलब्धता को रिपोर्ट करते हैं।

इतिहास[संपादित करें]

नोकिया 6650 और प्रारंभिक UMTS हैंडसेट

पहला पूर्व-वाणिज्यिक 3G नेटवर्क, मई 2001 में जापान द्वारा ब्रांडेड FOMA में NTT DoCoMo के द्वारा शुरू किया गया, इसका उदघाटन W-CDMA प्रौद्योगिकी की रिलीज पर किया गया.[7] 3G का पहला वाणिज्यिक उदघाटन भी जापान में NTT DoCoMo के द्वारा ही 1 अक्टूबर, 2001 को किया गया, हालांकि शुरुआत में इसका स्कोप बहुत सीमित था;[8][9]विश्वसनीयता पर उठाये गए मुद्दों के कारण इसकी व्यापक उपलब्धता में देरी हुई.[10]वाणिज्यिक रूप से चलने वाला दूसरा नेटवर्क, दक्षिण कोरिया में SK टेलीकोम के द्वारा 1xEV-DO प्रौद्योगिकी पर जनवरी 2002 में शुरू किया गया. मई 2002 तक दूसरा दक्षिण कोरियाई 3G नेटवर्क KTF के द्वारा EV-DO पर शुरू किया गया और इस प्रकार से कोरियाई लोगों ने सबसे पहले 3G ऑपरेटरों के बीच प्रतिस्पर्धा में भाग लिया. पहला यूरोपीय पूर्व वाणिज्यिक नेटवर्क मांक्स टेलीकॉम (Manx Telecom) के द्वारा आइल ऑफ़ मैन पर था, इसके बाद ओपरेटर ने ब्रिटिश टेलीकॉम पर स्वामित्व किया और यूरोप में व्यापार के लिए पहला वाणिज्यिक नेटवर्क दिसंबर 2001 में टेलिनोर (Telenor) के द्वारा शुरू किया गया, जिसके कोई वाणिज्यिक हैंडसेट नहीं थे और इस प्राकार से इसे भुगतान करने वाले कोई ग्राहक नहीं थे. ये दोनों W-CDMA प्रौद्योगिकी पर थे.

पहला वाणिज्यिक अमेरिकी 3G नेटवर्क मोनेट मोबाइल नेटवर्क (Monet Mobile Networks) के द्वारा, CDMA2000 1x EV-DO पर था, लेकिन इस नेटवर्क प्रदाता ने बाद में ऑपरेशन्स को बन्द कर दिया

संयुक्त राज्य अमेरिका में दूसरा 3G नेटवर्क था, अक्टूबर 2003 में वर्ज़न वायरलेस (Verizon Wireless) जो CDMA2000 1x EV-DO पर भी था. AT&T मोबिलिटी भी एक वास्तविक 3G नेटवर्क था, जिसने HSUPA के लिए अपने 3G उन्नयन को पूरा कर लिया है.

दक्षिणी गोलार्द्ध में पहला वाणिज्यिक प्रदर्शन नेटवर्क एडिलेड, दक्षिणी ऑस्ट्रेलिया में m.Net कोर्पोरेशन के द्वारा फरवरी 2002 में बनाया गया, इसके लिए 2100 MHz पर UMTS का प्रयोग किया गया. यह 2002 IT वर्ल्ड कोंग्रेस के लिए एक प्रदर्शन नेटवर्क था. पहला वाणिज्यिक नेटवर्क हचिसन टेलीकम्युनिकेशन (Hutchison Telecommunications) के द्वारा शुरू किया गया, इसे मार्च 2003 में थ्री (Three) के रूप में ब्रांडेड किया गया.

ग्लोबल मोबाइल सप्लायर्स एसोसिएशन (Global Mobile Suppliers Association (GSA)) के अनुसार दिसम्बर 2007 में, 190 3G नेटवर्क 40 देशों में ऑपरेट कर रहे थे और 154 HSDPA नेटवर्क 71 देशों में ऑपरेट कर रहे थे. एशिया, यूरोप, कनाडा और अमेरिका में दूरसंचार कम्पनियां, 3G मोबाइल नेटवर्क को ऑपरेट करने के लिए लगभग 100 टर्मिनल डिजाइनों के समर्थन के साथ W-CDMA प्रौद्योगिकी का उपयोग करती हैं.

यूरोप में, बड़े पैमाने पर बाजार वाणिज्यिक 3G सेवाओं की शुरुआत ब्रिटेन और इटली में 3 (हचिसन व्हामपोआ (Hutchison Whampoa) का एक भाग) के द्वारा मार्च 2003 में हुई.  यूरोपीय संघ परिषद ने सुझाव दिया कि 3G ऑपरेटरों को 2005 के अंत तक यूरोपीय राष्ट्रीय आबादी का 80% कवर करना चाहिए. 3G नेटवर्क के रोल-आउट में, कुछ देशों में अतिरिक्त स्पेक्ट्रम लासेंसिंग शुल्क की भारी लगत के कारण देरी हुई. 

(टेलीकोम क्रेश (Telecoms crash) देखें) कई देशों में, 3G नेटवर्क 2G नेटवर्क की तरह सामान रेडियों आवृति का उपयोग नहीं करते हैं, इसलिए मोबाइल ऑपरेटरों को पूरी तरह से नया नेटवर्क बनाना चाहिए और पूरी तरह से नयी आवृतियों को लाइसेंस देना चाहिए; संयुक्त राज्य एक अपवाद है जहां वाहक अन्य सेवाओं की तरह समान आवृतियों में 3G सेवा को ऑपरेट करते हैं. कुछ यूरोपीय देशों में लाइसेंस शुल्क विशेष रूप से उच्च था, इसे मुहरबंद नीलामी बोली और लाइसेंस की एक सीमित संख्या की सरकारी नीलामी से बल मिला, इसकी शुरूआती क्षमता 3G की क्षमता से अधिक थी.अन्य देरियों का कारण था, नयी प्रणालियों के लिए उपकरणों के उन्नयन के लिए किये जाने वाले व्यय. जून 2007 तक 200 मिलियन तक 3G ग्राहक जुड़ चुके थे.

पूरी दुनिया में 3 बिलियन मोबाइल फोन ग्राहकों में यह केवल 6.7% है. जिन देशों में 3G पहले शुरू हुआ-जापान और दक्षिण कोरिया-3G की पैठ 70 प्रतिशत से अधिक है.[11]यूरोप में इटली अग्रणी देश है, जिसके एक तिहाई ग्राहक 3G की ओर रुख कर गए. 3G की ओर रुख करने वाले अन्य देशों में शामिल हैं ब्रिटेन, ऑस्ट्रिया, ऑस्ट्रेलिया और सिंगापुर जिनका प्रवास स्तर 20 प्रतिशत है. एक भ्रामक आंकड़ा CDMA 2000 1x RTT के ग्राहकों की गणना भी 3G ग्राहकों के रूप में करता है. यदि इस परिभाषा का उपयोग किया जाये, तो कुल 3G ग्राहक आधार जून 2007 को 475 मिलियन होगा और पूरी दुनिया में इसके 15.8% ग्राहक होंगे. तेलस (Telus) ने 2005 में कनाडा में 3G सेवाओं को पहले शुरू किया.

रोजर्स वायरलेस (Rogers Wireless) ने पूर्वी कनाडा में 2007 के प्रारंभ में रोजर्स विजन (Rogers Vision) के रूप में 3G HSDPA सेवाओं को लागू करना शुरु किया. फिडो सॉल्यूशंस (Fido Solutions) और रोजर्स वायरलेस (Rogers Wireless) अब ज्यादातर शहरी केंद्रों में 3G सेवा प्रदान करते हैं.

मोबिटेल इराक इराक में पहला मोबाइल 3G ओपरेटर है. इस व्यवसायिक रूप से फरवरी 2007 में शुरू किया गया.


चीन ने मई 2008 में घोषणा की कि टेलीकोम सेक्टर को पुनर्संगठित किया गया और तीन 3G नेटवर्क आवंटित किये जायेंगे ताकि सबसे बड़ा मोबाइल ओपरेटर, चाइना मोबाइल, अपने GSM ग्राहक आधार को बनाये रख सके. चाइना यूनिकोम (China Unicom) अपने GSM ग्राहक आधार को बनाये रखेगा लेकिन अपने CDMA2000 ग्राहक आधार को त्याग देगा और विश्वस्तरीय WCDMA (UMTS) मानकों पर 3G की शुरुआत करेगा. चाइना यूनिकोम के CDMA2000 ग्राहक चाइना टेलीकोम पर चले जायेंगे, जो इसके बाद CDMA 1x EV-DO मानक पर 3G की शुरुआत करेगा. मतलब यह कि चीन सभी तीन मुख्य सेलुलर प्रौद्योगिकी के व्यावसायिक उपयोग में 3 जी मानकों होगा. अंत में जनवरी 2009 में, चीन के उद्योग और सूचना मंत्रालय को तीनों मानकों के लाइसेंस से सम्मानित किया गया. ये मानक हैं चाइना मोबाइल के लिए TD-SCDMA, चाइना यूनिकोम के लिए WCDMA और चाइना टेलीकोम के लिए CDMA2000.

नवम्बर 2008 में, तुर्की ने 45, 40, 35 और 25 MHz शीर्ष आवृतियों से युक्त चार IMT 2000/UMTS मानक 3G लाइसेंस को नीलाम किया. वोडाफोन और एविया की क्रमशः 40 और 35 MHz की आवृतियों की 20 साल की लीज़ के बाद तुर्कसेल ने €358 मिलियन से युक्त 45 MHz बैंड की पेशकश को जीत लिया है. 25 MHz की शीर्ष आवृति के लाइसेंस की नीलामी अभी बाकी है.

फिर भी कई विकासशील देशों को 3G लाइसेंस नहीं दिया गया है और ग्राहक 3G सेवाओं का इंतज़ार कर रहें हैं. चीन ने 3G पर फैसला लेने में कई वर्ष की देरी की, इसका मुख्य कारण यह रहा कि उनकी सरकार ने अच्छी तरह से परिभाषित मानकों की स्थापना में देरी की.[12] 3G तकनीक का पहला अफ़्रीकी उपयोग था, नवम्बर 2004 में वोडाकोम नेटवर्क पर जोहान्सबर्ग में निर्मित एक 3G विडिओसेल. अफ्रीका में 3G की पहली वाणिज्यिक शुरुआत EMTEL के द्वारा मॉरीशस में W-CDMA मानक पर की गयी. मार्च 2006 के अंत में उत्तरी अफ़्रीकी मोरक्को में, एक नई कम्पनी वाना (Wana) के द्वारा एक 3G सेवा उपलब्ध करायी गयी.

एक प्रमुख दूरसंचार सेवा प्रदाता T-मोबाइल ने हाल ही में 120 से अधिक अमेरिकी शहरों की सूची को बाहर कर दिया है, जिन्हें वर्ष 2009 में 3G नेटवर्क कवरेज उपलब्ध कराया जाएगा.[13] 2008 में, भारत महानगर टेलीफोन निगम लिमिटेड (MTNL) के द्वारा 3G युक्त मोबाइल सेवा के उदघाटन के साथ 3G मोबाइल एरिना में प्रवेश कर गया है. भारत में MTNL 3G सेवाएं शुरू करने वाला पहला मोबाइल ओपरेटर है.

विशेषताएं[संपादित करें]

डेटा दर[संपादित करें]

ITU ने उन डेटा दरों की स्पष्ट परिभाषा उपलब्ध नहीं करायी है, जिसकी अपेक्षा 3G उपकरण या प्रदाता से की जाती है. इस प्रकार से उपयोगकर्ताओं को बेचीं जा4tertebb4454tने वाली 3G सेवा एक मानक को निर्दिष्ट करने में सक्षम नहीं होती है और कहा जा सकता है कि इसके द्वारा निर्दिष्ट दरें उपयक्त नहीं हैं. एक टिप्पणी में कहा गया कि "यह अपेक्षा की जाती है कि IMT-2000 उच्च संचरण दरें प्रदान करेगा: स्थिर या चलते हुए उपयोगकर्ताओं के लिए न्यूनतम 2 Mbit/s की डेटा दर और एक चलते हुए वाहन में 348 kbit/s की डेटा दर,"[14] ITU वास्तव में स्पष्ट रूप से न्यूनतम या औसत दरों को निर्दिष्ट नहीं करता है या यह नहीं बताता है कि इंटरफेस का कौन सा रूप 3G के लिए योग्य है, इसलिए भिन्न दरों को 3G के रूप में बेचा जाता है ताकि ग्राहक की ब्रॉडबैंड डेटा की उम्मीदों को पूरा किया जा सके.

सुरक्षा[संपादित करें]

3G नेटवर्क 2G पूर्ववर्तियों की तुलना में अधिक सुरक्षा पेश करते हैं. UE (उपयोक्ता उपकरण) को नेटवर्क से जुड़ने की अनुमति देकर, उपयोगकर्ता यह सुनिश्चित कर सकता है कि नेटवर्क इरादतन प्राप्त हुआ है सिर्फ अभिनय मात्र नहीं है. 3G नेटवर्क, पुराने A5/1 स्ट्रीम सिफर के बजाय, KASUMI ब्लॉक क्रिप्टो का उपयोग करते हैं. हालांकि, KASUMI सिफर में कई गंभीर कमजोरियां पायी गयी हैं.[कृपया उद्धरण जोड़ें] 3G नेटवर्क अधोसरंचना सुरक्षा के अलावा, अंत से अंत तक सुरक्षा पेश की जाती है जब अनुप्रयोग फ्रेमवर्क जैसे IMS उपलब्ध हों, हालांकि यह कठोर रूप से 3G की संपत्ति नहीं है. ==2G से विकास == 2G नेटवर्क को मुख्य रूप से ध्वनि सेवाओं और धीमे डेटा संचरण के लिए बनाया गया था.

2G से 2.5G[संपादित करें]

3G के विकास के लिए पहला मुख्य कदम है जनरल पैकेट रेडियो सर्विस (GPRS) की शुरुआत. इसलिए GPRS से युक्त सेल्यूलर सेवाएं '2.5G' बन गयीं. GPRS 56 kbit/s से 114 kbit/s तक की डेटा दरें उपलब्ध करा सकता है. इसका उपयोग सेवाओं जैसे वायरलेस अनुप्रयोग प्रोटोकोल (Wireless Application Protocol) (WAP) एक्सेस, मल्टीमिडिया मेसेजिंग सर्विस (Multimedia Messaging Service) (MMS) के लिए और इंटरनेट संचार सेवाएं जैसे ईमेल और वर्ल्डवाइड वेब एक्सेस (World Wide Web access) के लिए किया जा सकता है. GPRS डेटा स्थानान्तरण को आमतौर पर स्तानान्त्रित ट्रेफिक के प्रति मेगाबाईट के अनुसार चार्ज (भुगतान) किया जाता है, जबकि पारंपरिक सर्किट स्विचिंग के माध्यम से डेटा संचार का बिल संयोजन समय के प्रति मिनट के हिसाब से आता है, यह इस बात से स्वतंत्र होता है कि उपयोगकर्ता वास्तव में क्षमता का उपयोग कर रहा है या आदर्श अवस्था में है. === 2.5G से 2.75G (EDGE) === GPRS नेटवर्क 8PSK एन्कोडिंग की शुरुआत के साथ EDGE नेटवर्क में विकसित हुए. GSM के विकास के लिए बढ़ी हुई डेटा दरें (EDGE), बढ़ा हुआ GPRS (EGPRS), या IMT एकल कैरियर (IMT-SC) एक बैकवर्ड संगत डिजिटल मोबाइल फोन तकनीक है जो मानक GSM के शीर्ष पर एक विस्तार के रूप में डेटा संचरण की दर में सुधार करती है. EDGE को एक 3G रेडियो तकनीक माना जा सकता है और यह ITU की 3G परिभाषा का एक हिस्सा है, लेकिन इसे अधिकतर 2.75G के रूप में संदर्भित किया जाता है. EDGE को 2003 की शुरुआत में GSM नेटवर्क पर तैनात किया गया-प्रारंभ में इसे अमेरिका में सिंगुलर (Cingular) (अब AT&T) के द्वारा शुरू किया गया था. EDGE GSM वर्ग के भाग के रूप में 3GPP के द्वारा मानकीकृत है और यह एक उन्नयन है जो GSM/GPRS नेटवर्क की क्षमता में संभावित त्रिवलनी वृद्धि उपलब्ध कराता है. विनिर्देशन मौजूदा GSM टाइमस्लोट्स के भीतर, कोडन (8PSK) की अधिक परिष्कृत विधियों के लिए उच्च डेटा दरें प्राप्त करता है.

4G की ओर विकास[संपादित करें]

3GPP ओर 3GPP2 वर्तमान में 3G मानकों के लिए विस्तार पर कार्य कर रहें हैं, इनके नाम हैं क्रमशः लॉन्ग टर्म एवोल्यूशन (Long Term Evolution) और अल्ट्रा मोबाइल ब्रोड्बैंड (Ultra Mobile Broadband). एक पूर्ण-IP नेटवर्क अधोसरंचना पर आधारित होते हुए और उन्नत वायरलेस तकनीकों जैसे MIMO का उपयोग करते हुए, ये विनिर्देशन पहले से ही 3G के अग्रगामी, IMT-एडवांस्ड (4G) के लिए लाक्षणिक विशेषताओं को प्रदर्शित करते हैं. हालांकि, 4G के लिए बैंडविड्थ आवश्यकताओं की कमी के कारण (जो स्थिर के लिए 1 Gbit/s और मोबाइल ओपरेशन के लिए 100 Gbit/s है), ये मानक 3.9G या पूर्व-4G के रूप में वर्गीकृत किये जाते हैं. 3GPP योजनायें LTE उन्नत के साथ 4G के लक्ष्यों को पूरा करती हैं, जबकि क्वालकोम (Qualcomm) ने LTE वर्ग के पक्ष में UMB के विकास को रोक दिया है.[5]

 == परेशानियां==

हालांकि 3G पूरी दुनिया में उपयोगकर्ताओं के लिए सफलतापूर्वक शुरू हुआ, फिर भी कुछ मुद्दों पर प्रदातों और उपयोगकर्ताओं के बीच विवाद है.

* कुछ न्यायालयों में 3G सेवा लाइसेंस के लिए महंगा इनपुट शुल्क. 
  • राज्यों के बीच लाइसेंस की शर्तों में अंतर
  • कुछ दूरसंचार कंपनियों के द्वारा दिए जाने वाले ऋण का स्तर, जो 3G में निवेश को मुश्किल बनाता है.
  • आर्थिक रूप से परेशान ऑपरेटरों के लिए राज्य की सहायता का अभाव
  • 3G फोन की लागत
  • कुछ क्षेत्रों में कवरेज की कमी.
  • हाथ में पकडे जाने वाले उपकरण में ब्रोड्बैंड सेवाओं के लिए मांग.
  • 3G फोन की बैटरी का जीवन.

यह भी देखें.[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. क्लिंट स्मिथ, डेनियल कोल्लिन्स. "3G वायरलेस नेटवर्क", पृष्ठ 136. 2000.
  2. ITU. "ITU Radiocommunication Assembly approves new developments for its 3G standards". press release. http://www.itu.int/newsroom/press_releases/2007/30.html. अभिगमन तिथि: 2009-06-01. 
  3. ITU. "What really is a Third Generation (3G) Mobile Technology" (PDF). Archived on 2008-09-08. Error: If you specify |archivedate=, you must also specify |archiveurl=. http://web.archive.org/20080908081922/www.itu.int/ITU-D/imt-2000/DocumentsIMT2000/What_really_3G.pdf. अभिगमन तिथि: 2009-06-01. 
  4. ITU-D Study Group 2. "Guidelines on the smooth transition of existing mobile networks to IMT-2000 for developing countries (GST); Report on Question 18/2". http://www.itu.int/dms_pub/itu-d/opb/stg/D-STG-SG02.18-1-2006-PDF-E.pdf. अभिगमन तिथि: 2009-06-01. 
  5. Qualcomm halts UMB project रयुतर्स, 13 नवम्बर, 2008.
  6. 3GPP notes that “there currently existed many different names for the same system (eg FOMA, W-CDMA, UMTS, etc)”; "Draft summary minutes, decisions and actions from 3GPP Organizational Partners Meeting#6, Tokyo, 9 October 2001" (PDF). pp. 7. http://www.3gpp.org/ftp/op/OP_07/DOCS/pdf/OP6_13r1.pdf. 
  7. "The history of UMTS and 3G development". http://www.umtsworld.com/umts/history.htm. 
  8. "World's first 3G launch on 1st October severely restricted (hktdc.com)". http://info.hktdc.com/imn/01100401/info14.htm. 
  9. "broadbandmag.co.uk/3G grinds to a start". http://www.broadbandmag.co.uk/analysis/3G/3G.html. 
  10. "DoCoMo Delays 3G Launch". Archived from the original on 2012-12-08. https://archive.is/1GKi. 
  11. http://www.plus8star.com/?p=123 Plus 8 Star presentation, "Is 3G a Dog or a Demon - Hints from 7 years of 3G Hype in Asia"
  12. "China's 3G delay hurting investment". http://www.zdnetasia.com/news/communications/0,39044192,62032320,00.htm. 
  13. "T-Mobile 3G Network Expansion: List of U.S. Cities Going 3G in 2008". http://www.intomobile.com/2009/05/20/t-mobile-3g-network-expansion-list-of-us-cities-going-3g-in-2009.html. 
  14. "Cellular Standards for the Third Generation". ITU. 2005-12-01. http://www.itu.int/osg/spu/imt-2000/technology.html#Cellular%20Standards%20for%20the%20Third%20Generation. 

व्याख्यात्मक नोट्स[संपादित करें]

  1. PDC और / या D-AMPS के उन्नयन के रूप में भी प्रयुक्त किया जा सकता है.
  2. development halted in favour of LTE.[5]
  3. also known as FOMA[6]; UMTS is the common name for a standard that encompasses multiple air interfaces.
  4. also known as UTRA-FDD; W-CDMA is sometimes used as a synonym for UMTS, ignoring the other air interface options.[6]
  5. इसे UTRA-TDD 1.28 Mcps low chip rate (LCR) के रूप में भी जाना जाता है.

प्रशंसा पत्र[संपादित करें]

अ ग्रिम पठन[संपादित करें]

  • अहोनेन, M-प्रोफिट्स मेकिंग मानी विथ 3G (विले,2002), 3G के बारे में पहली व्यापर पुस्तक, आई एस बी एन 978-0470847756
  • अहोनेन, कास्पर और मेल्क्को, 3G मार्केटिंग (विले, 2004), 3G के लिए पहली विपणन पुस्तक, आई एस बी एन 978-0470851005

बाहरी लिंक[संपादित करें]

साँचा:Mobile telecommunications standards साँचा:Wireless systems