सूक्ष्म चिट्ठाकारी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूक्ष्म चिट्ठाकारी (अंग्रेज़ी:Microblogging माइक्रोब्लॉगिंग) पारंपरिक चिट्ठाकारी का एक भिन्न रूप है जिसमें संक्षिप्त पाठ्य संदेश भेजे जा सकते हैं। संदेश की सीमा प्रायः १४० अक्षरों (ट्विटर पर) की होती है जिसे अपने मोबाईल फ़ोन, इंस्टैंट मैसेंजर, ई-मेल या जालपृष्ठ द्वारा भेज सकते हैं। २००६ में प्रारंभ, ट्विटर सर्वाधिक प्रसिद्ध माइक्रोब्लॉगिंग सेवा है। इसके बाद दूसरे स्थान पर प्रचलित सेवा गूगल द्वारा अधिग्रहित जायकू है।

ज्यों ज्यों माइक्रोब्लॉगिंग की लोकप्रियता में बढ़ोत्तरी हो रही है इसके अति साधारण रूप में नये अंग और विशेषताएं आदि जोड़े जाने के प्रयास चल रहे है। डिग के संस्थापक केविन रोज़ द्वारा स्थापित पाउंस में संचिका शेयरिंग व कार्यक्रम न्यौते भेजने कि सुविधा भी जोड़ी गई। हाल ही में आरंभ किये गए प्लर्क के जालघर में अंतरापृष्ठ को एक टाईम लाईन का स्वरूप दे कर विडियो व अन्य मीडिया जोड़ने की सुविधा दी गई है। माइक्रोब्लॉगिंग का प्रभाव इतना बढ़ गया है कि फ़ेसबुक से लेकर लिंक्ड-इन तक को, स्टेटस अपडेट के नां पर ही सही, माइक्रोब्लॉगिंग की सुविधा उपलब्ध करानी पड़ी है। अतः ये सिद्ध हो चुका है कि माइक्रोब्लॉगिंग विख्यात हस्तियों को भी लुभा रही है। इसीलिये ब्लॉग अड्डा ने अमिताभ बच्चन के ब्लॉग के बाद विशेषकर उनके लिये माइक्रोब्लॉगिंग की सुविधा भी आरंभ की है। बीबीसी[1]अल ज़जीरा[2] जैसे विख्यात समाचार संस्थानों से लेकर अमरीका के राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी बराक ओबामा[3] भी ट्विटर पर मिलते हैं। हाल के समाचारों में शशि थरूर, शाहरुख खान, अभिषेक बच्चन, सचिन तेंदुल्कर आदि भी साइटों पर दिखाई दिये हैं।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. बी.बी.सी ट्विटर पर
  2. [http://twitter.com/ajenglish अल जज़ीरा ट्विटर पर अंग्रेज़ी में
  3. बराक ओबामा ट्विटर पर