सोनभद्र जिला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
सोनभद्र जिला (काले रंग में)

सोनभद्र भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश का एक जिला है । जिले का मुख्यालय राबर्ट्सगंज है ।

सोनभद्र जिला, मूल मिर्जापुर जिले से 4 मार्च 1989 को अलग किया गया था। 7,388 वर्ग किमी क्षेत्रफल के साथ यह उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा जिला है। यह 23.52 तथा 25.32 अंश उत्तरी अक्षांश तथा 82.72 एवं 93.33 अंश पूर्वी देशान्तर के बीच स्थित है। जिले की सीमा पश्चिम में मध्य प्रदेश, दक्षिण में छत्तीसगढ़, पूर्व में झारखण्ड तथा बिहार एवं उत्तर में उत्तर प्रदेश का मिर्जापुर जिला है। रार्बट्सगंज जिले का प्रमुख नगर तथा जिला मुख्यालय है। जिले की जनसंख्या 14,63,519 है तथा इसका जनसंख्या घनत्व उत्तर प्रदेश में सबसे कम 198 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी है।

सोन नदी जिले में पश्चिम से पूर्व की ओर बहती है। इसकी सहायक नदी रिहन्द जो छत्तीसगढ़ एवं मध्य प्रदेश के पठार से निकलती है सोन में जिले के केन्द्र में मिल जाती है। रिहन्द नदी पर बना गोवन्दि वल्लभ पंत सागर आंशिक रूप से जिले में तथा आंशिक रूप से मध्य प्रदेश में आता है।

जिले में दो भौगोलिक क्षेत्र हैं जिनमें से क्षेत्रफल में हर एक लगभग 50 प्रतिशत है। पहला पठार है जो विंध्य पहाड़ियों से कैमूर पहाड़ियों तक होते हुए सोन नदी तक फैला हुआ है। यह क्षेत्र गंगा घाटी से 400 से 1,100 फिट ऊंचा है। दूसरा भाग सोन नदी के दक्षिण में सोन घाटी है जिसमें सिंगरौली तथा दुध्दी आते हैं। यह अपने प्राकृतिक संसाधनों एवं उपजाऊ भूमि के कारण विख्यात हैं।

स्वतंत्रता मिलने के लगभग 10 वर्षों तक यह क्षेत्र (तब मिर्जापुर जिले का भाग) अलग-थलग था तथा यहां यातायात या संचार के कोई साधन नहीं थे। पहाड़ियों में चूना पत्थर तथा कोयला मिलने के साथ तथा क्षेत्र में पानी की बहुतायत होने के कारण यह औद्योगिक स्वर्ग बन गया। यहां पर देश की सबसे बड़ी सीमेन्ट फैक्ट्रियां, बिजली घर (थर्मल तथा हाइड्रो), एलुमिनियम एवं रासायनिक इकाइयां स्थित हैं। साथ ही कई सारी सहायक इकाइयां एवं असंगठित उत्पादन केन्द्र, विशेष रूप से स्टोन क्रशर इकाइयां, भी स्थापित हुई हैं।

क्षेत्रफल - वर्ग कि.मी.

जनसंख्या - (2001 जनगणना)

साक्षरता -

एस. टी. डी (STD) कोड -

जिलाधिकारी - (सितम्बर 2006 में)

समुद्र तल से उचाई -

अक्षांश - उत्तर

देशांतर - पूर्व

औसत वर्षा - मि.मी.

औद्योगिक इतिहास[संपादित करें]

  • 1956 : चुर्क सीमेंट कारखाना, 800 टन प्रतिदिन
  • 1961 : रिहन्द बांध, पिपरी, 300 MW विद्युत, शक्ति संयंत्रों के लिये जलभंडार
  • 1962 : हिन्डाल्को अलुमिनियम कारखाना, रेणुकूट, Alumina refining - 114,5000 TPA, Aluminium metal - 424,000 TPA.
  • 1965 : Kanoria Chemicals, Renukoot, Acetaldehyde - 10000 TPA, Formaldehyde - 75000 TPA, Lindane - 875 TPA, Hexamine - 4000 TPA, Industrial Alcohol - 225 million litters/annum, Aluminium Chloride - 6875 TPA, Ethyl Acetate - 3300 TPA, Acetic Acid - 6000 TPA, Commercial Hydrogen.
  • 1967 : Renusagar Power Plant (Hindalco), 887.2 MW of electricity.
  • 1968 : Obra Dam, 99 MW of electricity, Reservoir for power plant.
  • 1971 : Dala Cement Factory, 3600 T/day.
  • 1971 : Obra Thermal Power Plant, UPSEB, 1550 MW of electricity.
  • 1980 : Chunar Cement Factory, Ancillary unit of Dala Cement Factory.
  • 1980 : Anpara Thermal Power Plant, UPSEB, 1630 MW of electricity.
  • 1984 : Singrauli Thermal Power Plant NTPC, Shaktinagar, 2050 MW of electricity.
  • 1987 : Vindhyachal Thermal Power Plant NTPC, 3260 MW of electricity.
  • 1988 : Hi -Tech Carbon, Renukoot, Carbon Black - 1,60,000 MT/annum.
  • 1989 : Rihand Thermal Power Plant, NTPC, Bijpur, 2000 MW of electricity.
  • 1990 : Finding of Gold Mine in Hills, Mirchadhuri.
  • 1998 : Kanoria Chemicals Power Plant, Renukoot, 50 MW of electricity.
  • अन्य : Open Coal Mines at Bina, Kakri, Dudhichua, Jayant, Khadia, Singarouli (Belongs to Northern Coalfields Ltd, 100 years coal for 20000 MW of electricity, Several stone crushing units). One village is there named Dibulganj which is the one of the largest gram panchyat of india.

बाहरी कड़ियां[संपादित करें]