सिद्धार्थ (उपन्यास)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Siddhartha  
150px
लेखक हरमन हेस
अनुवादक Hilda Rosner
देश जर्मनी
भाषा German
प्रकार novel
प्रकाशक Bantam Books
प्रकाशन तिथि 1922, 1951 (U.S.)
मीडिया प्रकार Print (Paperback)
पृष्ठ 152
आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-553-20884-5
ओ॰सी॰एल॰सी॰ क्र॰ 9766655

सिद्धार्थ हरमन हेस द्वारा रचित उपन्यास है, जिसमें बुद्ध काल के दौरान भारतीय उपमहाद्वीप के सिद्धार्थ नाम के एक लड़के की आध्यात्मिक यात्रा का वर्णन किया गया है।

यह पुस्तक हेस का नौवां उपन्यास है, इसे जर्मन भाषा में लिखा गया था। यह सरल लेकिन प्रभावपूर्ण और काव्यात्मक शैली में है। इसे 1951 में अमेरिका में प्रकाशित किया गया था और यह 1960 के दशक में प्रभावी बन गया. हेस ने सिद्धार्थ को रोमां रोलान्ड “माय डियर फ्रेंड” को समर्पित किया।

सिद्धार्थ शब्द संस्कृत भाषा के दो शब्दों सिद्ध (सिद्ध या पूरा करना) + अर्थ (अर्थ या संपत्ति) से मिलकर बना है। इन दोनों शब्दों का संयोजित अर्थ है “जिसे (अस्तित्व का) अर्थ मिल गया हो” या “जिसने अपना लक्ष्य प्राप्त कर लिया हो”.[1] परिवार त्यागने से पूर्व बुद्ध का नाम युवराज सिद्धार्थ गौतम था। इस पुस्तक में, बुद्ध को “गौतम” कहा गया है।

कथावस्तु का सार[संपादित करें]

यह एक ब्राह्मण पुत्र सिद्धार्थ से आरंभ होता है। वह संन्यास ग्रहण करने के लिए अपने साथी गोविंद के साथ गृह त्याग देता है। वे दोनों ज्ञान की खोज में निकल पड़ते हैं।

सिद्धार्थ व्यापारी के रूप में प्रेमी के साथ साधुत्व से अत्यधिक दुनियावी जीवन की तरफ जाते हैं और फिर सन्यास की तरफ वापस आते हैं क्योंकि वह यही लक्ष्य प्राप्त करने का प्रयास करते हैं।

यह कहानी पुरातन भारत में गौतम बुद्ध के समय के दौरान की है (संभवतः चौथी और सातवीं शताब्दी ईसा पूर्व[2]).

अनुभव उन सचेत घटनाओं का निचोड़ है, जिनका एक व्यक्ति अपने जीवन में अनुभव करता है – यह भागीदारी करना, सीखना और ज्ञान प्राप्त करने की ओर संकेत करता है। समझ समझने की शक्ति और समावेशन है। हेस के उपन्यास सिद्धार्थ में, अनुभव को वास्तविकता की समझ और ज्ञान प्राप्त करने के सबसे उत्तम साधन के रूप में दर्शाया गया है – सिद्धार्थ की यात्रा में हेस की रचनात्मकता यह दर्शाती है कि समझ को विद्यालयी, बुद्धि आधारित तरीकों के माध्यम से प्राप्त नहीं किया जाता, न ही कोई दुनिया में शारीरिक सुखों का भोग करते हुए और संसार की पीड़ाओं को साथ रखकर समझ प्राप्त कर सकता है; हालांकि यह उन अनुभवों की समष्टि है, जिसने सिद्धार्थ को समझ प्राप्त करने की अनुमति दी.

इसलिए, एकल कार्य अर्थहीन होते हैं जब वे स्वयं द्वारा सुविचारित हों – सिद्धार्थ का श्रमण के साथ रुकना और उनका प्रेम और व्यवसाय की दुनिया में डूब जाना निर्वाण की ओर अग्रसर नहीं करते, फिर भी इन्हें विकर्षण नहीं माना जा सकता, प्रत्येक कार्य जिसका सिद्धार्थ ने उत्तरदायित्व लिया और वह घटना जो सिद्धार्थ के साथ घटी हो, उसने समझ प्राप्त करने में उनकी मदद की. इन घटनाओं से मिलकर ही अनुभव बना है।

उदाहरण के लिए, सिद्धार्थ का अपने पुत्र के लिए भावुक और दुख भरा प्रेम वह अनुभव है जिसने उन्हें समानुभूति सिखाई; इस अनुभव के बाद वे बालक के समान व्यक्तियों को समझने में सक्षम हुए. पहले, यद्यपि वे संसार में डूब चुके थे, किंतु वे बालक समान व्यक्तियों के अभिप्रेरणा और जीवन को समाविष्ट नहीं कर पाते थे। और जबकि संसार ने उन्हें जकड़ रखा था, उन्हें कमज़ोर बना रहा था और वे उसके आदि थे, वे संसार की प्रकृति को समझने में असमर्थ थे। इस बिंदु पर संसार के अनुभव ने समझ की ओर अग्रसर नहीं किया; संभवतः इससे उन्हें बाधा पहुंची. इसकी तुलना में, सिद्धार्थ के अपने पुत्र के साथ अनुभव ने उन्हें प्रेम करने की अनुमति दी, ऐसा कुछ जो वह पहले नहीं कर पाए थे; एक बार फिर प्रेम ने स्वयं उन्हें समझ की ओर अग्रसर नहीं किया।

सिद्धार्थ के केवट बनने, नदी से सीखने और शांति अपनाने और अपनी यात्रा का सार तत्व अभिग्रहण करने पर उपन्यास समाप्त होता है:

Slower, he walked along in his thoughts and asked himself: “But what is this, what you have sought to learn from teachings and from teachers, and what they, who have taught you much, were still unable to teach you?” And he found: “It was the self, the purpose and essence of which I sought to learn. It was the self, I wanted to free myself from, which I sought to overcome. But I was not able to overcome it, could only deceive it, could only flee from it, only hide from it. Truly, no thing in this world has kept my thoughts thus busy, as this my very own self, this mystery of me being alive, of me being one and being separated and isolated from all others, of me being Siddhartha! And there is no thing in this world I know less about than about me, about Siddhartha!”

मुख्य प्रसंग[संपादित करें]

सिद्धार्थ को लिखने में हेस की मुख्य चिंता स्वयं को भारतीय फ़लसफ़े में ढाल कर अपने ‘जीवन के रोग’ (Lebenskrankheit) से मुक्ति पाना था जैसा उपनिषदों और भागवद् गीता में बताया गया है।[3] पुस्तक का द्वितीय भाग अत्यधिक लंबा लिखने का कारण था कि हेस “अखंडता की उस गूढ़ अवस्था का अनुभव नहीं कर पाए जिसकी सिद्धार्थ को आकांक्षा थी”. ऐसा करने के प्रयास में, हेस यथार्थ अर्ध-बैरागी के रूप में रहे और हिंदू और बौद्ध दोनों धर्मग्रंथों की पवित्र शिक्षाओं में पूरी तरह डूब गए। उनकी अभिलाषा वह ‘पूर्णता’ प्राप्त करने की थी, जो उपन्यास में, बुद्ध को सबसे अलग बनाती है।[4] "यह उपन्यास हिंदू पुरुषों (विद्यार्थी (ब्रह्मचारी), गृहस्थ और बैरागी/परित्याग (वानप्रस्थ)) के जीवन के तीन पौराणिक चरणों और बुद्ध के चार महान सत्यों पर लिखा गया है (भाग एक) और आठ-मोड़ वाला पथ (भाग दो) जिसमें बारह अध्याय हैं।[5] राल्फ फ्रीडमैन वर्णन करते हैं कि हेस ने कैसे एक शब्द में टिप्पणी की कि "मेरा सिद्धार्थ, अंत में, सच्चा विवेक किसी शिक्षक से नहीं सीखता बल्कि नदी से सीखता है, जो मज़ेदार तरीके से कलकल करती बहती है और एक दयालु बूढ़े मूर्ख व्यक्ति से सीखता है जो हमेशा मुस्कुराता है और वास्तव में वह एक संत होता है।"[6] सिद्धार्थ के बारे में व्याख्यान में, हेस ने दावा किया कि “बुद्ध के मोक्ष के मार्ग की प्रायः आलोचना की गई और उस पर संदेह किया गया, क्योंकि इसे संज्ञान में पूरी तरह से तार्किक माना गया. यह सही है, किंतु यह केवल बौद्धिक संज्ञान नहीं है, केवल सीखना और जानना नहीं है बल्कि आध्यात्मिक अनुभव है जिसे केवल निःस्वार्थी जीवन में कड़े अनुशासन के माध्यम से ही प्राप्त किया जा सकता है।”[7] फ्रीडमैन उस ओर भी संकेत करते हैं कि सिद्धार्थ कैसे हेस की आंतरिक द्वंदात्मक पद्धति का वर्णन करता हैः “उनके जीवन के सभी विपरीत छोरों को सुंदरता से उकेराः व्याकुलता से प्रस्थान और घर पर शांति की खोज; विविध अनुभव और अखंड आत्मा का तालमेल; धार्मिक मत की सुरक्षा और स्वतंत्रता की चिंता.”[8]

फिल्मी रूपांतरण[संपादित करें]

सिद्धार्थ नाम के शीर्षक से फिल्मी रूपांतरण 1972 में आया। इसमें शशि कपूर थे और इसे कॉनराड रूक्स ने निर्देशित किया था।

1971 में, संगीतमयी वेस्टर्न के रूप में अतियथार्थवादी रूपांतरण ज़ेशारियाह के रूप में आया। जॉन रूबिंस्टीन शीर्ष भूमिका में थे और जॉर्ज इंग्लंड निर्देशक थे। डॉन जॉनसन ने मैथ्यू की भूमिका अदा की जो गोविंद के समतुल्य था।

अंग्रेज़ी अनुवाद[संपादित करें]

हाल के वर्षों में कई अमेरिकी प्रकाशकों ने उपन्यास का नया अनुवाद अधिकृत किया, जो कि कॉपीराइट प्रतिबंधों के कारण पहले असंभव था। इन नए अनुवादों के अलावा, हिल्दा रूज़नर का मौलिक 1951 अनुवाद अब भी कई पुनःमुद्रित संस्करणों के साथ कई प्रकाशकों द्वारा बेचा जा रहा है। नए अनुवादों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • मॉडर्न लायब्रेरी, अनुवादः सुसन बर्नफोस्की, प्राक्कथनः टॉम रॉबिंस, अनुवादक प्राक्कथन (2006).
  • पेंग्विन, अनुवादः जोशिम न्यूग्रोशेल, परिचयः राल्फ फ्रीडमैन, अनुवादकीय टिप्पणी (2002).
  • बर्न्स एवं नोबल, अनुवादःरिका लेसर, परिचयःरॉबर्ट ए. थर्मन (2007).
  • शाम्भला क्लासिक्स, अनुवादः शेरब शोडज़िन कोह्न, परिचयः पॉल डब्ल्यू. मॉरिस, अनुवादकीय प्राक्कथन (1998).

संगीत संदर्भ[संपादित करें]

  • 1972 यस (Yes) गाना क्लोज़ टू दि ऐज, एल्बम क्लोज़ टू दि ऐज से लिया गया था, जो पुस्तक से प्रेरित था।
  • रेडियोहैड के 2001 एल्बम एनेसिआक के प्रसंग और गाने के बोल पुस्तक से प्रेरित थे, विशेष रूप से “पिरामिड सॉन्ग”, “आई माइट बी रॉन्ग” और “लाइक स्पिनिंग प्लेट्स”.
  • रॉक बैंड क्वीन ने अपने 1977 में बीबीसी री-टेक ऑफ दि सॉन्ग वी विल रॉक यू में सिद्धार्थ से एक वाक्य सुनाया. [1]
  • जैरी कैन्ट्रेल के पास उनकी डिग्रेडेशन ट्रिप डबल एल्बम पर सिद्धार्थ नाम का गाना था।
  • समथिंग कॉर्पोरेट बैंड्स के एंड्र्यू मैकमहोन और जैक्स मैनेकिन की कलाई पर “दि रिवर इज़ एवरीवेयर” पंक्ति गुदी हुई है और अभी वह रिवर अपेरल नामक क्लोदिंग लाइन पर कार्य कर रहे हैं।
  • हॉट वॉटर संगीत गाना संडे सुइट में एक पंक्ति है “सिद्धार्थ स्टाइल, आई विल चूज़ ए पाथ ऑफ ओपन माइंड्स".
  • आर.ई.एम का "दि रिवर मैन"
  • पीट टाउनशैंड्स का गाना दि फैरीमैन जून 1976 में सिद्धार्थ के आधुनिक प्रस्तुतिकरण के लिए लिखा गया था।
  • स्लोवेनियाई रॉक बैंड सिद्धार्थ का नाम उपन्यास के नाम पर रखा गया.
  • टेन माइल टाइड ने एक गाना लिखा जिसका शीर्षक सिद्धार्थ था जो उपन्यास का संगीतमयी संस्करण प्रदान करता है।
  • राल्फ मैकटेल का 1971 की अपनी एल्बम यू वैल-मीनिंग ब्रॉट मी हेयर के लिए लिखा गया गाना दि फैरीमैन भी उपन्यास पर आधारित था।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "The Life of Siddhartha Gautama". http://webspace.ship.edu/cgboer/siddhartha.html. अभिगमन तिथि: 2008-03-27. 
  2. Cousins, L.S. (1996). "The Dating of the Historical Buddha: A Review Article". Journal of the Royal Asiatic Society. Series 3 (Cambridge, England: Cambridge University Press) 6 (1): 57–63. ISSN 1356-1863. http://indology.info/papers/cousins/. अभिगमन तिथि: 2009-02-27. 
  3. डोनाल्ड मैकक्लोरी इंट्रोडक्शन टू हरमन हेस. सिद्धार्थ. पिकाडोर. लंदन 1998 पीपी 24-25.
  4. डोनाल्ड मैकक्लोरी इंट्रोडक्शन टू हरमन हेस. सिद्धार्थ. पिकाडोर. लंदन 1998 पृष्ठ 26.
  5. डोनाल्ड मैकक्लोरी इंट्रोडक्शन टू हरमन हेस. सिद्धार्थ. पिकाडोर. लंदन 1998 पीपी41-42.
  6. राल्फ फ्रीडमन. हरमन हेस. संकट के तीर्थ. जोनाथन केप. लंदन. 1979 पृष्ठ 233.
  7. राल्फ फ्रीडमन. हरमन हेस. संकट के तीर्थ. जोनाथन केप. लंदन. 1979 पृष्ठ 233.
  8. राल्फ फ्रीडमन. हरमन हेस. संकट के तीर्थ. जोनाथन केप. लंदन. 1979 पृष्ठ 235.

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

साँचा:Hermann Hesse