सुज़ुकी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Suzuki Motor Corporation
प्रकार Public (TYO: 7269)
उद्योग Automobile
स्थापना 1909 (as Suzuki Loom Works)
संस्थापक Michio Suzuki
मुख्यालय Hamamatsu, Shizuoka, Japan
प्रमुख व्यक्ति Osamu Suzuki, Chairman of the Board, President, CEO, COO and Representative Director[1]
उत्पाद
राजस्व Red Arrow Down.svg$33.46 billion (2008)[2]
प्रचालन आय Red Arrow Down.svg$856.6 million (2008)
प्रबंधन आधीन परिसंपत्तियां Red Arrow Down.svg$305.43 million (2008)[2]
कर्मचारी 14,266 (2009)[3]
सहायक कंपनियाँ
वेबसाइट GlobalSuzuki.com

Suzuki Motor Corporation (スズキ株式会社 Suzuki Kabushiki-Kaisha?) एक जापानी बहुराष्ट्रीय निगम है जिसका मुख्यालय हमामात्सू, जापान में स्थित है और जो काम्पैक्ट ऑटोमोबाइल और 4x4 वाहन, सभी रेंज की मोटरसाइकिल, ऑल-टेरेन वाहन (ATVs), आउटबोर्ड जहाज इंजन, व्हीलचेयर और अन्य प्रकार के छोटे आंतरिक दहन इंजन का उत्पादन करती है. उत्पादन मात्रा के आधार पर सुज़ुकी दुनिया भर में नौवीं सबसे बड़ी ऑटोमोबाइल निर्माता है,[4] करीब 45,000 से अधिक लोगों को रोजगार देती है और 23 देशों में इसकी 35 मुख्य उत्पादन इकाइयां और 192 देशों में इसके 133 वितरक हैं.[कृपया उद्धरण जोड़ें] आंकड़ों के अनुसार जापान ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन (जेएएमए) से सुज़ुकी जापान की छोटी कारों और ट्रकों की दूसरी सबसे बड़ी निर्माता है.

जापानी भाषा में "सुज़ुकी" को [suzuki] उच्चारित किया जाता है, जिसमें [ki] पर बलाघात दिया जाता है. अंग्रेजी में इसका उच्चारण IPA: /səˈzuːki/ sə-ZOO-kee किया जाता है, और ज़ु पर जोर डाला जाता है. इस उच्चारण का इस्तेमाल सुज़ुकी कंपनी द्वारा उन विपणन अभियानों के लिए किया जाता है जो अंग्रेजी भाषियों के लिए होते हैं.

इतिहास[संपादित करें]

1909 में, मिशियो सुज़ुकी (1887-1982) ने जापान के समुद्र तट के एक छोटे से गांव हमामात्सू में सुज़ुकी लूम वर्क्स की स्थापना की. जैसे-जैसे सुज़ुकी ने जापान के विशाल रेशम उद्योग के लिए बुनाई करघे का निर्माण किया व्यापार में तरक्की होती गई. [5] सन् 1929 में मिशियो सुज़ुकी ने एक नए प्रकार के करघे मशीन का आविष्कार किया जिसे विदेशों में निर्यात किया जाता था. सुज़ुकी ने करीब 120 पेटेंट और उपयोगिता मॉडलों के अधिकार को दायर किया.[कृपया उद्धरण जोड़ें] कंपनी ने अपने शुरूआती 30 सालों में केवल विकास और इस प्रकार के असाधारण जटिल मशीनों के उत्पादन पर ध्यान केंद्रित किया.[कृपया उद्धरण जोड़ें]करघा में उनकी सफलता के बावजूद, सुज़ुकी को एहसास हुआ कि कंपनी को दूसरी चीजों पर ध्यान देना चाहिए और उसने अन्य उत्पादों पर अपना ध्यान लगाया. उपभोक्ताओं की मांग के आधार पर, उन्होंने छोटी कारों के निर्माण का फैसला किया और उन्हें लगा कि यह कारों का निर्माण सबसे व्यावहारिक और नया व्यापार होगा. इय परियोजना को 1937 में शुरू किया गया, और दो साल के भीतर ही सुज़ुकी ने कई कॉम्पैक्ट प्रोटोटाइप कार बना ली थी. सुज़ुकी का पहला मोटर वाहन, उस समय की नव प्रवर्तित, लिक्विड-कूल, चार स्ट्रोक, चार सिलेंडर इंजन द्वारा संचालित थी. इसमें ढाला गया एक एल्यूमीनियम क्रैंककेस और गियरबॉक्स था और 800 सीसी से कम के विस्थापन से 13-horsepower (9.7 कि.वॉ.) उत्पन्न करती थी.

द्वितीय विश्व युद्ध की शुरुआत में, सुज़ुकी की नए वाहनों के निर्माण योजना को स्थगित कर दिया गया जब सरकार ने नागरिक यात्री कारों को एक "गैर आवश्यक वस्तु" घोषित किया. युद्ध के समापन पर, सुज़ुकी ने एक बार फिर करघा का उत्पादन शुरू किया. करघा उत्पादन में उस समय तरक्की हुई जब अमेरिकी सरकार ने जापान के लिए कपास के निर्यात को मंजूरी दे दी. घरेलू कपड़ा निर्माताओं के ऑर्डर में वृद्धि के साथ सुज़ुकी की किस्मत चमक उठी. लेकिन खुशी ज्यादा दिनों तक टिक नहीं पाई क्योंकि 1951 में कपास बाजार ढह गया.

इस भारी चुनौती का सामना करते हुए सुज़ुकी ने एक बार फिर मोटर वाहनों का निर्माण करने का फैसला किया. युद्ध के बाद, जापान को सस्ती, विश्वसनीय व्यक्तिगत परिवहन की बड़ी आवश्यकता थी. कई फर्मों ने "क्लिप-ऑन" द्वारा संचालित इंजनों की पेशकश की जो कि मूल रूप से साइकिल के साथ संलग्न हो सकते थे. सुज़ुकी का पहला दो पहिया उत्पाद, मोटरीकृत साइकल के रूप में आया जिसका नाम "पावर फ्री" था. सस्ती डिजाइन और आसानी से देखरेख और निर्माण की जा सकने वाली, 1952 पॉवर फ्री में 36 सीसी, वन होर्सपॉवर, टू-स्ट्रोक इंजन की विशेषता थी. [6] डबल स्प्रोकेट गियर प्रणाली एक अभूतपूर्व विशेषता थी, जिसमें चालक को या तो इंजन के सहयोग से पैडल मारने या इंजन की सहायता के बगैर पैडल करने या पैडल को गाड़ी से अलग कर इंजन के बल पर गाड़ी चलाने की क्षमता होती थी. प्रणाली इतनी प्रतिभा सम्पन्न थी कि नई लोकतांत्रिक सरकार के पेटेंट कार्यालय ने सुज़ुकी में मोटरसाइकिल इंजीनियरिंग के अनुसंधान को जारी रखने के लिए वित्तीय सब्सिडी के लिए मंजूरी दी और इस प्रकार सुज़ुकी मोटर कॉर्पोरेशन का जन्म हुआ.

1953 में, सुज़ुकी ने रेसिंग की कई जीत में पहला स्थान प्राप्त किया जब अति लघु 60 सीसी "डायमंड फ्री" ने माउंट फुजी पहाड़ चढ़ाई में अपने वर्ग में जीत हासिल की. [6]

1955 सुज़ुलाइट

1955 तक सुज़ुकी प्रति मास 6000 मोटरसाइकिलों का निर्माण करता था और अपने मोटरसाइकल की सफलता के बाद सरकारी तौर इसने अपना नाम बदल कर सुज़ुकी मोटर कंपनी लिमिटेड रखा, उसके बाद सुज़ुकी ने इससे भी ज्यादा सफलता प्राप्त ऑटोमोबाइलों का निर्माण किया: जिसमें 1955 का सुज़ुकी सुज़ुलाइट भी है. सुज़ुकी ने शुरू से ही नवाचार के लिए अपनी रुचि का प्रदर्शन किया. सुज़ुलाइट में फ्रंट-व्हील-ड्राइव, फोर-व्हील स्वतंत्र सस्पेंशन और रैक एंड पिनियन स्टियरिंग की विशेषता शामिल थी - एक विशेषता जो कारों में अर्द्धशताब्दी के बाद सामान्य हुई.

ऐतिहासिक समयरेखा[संपादित करें]

  • 1909 - सुज़ुकी लूम वर्क्स की स्थापना हमामात्सू, शिज़ोका प्रेफेक्चर, मिस्टर मिशियो सुज़ुकी द्वारा.
  • 1920 - सुज़ुकी लूम विनिर्माण कंपनी के रूप में 500000 येन से पुनर्गठित, निगमित, और पूंजीकृत, जिसके अध्यक्ष मिशियो सुज़ुकी थे.
  • 1952 - 'पावर फ्री' मोटरकृत साइकिल विपणन. [6]
  • 1954 - कम्पनी का नाम सुज़ुकी मोटर कंपनी लिमिटेड में परिवर्तित.
  • 1955 - हल्के वज़न की कार सुज़ुकी सुज़ुलाइट (360 सीसी, 2-स्ट्रोक) फ्रंट व्हील ड्राइव, उस युग में हल्के वजन के कार को जापान में विपणित करने के लिए
  • 1961 - कर्घा मशीन शाखा को मोटर कार्य और हल्के वजन की ट्रक सुज़ुलाइट कैरी के विपणन से अलग करते हुए सुज़ुकी लूम मैनुफेक्चरिंग कंपनी को स्थापित किया गया.
  • 1962 - सुज़ुकी ने आयल ऑफ मैन टीटी पर 50 सीसी क्लास चैम्पियनशिप जीता
  • 1963 - यूएस सुज़ुकी मोटर कार्पोरेशन, एक प्रत्यक्ष बिक्री सहायक, को लॉस एंजिल्स में खोला गया.
  • 1965 - 'D55' (5.5 hp, 2-स्ट्रोक) आउटबोर्ड मोटर का विपणन किया गया जल्दी ही उसे सड़क पर उतारा गया और फ्रोंटे 800 का विपणन शुरू किया गया.
  • 1967 - थाई सुज़ुकी मोटर कंपनी, लिमिटेड, एक स्थानीय संयंत्र कंपनी के रूप में स्थापित.
  • 1968 - कैर्री का विपणन पूर्ण रूप से टैक्सी वैन के रूप में किया गया.
  • 1970 - एलजे-सीरीज (जिम्नी) 4X4 विपणित.
  • 1971 - Ts185 एंडुरो का विपणन.
  • 1971 - GT750 मोटरसाइकिल विपणित.
  • 1973 - सुज़ुकी कनाडा लिमिटेड, को कनाडा, ओंटारियो में खोला गया.
  • 1974 - पी.टी. सुज़ुकी इंडोनेशिया विनिर्माण को जाकर्ता, इंडोनेशिया में स्थापित किया गया, सुज़ुकी मोटर चेयर Z600 मोटर व्हीलचेयर के विपणन द्वारा चिकित्सा उपकरण क्षेत्र में प्रवेश, सुज़ुकी होम के साथ हाउसिंग क्षेत्र में विस्तार और इसकी शुरूआत पूर्वनिर्मित भवन मिनी हाउस के दो मॉडल और तीन प्रकार के भंडारण शेड के साथ हुई.
  • 1975 - उत्पादन और बिक्री के लिए एक संयुक्त उद्यम, एंटोनियो सुज़ुकी कार्पोरेशन को फिलीपींस और मनीला में स्थापित किया गया.
  • 1976 - जीएस सीरीज मोटरसाइकिल का विपणन.
  • 1977 - LJ80 4x4 का विपणन और GS1000H मोटरसाइकिल के निर्यात की शुरूआत.
  • 1979 - ऑल्टो का विपणन.
  • 1979 - ब्रिटेन में SC100 का विपणन.
  • 1980 - सुज़ुकी ऑस्ट्रेलिया Pty. लिमिटेड को सिडनी, ऑस्ट्रेलिया में स्थापित किया गया और तीन इलेक्ट्रिक पॉवर जेनरेटर के विपणन के द्वारा सामान्य प्रयोजन के इंजन क्षेत्र में प्रवेश.
  • 1981 - जनरल मोटर्स (अमेरिका) और इसुज़ु मोटर्स लिमिटेड (जापान) के साथ व्यापार संबंध पर हस्ताक्षर.
  • 1982 - 4X4 का उत्पादन कराची,पाकिस्तान में पाक सुज़ुकी मोटर कंपनी, लिमिटेड में शुरू हुआ और वर्ल्ड रोड रेस ग्रांड प्रिक्स 500 में लगातार 7वें बार चैम्पियनशिप निर्माता के रूप में जीत हासिल की.
  • 1982 - ऑल्टो के पक्ष में SC100 बंद.
  • 1983 - भारत में कारों का उत्पादन करने के लिए मारूति उद्योग लिमिटेड के साथ साझेदारी की शुरूआत.
  • 1983 - कल्टस/स्विफ्ट 1.0-लीटर पेसेंजर कार का विपणन और नई दिल्ली, भारत में मारुति उद्योग लिमिटेड पर 4X4 का उत्पादन शुरू किया गया.
  • 1984 - सुज़ुकी न्यूजीलैंड लिमिटेड को न्यूजीलैंड के वंगानुइ में स्थापित किया गया और संयुक्त राज्य अमेरिका को शेवरले स्प्रिंट का निर्यात शुरू हुआ. कार उत्पादन तकनीकी सहायता संविदा ने चीन के नेशनल ऐरोटेक्नोलॉजी इम्पोर्ट एंड एक्सपोर्ट बीजिंग निगम के साथ हस्ताक्षर किया. सुज़ुकी की GmbH डॉयशलैंड के संचालन की शुरूआत हेपेनहेम, जर्मनी में हुई.
  • 1985 - अमेरिका ऑटोमोटिव कार्पोरेशन की समुराई के साथ सुज़ुकी को स्थापित किया गया, और एक ऑयल-कूल इंजन के साथ GSX-R750 मोटरसाइकल का विपणन किया गया और स्पेन के अवेल्लो एस.ए. पर स्कूटर उत्पादन को शुरू किया गया. अंडालुसिया, स्पेन के लिनारेस कारखाने में सुज़ुकी कारों के उत्पादन के लिए सैन्टाना मोटर्स के साथ समझौते पर हस्ताक्षर.
  • 1986 - यूएस सुज़ुकी मोटर कॉर्प और सुज़ुकी ऑफ़ अमेरिका ऑटोमोटिव कार्प के विलय से अमेरिकन सुज़ुकी मोटर कार्पोरेशन का गठन किया गया.
  • 1987 - कल्टस/स्विफ्ट उत्पादन कोलंबिया में शुरू हुआ और कुल सकल कार निर्यात 2 मिलियन तक पहुंच गई.
  • 1988 - एस्कुडो/विटारा 4x4 का विपणन किया गया और कुल सकल कार उत्पादन 10 मिलियन पहुंच गया.
  • 1989 - सीएएमआई ऑटोमोटिव इंक की स्थापना हुई और कनाडा, ओंटारियो में इसका संचालन शुरू हुआ. स्विफ्ट जी.टी./GLX और साइट किक की बिक्री संयुक्त राज्य अमेरिका में शुरू हुई.
  • 1990 - कॉर्पोरेट नाम को सुज़ुकी मोटर कॉरपोरेशन में बदल दिया गया.
  • 1991 - डेवू शिपबिल्डिंग एंड हैवी मशीनरी लिमिटेड के साथ तकनीकी संबंधों के साथ ही कोरिया में कार उत्पादन शुरू हुआ, कापुचिनो 2-सीटर का विपणन.
एस्ज्टरगोम, हंगरी के सुज़ुकी संयंत्र में 6000 से अधिक कर्मचारी. (2007 तक)
  • 1993 - सुज़ुकी इजिप्ट एस.ए.ई. पर पेसेंजर कार उत्पादन/बिक्री शुरू हुआ, नए कार उत्पादन के संयत्र के उद्घाटन समारोह के लिए एज्स्टरगोम, हंगरी के मग्यार सुज़ुकी कोर्पोरेशन को चुना गया और वैगन आर का विपणन किया गया.
  • 1994 - भारत के मारुति उद्योग लिमिटेड का कुल कार उत्पादन 1 मिलियन तक पहुंचा.
  • 1995 - मोटरसाइकिलों की कुल सकल निर्यात 20 मिलियन तक पहुंची.
  • 1996 - वियतनाम में उत्पादन की शुरूआत (मोटरसाइकिलें और ऑटोमोबाइल)
  • 1997 - विदेशी बाजार के लिए 10 मिलियन संचयी ऑटोमोबाइल की बिक्री को हासिल किया और 4-स्ट्रोक आउटबोर्ड मोटर शिकागो में द इंटरनेशनल मरीन ट्रेड एक्जिबिट एंड कंफ्रेंस (IMTEC) में इनोवेशन अवार्ड प्राप्त किया.
  • 1998 - सुज़ुकी और जनरल मोटर्स ने रणनीतिक गठबंधन का निर्माण किया और चोंगकिंग चांग सुज़ुकी ऑटोमोबाइल कंपनी लिमिटेड ने पेसेंजर कारों के उत्पादन के लिए चीनी सरकार से आधिकारिक मंजूरी प्राप्त किया.
  • 1999 - सकल मोटरसाइकिल उत्पादन 40 मिलियन इकाई तक पहुंचा और जिंग्क्सी चंघे सुज़ुकी ऑटोमोबाइल कंपनी लिमिटेड ने वाणिज्यिक वाहनों के उत्पादन के लिए चीनी सरकार से आधिकारिक अनुमोदन प्राप्त किया.
  • 2000 - कंपनी ने 80वीं सालगिरह मनाई, कोसाई संयंत्र में कुल उत्पादन 10 मिलियन तक पहुंची और जनरल मोटर्स और अर्जेंटीना SA में सुज़ुकी उत्पादन शुरू हुआ.
  • 2001 - सुज़ुकी लियाना/एरिओ की सकल शुरूआत. दुनिया भर में जिम्नी/एसजे की बिक्री 2 मिलियन यूनिट तक पहुंची, ऑल्टो की उत्पादन 4 मिलियन तक पहुंची और सुज़ुकी ने लैंडफिल वेस्ट का "शून्य स्तरीय" लक्ष्य को प्राप्त किया.
  • 2002 - दुनिया भर के बाजार में 30 मिलियन ऑटोमोबाइल की संचयी बिक्री हासिल की और अमेरिका की #1 वारंटी: 100,000/7-वर्ष पॉवरट्रेन सीमित वारंटी.
  • 2003 - सुज़ुकी केई कार की बिक्री में लगातार 30 वर्षों तक #1 रहा और जापान में पहला हाइब्रिड कार, ट्विन का विपणन किया गया.
  • 2004 - सकल घरेलू ऑटोमोबाइल की बिक्री 15 मिलियन तक पहुंची.
  • 2005 - स्विफ्ट को 2006 आरजेसी कार ऑफ द इयर से सम्मानित किया गया.
  • 2006 - नई XL7 का विपणन विशेष कर उत्तरी अमेरिका के बाजार में किया गया; और जीएम को वापस ले लिया गया, 92.36 मिलियन शेयर की बिक्री की गई और स्टेक को 3% के लिए घटा दिया गया.
  • 2008 - सुज़ुकी ने अपनी पहली ईंधन इंजेक्शन मोटोक्रोस बाइक की शुरूआत की, और जीएम ने सुज़ुकी में अपनी शेष 3% की हिस्सेदारी वापस ले ली.
  • 2009 - सुज़ुकी ने अपने पहले पिकअप ट्रक की शुरूआत की जिसे इक्वेटर कहा जाता है. वोक्सवागेन एजी और सुज़ुकी में एक लंबी-अवधि की गहन रणनीतिक भागीदारी को स्थापित करने के लिए एक आम सहमति हुई. [7]
  • 2010 - वोक्सवगेन एजी ने सुज़ुकी के 19.9% के बकाया शेयर की पूर्ण खरीद की. [8]

मारुति सुज़ुकी[संपादित करें]

दिल्ली के प्रगति मैदान में अपने अनावरण के दौरान मारुति सुज़ुकी की ए-स्टार वाहन.ए स्टार, सुज़ुकी की पांचवीं वैश्विक कार के मॉडल का डिजाइन बनाया गया था और इसका निर्माण भारत में ही किया गया था [9] इसके अलावा कार बिक्री के मामले में सुज़ुकी की यह सबसे बड़ी सहायक कंपनी है, साथ ही मारुति सुज़ुकी जापान के बाहर सुज़ुकी के प्रमुख अनुसंधान और विकास का स्थल है.
सुज़ुकी मारुति स्विफ्ट
चित्र:Naren Kumar.jpg
2005 में मैसूर सफारी रैली में मारुति बैलेनो रैली कार.

गुड़गांव, भारत में आधारित मारुति सुज़ुकी इंडिया लिमिटेड सुज़ुकी की सर्वाधिक और सबसे महत्वपूर्ण सहायक कंपनी है जिसका 2009-2010 के राजस्व में 1,018,365 यूनिट का वार्षिक उत्पादन है. [10] सुज़ुकी का भारतीय ऑटो दिग्गज कंपनियों में 54.2% की हिस्सेदारी है और शेष विभिन्न भारतीय जनता और वित्तीय संस्थाओं द्वारा स्वामित्व में है. कंपनी को 1981 में निगमित किया गया था और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध किया गया था. [11] 2005-2006 में, कंपनी के पास भारत के पेसेंजर कार विपणन का 54% शेयर बाजार था. [12] लगभग 75,000 लोगों को सीधे मारुति और उसके सहयोगियों द्वारा नियोजित किया गया.

भारत के मध्यम वर्गीय लोगों के लिए कम कीमत की कार बनाने के लिए सुज़ुकी को एक मामूली भागीदार बनाते हुए मारुति सुज़ुकी को भारतीय सरकार की एक कंपनी के रूप में शुरू किया गया था. कुछ ही वर्षों में उत्पाद रेंज में काफी विस्तार किया गया, स्वामित्व बदल गया और ग्राहकों को विकसित किया गया.

मारुति सुज़ुकी, 14 मॉडल उपलब्ध कराता है, जिसकी रेंज में भारत में INR 200,000 (US$ 5000) से भी कम रूपए में सबसे ज्यादा बिकने वाली मारुति 800 कार से लेकर प्रीमियम सेडान मारुति सुज़ुकी SX4 और लक्जरी SUV, मारुति सुज़ुकी ग्रांड विटारा शामिल है. 1983 में कंपनी द्वारा निर्मित पहली मॉडल मारुति 800 थी जिसके बाद 1984 में मिनी वैन मारुति ओमनी को लॉंच किया गया था. दोनों मॉडल में उच्च प्रौद्योगिकी और अच्छी ईंधन दक्षता के प्रयोग की वजह से उनके संबंधित श्रेणियों को बड़ी सफलता प्राप्त हुई. मारुति जिप्सी को 1985 में लॉंच किया गया, जिसके मुख्य ग्राहकों में शामिल थे भारतीय सेना और भारतीय पुलिस सेवा. मध्यम-सेडान श्रेणियों में बढ़ती प्रतिस्पर्धा को टक्कर देने के लिए अल्पकालिक मारुति 1000 को 1994 में मारुति एस्टीम द्वारा प्रतिस्थापित किया गया, मारुति 1000 को भी एस्टीम के आने तक काफी सफलता मिली थी.

मारुति जेन को 1993 में लॉंच किया गया, जो कि कंपनी की दूसरी कॉम्पैक्ट कार मॉडल थी और साथ ही इसके उच्च प्रदर्शन के लिए यह भारत में बेहद लोकप्रिय बन गई. कंपनी ने एक और कॉम्पैक्ट कार मारुति वैगन आर और 1999 में मारुति बैलेनो का निर्माण किया. हालांकि, टाटा, ह्युंडई, होंडा, और डेवू मोटर्स के साथ बढ़ती प्रतिस्पर्धा के कारण मारुति को अपने बैलेनो के साथ वह सफलता नहीं मिली जो इसे अपने प्रारम्भिक मॉडल से मिली थी. इसीलिए इसने सुज़ुकी SX4 के साथ मारुति सुज़ुकी बैलेनो को प्रतिस्थापित किया. वर्तमान में सुज़ुकी SX4 को होंडा सिटी के साथ प्रतिस्पर्धा का मज़बूत सामना करना पड़ रहा है.

2000 में मारुति ऑल्टो को लॉंच किया गया. टाटा इंडिका और हुंडई सैंट्रो के लॉंच होने से मारुति की बिक्री काफी प्रभावित हुई लेकिन मारुति ऑल्टो की मदद से भारत के ऑटो लीडर के रूप में कंपनी की स्थिति मजबूत हुई. यह वर्तमान में भारत में सबसे ज्यादा बिकने वाली कार है. मारुति के मॉडलों में मारुति सुज़ुकी ग्रैंड विटारा जिसे 2003 में लॉंच किया गया था, मारुति वर्सा, जिसे 2004 में लॉंच किया गया, मारुति सुज़ुकी स्विफ्ट जिसकी शुरूआत 2005 में हुई, मारुति जेन एस्टिलो और मारुति सुज़ुकी SX4 जिन्हें 2007 में शुरू किया गया, शामिल हैं. ऑल्टो,स्विफ्ट और एसएक्स4 भारतीय बाजार में अपने संबंधित क्षेत्रों में लीडर हैं.

14 फरवरी को, मारुति सुज़ुकी इंडिया, भारत में सुज़ुकी एक सहायक कंपनी ने घोषणा की कि इसने ऑल्टो के कुल जमा एक मिलियन के उत्पादन को हासिल किया है. सितंबर 2000 में लॉंच होने के बाद से सिर्फ सात साल और पांच महीने में ऑल्टो दस लाख की बिक्री तक पहुंच गई. एक मिलियन का करीब आधा हिस्सा पिछले 25 महीने में बिका है. ऑल्टो पिछले 37 महीनों से हर महीने लगातार भारत की सबसे बड़ी मात्रा बेची जाने वाली कार है. इसकी लोकप्रियता इसके लॉंच होने के साथ ही शुरू हुई और अभी भी जारी है, ग्राहक इसकी ईंधन दक्षता के संयोजन, समकालीन डिजाइन और आकर्षक रूप और कई सुविधाओं से आकर्षित रहे हैं जिसमें इलेक्ट्रॉनिक पावर स्टीयरिंग और एयर कंडीशनिंग भी शामिल है. इसके साथ ही ऑल्टो एक मिलियन यूनिट तक पहुंचने वाली मारुति सुज़ुकी की तीसरी कार बनी. इससे पहले, मारुति 800 और ओमनी एक मिलियन की यूनिट तक पहुंच पाई थीं. भारत में इसकी सफलता के अलावा, मारुति सुज़ुकी में निर्मित 152,000 से भी अधिक ऑल्टो की बिक्री अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हुई, जिसमें अल्जीरिया और चिली में इसने काफी लोकप्रियता हासिल की.

मारुति एक्सपोर्ट्स लिमिटेड, मारुति उद्योग लिमिटेड की सहायक कंपनी है और इसका प्रमुख ध्यान निर्यात पर है और यह घरेलू भारतीय बाजार में संचालन नहीं करती है. 480 कारों के वाणिज्यिक माल को सबसे पहले हंगरी के लिए भेजा गया था. इसी देश में 571 कारों की एक और खेप भेजने के साथ ही मारुति ने 3,000,000 कारों के पड़ाव को पार कर दिया. अपनी स्थापना के बाद से ही निर्यात पहलु के कारण ही सरकार इसे प्रोत्साहित करने के लिए हमेशा ही तैयार रही है. हर राजनीतिक दल ने मारुति द्वारा विदेशी मुद्रा अर्जित करने की उम्मीद की. अंगोला, बेनिन, जिबूती, इथियोपिया, यूरोप, केन्या, मोरक्को, श्रीलंका, युगांडा, चिली, ग्वाटेमाला, कोस्टा रिका और अल साल्वाडोर कुछ ऐसे देश हैं जहां मारुति अपने उत्पाद निर्यात करता है. [13]

सुज़ुकी मोटर कॉर्पोरेशन, जापान के भारत में अन्य सहायक कंपनियों में शामिल हैं:

  • सुज़ुकी पॉवरट्रेन इंडिया लिमिटेड: कारों के लिए इंजन निर्माता
  • सुज़ुकी मोटरसाइकिल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड: विनिर्माण सुज़ुकी ब्रांड के तहत दो पहिया वाहन का निर्माण करता है. भारत में लॉंच हुए इसके दो पहिए मॉडलों में जीएस 150R, इन्ट्रुडर, हायाबुसा 1300 सीसी, 125 सीसी एक्सेस, 125 सीसी मोटरसाइकिल ज़ीउस शामिल हैं.

अमेरिकी सुज़ुकी मोटर कार्पोरेशन का इतिहास[संपादित करें]

अमेरिकन सुज़ुकी मुख्यालय कैलिफोर्निया के ब्री में स्थित है. जनरल मोटर्स के साथ एक समझौते के माध्यम से सुज़ुकी ने 1985 में शेवरले स्प्रिंट की तरह ही संयुक्त राज्य अमेरिका में सुज़ुकी कल्टस संस्करण की बिक्री शुरू की. शुरूआत में इस मॉडल को 3-डोर हैचबैक के रूप में बेचा गया और यह शेवरले का सबसे छोटा मॉडल था.

2004 सुज़ुकी XL-7

1986 मॉडल वर्ष के लिए भी समुराई को 1985 में लॉंच किया गया, और नव निर्मित अमेरिकन सुज़ुकी कार्पोरेशन द्वारा यह संयुक्त राज्य में पेश की गई पहली कार थी, और इसके प्रथम वर्ष में सुज़ुकी के अलावा किसी और दूसरी जापानी कंपनी ने कारें नहीं बेची. समुराई एक परिवर्तनीय या हार्डटॉप के रूप में उपलब्ध थी और कंपनी का स्लोगन नेवर ए डल मोमेंट था. समुराई सफल रही थी लेकिन 1988 के एक परिक्षण में उपभोक्ता रिपोर्ट ने इसको पलट जाने के प्रति अतिसंवेदनशील होने का आरोप लगाया. इससे एक बहु प्रचारित 1996 के मुकदमे की शुरुआत हुई जिसका निपटारा 2004 तक नहीं हुआ.

1989 में, अमेरिकन सुज़ुकी ने स्विफ्ट की शुरूआत की जो कि दूसरी पीढ़ी की सुज़ुकी कल्टस थी. बाद में 1990 में स्विफ्ट, एक 4-डोर सेडान के साथ जीटीआई और जीएलएक्स हैचबैक के रूप में उपलब्ध थी. 1989 में एक नए छोटे एसयूवी जिसे साइडकिक कहा जाता था, को भी लॉंच किया गया था जो उत्तरी अमेरिका में पहली 4-डोर मिनी-एसयूवी थी. स्विफ्ट और साइडकिक, जीएम के जियो मेट्रो और जियो ट्रेकर के करीबी थे और ज्यादातर इनका निर्माण सुज़ुकी और जीएम के संयुक्त उद्यम सीएएमआई के द्वारा इंगेरसोल, ओंटारियो, कनाडा में किया जाता है. स्विफ्ट जी.टी./ जीटीआई और 4 डोर मॉडल जापान से आयात किया जाता है. सुज़ुकी समुराई के उपभोक्ता रिपोर्ट के नकारात्मक मूल्यांकन से अस्थायी रूप से अमेरिकी सुज़ुकी को वार्षिक बिक्री में एक झटका लगा और उसके बाद वाले वर्ष में 20,000 यूनिट से नीचे चली गई.

1995 में, अमेरिकी सुज़ुकी ने एस्टीम की शुरूआत की और स्विफ्ट को फिर से डिजाइन किया. स्विफ्ट जी.टी. के निर्माण को रोक दिया गया और यह संस्करण केवल उत्तरी अमेरिका में बना रहा जहां इसका निर्माण साएएमई द्वारा किया जाता था. दोहरे फ्रंटबैग के साथ ये मॉडल सुज़ुकी का पहला वाहन था जिसका विपणन उत्तरी अमेरिका में किया गया. एस्टीम के स्टेशन वेगन संस्करण की शुरूआत 1996 में की गई थी. इसी वर्ष दुनिया भर में सुज़ुकी द्वारा उत्पादित कारों की संख्या 975,000 कारों से भी अधिक पहुंच गई.

साथ ही 1996 में, अमेरिकी सुज़ुकी ने 2-डोर एसयूवी एक्स-90 और दोहरे एयरबैग, एक 120 hp (89 कि.वॉ.) 1.8 लीटर इंजन, 16 इंच पहिया और दो-टोन रंग के साथ संशोधित साइडकिक स्पोर्ट जारी की. साइडकिक को 1999 के लिए विटारा और ग्रैंड विटारा के साथ प्रतिस्थापित किया गया था. V6 सिलेंडर इंजन और 4 पहिए में उपलब्ध एबीएस ब्रेक्स के साथ ग्रैंड विटारा सुज़ुकी का पहला मॉडल था.

ग्रैंड विटारा XL-7 को ग्रैंड विटारा के नूतन संस्करण के रूप में 2001 में लॉंच किया गया. ग्रैंड विटारा XL-7 में बड़ा 2.7 लीटर वी 6 सिलेंडर इंजन और तीन लोगों के बैठने की क्षमता थी. यह सुज़ुकी का आज तक का सबसे बड़ा वाहन था और तीन लोगों को बैठाने वाला पहला कॉम्पैक्ट एसयूवी वाहन था.

2001 में मॉडल लाइनअप से स्विफ्ट को बाहर कर दिया गया था और 2002 में एस्टीम को एरियो द्वारा प्रतिस्थापित कर दिया गया था जिसमें एक विकल्प के रूप में 4-व्हील ड्राइव के साथ 4-डोर सेडान और 5-डोर क्रॉसओवर की पेशकश थी.

2004 में, जनरल मोटर्स और सुज़ुकी ने दिवालिया हो चुके डेवू मोटर्स को संयुक्त रूप से खरीदा और उसका पुनः नामकरण करते हुए GMDAT रखा. अमेरिकी सुज़ुकी ने फोरेंजा के रूप में कॉम्पैक्ट डेवू नुबिरा/डाईवू लसेटी और वेरोना के रूप में मध्यम-आकार की डेवू मैग्नस का पुनः निर्माण किया. 2005 में रेनो नाम के तहत हैचबैक की बिक्री के साथ फोरेंज़ा स्टेशन वेगन और हैचबैक शरीर की शैली को जोड़ा गया.

2006 ऐसा पहला साल था जब अमेरिकी सुज़ुकी ने संयुक्त राज्य अमेरिका में 100,000 से अधिक वाहनों को बेचा था. सुज़ुकी ने 2006 में ग्रैंड विटारा को पुनः डिजाइन किया, साथ ही 2007 में नई सुज़ुकी SX4 और सुज़ुकी XL7 की भी शुरुआत की. सुज़ुकी SX4 का उत्पादन फिएट और XL7 (कृपया ध्यान रखें ग्रैंड विटारा XL7 का संक्षिप्त नाम XL7 है) के साथ एक संयुक्त उद्यम के रूप में उत्पादित है, और इंगरसोल में जीएम और सीएएमई ऑटोमोटिव के साथ संयुक्त रूप से उत्पादित है. सुज़ुकी ने 2009 के मध्य में कम मांग की वजह से XL7 के उत्पादन को अनिश्चित काल के लिए बंद कर दिया और बाद में उस वर्ष अपने CAMI शेयर को वापस जी एम् को बेच दिया.

एक कठिन घरेलू अमेरिकी ऑटो बाज़ार के बावजूद, सुज़ुकी ने अपने 2007 की बिक्री के तालमेल को बनाए रखा जिसमें मई 2008 में सर्वश्रेष्ठ मई शामिल है. [14]

पाकिस्तानी सुज़ुकी मोटर कंपनी लिमिटेड[संपादित करें]

जापान की सुज़ुकी मोटर कॉरपोरेशन (एसएमसी) और पाकिस्तान ऑटोमोबाइल कॉरपोरेशन (पीएसीओ) के बीच संयुक्त उद्यम समझौते के कार्यकाल के बाद अगस्त 1983 में पाक सुज़ुकी मोटर कंपनी लिमिटेड (पीएसएमसीएल) पब्लिक लिमिटेड कंपनी के रूप में शामिल हुई. [15]

नई कंपनी ने संपति को हासिल किया जिसमें अवामी ऑटो लिमिटेड की उत्पादन सुविधाएं शामिल हैं. पीएसएमसीएल ने जनवरी 1984 में पेसेंजर्स कारों, पिकअप्स, वैन और 4x4 वाहनों के प्राथमिक उद्देश्य के साथ जनवरी 1984 में वाणिज्यिक संचालन शुरू किया.

बिन कासिम में कंपनी के ग्रीन फील्ड ऑटोमोबाइल संयंत्र का ग्राउंडब्रेकिंग समारोह पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री द्वारा 1989 के शुरू में किया गया था.

1990 के प्रारम्भ में इस संयंत्र के पहले चरण के पूरा होने पर, देश के भीतर सुज़ुकी इंजन असेम्बली को शुरू किया गया. 1992 में नए संयंत्र का कार्य पूरा हुआ, और सुज़ुकी के उत्पादन को नए संयंत्र में स्थानांतरित कर दिया गया - और थ्री-बॉक्स 1300 सीसी मरगला कार को इसकी उत्पादन सीमा में शामिल किया गया.

सितंबर 1992 में कंपनी का निजीकरण किया गया और जापानी प्रबंधन के तहत सीधे रखा गया. निजीकरण के समय एसएमसी ने अपने 25% की इक्विटी से 40% तक बढ़ा दिया, बाद में जल्दी ही एसएमसी ने 31 दिसम्बर 2001 को इसे 73.09% कर लिया.

जुलाई 1994 में बिन कासिम संयंत्र ने प्रति वर्ष अपने उत्पादन क्षमता को बढ़ाते हुए 50,000 किया और इस कारखाने में दिसम्बर, 2003 तक 300,000 वाहनों का उत्पादन किया गया था.

पाकसुज़ुकी वर्तमान में बांग्लादेश, घाना, नाइजीरिया और मालदीव जैसे देशों के लिए अपनी कारों का निर्यात करता है.

सुज़ुकी कनाडा इंक इतिहास[संपादित करें]

  • 1973-1 जून, सुज़ुकी कनाडा लिमिटेड को डाउंसव्यू, ओंटारियो में कार्यालय के साथ निगमित किया गया था. कनाडा भर के सुज़ुकी डीलरों के लिए उत्पादित वाहनों में शामिल था मोटरसाइकल, और कल-पुर्जे.
  • 1974 - पश्चिमी कनाडा के सेवा डीलरों के लिए वैंकूवर शाखा कार्यालय और वेयरहाउस का उद्घाटन.
  • 1980 - शरद ऋतु - पूर्वी कनाडा में अपने चार पहिये LJ80 की बिक्री और विपणन के साथ सुज़ुकी कनाडा ने अपने ऑटोमोटिव की बिक्री शुरू की. 1 नवंबर को कंपनी का नाम सुज़ुकी कनाडा लिमिटेड से सुज़ुकी कनाडा इंक में बदला गया.
  • 1982 - कनाडा में सुज़ुकी के एक ऑल-टेरन वाहन (ATVs) की शुरूआत की गई.
  • 1983 - पश्चिमी कनाडा में सुज़ुकी आउटबोर्ड मोटर्स की श्रेणी की शुरूआत. 1 फ़रवरी, 1983 - बढ़े सुविधाओं के लिए पश्चिमी शाखा रिचमंड, कोलंबिया ब्रिटिश में स्थानांतरित.
  • 1984 - 'सुज़ुकी फोर्सा' (सुज़ुकी कल्टस) ऑटोमोबाइल की बिक्री शुरू.
  • 1986 - वाहनों के विनिर्माण के लिए एक $600 मिलियन के सुज़ुकी-जीएम संयुक्त उद्यम, CAMI ऑटोमोटिव इंक की घोषणा की. 1989 में ओंटारियो के इंगरसोल में शुरू करने के लिए इसके उत्पादन को स्थापित किया गया था.
  • 1987- 25 जनवरी - सुज़ुकी कनाडा इंक एक मुख्यालय 1,10,000 वर्ग फीट (10,000 मी²) में स्थानांतरित हुआ और रिचमंड हिल, ओंटारियो में वेयरहाउस सुविधा उपलब्ध कराया गया.
  • 1988 - शरद ऋतु - सुज़ुकी ने सीएएमई द्वारा निर्मित 2-डोर सुज़ुकी साइडकिक की बिक्री शुरू की.
  • 2009 - शरद ऋतु - सुज़ुकी ने सीएएमआई में अपनी भागीदारी को जीएम को बेचा.

OEM सौदा[संपादित करें]

1985 के बाद से, सुज़ुकी ने दुनिया भर के अन्य विनिर्माताओं के लिए ऑटोमोबाइल को साझा या उत्पादन किया है.

जनरल मोटर्स

शेवरले स्प्रिंट - संयुक्त राज्य अमेरिका/कनाडा (सुज़ुकी कल्टस)
पोंटिएक फायरफ्लाई - कनाडा (सुज़ुकी कल्टस)
जियो मेट्रो - संयुक्त राज्य अमेरिका (सुज़ुकी कल्टस)
होल्डेन बरिना - ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड (सुज़ुकी कल्टस)
शेवरले स्विफ्ट - दक्षिण अमेरिका (सुज़ुकी कल्टस)
शेवरले क्रूज - जापान (सुज़ुकी इग्निस)
होल्डेन क्रूज - ऑस्ट्रेलिया (सुज़ुकी इग्निस)
शेवरलेट मेगावाट - जापान (सुज़ुकी वैगन आर)
बेडफोर्ड रास्कल - यूरोप (सुज़ुकी कैर्री)
बेडफोर्ड - यूनाइटेड किंगडम (सुज़ुकी कैर्री)
होल्डेन स्कर्री - ऑस्ट्रेलिया (सुज़ुकी कैर्री)
शेवरले सुपरकेरी - दक्षिण अमेरिका (सुज़ुकी कैर्री)
जियो ट्रैकर - संयुक्त राज्य अमेरिका (साइडकिक/विटारा)
शेवरले ट्रैकर - संयुक्त राज्य अमेरिका/कनाडा (साइडकिक/विटारा)
जीएमसी ट्रैकर - कनाडा (साइडकिक/विटारा)
असुना सनरनर - कनाडा (साइडकिक/विटारा)
पोंटिएक सनरनर - कनाडा (साइडकिक/विटारा)
शेवरले विटारा - दक्षिण अमेरिका (साइडकिक/विटारा)
शेवरले ग्रैंड नोमड - दक्षिण अमेरिका (सुज़ुकी XL7)
होल्डेन ड्रोवर - ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड (सुज़ुकी सिएरा/जिम्नी)
ओपल अगिला - यूरोप (सुज़ुकी वैगन आर और सुज़ुकी स्पलैश)
शेवरले मेगावाट - जापान (सुज़ुकी वैगन आर)
वौक्सहॉल अगिला - यूनाइटेड किंगडम (सुज़ुकी वैगन आर और सुज़ुकी स्पलैश)

सुबारू

सुबारू जस्टी - यूरोप (सुज़ुकी स्विफ्ट)

मज़दा

मज़दा प्रसीड लेवांटे - जापान (सुज़ुकी विटारा)
मज़दा कैरोल - जापान (सुज़ुकी ऑल्टो)
औटोज़म AZ - जापान (सुज़ुकी कारा)
औटोज़म स्क्रम - जापान (सुज़ुकी एवरी)
औटोज़म AZ-वैगन - जापान (सुज़ुकी एमआर वैगन)
मज़दा AZ-ऑफरोड - जापान (सुज़ुकी जिम्नी )
मज़दा स्पियानो - जापान (सुज़ुकी लेपिन)
मज़दा लापुटा - जापान (सुज़ुकी केई)

निसान

निसान मोको - जापान (सुज़ुकी एमआर वैगन)
निसान पिनो - जापान (सुज़ुकी ऑल्टो)
निसान रुक्स - जापान (सुज़ुकी पैलेट)

मारुति सुज़ुकी

मारुति 800 - भारत (सुज़ुकी ऑल्टो)
मारुति ओमनी - भारत (सुज़ुकी कैर्री)
मारुति जिप्सी - भारत (सुज़ुकी जिम्नी)
मारुति 1000 - भारत (सुज़ुकी कल्टस)
मारुति जेन - भारत (सुज़ुकी ऑल्टो)
  • जेन के बाद से सभी मारुति मॉडलों को मारुति सुज़ुकी के रूप में संदर्भित किया जाता है.

वोक्सवौगेन

वोक्सवौगेन रोक्टैन (सुज़ुकी SX4) - वर्तमान में विकास में.

ऑटोमोबाइल्स[संपादित करें]

  • सुज़ुकी मॉडल
    • एरिओ/लियाना
    • ऑल्टो
    • ऑल्टो लेपिन
    • APV
    • कप्पुसिनो
    • कैरी
    • सर्वो
    • सुज़ुकी कल्टस (अका सुज़ुकी फोर्सा, सुज़ुकी स्विफ्ट, जियो मेट्रो, पोंटिएक फायरफ्लाई, एट अल.)
    • एस्कुडो
    • सुज़ुकी इक्वेटर
    • एस्टीम / कल्टस क्रीसेंट
    • फ्रोंटे
    • ग्रैंड विटारा
    • इगलिस
    • जिम्नी
    • केई
    • किजाशी
    • एलजे सीरीज
    • महरान
    • माइटीबॉय
    • एमआर वैगन
    • पैलेट
    • साइडकिक
    • स्प्लेश
    • SX4
    • SX4 क्रॉसओवर
    • SX4 स्पोर्ट
    • सुज़ुकी ट्विन
    • वैगन आर
    • 90-X
    • XL7
  • शेवरले आधारित दक्षिण अमेरिकी मॉडल
    • मज़ा

मोटरसाइकिल[संपादित करें]

सुज़ुकी प्रमुख मोटरसाइकिल, GSX1300R हायाबुसा.

सुज़ुकी ने मोटरसाइकिल का निर्माण 1952 में शुरू किया था, इनकी पहली मॉडल मोटर लगी हुई साइकिल है. 1950, 1960 के दशक और 1970 के बेहतर समय के दौरान कंपनी ने केवल 2-स्ट्रोक इंजन वाली मोटरसाइकिलों की निर्माण की, 2-स्ट्रोक की सबसे बड़ी मॉडल वॉटर-कूल ट्रिपल-सिलेंडर वाली GT750 थी.

टू-स्ट्रोक प्रतियोगिता में सुज़ुकी की सफलता के पीछे एक बड़ा कारक ईस्ट जर्मन ग्रां प्री रेसर अर्नस्ट डेगनर था, जो कि 1961 में पश्चिम आया था. [16] उनके साथ ईस्ट जर्मन विनिर्माता MZ से टू-स्ट्रोक इंजन के विशेषज्ञ को लाया गया. सुज़ुकी ने डेगनर की नियुक्ति की और उसने 1962 सीज़न के लिए 50 सीसी वर्ग एफआईएम रोड रेसिंग विश्व चैम्पियनशिप जीता. जब जॉएल रॉबर्ट ने 1970 में 250 सीसी की शीर्षक हासिल की तब सुज़ुकी मोटोक्रॉस विश्व चैम्पियनशिप जीतने वाली पहली जापानी निर्माता बनी. 1970 के दशक में, सुज़ुकी ने बैरी शीन और रोगर डे कोस्टर के साथ अपने आप को मोटरसाइकल रेसिंग वर्ल्ड के रूप में स्थापित किया और प्रीमियर 500 सीसी डिविजन में क्रमशः रोड रेसिंग और मोटोक्रॉस जैसी विश्व चैंपियनशिप जीता. सुज़ुकी ने मोटोजीपी में अपनी प्रतिस्पर्धा करना जारी रखा और 2000 सीज़न में अपना पिछला शीर्षक जीता. 2006 के बाद से टीम रिज्ला द्वारा प्रायोजित है और मोटोजीपी टीम को रिज्ला सुज़ुकी के रूप में जाना जाता है.

ऐसा नहीं था कि 1976 तक GS400 और GS750 जैसी फोर स्ट्रोक इंजन के साथ सुज़ुकी ने अपनी पहली मोटरसाइकल की शुरूआत की.

1994 में, चीनी मोटरसाइकिल विनिर्माता और निर्यातक जिनचेंग सुज़ुकी के निर्माण के लिए सुज़ुकी ने ननजिंग जिनचेंग मशीनरी के साथ भागीदारी की.

मॉडल[संपादित करें]

कुछ उल्लेखनीय सुज़ुकी मोटरसाइकिलों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • हायाबुसा (GSX-1300R) - एक स्पोर्ट मोटरसाइकिल जो कि 1999 में 190 mph (310 km/h) के लिए सक्षम है, और 2000 के बाद से 186 mph (299 km/h) के लिए सीमित है.
  • GSX-R1000 GSX-R श्रृंखला की सबसे बड़ी मॉडल, पहली बार 2000 में लॉंच किया गया.
  • GSX-R750 - GSX-R1000 की ग्रांडफादर, यह गाड़ी 25 साल से भी पुरानी है और इस मॉडल को प्रति दो से चार वर्षों में अद्यतन/पुनः डिजाइन किया जाता है.
  • GSX-R600 - GSX-R750 का एक छोटा संस्करण. होंडा के CBR600RR और कावासाकी ZX-है 6 के बराबर है.
  • GSX-650F - 2008 में शुरू की गई है, यह नई स्पोर्ट टुरिंग मॉडल पुरानी कटाना की कमी को पूरा करती है, और यह यामाहा FZ6/फेज़र और कावासाकी ZZR600 के साथ प्रतिस्पर्धा करती है. 2009 मॉडल में एक मानक सुविधा के रूप में एबीएस है.
  • SV650 - एक उभरते नेकेड बाइक बाजार प्रविष्टि में बजट प्रवेश के रूप में इसे 1999 में शुरू की गई थी, इसे पूरी नेकेड और सम्पूर्ण फेयर दोनों के रूप में पेश की गई. 2009 के बाद से इसे ग्लाडिअस संस्करण के रूप में भी पेशकश की गई.
  • बर्जमन - 125 सीसी से लेकर 638 सीसी तक की इंजन क्षमता के साथ यह शहरी स्कूटरों की एक श्रृंखला है जिसे जापान, इटली और स्पेन में निर्माण किया जाता है.
  • RGV250 - केविन शेवांट्ज़ की RGV500 जीपी रेस बाइक की रोड रेसिंग प्रतिकृति है.

ऑल-टेरेन वाहन (ATVs)[संपादित करें]

2004 में एक कुछ आम और कस्टम संशोधनों के साथ सुज़ुकी LT-Z400
  • सुज़ुकी यिगेर 400
  • सुज़ुकी LT 230
  • सुज़ुकी LT -r450 (रेस रेडी)
  • सुज़ुकी LT250R

इवेंट प्रायोजक[संपादित करें]

लुज, बायथलॉन और क्रॉस कंट्री स्कींग स्पोर्टिंग कार्यक्रमों का सुज़ुकी प्रमुख प्रायोजक है.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • सुज़ुकी इंजन की सूची
  • सुज़ुकी विश्व रैली टीम
  • सुज़ुकी टी सीरीज
  • सुज़ुकी टी20
  • सुज़ुकी जी.टी. सीरीज

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Google Finance, "Suzuki Motor Corporation", found at [1]
  2. http://www.globalsuzuki.com/corp_info/financialinfo/pdf/2008/financial_summary.pdf
  3. "Outline". Global Suzuki. http://www.globalsuzuki.com/corp_info/outline/index.html. अभिगमन तिथि: 2009-10-19. 
  4. (PDF) World Motor Vehicle Production by manufacturer. International Organization of Motor Vehicle Manufacturers. 2008. http://oica.net/wp-content/uploads/world-ranking-2008.pdf 
  5. "Cars are a sideline for Suzuki; sport-utes carry the load". Automotive News (5656): pp. S72(2). April 29, 1996 
  6. ट्विस्ट द थ्रोटल: सुज़ुकी
  7. "Volkswagen and Suzuki agreed to establish a comprehensive partnership". Volkswagenag.com. 2009-12-09. http://www.volkswagenag.com/vwag/vwcorp/info_center/en/news/2009/12/Suzuki.html. अभिगमन तिथि: 2010-10-05. 
  8. "Volkswagen completes Suzuki tieup". Japan Times. 2010-01-15. http://search.japantimes.co.jp/cgi-bin/nb20100116a4.html. अभिगमन तिथि: 2010-01-16. 
  9. [24]
  10. "Maruti Suzuki sales in 2009-10". Marutisuzuki.com. http://www.marutisuzuki.com/Maruti-Suzuki-sales-in-2009-10.aspx. अभिगमन तिथि: 2010-07-04. 
  11. [2][मृत कड़ियाँ]
  12. [3][मृत कड़ियाँ]
  13. मारुति निर्यात की आधिकारिक वेबसाइट लिमिटेड
  14. [autowriter/even-suzuki-registers-a-may-sales-increase/ "Even Suzuki Registers A May Sales Increase"]. autowriter/even-suzuki-registers-a-may-sales-increase/. अभिगमन तिथि: 2008-07-18. 
  15. "Pak Suzuki Motor Company Limited :". Paksuzuki.com.pk. http://www.paksuzuki.com.pk/. अभिगमन तिथि: 2009-05-20. 
  16. Alpha State. "TEAM SUZUKI by Ray Battersby (2008) Parker House Publishing ISBN 0-9796891-5-5 / 0-9796891-5-5". Teamsuzuki.co.uk. http://www.teamsuzuki.co.uk. अभिगमन तिथि: 2010-10-05. 

बाह्य लिंक[संपादित करें]


साँचा:Suzuki motorcycles साँचा:Suzuki Vehicles 1955-89

साँचा:Nikkei 225