सट्टा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मटका या सट्टा एक प्रकार का जुआ है जो भारत के मुंबई में आरम्भ हुआ। आजकल क्रिकेट आदि खेलों में सट्टा लगता है। सट्टा, भारत में अवैध है।

इन्हें भी देखें====बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

[http://www.bhaskar.com/2009/08/24/090824103338_city_of_five_one_billion_speculative.html

शहर में पांच सौ करोड़ का सट्टा]

स धंधे से जूड़े सूत्रों की माने तो पूरे गोरखधंधे का संचालन मटका किंग करता है, जो कि दिल्ली तथा मुंबई में बैठता है। वह हर घंटे में 100 नंबर की

पर्चियां निकालता है, जो कि मटके में डालकर निकाली जाती है। इन नंबरों से 

मेल खाने वाले नंबर पर सट्टा लगाने वालों को उनके द्वारा लगाई गई राशि का आठ गुणा उन्हे घर बैठे मिल जाता है। इस अवैध कारोबार की यही खासियत लोगों को आकर्षित करती है और ठगी के बावजूद वह विश्वास कर बैठते है। आमतौर पर नंबर मिलने पर एक रुपये पर 80 रुपये मिलते है। मटका किंग द्वारा निकाले गए नंबर कुछ ही मिनटों में पूरे देश में पहुंच जाते है, जिन लोगों के नंबर लगते है उनका भुगतान करने के लिए संबंधित शहर के सट्टा किंग राशि संबंधित व्यक्ति को पहुंचा देते है। lakin number nahi lagta hai koi bhi aadmi profit main nahi rehta sirf loss mein hi rehta hai bhaiyo is me sirf loss hi hai to meri aap ko rai hai ki do not play..... सट्टा हमारे समाज मे व्याप्त एक बुराई है। आज तक के रिकार्ड मे सट्टा से कोई आबाद नही हुआ बल्की बर्बाद बहुत से लोग हो गये। मेरा तो यही कहना है कि'सट्टा यानि २०% का बट्टा' क्योकी यदि आप 00-99 तक पूरे घरो पर एक एक रूपया लगाये तो आपके सौ रूपये खर्च हो जायेगे और अंक निकलने पर आपका एक घर बनेगा और आपको 80 रूपये मिलेँगे तो हुआ ना आपको 20 रूपये का नुकसान..

Thnaks