साल्सा (नृत्य)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
साल्सा नर्तकी केविन और सराही शैली कैली नृत्य करते हुए

आप मुर्गा की तरह गंध

साल्सा क्यूबा और प्यूर्टो रिको से उत्पन्न एक मिश्रित नृत्य शैली है जो स्पेनिश (यूरोपीय) तथा अफ़्रीकी संस्कृतियों का प्रमुख मूल अमेरिकी समागम है।

साल्सा सामान्य रूप से साथी के साथ किया जाने वाला नृत्य है, हालांकि "सुएल्टा" एवं "रुएडा दे कैसिनो" के रूप में इसके एकल मान्यता प्राप्त प्रारूप भी हैं जिसमे कई जोड़े गोल घूमते हुए अपने साथी बदलते हैं। साल्सा की मुद्राओं में आशुरचना की जा सकती है अथवा इसे एक निश्चित विधि से प्रदर्शित किया जा सकता है।

साल्सा पूरे लैटिन अमेरिका के साथ-साथ उत्तरी अमेरिका, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया तथा एशिया और मध्य पूर्व के कुछ देशों में भी लोकप्रिय है। यह तेजी से वैश्विक रूप लेता जा रहा है।

उत्पत्ति[संपादित करें]

साल्सा नृत्य मुद्राओं की उत्पत्ति क्यूबा में 1920 के दशक के क्यूबाई सोन नृत्य से हुई, तथा अधिक स्पष्ट रूप से डैन्जोन, मम्बो, गुअगुअन्को तथा अन्य अफ्रीकी-क्यूबाई पौराणिक नृत्यों के अत्यधिक प्रभाव के साथ सोन मोंटुनो की ताल से हुई. वर्तमान में साल्सा नृत्य लैटिन अमेरिकी और पश्चिमी प्रभाव का समृद्ध मिश्रण है। वर्तमान में साल्सा को प्रभावित करने वाली अन्य नृत्य शैलियों में पश्चिमी और बॉलरूम नृत्य शामिल हैं। साल्सा के इतिहास के संकेत 90 वर्ष पुराने हैं जिसमें कई विकासवादी रास्ते हैं, व कभी कभी राजनीतिक और सामाजिक प्रभावों के कारण अलगाव भी है। परिणामस्वरूप, वर्तमान में साल्सा नृत्य की विभिन्न शैलियां हैं, जिनके नाम हैं, क्यूबा शैली ("कैसीनो"), न्यूयॉर्क शैली ("मम्बो ऑन 2") शैली, लॉस एंजिल्स शैली ("ऑन 1"), कोलंबिया साल्सा ("कैली-शैली") तथा मियामी-शैली साल्सा.

साल्सा सामान्य रूप से साथी के साथ किया जाने वाला नृत्य है, हालांकि "सुएल्टा" एवं "रुएडा दे कैसिनो" के रूप में इसके एकल मान्यता प्राप्त प्रारूप भी हैं जिसमे कई जोड़े गोल घूमते हुए अपने साथी बदलते हैं। साल्सा नृत्य में एकाएक बदलाव किये जा सकते हैं, या इसे निश्चित शैली, नृत्यकला व मुक्त शैली के साथ प्रस्तुत किया जा सकता है।

बुनियादी मुद्राएं[संपादित करें]

साल्सा की कुछ बुनियादी मुद्राएं हैं। सबसे आम प्रत्येक चार ताल मात्रा के बाद तीन बार वजन (या क़दमों की स्थिति) में परिवर्तन करना है। वह ताल जिसमें क़दमों का प्रयोग नहीं होता, उसमे एक हल्का धक्का या ठोकर शामिल हो सकती है, या अगली ताल तक बिना क़दमों के प्रयोग के वजन में परिवर्तन जारी रह सकता है। यह विकल्प व्यक्तिगत पसंद और किए जाने वाले नृत्य की विशिष्ट शैली पर निर्भर करता है। एक मुद्रा को "ब्रेक" कहा जाता है, जिसमे दिशा में परिवर्तन होता है। विभिन्न शैलियों के साल्सा नृत्यों में अक्सर ब्रेक मुद्रा के समय के आधार पर विभिन्नता होती है (ऑन बीट "डाउनब्रेक ऑन 1" या ऑफ़ बीट "अप बीट ऑन 2"). 8 तालों में 6 बार वजन परिवर्तन के बाद, बुनियादी मुद्रा चक्र संपूर्ण होता है। नृत्य करते हुए, बुनियादी मुद्रा को आशुरचना के एक भाग के तहत तथा नाचने वाले लोगों की शैलियों के अनुसार संशोधित किया जा सकता है।

साल्सा नृत्य की कई मुद्राओं में, नर्तक द्वारा क़दमों से वजन परिवर्तित करते समय, शरीर का ऊपरी हिस्सा एक स्तर पर तथा वजन परिवर्तन से लगभग अप्रभावित बना रहता है। इस मुद्रा के दौरान-जो "क्यूबन हिप मूमेंट" के नाम से प्रसिद्ध है, कूल्हे थोडा हिलते हैं। इसके ठीक विपरीत साल्सा नृत्य की क्यूबा कैसीनो शैली में वास्तव में कन्धों को ऊपर तथा नीचे करने तथा पसलियों के हिलाने के साथ कमर से ऊपर की मुद्राएं अधिक महत्त्वपूर्ण हैं।

"प्रमुख" नर्तक द्वारा बाजुओं का उपयोग "अनुसरणकर्ता" को "खुली" या "बंद" स्थिति का संकेत देने के लिए किया जाता है। खुली स्थिति में दो नर्तक एक या दोनों हाथ पकड़ते हैं, विशेषकर उन मुद्राओं के लिए जिनमे कमर के पीछे से बाजू डाल कर घूमना शामिल है, या एक दूसरे के आसपास घूमना शामिल है। बंद स्थिति में, प्रमुख नर्तक अनुसरणकर्ता की पीठ पर अपना दाहिना हाथ रखता है जबकि अनुसरणकर्ता अपना बांया हाथ प्रमुख नर्तक के कंधे पर रखता है।

मूल लैटिन अमेरिकी शैली में साल्सा के दौरान आगे/पीछे होने की गति कोणीय रेखा में या फिर 3-कदमों में वज़न को बरकरार रखते हुए एक तरफ की ओर होती है।

साल्सा लॉस एंजिल्स एवं न्यूयॉर्क शैली जैसी कुछ शैलियों में, नर्तक एक निर्धारित स्थान या पंक्ति में रहते हैं (जगह बदलते समय), जबकि कुछ लैटिन अमेरिकी शैलियों जैसे कि क्यूबा शैली में, नर्तक कभी-कभी 3 चरणों में एक दूसरे के चारों ओर घेरा बनाते हैं।

ताल[संपादित करें]

मेक्सिको में साल्सा नृत्य

नृत्य के लिए उपयुक्त संगीत 150 बीपीएम (ताल/बीट प्रति मिनट) से 250 बीपीएम के बीच होता है, हालांकि अधिकांश नृत्य 160-220 बीपीएम संगीत के अनुसार किए जाते हैं। साल्सा की प्रत्येक रचना में जटिल अफ़्रीकी आघात-वाद्य यंत्रों पर आधारित क्लेव ताल शामिल होती है (जिसके चार प्रकार हैं), हालांकि कुछ क्षणों के लिए, विशेष तौर पर चारंगा, चांगुई एवं बोम्बा को उद्धृत करते समय क्लेव का प्रयोग नहीं होता है। क्लेव साल्सा गीत को मूल भाव देने वाला प्रमुख वाद्ययंत्र है। यह अक्सर लकड़ी की दो छड़ियों की सहायता से उन्हें आपस में टकरा कर बजाया जाता है। साल्सा बैंड में प्रत्येक वाद्ययंत्र या तो क्लेव के साथ बजता है (आमतौर पर: कोंगा, टिम्बेल, पियानो, ट्रेस गिटार, बोंगो, क्लेव (वाद्ययंत्र), तार वाद्ययंत्र) या क्लेव ताल के बिना बजाया जाता है (आम तौर पर बास, मारकास, गुइरो, काऊबेल). क्लेव के साथ या क्लेव के बिना प्रदर्शन करना संगीत के मधुर अंशों और नर्तकों पर निर्भर करता है। हालांकि गलत ताल के साथ वाद्ययंत्र बजाना या नृत्य करना निषिद्ध है (साल्सा संगीत देखें). हालांकि नर्तक क्लेव की ताल प्रत्यक्ष रूप से चिह्नित कर सकते हैं, किन्तु परोक्ष रूप से ऐसा करना अधिक सामान्य है (उदाहरण के लिए, कंधे को हिलाना). इससे नृत्य अपने आप में बहुत ही धाराप्रवाह बन जाता है मानो शरीर का बाकि हिस्सा टांगों से बिना जुड़े हिल रहा हो.

कुल चार प्रकार की क्लेव तालें हैं, 3-2 और 2-3 सोन क्लेव, तथा 3-2 और 2-3 रुम्बा क्लेव. अधिकांश साल्सा संगीत किसी एक सोन क्लेव के साथ बजाए जाते हैं, यद्यपि कभी-कभी, विशेष रूप से कुछ गीतों के रुम्बा अंशों के दौरान, रुम्बा क्लेव का भी प्रयोग होता है। एक क्लेव साल्सा नृत्य की 8 तालों में किस प्रकार से योग्य है, इसके एक उदाहरण के रूप में 2,3,5 "और" 6 तथा 8 तालों पर 2-3 सोन क्लेव की ताल बजाई जाती है।

क्लेव के अतिरिक्त कुछ अन्य पहलू भी हैं जो साल्सा ताल को परिभाषित करते हैं: काऊबेल, मोंटुनो ताल और टुम्बाओ ताल.

काऊबेल को साल्सा की मूल ताल 1, 3, 5 और 7 पर बजाया जाता है। साल्सा की बुनियादी ताल तीव्र, तीव्र, मद्धम, तीव्र, तीव्र, मद्धम है, दूसरे शब्दों में 1, 2, 3, 5, 6 और 7, जो बहुत हद तक काऊबेल की ताल के समान है। काऊबेल की ताल को पहचानने से साल्सा ताल में बने रहने में मदद मिलती है।

मोंटुनो ताल एक ऐसी ताल है जो अक्सर एक पियानो के साथ बजाई जाती है। मोंटुनो ताल की 8 तालों के बाद पुनरावृति होती है और यह संगीत की दिशा जानने के लिए उपयोगी है। एक ही ताल को सुनने पर, जो आठ चरणों के बाद वापिस पहले स्थान पर पहुंच जाती है, कोई व्यक्ति यह पहचान सकता है कि कौन सा चरण संगीत की पहली ताल है।

टुम्बाओ साल्सा की एक ऐसी ताल है जो कोंगा ड्रम के साथ बजाई जाती है। इसमें से : "कु, कम.. पा... कु, कम.. पा..." जैसी ध्वनि निकलती है। इसे 8 और 2 तथा 4 और 6 चरणों के साथ बजाया जाता है। टुम्बाओ ताल कोंट्रा-टिएम्पो सीखने में सहायक है, (उत्तर अमेरिकी विद्वानों के लिए "ऑन2"). ऑन2 पर नृत्य करते समय 2सरी और 4थी ताल पर जोर दिया जाता है और टुम्बाओ ताल में भी इनी तालों पर अत्यधिक जोर दिया जाता है।

शैलियां[संपादित करें]

साल्सा नृत्य की जड़ें अफ़्रीकी-क्यूबाई रुम्बा और सोन नृत्य में हैं और इसमें आशुरचना स्वीकार्य हैं, इसीलिए यह लगातार विकसित हो रहा है। नई आधुनिक साल्सा शैलियों को उन्हें विकसित करने वाले मूल भौगोलिक क्षेत्रों से जोड़ा जाता है तथा उन क्षेत्रों के नाम के अनुसार उनका नामकरण किया जाता है। अक्सर इन शैलियों के प्रेमी अपने घरेलू क्षेत्रों से बाहर मिलते हैं। वे विशेषताएं जिनसे इन शैलियों को पहचाना जा सकता है: समय, बुनियादी कदम, पैरों की मुद्रा, शरीर को घुमाना और मुद्राएं, मुड़ना और नियोजन, रुख, नृत्य प्रभाव और नृत्य साथियों द्वारा एक दूसरे को पकड़ने का ढंग. म्यूजिकल बार संगीत में वह बिंदु, जिसमे थोडा बड़ा कदम (ब्रेक मुद्रा) उठाया जाता है एवं मुद्रा की दिशा बदलती है, द्वारा शैली की पहचान की जा सकती है।

साल्सा नृत्य में, पुरुषों एवं महिलाओं दोनों के लिए, अन्य नृत्य शैली की तकनीकों को शामिल करना बहुत आम हो गया है: लड़खड़ाना, टांगों का प्रयोग, बाजू का प्रयोग, शरीर को हिलाना, घुमाना, शरीर का विलगन, कंधे उचकाना, घूमना, यहां तक कि हाथों की मुद्रा, कलाबाजी और उठाना.

लैटिन अमेरिकी शैली का आरंभ क्यूबा और आसपास के कैरेबियाई द्वीपों से हुआ और इसके बाद इसका विस्तार वेनेजुएला, कोलम्बिया, निकारागुआ, प्यूर्टो रिको और शेष लैटिन राज्यों में हो गया; इसने "मियामी" शैली को भी प्रभावित किया जो क्यूबाई तथा उत्तरी अमेरिकी संस्करण का मिश्रण है। शैलियों में "कैसीनो", मियामी-शैली, कैली-शैली और वेनेजुएला की शैली शामिल हैं।

उत्तरी अमेरिकी शैली की अलग विशेषताएं हैं: लॉस एंजिल्स शैली पहली ताल "ऑन 1" पर रुकती है जबकि न्यूयॉर्क शैली दूसरी ताल "ऑन 2" पर रुकती है दोनों के मूल और विकासवादी पथ अलग-अलग हैं, क्योंकि न्यूयॉर्क साल्सा अपने प्रारंभिक विकास चरण में जैज वाद्ययंत्रों से प्रभावित है।

कोलम्बियाई / कैली शैली[संपादित करें]

कैली-शैली साल्सा, जिसे कोलम्बियाई साल्सा के रूप में भी जाना जाता है, कोलंबिया के कैली शहर की भौगोलिक स्थिति पर आधारित है। 21 वीं सदी में पार्टियों, नाइट क्लबों और समारोहों में साल्सा संगीत द्वारा प्रमुख शैली का स्थान लिए जाने के कारण कैली को "कैपिटल डे ला साल्सा" (विश्व की साल्सा राजधानी) के रूप में भी जाना जाता है।

कैली-शैली साल्सा के तत्व कोलंबियाई तालों पर किए जाने वाले कुम्बिया व बूगालू जैसे नृत्यों से अत्यधिक प्रभावित थे।

कोलंबियाई साल्सा की बुनियादी मुद्रा "अत्रास" या "कोणीय रेखा" है, जिसमे न्यूयॉर्क और लॉस एंजिल्स शैली की तरह आगे और पीछे बढ़ने की बजाए कोणीय रेखा में पीछे हटा जाता है। जैसा कि अन्य शैलियों में देखा जाता है, इसमें नर्तक अपने वजन में अत्यधिक बदलाव नहीं करते. इसके बजाय, नर्तक अपने ऊपरी शरीर को स्थिर, संतुलित और आरामदायक स्थिति में रखते हैं जबकि पैर अनंत जटिलताओं का प्रदर्शन करते हैं। पूरे "8" चरणों की बजाए "4" छोटे चरणों के पश्चात् नर्तक ज्यादातर ऑन 1 (कभी कभी ऑन 3), पर रुकते हैं।

कैली-शैली और अन्य शैलियों का एक प्रमुख अंतर क़दमों का प्रयोग (फुटवर्क) है जिसमे तीव्र कदम और लंघन चाल शामिल है। जैसा कि लॉस एंजिल्स/ न्यूयॉर्क शैली और क्यूबाई शैली के साल्सा में देखा जाता है, वे इसमें शरीर को तिरछा करने या "डिले क्यू नो" जैसी किसी मुद्रा का प्रदर्शन नहीं करते. उनका क़दमों का प्रयोग (फुटवर्क) जटिल और सटीक होता है, जिसके कारण कई कोलम्बियाई शैली के नर्तकों ने प्रमुख विश्व स्पर्धाएं जीती हैं। कैली कई वार्षिक विश्व साल्सा प्रतियोगिताओं का आयोजन करता है जैसे विश्व साल्सा कैली महोत्सव तथा एनक्यूएंट्रो डे मेलोमानोस वाई कोलेक्किओनिस्तास (Encuentro de Melomanos y Coleccionistas).

=== क्यूबाई "कैसीनो" शैली ===

क्यूबाई-शैली साल्सा जिसे कैसिनो-शैली के रूप में भी जाना जाता है, यूरोप, लैटिन अमेरिका, उत्तरी अमेरिका तथा यहां तक कि इज़राइल जैसे मध्य पूर्व के कुछ देशों के साथ विश्व के कई भागों में लोकप्रिय है। कैसीनो नृत्य करना लोकप्रिय सामाजिक संस्कृति को अभिव्यक्त करने का माध्यम है, लैटिन अमेरिकी कैसिनो को सामाजिक एवं सांस्कृतिक गतिविधियों का एक हिस्सा मानते हैं, जो उनके लोकप्रिय संगीत के इर्दगिर्द केन्द्रित है। कैसिनो नृत्य का मूल नाम कक्षों के लिए प्रयुक्त होने वाले स्पेनिश शब्द से लिया गया है जहां 20वीं सदी के मध्य तथा इसके बाद क्यूबा में अत्यधिक सामजिक साल्सा नृत्य किए गए थे।

ऐतिहासिक दृष्टि से, कैसीनो का मूल इसके साथी नृत्य क्यूबाई सोन नृत्य में पाया गया है और इसकी तालबद्ध शारीरिक मुद्राएं अफ़्रीकी-क्यूबाई रुम्बा नृत्य की देन हैं। सोन को साल्सा का एक पुराना संस्करण और पूर्वज माना जाता है। सोन नृत्य 2-3 क्लेव (सोन क्लेव) के बाद विलंबित ताल अपबीट (कोंट्रा-टिएम्पो) पर किया जाता है जबकि आम तौर पर कैसिनो नृत्य 1 या 3 (a-टिएम्पो) डाउनबीट ब्रेक पर किया जाता है। संगीत के सन्दर्भ में, 1, 3, 5 और 7 तालों को डाउनबीट माना जाता है जबकि 2, 4, 6 और 8 को अपबीट माना जाता है। कैसीनो 1950 के दशक के अंत में लोकप्रिय हुआ क्योंकि क्यूबाई सोन को संगीतकारों द्वारा अपबीट और तीव्र रूपांतरण मिले. कैसीनो का बहुत स्वतंत्र विकास हुआ है, क्योंकि क्यूबाई एम्बार्गो के प्रभाव के कारण होने वाली प्युर्टो रिको और उत्तरी अमेरिकी नृत्य पार्टियों जैसे बाहरी प्रभावों से यह मुक्त रहा है।

क्यूबाई एकल नृत्य[संपादित करें]

क्यूबाई साल्सा एकल नृत्य ("सुएल्टा") बिना साथी के किया जाने वाला एक साल्सा नृत्य है। इसकी शुरुआत मंच गायकों और नर्तकों द्वारा हुई जिन्होनें ऑर्केस्ट्रा और सीधे प्रसारण के दौरान इसकी शुरुआत की. चाहे एकल रूप में किया जाए या फिर समूह में (अक्सर डांस फ्लोर पर पुरुषों की दिशा महिलाओं की ओर होती है), क़दमों का जटिल प्रयोग (फुटवर्क) और जीवंत शारीरिक गतिविधियों के साथ इसकी मुद्राएं "a-टिएम्पो" या "कोंट्रा टिएम्पो" पर आधारित होती हैं।

साथी के साथ किये जाने वाले नृत्य[संपादित करें]

साथी के साथ किये जाने वाले नृत्य की अन्य शैलियों में "ट्रायोस" या "क़ुआत्रोस" शामिल है जिसमे प्रमुख पुरुष नर्तक प्रत्येक बाजू को जटिल संरचना का रूप देते हुए दो या अधिक महिला साथियों के साथ नृत्य करता है। "ट्रायोस" के ऐसे भी संस्करण उपलब्ध हैं जिनमे दो प्रमुख पुरुष नर्तक एक महिला साथी के साथ नृत्य करते हैं।

मियामी-शैली कैसीनो[संपादित करें]

क्यूबा प्रवासियों द्वारा फ्लोरिडा के लिए विकसित और मियामी के आसपास केंद्रित, क्यूबाई साल्सा की इस शैली में अमेरिकी संस्कृति और लॉस एंजिल्स शैली का मिश्रण है। मियामी शैली कैसीनो के प्रमुख पहचान यह है कि यह डाउनबीट (ऑन 1) के लिए यह एकमात्र नृत्य है और उत्तरी अमेरिकी शैली के प्रदर्शन के अतिरिक्त इसमें रौनक और शो के अनुरूप शैली के तत्व हैं।

मियामी-शैली के कई समर्थक हैं, विशेष रूप से क्यूबा मूल के अमेरिकी और दक्षिण फ्लोरिडा में बसे अन्य लैटिन अमेरिकी.

रुएडा डे कैसिनो[संपादित करें]

1950 के दशक में साल्सा रुएडा या अधिक स्पष्ट रूप से रुएडा डे कैसिनो का विकास हवाना, क्यूबा में हुआ था। नर्तकों के जोड़े एक गोल घेरा बना लेते हैं ("रुएडा" का स्पेनिश में अर्थ है "पहिया"), तथा डांस की मुद्राएं एक व्यक्ति द्वारा बोली जाती हैं। कई मुद्राओं में तेजी से साथियों का गमागमन शामिल है।

"रुएडा डे क्यूबा" रुएडा का मूल प्रकार है, जिसका उद्भव क्यूबा में हुआ है। यह रुएडा डे मियामी की तरह औपचारिक नहीं है और इसमें लगभग 30 आह्वान होते हैं। इसे 1970 के दशक में कूटबद्ध किया गया था।

"रुएडा डे मियामी", जिसकी शुरुआत 1980 के दशक में मियामी से हुई थी, मिश्रण पर आधारित बहुत से नियमों के साथ एक औपचारिक शैली है और यह रुएडा डी क्यूबा और लॉस एंजिल्स शैली साल्सा और नृत्य शैलियों का एक संकरण है जो अमेरिकी संस्कृति को दर्शाता है (उदाहरण के रूप में कोका कोला, डेडो, एडियोस) जो परंपरागत क्यूबाई शैली के रुएडा में नहीं दिखती है।

लॉस एंजिल्स शैली[संपादित करें]

लॉस एंजिल्स शैली नृत्य एक निश्चित स्थान ऑन 1 पर इसके प्रति सुगमता और अनुकूलन क्षमता के साथ किया जाता है। यह मम्बो, स्विंग, अर्जेण्टीनी टेंगो तथा लैटिन बॉलरूम नृत्य शैलियों से अत्यधिक प्रभावित है। लॉस एंजिल्स शैली में कामुकता, नाटकीयता, एरोबिक्स तथा संगीतात्मकता पर ज्यादा जोर दिया जाता है। वर्तमान में किये जाने वाले साल्सा के अधिकांश लिफ्ट, स्टंट और हवाई कार्य लॉस एंजिल्स शैली से लिए गए हैं जिसका मूल लैटिन बॉलरूम और बैले लिफ्ट में है।

जैसा कि ऊपर बताया गया है, इस नृत्य के दो आवश्यक तत्वों में बुनियादी आगे-पीछे होने की मुद्रा और शरीर को तिरछा करना है। इस पद्धति में, प्रमुख नर्तक 1 पर आगे कदम बढ़ाता है, 2-3 पर देन ओर के लिए कदम बढ़ा कर निर्धारित स्थान को खुला छोड़ कर 90 डिग्री पर घडी की विपरीत दिशा में घूमता है (बाईं ओर देखते हुए). फिर अनुसरणकर्ता 5-6 पर सीधे आगे कदम बढ़ाता है और 7-8 पर मुड़ता है, जबकि प्रमुख नर्तक एक बार फिर 90 डिग्री पर घडी की विपरीत दिशा में घूमता है और थोड़ा आगे बढ़ते हुए निर्धारित स्थान पर वापिस आ जाता है। इन 8 क़दमों के पश्चात्, प्रमुख नर्तक और अनुसरणकर्ता अपनी जगह बदल देते हैं।

कुछ लोगों का मानना है कि वर्तमान में प्रसिद्ध लॉस एंजिल्स शैली को नृत्य के कुछ सबसे प्रसिद्ध और प्रभावशाली लोगों द्वारा बढ़ावा दिया गया था। अल्बर्ट टोर्रेस, लौरा कैनेलियास और जॉ कैसिनी बहुत हद तक लॉस एंजिल्स शैली का शुरूआती विकास करने और इसे बढ़ावा देने के लिए उत्तरदायी हैं। बाद में, एलेक्स द सिल्वा, एडी लेविस, जोबी मार्टिनेज़, जोसी नेग्लिया, लीज रोजास, फ्रांसिस्को वेज़क्वेज़ तथा जैनेट वेलेनज़ुएला जैसे नर्तकों को अक्सर वर्तमान में पहचाने जाने वाले साल्सा नृत्य के विकास का श्रेय दिया जाता है।

न्यूयॉर्क शैली[संपादित करें]

लॉस एंजिल्स शैली के साल्सा की तरह, न्यूयॉर्क शैली में एक पंक्ति में नृत्य किया जाता है। बहरहाल, लॉस एंजिल्स के विपरीत, यह नृत्य संगीत की दूसरी ताल पर किया जाता है और प्रमुख नर्तक की बजाय अनुसरणकर्ता पहली ताल पर आगे कदम बढ़ाता है।

यद्यपि उन्होनें न्यूयॉर्क शैली साल्सा की रचना नहीं की थी, फिर भी एडी टोर्रेस को इसे लोकप्रिय बनाने तथा अनुसरणकर्ता द्वारा पहली ताल पर कदम आगे बढ़ाने देने का श्रेय दिया जाता है।

न्यूयॉर्क शैली साल्सा में साल्सा संगीत के कोंगा, टिम्बेल तथा काऊबेल जैसे आघात वाद्ययंत्रों के साथ स्वर संगति पर जोर दिया जाता है, क्योंकि ये सभी या इनमे से अधिकांश वाद्ययंत्र अक्सर संगीत में दूसरी ताल को प्रदर्शित करते हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

साल्सा नृत्य
  • पैलेडियम बॉलरूम - न्यूयॉर्क शहर का एक स्थान जिसने 1940 और 50 के दशक के दौरान लैटिन संगीत और नृत्य को लोकप्रिय करने में प्रभावशाली भूमिका निभाई.
  • रूंबा (नृत्य) - एक अफ्रीकी-क्यूबाई नृत्य जो साल्सा से अधिक प्रभावित है।
  • साल्सा संगीत
  • विश्व साल्सा स्पर्धाएं

संदर्भ[संपादित करें]

  • हचिनसन, सिडनी (2004) "मैम्बो ऑन 2: द बर्थ ऑफ़ द न्यू फॉर्म ऑफ़ डांस इन न्यूयॉर्क सिटी." सेन्ट्रो (CENTRO) जर्नल 16(2):109-137.
  • पिएट्रोब्रुनो, शीनाघ (2006) साल्सा और इसका अंतर्राष्ट्रीय चाल. लंहम, एमडी (MD): रोमैन और लिटिलफिल्ड, इंक.
  • मिक्को केम्पे (2010) संगीत में चार सबसे महत्वपूर्ण लय को वशीभूत करना

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]