स्वर्ण जयंती

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

स्वर्ण जयंती का प्रयोग पचासवीं जयंती अथवा पचासवीं वर्षगाँठ के लिये किया जाता है। उदाहरण के लिये यदि भारत देश 15 अगस्त 1947 को स्वतन्त्र हुआ तो 15 अगस्त 1997 को स्वतंत्रता प्राप्ति की स्वर्ण जयंती होगी। ध्यान देने की बात ये भी है कि इसी उदाहरण मे 15 अगस्त 1997 भारत का इक्यावनवां स्वतंत्रता दिवस होगा। चूंकि जयंती घटना के एक साल बाद से प्रारम्भ होती है इसलिये ये घटना की वास्तविक सँख्या से एक कम चलती है। अंग्रेजी भाषा मे इसके लिये गोल्डेन जुबली (en:Golden Jubilee) शब्द का प्रयोग होता है।

स्वर्ण जयंती वर्ष[संपादित करें]

घटना की उञ्चासवीं वर्षगाँठ के दिन से लेकर स्वर्ण जयंती तक चलने वाले एक वर्ष को स्वर्ण जयंती वर्ष कहा जाता है। अधिकतर समूह या संगठन जो किसी घटना का स्वर्ण जयंती वर्ष मना रहे होते हैं, वो इस पूरे वर्ष कोई न कोई आयोजन अथवा समारोह करते रहते हैं जो कि अंत मे स्वर्ण जयंती के दिन सम्पन्न होते हैं।

ये भी देखें[संपादित करें]