सिक्स सिग्मा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस अनुच्छेद को विकिपीडिया लेख Six Sigma के इस संस्करण से अनुवादित किया गया है.

अक्सर प्रयोग किये जाने वाले सिक्स सिग्मा प्रतीक.

साँचा:Manufacturing सिक्स सिग्मा एक व्यवसाय प्रबंधन रणनीति है, जिसे शुरू में मोटोरोला द्वारा लागू किया गया था, पर आज उद्योग के कई क्षेत्रों में इसका व्यापक प्रयोग होता है।


सिक्स सिग्मा विनिर्माण और व्यापार प्रक्रिया में अभावों (ग़लतियों) और भेदों और उनके कारणों की पहचान और निवारण द्वारा प्रक्रिया उत्पाद की गुणवत्ता में सुधार लाने का प्रयास करता है।[1] यह सांख्यिकीय तरीक़ों सहित गुणवत्ता प्रबंधन पद्धतियों के सेट का उपयोग करता है और संगठन के अंदर लोगों का एक विशेष आधार-तंत्र ("ब्लैक बेल्ट" आदि) तैयार करता है, जो इन पद्धतियों के विशेषज्ञ होते हैं।[1] किसी संगठन के अंदर चलाई जाने वाली हर सिक्स सिग्मा परियोजना एक परिभाषित अनुक्रम का पालन करती है और एक परिमाणित वित्तीय लक्ष्यों को (लागत में कमी या लाभ में वृद्धि) सामने रखती है।[1]


ऐतिहासिक सिंहावलोकन[संपादित करें]

 what is this ?         सिक्स सिग्मा को मूलतः विनिर्माण प्रक्रियाओं में सुधार और त्रुटियों को दूर करने के लिए कार्य-प्रणालियों के सेट के रूप में विकसित किया गया था, पर बाद में अन्य प्रकार के व्यावसायिक प्रक्रियाओं पर भी उसे लागू किया गया.[2] सिक्स सिग्मा में, ग्राहक की असंतुष्टि का कारण बनने वाले किसी भी कारक को त्रुटि के रूप में परिभाषित किया गया है।[1] 


1986 में सर्वप्रथम बिल स्मिथ द्वारा इस कार्य-प्रणाली के ब्यौरे मोटोरोला में तैयार किए गए थे।[3] सिक्स सिग्मा, श्यूहार्ट, डेमिंग, जूरान, इशिकावा, तागुची और अन्य प्रवर्तकों के कार्य पर आधारित पिछले छह दशकों की गुणवत्ता सुधार प्रक्रिया, यथा गुणवत्ता नियंत्रण, TQM और शून्य दोष से अत्यधिक प्रभावित हुआ है।


अपने पूर्ववर्तियों की भांति सिक्स सिग्मा निश्चयपूर्वक कहता है कि --

  • कारोबार की सफलता के लिए सुव्यवस्थित और पूर्वानुमेय प्रक्रिया परिणाम (अर्थात् प्रक्रिया की भिन्नता़ में कमी) के लिए सतत प्रयास अत्यंत महत्वपूर्ण है।
  • विनिर्माण और व्यापार प्रक्रियाओं में ऐसे गुण हैं, जिन्हें मापना, विश्लेषित करना, सुधारना और नियंत्रित करना संभव है।
  • निरंतर गुणवत्ता सुधार हासिल करने के लिए पूरे संगठन की, ख़ास तौर से उच्च स्तर के प्रबंधन की प्रतिबद्धता आवश्यक है।


पिछले गुणवत्ता सुधार प्रवर्तनों से सिक्स सिग्मा को अलग करने वाली विशेषताओं में शामिल हैं -

  • किसी भी सिक्स सिग्मा परियोजना से, मापने योग्य और परिमाण व्यक्त करने योग्य वित्तीय प्रतिफल हासिल करने पर सुस्पष्ट ध्यान केंद्रित करना.[1]
  • दृढ़ और जोशिले प्रबंधन नेतृत्व और समर्थन पर ज़्यादा ज़ोर देना.[1]
  • सिक्स सिग्मा दृष्टिकोण के नेतृत्व और कार्यान्वयन के लिए "चैंपियन्स," "मास्टर ब्लैक बेल्ट," "ब्लैक बेल्ट," आदि विशिष्ट आधार-तंत्र का होना.[1]
  • पूर्वानुमानों और अटकलों के बदले प्रमाण-योग्य आंकड़ों के आधार पर निर्णय लेने के प्रति सुस्पष्ट प्रतिबद्धता.[1]


शब्द "सिक्स सिग्मा", प्रक्रिया क्षमता अध्ययन के रूप में विदित सांख्यिकी के एक क्षेत्र से व्युत्पन्न है। मूलतः इसका आशय विनिर्देशों के अधीन विनिर्माण प्रक्रियाओं द्वारा अत्यधिक मात्रा में उत्पाद तैयार करने की क्षमता से था। माना गया कि "सिक्स सिग्मा गुणवत्ता" सहित अल्पावधि के लिए परिचालित प्रक्रियाओं से, 3.4 अभाव प्रति दस लाख अवसर(DPMO) से नीचे के दीर्घकालिक अभाव स्तर प्रतिफलित होते हैं।[4][5] सिक्स सिग्मा का अंतर्निहित लक्ष्य सभी प्रक्रियाओं की गुणवत्ता को उस स्तर तक सुधारने या उससे भी बेहतर बनाना है।


सिक्स सिग्मा, Motorola, Inc. का पंजीकृत सेवा चिह्न और व्यापर-चिह्न है।[6] यथा 2006, मोटोरोला ने सिक्स सिग्मा से $17 अरब अमेरिकी डॉलर के बचत[7] की सूचना दी है।


सिक्स सिग्मा को शुरूआती दौर में ही अपनाकर अपनी उल्लेखनीय सफलता के लिए चर्चित होने वाली कंपनियों में शामिल हैं, हनीवेल (पहले बतौर अलाइड सिग्नल विदित) और जनरल इलेक्ट्रिक, जहाँ जैक वेल्श ने इस पद्धति का प्रवर्तन किया।[8] 1990 दशक के अंत में फ़ार्चुन 500 की दो तिहाई संस्थाओं ने अपनी लागत को कम करने तथा गुणवत्ता में सुधार लाने के उद्देश्य से सिक्स सिग्मा पहल की शुरूआत कर दी थी।[9]


हाल के वर्षों में, सिक्स सिग्मा को कभी-कभी अनुत्पादक विनिर्माण के साथ जोड़ा जाता रहा है, ताकि अनुत्पादक सिक्स सिग्मा नामक प्रक्रिया प्रतिफलित हो सके.



"सिक्स सिग्मा प्रक्रिया" शब्द की उत्पत्ति और तात्पर्य[संपादित करें]

सामान्य वितरण के ग्राफ़, जो छह सिग्मा मॉडल के सांख्यिकीय मान्यताओं के आधार हैं। ग्रीक अक्षर σ क्षैतिज अक्ष पर माध्य, μ और वक्र के अन्तःकुंचन बिंदु के बीच दूरी को अंकित करता है। जितनी अधिक दूरी होगी, उतना ही अधिक मान का विस्तार होगा.ऊपर दिखाए गए लाल रंग के वक्र, [25] और [26] के लिए. अन्य वक्र μ और σ के विभिन्न मान की व्याख्या करते हैं।

सिग्मा (ग्रीक वर्णमाला का अक्षर σ) का प्रयोग, सांख्यिकीय जनसंख्या के मानक विचलन (घट-बढ़ का मान) का प्रतिनिधित्व करने के लिए किया जाता है। शब्द "सिक्स सिग्मा प्रक्रिया" इस धारणा से उत्पन्न हुआ है कि यदि किसी के पास निर्माण-औसत और निकटतम विनिर्दिष्ट सीमा के बीच छह मानक विचलन हैं, तो व्यावहारिक रूप से ऐसा कोई मद नहीं होगा जो विनिर्देशों के अनुकूल ना हो.[5] यह प्रक्रिया सक्षमता अध्ययन में प्रयुक्त गणना पद्धति पर आधारित है।


सक्षमता अध्ययन में, प्रक्रिया औसत और निकटतम विनिर्दिष्ट सीमा के बीच के इन मानक विचलनों की संख्या को सिग्मा इकाइयों में दिया जाता है। जैसे ही प्रक्रिया मानक विचलन ऊपर जाए, या प्रक्रिया औसत गुंजाइश के केंद्र से दूर जाए, सिग्मा संख्या को कम करते हुए और विनिर्देश के बाहर मदों की संभावनाओं को बढ़ाते हुए, बहुत कम मानक विचलन औसत और निकटतम विनिर्दिष्ट सीमा के बीच में बैठेंगे.[5]


1.5 सिग्मा शिफ़्ट की भूमिका[संपादित करें]

अनुभव यह कहता है कि आम तौर पर प्रक्रियाएं लंबे समय में उतना अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाती हैं, जितना कि वे कम समय में करती हैं।[5] परिणामस्वरूप, प्रारंभिक अल्पावधि-अध्ययन की तुलना में, प्रक्रिया औसत और निकटतम विनिर्देशन सीमा के बीच ठीक बैठने वाली सिग्माओं की संख्या में समय के साथ गिरावट की संभावना है।[5] समय के साथ-साथ प्रक्रिया घट-बढ़ में विशुद्ध वृद्धि को दर्शाने के लिए, प्रायोगिक आधार पर परिकलन में 1.5 सिग्मा शिफ़्ट का प्रवर्तन किया जाता है।[10][5] इस विचार के अनुसार, प्रक्रिया, जो अल्पावधि अध्ययन के दौरान, प्रक्रिया औसत और निकटतम विनिर्दिष्ट सीमा के बीच छह सिग्मा को बैठाती है, वह दीर्घ-काल में केवल 4.5 सिग्मा ही बैठा पाएगी - क्योंकि या तो समय के साथ प्रक्रिया औसत में बदलाव आएगा, या अल्पावधि के दौरान पाए गए प्रक्रिया के मानक विचलन से दीर्घकालिक मानक विचलन अधिक होगा, या दोनों संभव है।[5]


अतः सिक्स सिग्मा प्रक्रिया की व्यापक रूप से स्वीकृत परिभाषा वह है, जो 3.4 अभावग्रस्त भाग प्रति दस लाख अवसर (DPMO) प्रस्तुत करती है। यह इस तथ्य पर आधारित है कि सामान्य रूप से वितरित प्रक्रिया में एक सीमा के बाद 3.4 भाग प्रति दस लाख होंगे, जो कि औसत से ऊपर या नीचे 4.5 मानक विचलन (एक-पक्षीय सक्षमता अध्ययन) होगी.[5] अतः "सिक्स सिग्मा" प्रक्रिया का 3.4 DPMO वास्तव में 4.5 सिग्मा के सदृश होता है, यानी दीर्घावधिक घट-बढ़ को दर्शाने के लिए 6 सिग्मा से 1.5 सिग्मा घटा कर.[5] इसकी अभिकल्पना विशुद्ध परिचालन में संभाव्य अभाव स्तरों को कम आंकने से रोकना है।[5]


सिग्मा स्तर[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Three sigma rule

अल्पावधि सिग्मा स्तर निम्नलिखित दीर्घकालिक DPMO मूल्यों (एकतरफ़ा) के अनुरूप हैं:

  • 1 सिग्मा = 690,000 DPMO = 31% कार्य-दक्षता
  • 2 सिग्मा = 308,000 DPMO = 25.2% कार्य-दक्षता
  • 3 सिग्मा = 66,800 DPMO = 93.32% कार्य-दक्षता
  • 4 सिग्मा = 6,210 DPMO = 99.379% कार्य-दक्षता
  • 5 सिग्मा = 230 DPMO = 99.977% कार्य-दक्षता
  • 6 सिग्मा = 3.4 DPMO = 99.9997% कार्य-दक्षता

ये आंकड़े कल्पना करते हैं कि अल्पावधि सिग्मा स्तर को निर्धारित करते हुए प्रारंभिक अध्ययन के कुछ समय बाद प्रक्रिया औसत 1.5 सिग्मा द्वारा गंभीर विनिर्देश सीमा वाले हिस्से की ओर शिफ़्ट होगा. उदाहरणार्थ 1 सिग्मा के लिए दिए गए आंकड़े यह मान कर चलते हैं कि अल्पकालिक प्रक्रिया औसत, विनिर्देश सीमा के 0.5 सिग्मा बाहर होगा, ना कि 1 सिग्मा अंदर, क्योंकि यह अल्पावधि अध्ययन था।

विधियां[संपादित करें]

सिक्स सिग्मा की दो प्रधान विधियां हैं: DMAIC और DMADV, दोनों डेमिंग के योजना बनाओ-कार्रवाई करो-जाँचो-पूरा करो चक्र से प्रेरित है।[9] DMAIC एक मौजूदा व्यापार की प्रक्रिया में सुधार लाने के लिए प्रयोग किया जाता है; DMADV नए उत्पाद या प्रक्रिया को परिकल्पित करने के लिए इस्तेमाल होता है।[9]


DMAIC[संपादित करें]

बुनियादी विधि निम्नलिखित पांच चरणों से बनी है:

  • उच्च स्तरीय परियोजना लक्ष्यों और वर्तमान प्रक्रिया को D efine (परिभाषित) करें.
  • मौजूदा प्रक्रिया के महत्वपूर्ण पहलुओं को M easure करें (मापें) और प्रासंगिक आंकड़े संग्रहित करें.
  • कारण-और-प्रभाव संबंधों को सत्यापित करने के लिए आंकड़ों को A nalyze (विश्लेषित) करें. निर्धारित करें कि संबंध क्या है और यह सुनिश्चित करने का प्रयास करें कि सभी कारकों पर विचार किया गया है।
  • प्रयोगों की डिज़ाइन जैसे तकनीकों का प्रयोग करते हुए डाटा विश्लेषण पर आधारित प्रक्रिया को I mprove करें (सुधारें) या अनुकूल बनाएं.
  • अभावों में परिणत होने से पहले लक्ष्य से कोई विचलन हो, तो उनका सुधार सुनिश्चित करने के लिए C ontrol (नियंत्रण) करें.प्रक्रिया सक्षमता को प्रमाणित करने के लिए प्रायोगिक परीक्षण करें, उत्पादन की ओर बढ़ें, नियंत्रण तंत्र को व्यवस्थित करें और लगातार प्रक्रिया की निगरानी करें.


DMADV[संपादित करें]

बुनियादी विधि निम्नलिखित पांच चरणों से बनी है :

  • ग्राहकों की मांग तथा उद्यम-रणनीति के अनुरूप लक्ष्यों की डिज़ाइन को D efine (परिभाषित) करें.
  • C T Q (गुणवत्ता के लिए जोख़िम से भरी विशेषताएं), उत्पाद सक्षमता, उत्पादन प्रक्रिया क्षमता और जोख़िम को M easure करें (मापें) और पहचानें.
  • विकल्प के विकास और डिज़ाइन के लिए A nalyze (विश्लेषण) करें, उच्च-स्तरीय डिज़ाइन तैयार करें और उत्तम डिज़ाइन को चुनने के लिए परिकल्पना-क्षमता का मूल्यांकन करें.
  • ब्यौरों को D esign (परिकल्पित) करें, डिज़ाइन को उपयुक्त बनाएं और डिज़ाइन के सत्यापन के लिए योजना बनाएं. इस चरण में अनुकरण की आवश्यकता हो सकती है।
  • नमूने को V erify (सत्यापन) करें, प्रायोगिक परीक्षण की व्यवस्था करें, उत्पादन प्रक्रिया को लागू करें और उसे प्रक्रिया के मालिकों के सुपुर्द करें.


DMADV को "D esign F or S ix S igma" के संकेताक्षर DFSS के रूप में भी जाना जाता है।[9]


कार्यान्वयन भूमिकाएं[संपादित करें]

सिक्स सिग्मा के प्रमुख नवप्रवर्तनों में से एक है गुणवत्ता प्रबंधन कार्यों का व्यवसायीकरण. सिक्स सिग्मा से पहले, गुणवत्ता प्रबंधन का चलन अधिकांशतः उत्पादन विभाग और एक अलग गुणवत्ता विभाग में सांख्यिकीविदों को हस्तांतरित कर दिया गया था। सिक्स सिग्मा ने मार्शल आर्ट के ओहदों की शब्दावली का अनुकरण एक पदानुक्रम (और जीविका-पथ) को परिभाषित करने के लिए किया, जो सभी व्यापारिक कार्यों और पदोन्नति पथ को चीरते हुए सीधे कार्यपालकों के समूह में पहुंचती है।


सिक्स सिग्मा अपने सफल कार्यान्वयन के लिए कई महत्वपूर्ण भूमिकाओं की पहचान करता है।[11]

  • कार्यपालक नेतृत्व में शामिल हैं CEO और अन्य शीर्ष प्रबंधन-वर्ग के सदस्य. वे सिक्स सिग्मा के कार्यान्वयन के लिए एक दृष्टिकोण की स्थापना के लिए ज़िम्मेदार हैं। वे अन्य भूमिका-धारकों को प्रगतिशील सुधारों के लिए नए विचारों की तलाश करने हेतु स्वतंत्रता और संसाधनों से सशक्त बनाते हैं।
  • चैंपियन, एकीकृत रूप में पूरे संगठन में सिक्स सिग्मा को लागू करने के लिए ज़िम्मेदार हैं। कार्यपालक नेतृत्व उन्हें उच्च-प्रबंधन वर्ग से चुनता है। चैंपियन भी ब्लैक बेल्ट के लिए सलाहकार के रूप में कार्य करते हैं।
  • चैंपियन के द्वारा चुने गए मास्टर ब्लैक बेल्ट, सिक्स सिग्मा के लिए आतंरिक प्रशिक्षक के रूप में कार्य करते हैं। वे सिक्स सिग्मा के लिए अपना 100% समय समर्पित करते हैं। वे चैंपियन की सहायता करते हैं और ब्लैक बेल्ट और ग्रीन बेल्ट का मार्गदर्शन करते हैं। सांख्यिकीय कार्यों के अतिरिक्त, उनका समय विभिन्न कार्यों और विभागों में सिक्स सिग्मा के समनुरूप प्रयोज्यता को सुनिश्चित करने में व्यतीत होता है।
  • ब्लैक बेल्ट, मास्टर ब्लैक बेल्ट के अधीन सिक्स सिग्मा की कार्य -प्रणाली को विशेष परियोजनाओं पर लागू करने के लिए कार्य करते हैं। वे सिक्स सिग्मा के लिए अपना 100% समय समर्पित करते हैं। वे मुख्यतः सिक्स सिग्मा परियोजना के निष्पादन पर ध्यान केंद्रित करते हैं, जबकि चैंपियन और मास्टर ब्लैक बेल्ट, सिक्स सिग्मा की परियोजनाओं/कार्य को पहचानने पर ध्यान केंद्रित करते हैं।
  • ग्रीन बेल्ट वे कर्मचारी हैं, जो अपने अन्य कार्यों के साथ-साथ सिक्स सिग्मा कार्यान्वयन की ज़िम्मेदारियों को भी लेते हैं। वे ब्लैक बेल्ट के मार्गदर्शन के तहत कार्य करते हैं।


गुणवत्ता प्रबंधन उपकरण और सिक्स सिग्मा में प्रयुक्त कार्य-प्रणाली[संपादित करें]

सिक्स सिग्मा बड़ी संख्या में स्थापित गुणवत्ता प्रबंधन के तरीक़ों का उपयोग करता है, जो सिक्स सिग्मा के बाहर भी प्रयुक्त होते हैं। निम्नलिखित सारणी प्रमुख प्रयुक्त विधियों को दर्शाती है।



सिक्स सिग्मा के लिए प्रयुक्त सॉफ्टवेयर[संपादित करें]


सिक्स सिग्मा कंपनियों की सूची[संपादित करें]


स्वीकार्यता[संपादित करें]

सिक्स सिग्मा ने उद्योग पर भारी प्रभाव डाला है और सेवा तथा परिचालन उत्कृष्टता प्राप्त करने और संपोषित करने के लिए, एक व्यापार रणनीति के रूप में व्यापक रूप से प्रयुक्त होता है।[1] हालांकि, सिक्स सिग्मा की कई आलोचनाएं भी हैं।


मौलिकता का अभाव[संपादित करें]

प्रसिद्ध गुणवत्ता विशेषज्ञ जोसेफ़ एम.जुरन ने सिक्स सिग्मा को "गुणवत्ता सुधार का बुनियादी संस्करण," कहा है, यह बतलाते हुए कि "यहाँ कुछ भी नया नहीं है। इसमे वह शामिल है जिसे हम सहायक कहा करते थे। उन्होंने अधिक अलंकृत शब्दों को अपनाया है, जैसे विभिन्न रंगों की बेल्ट. मुझे लगता है कि अवधारणा में कुछ लीक से हट कर करने की ख़ूबी शामिल है, जिससे ऐसे विशेषज्ञ तैयार हों, जो बहुत मददगार साबित हो सकते हैं। फिर भी, यह कोई नया विचार नहीं है। अमेरिकन सोसाइटी फॉर क्वालिटी ने काफ़ी समय पहले ही प्रमाण-पत्रों का सृजन किया, जैसे कि विश्वसनीय इंजीनियरों के लिए."[12]


सलाहकारों की भूमिका[संपादित करें]

भ्रमणशील परिवर्तक एजेंट के रूप में "ब्लैक बेल्ट" का उपयोग विवादास्पद है, क्योंकि इसने प्रशिक्षण और प्रमाणन का एक कुटीर उद्योग खड़ा किया है। आलोचक बहस करते हैं कि अधिकांश सलाहकार फ़र्मों द्वारा सिक्स सिग्मा का अधिविक्रय हो रहा है, जिनमें अधिकांश सिक्स सिग्मा में विशेषज्ञता का दावा करते हैं, जबकि उन्हें केवल प्रयुक्त उपकरण और तकनीक की प्रारंभिक समझ होती है।[1]


"ग्रीन बेल्ट", "मास्टर ब्लैक बेल्ट" और "गोल्ड बेल्ट" जैसे विभिन्न "बेल्ट" के विस्तार को आम तौर पर मार्शल आर्ट में मौजूद विभिन्न "बेल्ट कारखानों" के समानांतर देखा जाता है।[तथ्य वांछित]


संभावित नकारात्मक प्रभाव[संपादित करें]

फॉर्च्यून के एक लेख ने विवरण दिया कि "सिक्स सिग्मा कार्यक्रम की घोषणा करने वाली 58 बड़ी कंपनियों में से 91 प्रतिशत ने S&P500 को पीछे छोड़ दिया है।" वक्तव्य का श्रेय दिया गया है "क्वाल्प्रो परामर्शी फर्म के चार्ल्स हॉलैंड के विश्लेषण को (जो एक प्रतिस्पर्धी गुणवत्ता सुधार प्रक्रिया को ग्रहण करता है)."[13] लेख का सार है कि सिक्स सिग्मा जो करने का इरादा रखता है, उसमें वह प्रभावी है, पर यह "मौजूदा प्रक्रिया को ठीक करने के लिए बारीक़ी से डिज़ाइन किया गया है" और यह "नए उत्पादों या विघटनकारी प्रौद्योगिकियों को तैयार करने में" मदद नहीं करता. इनमें से कई दावों के ग़लत या त्रुटिपूर्ण सूचना पर आधारित होने की दलीलें दी जाती हैं।[14][15]


बिज़नेस वीक के एक लेख में कहा गया है कि जेम्स मेकनेर्नी द्वारा सिक्स सिग्मा के 3M पर परिचय ने संभवतः रचनात्मकता का गला घोंटा है। यह व्हार्टन स्कूल के दो प्रोफ़ेसरों का दृष्टांत देता है, जो यह बताते हैं कि सिक्स सिग्मा, ब्लू-स्काई कार्य की क़ीमत पर वृद्धिशील नवरचना करता है।[62] आगे चल कर इस घटना की गवेषणा गोइंग लीन क़िताब में की गई है, जो यह दिखाने के लिए डाटा पेश करती है कि फ़ोर्ड के "6 सिग्मा" कार्यक्रम ने उसकी क़िस्मत बदलने के लिए कुछ नहीं किया।[16]


मनमाने मानकों पर आधारित[संपादित करें]

हालांकि 3.4 अभाव प्रति दस लाख अवसर कुछ उत्पादों/प्रक्रियाओं के लिए अच्छा काम कर सकते हैं, पर दूसरों के लिए यह आदर्श या फ़ायदेमंद नहीं भी हो सकते हैं। उदाहरण के लिए एक पेसमेकर प्रक्रिया के लिए उच्च मानकों की आवश्यकता हो सकती है, जबकि एक डायरेक्ट मेल विज्ञापन अभियान को उतनी नहीं.मानक विचलन के रूप में 6 को चुनने के आधार और औचित्य के लिए स्पष्ट रूप से व्याख्या नहीं की गई है। इसके अलावा, सिक्स सिग्मा मॉडल मानता है कि प्रक्रिया डाटा हमेशा सामान्य वितरण के अनुरूप होगा. जहां सामान्य वितरण मॉडल लागू नहीं होता है, उन परिस्थितियों के लिए अभाव दर की गणना को प्रचलित सिक्स सिग्मा साहित्य में ठीक से अभिव्यक्त नहीं किया गया है।[1]


1.5 सिग्मा शिफ़्ट की आलोचना[संपादित करें]

अपनी मनमानी प्रकृति के कारण, 1.5 सिग्मा शिफ़्ट को "बेहूदा" के रूप में सांख्यिकीविद डोनाल्ड जे व्हीलर द्वारा खारिज कर दिया गया है।[17] इसकी सार्वभौम प्रयोज्यता संदिग्ध रूप में देखी जाती है।[1]


1.5 सिग्मा शिफ़्ट इसलिए भी विवादास्पद है कि यह एक निश्चित "सिग्मा स्तर" में परिणत होता है, जो दीर्घावधिक के बदले अल्पावधि के नतीजे को प्रतिबिंबित करता है: एक प्रक्रिया जिसमें 4.5 सिग्मा निष्पादन के कारण दीर्घकालिक अभाव स्तर हैं, सिक्स सिग्मा की प्रथा के अनुसार, वह "6 सिग्मा प्रक्रिया" के रूप में परिभाषित किया जाता है।[5][18] अतः स्वीकृत सिक्स सिग्मा परिकलन प्रणाली मानक विचलन की घोषित संख्या के लिए वास्तविक सामान्य वितरण संभावनाओं के बराबर नहीं मानी जा सकती और विवाद का यह एक मुख्य मुद्दा रहा है कि सिक्स सिग्मा उपायों को कैसे परिभाषित किया जाता है।[18] यह तथ्य कि कदाचित ही विश्लेषित किया जाता है कि वास्तविक 6 सिग्मा निष्पादन के बजाय 4.5 सिग्मा के निष्पादन के कारण "6 सिग्मा" प्रणाली में दीर्घावधिक अभाव दर रहेगा, इसने कई टीकाकारों को यह कहने पर मजबूर किया कि सिक्स सिग्मा एक गोपनीय चाल है।[5]


यह भी देखें[संपादित करें]


संदर्भ[संपादित करें]

  1. Jiju Antony. "Pros and cons of Six Sigma: an academic perspective". http://www.onesixsigma.com/node/7630. अभिगमन तिथि: May 1, 2008. 
  2. 3088,00.html "Motorola University - What is Six Sigma?". http://www.motorola.com/content/0, 3088,00.html. अभिगमन तिथि: January 29, 2006. 
  3. 3079,00.html "The Inventors of Six Sigma". http://www.motorola.com/content/0, 3079,00.html. अभिगमन तिथि: January 29, 2006. 
  4. 3074-5804,00.html#ss "Motorola University Six Sigma Dictionary". http://www.motorola.com/content/0, 3074-5804,00.html#ss. अभिगमन तिथि: January 29, 2006. 
  5. Tennant, Geoff (2001). SIX SIGMA: SPC and TQM in Manufacturing and Services. Gower Publishing, Ltd.. pp. 25. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0566083744. http://books.google.com/books?id=O6276jidG3IC&printsec=frontcover#PPA25,M1. 
  6. "Motorola Inc. - Motorola University". http://www.motorola.com/motorolauniversity. अभिगमन तिथि: January 29, 2006. 
  7. 3071-5801,00.html "About Motorola University". http://www.motorola.com/content/0, 3071-5801,00.html. अभिगमन तिथि: January 29, 2006. 
  8. "Six Sigma: Where is it now?". http://scm.ncsu.edu/public/facts/facs030624.html. अभिगमन तिथि: May 22, 2008. 
  9. ^ जोसेफ़ ए. डी फ़ियो और विलियम बर्नार्ड. JURAN संस्थान के सिक्स सिग्मा ब्रेकथ्रू एंड बियांड - क्वालिटी परफ़ार्मेन्स ब्रेकथ्रू मेथड्स, टाटा McGraw-Hill प्रकाशन कंपनी लिमिटेड, 2005. ISBN 0-07-059881-9
  10. Harry, Mikel J. (1988). The Nature of six sigma quality. Rolling Meadows, Illinois: Motorola University Press. प॰ 25. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781569460092. 
  11. ^ मैकेल हैरी एंड रिचर्ड श्रोएडर. सिक्स सिग्मा, रैंडम हाउस, इंक, 2000. ISBN 0-385-49437-8
  12. Paton, Scott M. (August 2002). Juran: A Lifetime of Quality. 22. pp. 19-23. http://www.qualitydigest.com/aug02/articles/01_article.shtml. अभिगमन तिथि: 2009-04-01. 
  13. Morris, Betsy (2006-07-11). "Tearing up the Jack Welch playbook". Fortune. http://money.cnn.com/2006/07/10/magazines/fortune/rule4.fortune/index.htm. अभिगमन तिथि: 2006-11-26. 
  14. Richardson, Karen (2007-01-07). "The 'Six Sigma' Factor for Home Depot". Wall Street Journal Online. http://online.wsj.com/article/SB116787666577566679.html. अभिगमन तिथि: October 15, 2007. 
  15. Joe Ficalora & Joe Costello. "Wall Street Journal SBTI Rebuttal" (PDF). Sigma Breakthrough Technologies, Inc.. http://www.sbtionline.com/files/Wall_Street_Journal_SBTI_Rebuttal.pdf. अभिगमन तिथि: October 15, 2007. 
  16. रफ़्फ़ा, स्टीफ़न ए. (2008),गोइंग लीन: हाउ दी बेस्ट कंपनीस अप्लै लीन मैन्यूफ़ैक्चरिंग प्रिंसिपल्स टू शैटर अनसर्टनिटी, ड्राइव इन्नोवेशन, एंड मैक्सीमाइस प्राफ़िट्स अमकोम (अमेरिकी प्रबंधन संघ का एक प्रभाग), आईएसबीएन 0-8144-1057-X
  17. Wheeler, Donald J. (2004). The Six Sigma Practitioner's Guide to Data Analysis. SPC Press. प॰ 307. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780945320623. 
  18. * Pande, Peter S.; Neuman, Robert P.; Cavanagh, Roland R. (2001). The Six Sigma Way: How GE, Motorola, and Other Top Companies are Honing Their Performance. New York: McGraw-Hill Professional. प॰ 229. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0071358064. http://books.google.co.uk/books?id=ybOuvzvcqTAC&pg=PA229&lpg=PA229&dq=%22key+bones+of+contention+amongst+the+statistical+experts+about+how+Six+Sigma+measures+are+defined%22&source=web&ots=jRU19KJVwd&sig=M7jGXg3KoWD7CjUs-ZTNyAjSZls&hl=en&sa=X&oi=book_result&resnum=1&ct=result. 


आगे पठनार्थ[संपादित करें]











बाह्य लिंक[संपादित करें]