संस्कृत की गिनती

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

० - शून्यम्

१ - एकः (पुलिंग), एकम् (नपुंसकलिंग), एका (स्त्रीलिंग)

२ - दौ, द्वे, द्वे

३ - त्रयः, त्रीणि, तिस्रः

४ - चतु:, चत्वारि, चतस्रः

चार (४) के बाद सभी संखाएँ सभी लिंगों में एकसमान रूप में होती हैं।

५ - पंच

६ - षट्

७ - सप्त

८ - अष्ट

९ - नव

१० - दश

११ - एकादश

१२ - द्वादश

१३ - त्रयोदश

१४ - चतुर्दश

१५ - पंचदश

१६ - षोडश

१७ - सप्तदश

१८ - अष्टादश

१९ - नवदश/ऊनविंशतिः/एकोनविंशतिः

२० - विंशतिः

२१ - एकविंशतिः

२२ - द्वाविंशतिः

२३ - त्रिंविंशतिः

२४ - चतुर्विंशतिः

२५ - पंचविंशतिः

२६ - षडविंशतिः

२७ - सप्तविंशतिः

२८ - अष्टविंशतिः

२९ - नवविंशतिः/एकोनत्रिंशत्/ऊनत्रिंशत्

३० - त्रिंशत्

४० - चत्वारिंशत्

५० - पंचाशत्

६० - षष्टिः

७० - सप्ततिः

८० - अशीतिः

९० - नवतिः

१०० - शतम्

१००० - सहस्रम्

१००००० - लक्षम्

१००,००,००० - कोटि

आधा - अर्धम्

एक पाव - पादम्, अर्धार्धम्

पूरा - पूर्णम्

Infinite - अनन्तम्

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]