हैन्स क्रिश्चियन ओर्स्टेड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हैन्स क्रिश्चियन ओर्स्टेड (Hans Christian Ørsted) (१४ अगस्त १७७७ – ९ मार्च १८५१) एक दानिश भौतिक एवं रसायन विज्ञानी थे जिन्होंने विद्युत धारा से चुम्बकीय क्षेत्र को व्युत्पन्न करने का आविष्कार किया था जो विद्युत-चुम्बकीकी में एक नया स्वरूप देने में महत्वपूर्ण मोड़ है। उन्होंने १९वीं सदी के उत्तरार्द्ध में कांटीय दर्शन और विज्ञान के क्षेत्र में प्रगति पर कार्य किया।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Brian, R.M. & Cohen, R.S. (2007). Hans Christian Ørsted and the Romantic Legacy in Science, Boston Studies in the Philosophy of Science, Vol. 241.