सोनारगाँव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बड़ा सरदार बरी के खण्डहर, यह सोनारगाँव में एक भवन है।

सोनारगाँव बंगाल में इसा खान के साम्राज्य की प्राचीन राजधानी है। यह वर्तमान नगर नारायणगंज, बांग्लादेश में स्थित है। महान मुस्लिम यात्री इब्न बतूता १४वीं सदी में यहाँ आया था। यह शेर शाह सूरी मार्ग का पूर्वी छोर है, जिसे शेर शाह सूरी द्वरा १६वीं सदी में बनवाया गया था, और २,५०० किमी लम्बा यह मार्ग उत्तर भारत से होते हुए पाकिस्तान के उत्तर-पूर्वी सीमान्त प्रदेश के पेशावर में समाप्त होता है।

एतिहासिक स्थल[संपादित करें]

सोनारगाँव का एक खण्डहरस्थ भवन
  • सोनारगाँव का 'लोक शिल्प जादूघर', जो इसा खान की राजधानी का एक भाग था।
  • 'पानम नगर' १९वीं सदी में सोनारगाँव के ऊपरी-मध्यम वर्ग के लोगों का एक केन्द्र था। अब यह खण्डहर है। यहाँ पर मुख्यतः हिन्दू वस्त्र विक्रेता रहते थे।
  • मूसा खान की मस्जिद, जो ढाका विश्वविद्यालय के डा मुहम्म्द शाहिदुल्लाह की कब्र भी है। यह इसपर की गई कारीगरी के लिए जानी जाती है और कहा जाता है कि इसका निर्माण इसा खान या उसके पुत्र ,मूसा खान ने करवाया था।
  • 'हाजीगंज का किला' को इसा खान का मुख्य सामरिक किला था जो मेघना, शितलक्या, और ब्रह्मपुत्र नदियों के सामने था। यह प्राधिकरण द्वारा रक्षित है।

उल्लेखनीय लोग[संपादित करें]

यहाँ के कुछ उल्लेखनीय व्यक्ति है: बद्रुन नेस्सा मंसूर, सेवानिवृत उप-प्रधानाचार्य, शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय, ढाका।

यह भी देखें[संपादित करें]

सोनारगाँव उपजिला

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]