सहयोग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सहयोग (collaboration) का अर्थ दो या अधिक व्यक्तियों या संस्थाओं का मिलकर काम करना है। सहयोग की प्रक्रिया में ज्ञान का बारंबार तथा सभी दिशाओं में आदान-प्रदान होता है। यह एक समान लक्ष्य की प्राप्ति की दिशा में उठाया गया बुद्धि विषयक कार्य है। यह जरूरी नहीं है। कि सहयोग के लिये नेतृत्व की आवश्यक होता है।परन्तु यह आवश्यकता नहीं है। कि नेतृत्व का भी सहयोग नहीं होता है।सहयोग एक दुसरे के माध्यम से होता है। फिर भी आपसी सहयोग का होना बहुत जरुरी होता है।एक दुसरे को आगे बढाना चाहिए। इसका मतलब यह नहीं कि किसी भी संस्था के सहयोग करने से आपसी सहयोग कि संभावना बहुत अधिक होती है।फिर भी पारंपरिक या आर्थिक सहयोग का होना बहुत मायने रखता है। सहयोग कि भावना हर मनुष्य में होना चाहिए।और मैं दुसरो के सहयोग कर सकुँ।एक दुसरे के सहयोग से देश हो या मनुष्य कि जीवन में बढता रहता है।सहयोग भी कई प्रकार के होते है।आर्थिक हो या तकनिकी सहयोग इसके आदि और भी हो सकते है।परन्तु सहयोग एक विशिष्ट कार्य के रुप में होता है। तब पर भी घर हो या बाहर किसी जगह पर सहयोग का आदान-प्रदान किया जा सकता है।परन्तु यह आवश्यक नहीं है। कि रुपया से ही सहयोग किया जा सकता है। जीवन में मनुष्य का सहयोग एक कर्तत्व हि नहीं बल्कि मनुष्य की जीवन शैली में सहयोग का होना जरुरी है।सहयोग की कोई सीमा निर्धारित नहीं होता है जो कभी भी किसी व्यक्ति का सहयोग किसका मिल सके। तब पर भी अपने को एक सामान्य की भाँति जीवन में मनुष्य की सहयोग करना चाहिए।किसी संस्था हो या धर्म स्थान को आप सहयोग कर सकते है।चाहे हिन्दु की धर्म स्थान हो या मुस्लिम की किसी भी धर्म स्थान या संस्था या सोसाइटी में अपना सहयोग कर सकते है। किसी भी देश के नेता दुसरे देश जाते है तो वह एक दुसरे को आपसी सहयोग की भावना बनाता है। और दोनों देशो की आपस में सहयोग करता देखा जाता है।तब पर भी दोनों देश के बिच आपसी सहयोग का होना जरुरी होता है।सहयोग किसी भी क्षेत्र में आप दे सकते है। आर्थिक हो या तकनीकी एवं अन्य क्षेत्रों में आप सहयोग कर सकते है।सहयोग का मतलब होता है किसी भी प्रकार का हो सकता है।विकास हो या ऊर्जा या परमाणु और तकनीक आदि में सहयोग हो सकता है।और किसी भी देश के साथ एक दुसरे के लिए आप किसी भी क्षेत्र में आप सहयोग करने के लिए तैयार हो जाते है।क्योंकि सहयोग का अर्थ होता है। एक दुसरे का जब तक किसी भी देश दुसरे देश से सहयोग नहीं करते है। तब तक आगे नहीं बढ सकता है। और किसी भी देश चाहता है।कि किसी भी देश से सहयोग बना रहे।तभी भी विकास हो सकता है।चाहे नेता हो या साधारण व्यक्ति कोई भी व्यक्ति चाहते है। कि सहयोग बना रहे।और भारत कि बात है। तो भारत के लिए एक महत्वपुर्ण बात होता है कि किसी भी देश के लिए सहयोग बना होना।जिवन में किसी से भी सहयोग हो सकता है। परन्तु यह कहना जरुरी नहीं है। कब किसका सहयोग कब मिल जायेगा।क्योंकि कोई किसी को नहीं जानते है। कि किसका सहयोग किसको मिलेगा।और हर आदमी चाहते है ।कि मुझसे जितना हो सके सहयोग मैं करने के लिए तैयार रहता हुँ।सहयोग हर आदमी की भावना होना चाहिए। कि मैं सहयोग कर सकुँ।क्योंकि जीवन में क्या लेकर आये है। यही आदमी का एक मौका मिलता है। कि मैं दुसरे का सहयोग कर सकुँ।चाहे अपना हो या पराया किसी को आप सहयोग कर सकते है।इसमें किसी पे सहयोग करने के लिये दबाब नहीं बनाया जाता है।क्योंकि सहयोग दबाब का जीज नहीं है।हर आदमी को कोई न कोई सहयोग करता है।चाहें आप कि जिवन में पत्नी हो या गाँव का लोग जरुर सहयोग करता है।यह जरुरी नहीं है। कि आप का सहयोग गाँव का हि लोग कर सकते है।कहीं और का आदमी भी हो सकते है। सहयोग ही एक ऐसे शक्ति प्रदान करता है।जो आदमी को लक्ष्य तक पहुँचाता है।हर आदमी में सहयोग की भाबना होना चाहिए।मनुष्य ही एक ऐसे प्राणी है ।जो हर किसी को सहयोग कर सकता है।क्योंकि सहयोग से किसी को सफलता मिलते है। तो उसे हमें सहयोग करना चाहिए।किसी भी तरह का सहयोग आप करना चाहते है। तो आप कर सकते है।सहयोग के लिए किसी को कोई दबाब नहीं दिया जाता है।जो अपनी श्रधा के अनुसार आप दे सकते है।लेकिन किसी भी संस्थान के लिये आप अपनी सहयोग का मापदंड आप पर निर्भल करता है।और मैं उसमें किस तरह का भागिदारी बन सके।हर किसी को सहयोग कि भावना होना चाहिए।क्योंकि सहयोग एक ऐसे बात नहीं है।जो दुसरो के लिये किया जा सकता है।परन्तु जब तक किसी भी संस्था के रुप में काम करती है।सहयोग हर आदमी को करना चाहिए।सहयोग से आदमी का मनोवल बदता है।सही समय पर किया गया काम अच्छा माने जाते है।सहयोग एक दुसरे के साथ मिलकर किया जाना चाहिए।परन्तु एक अपनी दिशा के अनुसार काम करना चाहिए।आज सहयोग के लिये अपना काम करता है।सहयोग हर गाँव या समाज में होता है।चाहें किसी भी जाति का हो सकता है।पर सहयोग सब कि करनी चहिए।और किसी भी प्रकार का आप को सहयोग करना चाहिए।सहयोग सबसे बडा मनुष्य के लिए महत्वपुर्ण काम है।जीवन के सारे पहलु में हमेश सहयोग का बहुत ही महत्त्वपुर्ण भुमिका होती है।हर हरह से मनुष्य का सहयोग करना चाहिए।सहयोग एक ऐसे काम के लिए जो दुसरे के लिए आगे आने का मौका मिल जाता है।सहयोग ही एक है जो हर देश, गाँव ,समाज या किसी भी जाति वर्ग का आप सहयोग करते है।आपने देखा ही होगा कि जिस तरह का उत्तराखण्ड में बादल फटने से कितने आदमी का मौत हुआ है।उसी तरह समाज को आगे लाने के लिए लोग सहयोग कर रहे है।सहयोग एक वैसे चीज है जो हर प्रकार से आप सहयोग कर सकते है।जिस तरह का उत्तराखण्ड में हुआ है अगर आप इस में सहयोग नहीं किजिए गा तो किस में किजिए गा।यह बहुत बडी नुकसान हुआ है। देश के लिये ।इस लिए सहयोग करना चाहिए।हर जाति धर्म के लिए सहयोग बहुत मैंने रखते है।गाँव हो या शहर कहीं पर भी आप किसी प्रकार का सहयोग कर सकते है। सहयोग के लिये कोइ पाबंधी नहीं है।किसी भी देश का आदमी कोइ भी देश में सहयोग कर सकता है।भारत में हि नहीं पुरे संसार में आप कहीं भी सहयोग कर सकते है।और किसी भी देश में कोइ आदमी सहयोग करना चाहते है।तो उस आदमी को कोइ नहीं रोक सकता सहयोग करने से चाहें सरकार हो या आम आदमी कुछ नहीं कर सकते है।किसी भी व्यक्ति को पर्सनल काम में बाँधा नहीं करना चाहिए।हर मनुष्य की जीवन में एक व्यक्तिगत रुप से अपनी कोई न कोई ख्याल रखता है। और किसी भी परिस्थिति में वह अपना काम करते रहते है। यही कारण होता है ।जब लोगों की अपनी भावना होती है। कि मैं दुसरो की सहयोग कर सकते है। तो इस में किसी को विरोध नहीं करना चाहिए। और जीवन में हर प्रकार का काम करना चाहिए। जो मनुष्य के लिये लाभदायक होती है।वही करना चाहिए।

तकनीकी एवं अन्य क्षेत्रों में सहयोग[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]