स्टोरीबोर्ड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

स्टोरीबोर्ड मूलतः रेखाचित्रों अथवा चित्रों की एक श्रृंखला होती है जिसका उद्देश्य किसी फिल्म, एनीमेशन, गति चित्र अथवा संवादात्मक मीडिया जैसे वेबसाईट का पूर्वावलोकन करना होता है.

टाको बेल टेलीविजन अभियान के लिए एक स्टोरीबोर्ड.

स्टोरीबोर्डिंग प्रक्रिया,जिस रूप में आज जानी जाती है,का विकास वॉल्ट डिज्नी स्टूडियो में 1930 के प्रारम्भ में, कई वर्षों तक वॉल्ट डिज्नी स्टूडियो और अन्य कई एनीमेशन स्टूडियो में वर्षों तक सामान प्रक्रियाएं अपनाने के बाद हुआ.

उत्पत्ति[संपादित करें]

स्टोरीबोर्डिंग प्रक्रिया बहुत समय लेने वाली और जटिल हो सकती है. जिस रूप में इसका आजकल व्यापक रूप में प्रयोग होता है, उसका विकास 1930 के प्रारम्भ में वॉल्ट डिज्नी स्टूडियो में हुआ. अपने पिता की जीवनी, दा स्टोरी ऑफ़ वाल्ट डिज्नी (हेनरी होल्ट,1956),में डायनी डिज्नी मिलर ने ज़िक्र किया है कि सर्वप्रथम संपूर्ण स्टोरीबोर्ड्स का निर्माण 1933 में बनी डिज्नी की छोटी फिल्म थ्री लिटिल पिग्स में हुआ था. जॉन केनमेकर के अनुसार, पेपर ड्रीम्स: दा आर्ट एंड आर्टिस्ट्स ऑफ़ डिज्नी स्टोरीबोर्ड्स में (1999,हईपीरियन प्रेस), डिज्नी में पहले स्टोरीबोर्ड का विकास कॉमिक किताबों जैसे "स्टोरी स्केचेस" जो 1920 में बनाए गए थे और जिनका उद्देश्य एनिमेटेड कार्टून के छोटे विषयों जैसे प्लेन क्रेजी और स्टीमबोट विली, बनाना था,से हुआ और फिर कुछ ही वर्षोंचार अन्य स्टूडियो में फ़ैल गया.

दा आर्ट ऑफ़ वाल्ट डिज्नी (अब्राम्स,1974)में क्रिस्टोफर फिंच के अनुसार,डिज्नी ने एनिमेटर वेब्ब स्मिथ को अलग अलग कागज़ पर ड्राइंग के दृश्य बना कर उन्हें एक बुलेटिन बोर्ड पर टांक कर सम्पूर्ण कहानी को एक क्रम में बताने का श्रेय दिया,और इस तरह से पहला स्टोरीबोर्ड बनाने का श्रेय भी उन्हें ही जाता है. दूसरा स्टूडियो जो "स्टोरी स्केचेस" से स्टोरीबोर्ड्स की तरफ बढ़ा,वह था, 1935 के प्रारम्भ में वाल्टर लान्त्ज़ प्रोडक्शंस[1], हरमन-आइसिंग और लिओन स्क्लीसिंगर ने भी 1936 में यही किया, जबकि 1937-38 तक सभी स्टूडियो स्टोरीबोर्ड्स का उपयोग कर रहे थे.


गॉन विद दा विंड पहली गतिशील फिमों में से एक थी जिसे पूरी तरह से स्टोरीबोर्ड पर दर्शाया गया. विलियम कैमरून मेन्ज़ीस,जो की फिल्म के प्रोडक्शन डिजाइनर थे,को डेविड सेल्ज़निक ने फिल्म के प्रत्येक शॉट को डिजाइन करने के लिए रखा था. कई बड़े बजट की मूक फिल्मों को भी स्टोरीबोर्ड पर दर्शाया गया था परन्तु 1970 के दशक के दौरान स्टूडियो अभिलेखागार को कम करने के प्रयास में अधिकाँश सामग्री नष्ट हो गयी.

1940 के दशक के प्रारम्भ में लाइव एक्शन फिल्मों के निर्माण में स्टोरीबोर्डिंग लोकप्रिय हुआ,और फिर फिल्मों के पूर्वावलोकन के लिए यह एक नियत माध्यम बन गया.

पेस गैलरी के निरीक्षक एन्नेटी मायकल्सन, ने अपने किताब ड्रॉइंग इन्टू फिल्म: डायरेक्टर'स ड्रॉइंगस , में 1940 से 1990 के दशक को ऐसा समय माना जब "उत्पादन डिजाइन मुख्यतः स्टोरीबोर्ड में से ही बनाए जाते थे." स्टोरीबोर्ड्स अब निर्माण प्रक्रिया का एक आवश्यक हिस्सा हैं.

प्रयोग[संपादित करें]

फिल्म[संपादित करें]

आठ मिनट के एनिमेटेड कार्टून के लिए एक स्टोरीबोर्ड.

एक फिल्म स्टोरीबोर्ड निश्चित रूप से उस फिल्म का एक बड़े स्तर पर कॉमिक बोर्ड होता है अथवा फिल्म का कुछ हिस्सा पहले ही निर्मित कर लिया जाता है जिससे फिल्म के निर्देशक,छायाकार और टेलीविजन के वाणिज्यिक विज्ञापनों के ग्राहक दृश्यों को देख सकें और संभावित समस्याओं के उजागर होने से पहले ही उन्हें खोज लें. अक्सर स्टोरीबोर्ड्स में तीर या निर्देश शामिल होते हैं जिससे फिल्म की गतिशीलता का पता चल सके.

एक चलचित्र बनने में चाहे किसी भी निष्ठा से स्क्रिप्ट लिखी जाए,एक स्टोरीबोर्ड घटनाओं का एक दृश्यात्मक रूपरेखा उस रूप में प्रदान करता है जैसे वे कैमरे के लेंस के माध्यम से देखे जा सकते हैं. और इंटरैक्टिव मीडिया के मामले में, यह लेआउट और अनुक्रम के रूप में ही उपयोगकर्ता या दर्शक विषय वस्तु या जानकारी को देखता है. स्टोरीबोर्डिंग प्रक्रिया में, ज्यादातर फिल्म बनाने की तकनीकी सूचनाओं को अथवा इंटरेक्टिव मीडिया परियोजना को चित्र के द्वारा,अथवा अतिरिक्त शब्दों के द्वारा कुशलतापूर्वक वर्णित किया जा सकता है.

कुछ लाइव-एक्शन फिल्मों के निर्देशक, जैसे कि जोएल और एथन कोएन,प्रायोजकों के पास जाने से पहले स्टोरीबोर्ड का अत्यधिक प्रयोग करते हैं, वे इसका कारण यह बताते हैं कि इससे उन्हें आवश्यक समर्थन मिलने में सहायता मिलती है,क्योंकि वे यथार्थतः यह बता पाते हैं कि उनके पैसे का इस्तेमाल कहाँ किया जाएगा. कई वर्षों तक अधिकतर टिप्पणीकारों द्वारा बड़े विश्वास के साथ यह माना जाता था की अल्फ्रेड हिचकॉक की फ़िल्मों को बारीकियों सहित स्टोरीबोर्ड पर उतरा जाता था,हालांकि बाद में किये गए अनुसंधान से यह पता चलता है कि यह सब लोक प्रसिद्धी के लिए था. अन्य निर्देशक फिल्म के कुछ दृश्यों को ही स्टोरीबोर्ड पर उतारते हैं,अथवा बिलकुल भी नहीं उतारते हैं. एनीमेशन निर्देशकों को आमतौर पर स्टोरीबोर्ड का काफी प्रयोग करना पड़ता है,कभी कभी स्क्रिप्ट लिखने के बजाय सिर्फ स्टोरीबोर्ड पर काम करना पड़ता है.

रंगमंच[संपादित करें]

एक आम गलतफहमी यह है कि स्टोरीबोर्ड्स का थिएटर में प्रयोग नहीं किया जाता है. उनका अक्सर विशेष उपकरणों के रूप में प्रयोग किया जाता है जिसका उपयोग निर्देशक और नाटककार दृश्य के लेआउट को समझने में करते हैं. महान रूसी थिएटर व्यवसायी कौन्सटेनटिन स्टेनस्लावस्की ने अपने मॉस्को आर्ट थिएटर पर्फौर्मंसस की विस्तृत प्रोडक्शन योजनाओं के लिए स्टोरीबोर्ड का विकास किया.(जैसे कि 1898 में चेखव का दा सीगुल )

जर्मन निर्देशक और नाटककार बेर्टोल्ट ब्रेक्ट ने अपनी दन्त कथाओं को थिएटर का रूप देने के लिए कई विस्तृत स्टोरीबोर्डों का विकास किया.

एनिमेटिक्स[संपादित करें]

एनीमेशन और विशेष प्रभाव , देने से सम्बंधित कार्य में स्टोरीबोर्डिंग के बाद सरलीकृत मॉक -अप्स जिन्हें एनिमेटिक्स कहते हैं पर भी काम किया जा सकता है जिससे यह पता लग सके कि वह दृश्य गतिशीलता और समय के सन्दर्भ में कैसा लगेगा और महसूस होगा. इसके सरलतम रूप में,एक एनिमेटिक अचल चित्रों की एक श्रृंखला होती है जिन्हें संपादित कर के साथ साथ दिखाया जाता है. सामान्यतः, एक प्राथमिक संवाद और/अथवा ध्वनि ट्रैक ले कर अचल दृश्यों के साथ जोड़ दिया जाता है (जिन्हें सामान्यतः स्टोरीबोर्ड से लिया जाता है) ताकि यह टेस्ट किया जा सके कि ध्वनि और दृश्य साथ साथ प्रभावी रूप से कार्य कर रहे हैं या नहीं.

इससे एनिमेटर और निर्देशक को पटकथा,कैमरे की स्थिति,शॉट सूची और समय से सम्बंधित मुद्दे जो कि स्टोरीबोर्ड में हो सकते हैं में परिवर्तन करने का अवसर मिल जाता है. यदि आवश्यक होता है तो स्टोरीबोर्ड और ध्वनि ट्रैक में संशोधन कर लिए जाते हैं,और स्टोरीबोर्ड के अचूक होने तक एक नया एनिमेटिक बनाया भी जा सकता है और निर्देशक के साथ उसकी समीक्षा भी की जा सकती है. एनिमेटिक का सम्पादन कर लेने से फिल्म में दृश्यों का सम्पादन करना टाला जा सकता है. एनीमेशन आमतौर पर एक महंगी प्रक्रिया है,अतः यदि फिल्म बजट में तैयार करनी हो तो यह आवश्यक है कि "डिलीटेड दृश्य" कम से कम हों.

अक्सर स्टोरीबोर्ड्स का एनीमेशन साधारण जूम्स और पैंस जिनसे कैमरा गति में आता है के साथ हो जाता है(इसके लिए गैर-रेखिक सम्पादन सौफ्टवेयर का प्रयोग होता है). इन एनिमेशन को उपलब्ध एनिमेटिक्स, ध्वनि प्रभाव और संवाद के साथ जोड़ कर,एक प्रस्तुति तैयार की जा सकती है जिससे यह पता लग सके कि एक फिल्म किस तरह से साथ फिल्माई जा सकती है. कुछ फीचर फिल्मों की डीवीडी में विशेष फीचरों के तहत निर्माण से सम्बंधित एनिमेटिक्स दिए होते हैं.

विज्ञापन एजेंसियों के द्वारा भी एनिमेटिक्स का प्रयोग सस्ते परीक्षण विज्ञापन बनाने के लिए किया जाता है. थोड़े फेर-बदल के साथ "रिप-ओ-मैटिक" मौजूदा फिल्मों, टेलीविजन कार्यक्रमों या विज्ञापनों के दृश्यों से भी बनाया जाता है, जिससे प्रस्तावित विज्ञापन की रूपरेखा को महसूस किया जा सके. रिप,का इस अर्थ में तात्पर्य है कि,किसी मौलिक कार्य को चीर कर कुछ नया बनाया जाए.

फोटोमैटिक[संपादित करें]

एक फोटोमैटिक (शायद एनीमेटिक से व्युत्पन्न या फोटो-एनीमेशन) अचल चित्रों की एक शृंखला होती है जिनका सम्पादन साथ किया जाता है और जिन्हें स्क्रीन पर एक क्रम में दिखाया जाता है. आमतौर पर, इसमें एक पार्श्व आवाज,ध्वनिपथ और ध्वनि प्रभाव जोड़ दिए जाते हैं ताकि एक प्रस्तुति दे कर यह बताया जा सके कि एक फिल्म किस तरह से फिल्माई जा सकती है.

फोटोमैटिक का उपयोग विज्ञापनदाता और विज्ञापन एजेंसिया के द्वारा सम्पूर्ण टेलीविजन विज्ञापन बनाने से पहले प्रस्तावित स्टोरीबोर्ड की प्रभावशीलता जानने के लिए करने लगी हैं.

फोटोमैटिक, एक एनिमेटिक की तरह ही अनुसंधान का उपकरण है, क्योंकि यह कुछ चुनिन्दा दर्शकों को ही अपना काम दिखता है जिससे काम करने वाले लोगों को इसकी प्रभावशीलता का आभास हो जाए.

मूलतः, रंगीन नेगेटिव फिल्मों का उपयोग कर के फोटो ली जाती थी. और फिर कान्टैक्ट शीट और निकाले गए प्रिंट में से चयन किया जाता था. उन प्रिंटस को एक चबूतरे पर रख कर एक एक सामान्य वीडियो कैमरे से उनकी वीडियो रिकॉर्डिंग की जाती थी. किसी भी तरह के जूम या पैन कैमरे में ही करने पड़ते थे क्योंकि ये तस्वीरें स्थिर होती थी. खींचे गए दृश्यों को फिर संपादित किया जा सकता था.

डिजिटल फोटोग्राफी ,स्टॉक फोटोग्राफी तक वेब कार्यक्रमों की पकड़ और गैर रेखीय सम्पादन कार्यक्रमों का इस तरह की फोटोग्राफी पर बहुत प्रभाव पड़ा और इस से ही 'डिजीमैटिक' शब्द बना. छवियों को बहुत जल्दी रिकॉर्ड कर सकते हैं और संपादित कर सकते हैं ताकि महत्वपूर्ण रचनात्मक निर्णय तुरंत लिए जा सके. संयुक्त तस्वीर एनिमेशन से से काफी जटिल दृश्य, जो कि सामान्य रूप से कई टेस्ट फिल्मों के बजट से ज्यादा होंगे, आसानी से बनाये जा सकते हैं.

चित्रकथा की पुस्तकें[संपादित करें]

कुछ लेखकों ने स्टोरीबोर्ड जैसे चित्रों का उपयोग (यद्यपि अधूरे रूप में)चित्रकथा की किताबों के आलेख के लिए भी किया है,जिसमें अक्सर पात्रों की स्थिति,पृष्ठभूमि और गुब्बारों की स्थिति जिसमें कलाकारों के लिए निर्देश भी सम्मिलित होते थे अक्सर हाशिये में लिखे होते थे और वार्तालाप/अनुशीर्षक का संकेत होता था. जॉन स्टेनली और कार्ल बार्क्स (जब वे जूनियर वुडचक शीर्षक से कहानियां लिखते थे)इस शैली का इस्तेमाल पटकथा लेखन के रूप में करने के लिए जाने जाते हैं.

जापानी माँगा कॉमिक्स में, नेमू (उच्चारण- नेह मू) शब्द का प्रयोग माँगा स्टोरीबोर्ड के लिए ही किया जाता है. जापान में पत्रिका के संपादकों को एक नया प्रकरण पेश करने का यह एक नियत तरीका है.

व्यापार[संपादित करें]

अफवाह के अनुसार, स्टोरीबोर्ड्स को फिल्म उद्योग से व्यापार के क्षेत्र में कथित रूप से ह्यूजेस विमान के हॉवर्ड ह्यूजेस द्वारा अपनाया गया. हालांकि यह सच्चाई नहीं है. सिक्वेन्शल थीमेटिक ऑर्गनाइजेशन ऑफ़ पब्लीकेशंसने बड़े पैमाने पर उन स्टोरीबोर्ड्स का इस्तेमाल किया जो, ह्यूजेस विमान फुल्लरटन, कैलीफौर्निया में बनाए गए. वाल्टर स्टार्की,जो कि 1965 की एस.टी.ओ.पी.(STOP)मैनुअल के सह लेखक रहे हैं उन्होंने एस.टी.ओ.पी.(STOP)की उत्पत्ति के मुद्दे पर पर विचार किया है.[2] एस.टी.ओ.पी.(STOP)तकनीक रक्षा सेवाओं और एयरोस्पेस की वरीयता प्राप्त विकास पद्धती बन गयी.[3]

आजकल[कब?] स्टोरीबोर्ड का प्रयोग उद्योगों में विज्ञापन अभियानों की योजना बनाने में,विज्ञापन बनाने में,अथवा उन परियोजनाओं के प्रस्ताव में होता है जिनमे लोगों को विश्वास दिलाना होता है या कार्य करने के लिए प्रेरित करना होता है.

एक "गुणवत्ता वाला स्टोरीबोर्ड" एक ऐसा उपकरण है जो कि एक संगठन में गुणवत्ता वाली सुधार प्रक्रिया को लागू करने में सहायक हो सकता है.

डिजाइन कॉमिक्स एक प्रकार का स्टोरीबोर्ड है जिसका उपयोग किसी ग्राहक को शामिल करने अथवा कहानी में अन्य किसी पात्र को शामिल करने के लिए किया जाता है. डिजाइन कॉमिक्स का प्रयोग अक्सर वेब साइटों को बनाने के दौरान किया जाता है अथवा डिजाइनिंग के दौरान उत्पादों के प्रयोग का वर्णन करने के लिए होता है.

इंटरेक्टिव मीडिया[संपादित करें]

अभी हाल ही में स्टोरीबोर्ड शब्द का प्रयोग वेब विकास,सॉफ्टवेर विकास और अनुदेशात्मक डिजाइन को लिखित स्वरुप में,ऑडियो और मोशन में तथा संवादात्मक कार्यक्रमों में, विशेषकर इलेक्ट्रोनिक पृष्ठ और यूजर इंटरफेस में प्रदर्शित करने और वर्णित करने के लिए भी होने लगा है.

लाभ[संपादित करें]

स्टोरीबोर्ड्स का उपयोग करने का एक लाभ यह है कि यह (फिल्म और व्यापार में) उपयोगकर्ता को कहानी में बदलाव से सम्बंधित प्रयोग करने की छूट देते हैं जिससे कहानी में तेज प्रतिक्रया अथवा रूचि जगाई जा सके.उदाहरण के लिए,फ्लैशबैक्स,अक्सर स्टोरीबोर्ड के कालानुक्रमिक छंटाई का परिणाम होते हैं जिससे कहानी में रहस्य और रूचि जगाई जा सके.

दृश्य सोच और योजना बनाने की प्रक्रिया लोगों के एक समूह को एक साथ मंथन के लिए अनुमति देती है, जिसमें वे अपनी कल्पनाओं को स्टोरीबोर्ड्स पर रखते हैं और फिर उन्हें दीवार पर व्यवस्थित करते हैं. यह और अधिक विचारों को बढ़ावा देता है और समूह के भीतर आम सहमति उत्पन्न करता है.

सृजन[संपादित करें]

एक स्टोरीबोर्ड टेम्पलेट.

फिल्मों के लिए स्टोरीबोर्ड्स कई चरणों में बनाए जाते हैं. वे हाथ के द्वारा बनाये गए रेखाचित्रों द्वारा अथवा कंप्यूटर पर डिजिटली भी बनाए जाते हैं.

यदि हाथ से रेखा चित्र बनाया जाता है,तो पहला कदम स्टोरीबोर्ड टेम्पलेट को बनाने का अथवा डाउनलोड करने का होता है. ये एक रिक्त कॉमिक स्ट्रिप की तरह दिखते हैं,जिसमें टिप्पणियों और डायलौग के लिए स्थान होता है. फिर एक "थंबनेल" स्केच बनाया जाता है. कुछ निर्देशक थंबनेल सीधे ही आलेख के हाशिये में स्केच कर लेते हैं. इन स्टोरीबोर्ड्स को यह नाम इसलिए मिला है क्योंकि वे प्राथमिक स्केच होते हैं और थम्बनेल से ज्यादा बड़े नहीं होते हैं. कुछ गति चित्रों के लिए, थंबनेल स्टोरीबोर्ड्स ही पर्याप्त होते हैं.

हालांकि, कुछ फिल्म निर्माता स्टोरीबोर्डिंग की प्रक्रिया पर काफी भरोसा करते है. यदि निर्देशक या निर्माता चाहते हैं तो,अधिक विस्तृत और व्यापक स्टोरीबोर्ड चित्र बनाए जाते हैं. ये चित्र या तो पेशेवर स्टोरी बोर्ड कलाकारों द्वारा हाथ से बनाए जाते हैं अथवा कंप्यूटर पर 2डी स्टोरीबोर्डिंग कार्यक्रमों का इस्तेमाल कर के बनाए जातें हैं. कुछ सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन विशेष स्टोरीबोर्ड छवियाँ भी देते हैं जिससे निर्देशक की कहानी के प्रति जो मंशा होती है उसे व्यक्त करने के लिए तुरंत शॉट बनाना संभव हो पाता है. इन बोर्डों में थंबनेल स्टोरीबोर्ड्स से अधिक विस्तृत जानकारी होती है और ये दृश्य के मूड को भी भली-भाँती दिखा पाते हैं. ये फिर परियोजना के छायाकार को प्रस्तुत किये जाते हैं जो फिर निर्देशक के विजन को पाने में सहायक होता है.

अंततोगत्वा, यदि आवश्यक होता है,तो 3डी स्टोरीबोर्ड्स बनाए जाते हैं (जिन्हें 'तकनीकी पूर्वावलोकन' कहते हैं) 3डी स्टोरीबोर्ड्स का लाभ यह है कि ये कैमरे में जो लैंस प्रयुक्त होते हैं,उनका उपयोग कर के ये यथार्थतः वही दिखाते हैं जो फिल्म का कैमरा देखेगा. 3 डी की कमी यह है की यह दृश्यों का निर्माण करने में काफी समय ले लेता है. 3 डी स्टोरीबोर्ड्स का निर्माण 3 डी एनीमेशन प्रोग्राम की सहायता से भी हो सकता है अथवा 3 डी कार्यक्रमों के भीतर डिजिटल कठपुतलियों का प्रयोग कर भी इन्हें बनाया जा सकता है. कुछ कार्यक्रमों में कम रेजोलूशन वाले 3 डी चित्रों का संग्रह होता है जो इस प्रक्रिया में सहायता कर सकते हैं. कुछ 3डी एप्लीकेशन चलचित्रकारों को यह सुविधा देते हैं कि वे "तकनीकी" स्टोरीबोर्डों का निर्माण कर सकें जो दृष्टिगत रूप से सही शॉट्स और फ्रेम होते हैं.

हालांकि तकनीकी स्टोरीबोर्ड्स सहायक हो सकते है,दृष्टिगत रूप से सही स्टोरीबोर्ड्स निर्देशक की रचनात्मकता को सीमित कर सकते हैं. क्लासिक गति फिल्मों जैसे ओर्सन वेल्लेस की नागरिक केन और 'अल्फ्रेड हिचकॉक की नॉर्थ बाय नॉर्थवेस्ट में, निर्देशकों ने ऐसे स्टोरीबोर्ड बनाए जिन्हें प्रारम्भ में चलचित्रकारों ने फिमाना असंभव समझा. ऐसे नवीन और नाटकीय शॉट्स में फील्ड और एंगल की असंभव गहराई थी जिसमें "कैमरे के लिए कोई जगह नहीं थी" - कम से कम तब तक नहीं थी जब तक निर्देशक के द्वारा कल्पित ऐसे शॉट्स जिन्होंने नए आयाम गढ़े के लिए रचनात्मक समाधान नहीं मिल गए.

यह बहुत ही आवश्यक है की निर्देशक सिर्फ वही तक सीमित न हो जाए जिसे की चलचित्रकार "संभव" या "सामान्य" मानता हो. तकनीकी 3 डी प्रोग्राम कभी कभी छायाकार को उन चुनौतियों का सामना करने में सहायक हो सकते हैं जो कि निर्देशक ने उन्हें जटिल शॉट्स फिल्माने के लिए दी हैं.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • सजीवन(एनीमेशन)
  • फ़िल्म-निर्माण
  • ग्राफिक आयोजक
  • फोटोमैटिक
  • पूर्वावलोकन
  • पूर्व-निर्माण
  • पटकथा
  • स्क्रीनलेखन
  • आलेख में विकार
  • फिल्म से संबंधित विषयों की सूची

संदर्भ[संपादित करें]

  1. 1936 वृत्तचित्र कार्टूनलैंड रहस्य
  2. "Sequential Thematic Organization of Publications". Scribd.com. 2008-01-31. http://www.scribd.com/doc/2019286/Sequential-Thematic-Organization-of-Publications. अभिगमन तिथि: 2010-11-03. 
  3. http://faculty.washington.edu/farkas/TC510/STOP_Original% 20Report.pdf