संवृतिभीति (क्लॉस्ट्रोफ़ोबिया)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

संवृतिभीति (लैटिन के क्लौस्ट्रम, "एक बंद स्थान" और यूनानी φόβος, phóbos , "भय" से) एक भय होता है जिसमें एक व्यक्ति को बच कर निकलना नामुमकिन लगता है और उसे बंद रह जाने का भय होता है (विपरीत: क्लौस्ट्रोफिलिया ). इसे आमतौर पर एक अधीरता विकार के रूप में वर्गीकृत किया जाता है और यह अक्सर भय हमले में परिणत होता है. एक अध्ययन से संकेत मिला है कि दुनिया भर में करीब 5-7% की आबादी गंभीर संवृतिभीति से पीड़ित है, लेकिन इन लोगों में से कुछ को ही इस विकार के लिए किसी प्रकार का उपचार प्राप्त है. [1]

संवृतिभीति के मूल लक्षण[संपादित करें]

संवृतिभीति के लिए मूलतः दो लक्षण को माना जाता है: प्रतिबंध का भय और घुटन का डर. एक सामान्य संवृतिभीति के रोगी को निम्नलिखित स्थानों में से (यदि सभी से नहीं तो) कम से कम एक स्थान से भय होता है; छोटे कमरे, बंद कमरे, कार, सुरंग, तहखाना, लिफ्ट, मेट्रो ट्रेन, गुफा, हवाई जहाज और भीड़ भरे क्षेत्र. इसके अतिरिक्त, बंधन के डर वाले कुछ संवृतिभीति के रोगियों को छोटी-छोटी बातों से डर लग सकता है जैसे नाई की कुर्सी पर बैठने या किराने की दुकान पर लाइन में खड़े होने से.

हालांकि, संवृतिभीति के पीड़ितों के लिए यह जरूरी नहीं की वे इन क्षेत्रों से ही डरते हैं, बल्कि उन्हें यह डर होता है कि अगर वे एक सीमित क्षेत्र में फंस जायेंगे तो क्या होगा. अक्सर, एक सीमित क्षेत्र में फंस जाने के बाद, संवृतिभीति के पीड़ितों में घुटन का भय शुरू हो जोता है, उन्हें लगता है कि जिस क्षेत्र का उन्होंने चुनाव किया है उसमें शायद हवा की कमी है.

संवृतिभीति पीड़ित कई रोगी हमलों के दौरान कपड़े निकाल देते हैं, उन्हें महसूस होता है कि इन लक्षणों से राहत मिल जाएगी. उपरोक्त लक्षणों में से किसी के भी संयोजन से गंभीर भय हमला हो सकता है. हालांकि, अधिकांश संवृतिभीति के पीड़ित अपने सामर्थ्य के अनुसार इन स्थितियों से बचने की कोशिश करते हैं. [1]

रोग-निदान[संपादित करें]

संवृतिभीति के कारण[संपादित करें]

संवृतिभीति में बच कर बाहर ना निकल पाने का भय होता है, और अंदर बंद रहने का डर होता है. यह आमतौर पर एक अधीरता विकार के रूप में वर्गीकृत है और अक्सर इसका परिणाम एक गंभीर अधीरता हमले के रूप में होता है. विस्कोन्सिन-मैडिसन विश्वविद्यालय के तंत्रिका विज्ञान विभाग द्वारा आयोजित एक अध्ययन से पता चला है दुनिया भर में करीब 2-5% की आबादी गंभीर संवृतिभीति से पीड़ित है, लेकिन इन लोगों में से कुछ को ही किसी प्रकार का उपचार प्राप्त है.

संवृतिभीति का विकास तब होता है जब दिमाग में छोटे स्थान को लेकर मनोवैज्ञानिक रूप से कुछ आसन्न खतरे के जुड़ाव का एहसास पनपने लगता है. यह आमतौर पर एक दर्दनाक अतीत के अनुभव का एक परिणाम होता है (जैसे अंधकार, छोटे स्थान में फंसना, और यह सोचना कि बाहर निकलने का कोई रास्ता नहीं है क्योंकि दिमाग पर्याप्त रूप से विकसित नहीं होता ताकि यह महसूस कर पाए कि बाहर निकलने का रास्ता भी है) या किसी अन्य अप्रिय अनुभव जो बाद के जीवन में हुआ हो और उसमें सीमित स्थान शामिल हो. संवृतिभीति के ये दो कारण आम धारणा को अस्वीकार करते हैं कि संवृतिभीति एक आनुवंशिक विकार है.

वास्तव में संवृतिभीति, एक उद्दीपन के प्रति एक अनुकूलित प्रतिक्रिया है. यह तब प्रकट होता है जब कोई व्यक्ति बहुत ज्यादा घबराहट और अधीरता हमले को सीमित स्थान के साथ जोड़ता है. उस स्थिति में सीमित स्थान इसे उभारने या उत्तेजित करने का काम करता है, जो मस्तिष्क में क्रमादेशित होता है. चूंकि वह उत्तेजना मस्तिष्क में तैयार होती है, इसलिए वह प्रतिक्रिया भी होती है, जो इस मामले में बहुत ज्यादा घबराहट होती है. एक परिणाम के रूप में, सीमित स्थान लगातार इस प्रकार की घबराहट को उत्तेजित करता है.

संवृतिभीति पैमाना[संपादित करें]

इस पद्धति को 1979 में संवृतिभीति वाले रोगियों की निदान फाइलों की व्याख्या करने और विकार के निदान के बारे में विभिन्न वैज्ञानिक लेख पढ़ने के बाद विकसित किया गया था. एक बार जब प्रारंभिक पैमाने को विकसित किया गया, तब इस क्षेत्र के कई विशेषज्ञों ने इस पर परीक्षण किया और अपना ध्यान केंद्रित किया. वर्तमान में, इससे संबंधित 20 प्रश्न हैं जो आपके विकार स्तर और वैसी स्थितियों से बचने की आपकी इच्छा को निर्धारित करते हैं. कई अध्ययनों ने यह साबित किया है संवृतिभीति के निदान में यह काफी प्रभावी है. [2]

संवृतिभीति प्रश्नावली[संपादित करें]

इस विधि को 1993 में इस क्षेत्र के दो विशेषज्ञों राखमन और टेलर द्वारा विकसित किया गया था. यह विधि बंधन के डर और घुटन के डर से उपजे लक्षणों को पहचानने में काफी प्रभावी है. 2001 में, इस क्षेत्र के एक अन्य विशेषज्ञ समूह द्वारा 36 से 24 भेदों में संशोधित किया गया था. विभिन्न अध्ययनों द्वारा भी इस अध्ययन को बहुत प्रभावी साबित किया गया. [2]

उपचार[संपादित करें]

संज्ञानात्मक उपचार[संपादित करें]

अधिकांश भय विकार के इलाज के लिए संज्ञानात्मक उपचार को व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है. [3] साथ ही इसे विशेष रूप से उन विकारों से मुकाबला करने में प्रभावी माना जाता है जहां वास्तव में रोगी को किसी स्थिति का भय नहीं होता, बल्कि उसे भय होता है कथित तौर पर ऐसे स्थितियों से उत्पन्न होने वाले परिणाम से. [3] संज्ञानात्मक उपचार का परम लक्ष्य भय के साथ जुड़े विकृत विचार या गलतफहमी को संशोधित करना होता है; इस उपचार के अनुसार इन विचारों के संशोधन के माध्यम से भय कम होगा और वैसी स्थितियों से बचाव किया जा सकेगा. [3] उदाहरण के लिए, संज्ञानात्मक उपचार रोगी को यह समझाने का प्रयास करेगा कि लिफ्ट खतरनाक नहीं हैं, बल्कि यह बहुत ही उपयोगी है क्योंकि जहां आपको जाना है यह तेजी से वहां ले जाने में मदद करेगी. इस क्षेत्र के एक प्रशंसित विशेषज्ञ एस.जे.राखमन द्वारा आयोजित एक अध्ययन से पता चलता है कि संज्ञानात्मक उपचार से भय और नकारात्मक विचार/अर्थ में कमी आती है, इसका परीक्षण लगभग 30% क्लॉस्ट्रोफोबिया के मरीजों पर किया गया है और यह साबित हो चुका है कि यह विधि एक हद तक काफी प्रभावी है. [1]

इन विवो एक्सपोजर[संपादित करें]

इस विधि में रोगियों को जिस भय का वे अनुभव करते हैं उस भय के प्रति पूर्ण रूप से उद्घाटित किया जाता है. [3] आमतौर पर इसे प्रगतिशील तरीके से किया जाता है और कम जोखिम से शुरू करते हुए गंभीर जोखिम की ओर बढ़ा जाता है. [3] उदाहरण के लिए, संवृतिभीति के एक मरीज का इलाज लिफ्ट से शुरू किया जाता है और उसके बाद उसे एमआरआई में रखा जाता है. कई अध्ययनों से साबित हुआ है कि विभिन्न प्रकार के भय से मुकाबला करने में यह तरीका प्रभावी है, इसमें संवृतिभीति भी शामिल है. [3] एस.जे.राखमन ने भी संवृतिभीति के उपचार में इस विधि के प्रभाव का परीक्षण किया है और पाया कि लगभग 75% उनके रोगियों में भय और नकारात्मक विचार/अर्थ कम हुए हैं. [1] विधियों के इस अध्ययन में जिसका उन्होंने परीक्षण किया, भय को कम करने का यह सबसे प्रभावी तरीका था. [1]

अंतः सम्वेदी प्रदर्शन[संपादित करें]

इस विधि में रोगी के भीतर एक आंतरिक शारीरिक बोध को नियंत्रित वातावरण में पुनः स्थापित करने का प्रयास किया जाता है, और यह प्रयास इन विवो जोखिम से कम तीव्र होता है. [3] एस.जे. राखमन द्वारा 1992 में किये गए अध्ययन के तहत उपचार की यह उनकी अंतिम विधि थी. [1] यह भय और नकारात्मक विचार/अर्थ को लगभग 25% कम करती है. [1] इसके परिणामों के प्रतिशत इन विवो चिकित्सा और या संज्ञानात्मक उपचार के मुकाबले में काफी कम थे लेकिन फिर भी भय को कम करने में महत्वपूर्ण था. [1]

उपचार के अन्य रूप जो कि काफी प्रभावी रहे उनमें मनोरोग शिक्षा, विपरीत-अनुकूलन, प्रतिगामी सम्मोहन चिकित्सा और सांस लेने के लिए पुन: प्रशिक्षण शामिल है. संवृतिभीति के इलाज में मदद के लिए अक्सर जिन दवाओं को निर्धारित किया जाता है उसमें एंटी-डिप्रेसेंट्स और बीटा-ब्लॉकर्स शामिल हैं जो कि भय हमलों के साथ दिल प्रहार लक्षणों में राहत देने में मदद करती है.

अध्ययन[संपादित करें]

एमआरआई प्रक्रिया[संपादित करें]

क्योंकि वे घुटन और बंधन, दोनों प्रकार के भय का उत्पादन कर सकते हैं, क्लॉस्टेरोफोबिया के मरीजों के लिए एमआरआई स्कैन अक्सर मुश्किल साबित होते हैं. [4] वास्तव में, अनुमान के अनुसार लगभग 4-20% रोगी इसी कारण से स्कैन करने के लिए मना करते हैं. [5] एक अध्ययन का अनुमान है कि सभी एमआरआई प्राप्तकर्ताओं में यह प्रतिशत 37% तक उच्च हो सकता है. [4] एमआरआई स्कैन का औसत समय 50 मिनट होता है; गंभीर क्लॉस्टेरोफोबिया के मरीजों में चरम भय और चिंता उत्पन्न करने के लिए यह समय पर्याप्त होता है.

1: इस अध्ययन को तीन लक्ष्यों के साथ आयोजित किया गया. एमआरआई के दौरान भय की हद को खोजना. 2. एक एमआरआई के दौरान भय के लिए संकेतों को ढ़ूंढना. 3. एमआरआई के दौरान मनोवैज्ञानिक कारकों का निरीक्षण करना. इस अध्ययन के लिए यादृच्छिक ढंग से अस्सी मरीजों को चुना गया और संवृतिभीति के पीड़ितों के भय के स्तर का नैदानिक परीक्षण किया गया; संवृतिभीति के साथ इन मरीजों का इससे पहले कभी उपचार नहीं किया गया था. साथ ही उनका एमआरआई के बाद इसी तरह का परीक्षण किया गया ताकि ये पता चल पाए कि उनका भय स्तर कहीं बढ़ तो नहीं गया. इस प्रयोग का निष्कर्ष यह है कि रोगियों द्वारा अनुभव किया गया भय का प्राथमिक घटक काफी हद तक संवृतिभीति से संबंधित है.

यह दावा उन लोगों के उच्च संवृतिभीति प्रश्नावली परिणामों से उभरा जिन लोगों में स्कैन के दौरान भय पाया गया. स्कैन के दौरान लगभग 25% रोगियों में औसत भय के अनुभव की सूचना दी गई और 3 रोगी स्कैन को पूरा करने में असमर्थ रहे. स्कैन के एक महीने बाद जब उनसे संपर्क किया गया तो 30% रोगियों (ये संख्या उन 48 रोगियों में से है जिन्होंने एक महीने बाद सम्पर्क बनाया था) ने बताया कि स्कैन के बाद उनका संवृतिभीति एहसास और बढ़ गया है. अधिकांश रोगियों ने यह दावा किया कि उस चरम बिंदु तक उन्हें संवृतिभीति एहसास नहीं हुआ. इस अध्ययन का निष्कर्ष है कि संवृतिभीति प्रश्नावली (या निदान का एक समतुल्य विधि) का इस्तेमाल एमआरआई के लिए अनुमति देने से पहले होना चाहिए. [4]

संवृतिभीति को कम करने के लिए आभासी वास्तविकता विकर्षण[संपादित करें]

दो रोगियों के साथ वर्तमान मामले में यह पता लगाया गया कि आभासी वास्तविकता (VR) विकर्षण एक नकली चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (एमआरआई) के दौरान संवृतिभीति लक्षणों को कम कर सकता है या नहीं. दो रोगी जो विशिष्ट भय, स्थिति प्रकार (यानी, संवृतिभीति) के लिए DSM-IV मानदंड पर खरे उतरते हैं उनमें वीआर को छोड़कर और स्कैन को पहले ही बंद करने के पूछे जाने के साथ एक नकली 10 मिनट की एमआरआई प्रक्रिया के दौरान उच्च स्तर के भय को सूचित किया गया है. उनके दूसरे स्कैन प्रयास के लिए मरीजों को बेतरतीब ढंग से वीआर या संगीत विकर्षण प्राप्त करने के लिए सौंपा गया. जब एक भ्रामक तीन आयामी (3 डी) आभासी दुनिया जिसका नाम स्नोवर्ल्ड है, जिसमें पहला रोगी कम भय के साथ 10 मिनट के नकली स्कैन को पूरा करने में सक्षम रहा और बाद में उसके आत्म प्रभावकारिता में वृद्धि की सूचना दी गई. दूसरे रोगी ने अपने दूसरे स्कैन में केवल संगीत विकर्षण ग्रहण किया लेकिन फिर भी 10 मिनट के स्कैन को पूरा करने में सक्षम नहीं था और स्कैन के पूरा होने से पहले ही उसे बंद करने के लिए कहा. ये परिणाम यह सुझाव देते हैं कि वी.आर. पर ध्यान देने से अस्थायी रूप से एमआरआई स्कैन के दौरान प्रभावकारी साबित हो सकते हैं और संगीत कम प्रभावकारी सिद्ध हो सकते हैं. [6]

कई शोधकर्ताओं ने डेल्फ़्ट विश्वविद्यालय के मिडियामेटिक विभाग से वीआर के कई शोधकर्ताओं का इस्तेमाल करते हुए विभिन्न प्रकार के भयों का प्रयोग किया, जिसमें एम्स्टर्डम विश्वविद्यालय के मनोविज्ञान संकाय का भी सहयोग रहा और उन्होंने वीआरईटी पर कई अनुसंधान परियोजना का संचालन किया. परियोजना में इस्तेमाल किए गए वीआर प्रणाली को टीयू डेल्फ्ट में विकसित किया गया है. विभिन्न प्रकार के भय जोखिम के लिए कई वीई का विकास किया गया. उत्तुंगता भीति के उपचार के लिए आभासी प्रज्वलित सीढ़ी और छत का छज्जा, दो वीई हैं. ऐसे वीई भी हैं जिन्हें संवृतिभीति के इलाज के लिए अपेक्षित माना जाता है जैसे आभासी दालान, आभासी कोठरी, और लिफ्ट. उड़ने के भय वाले रोगियों के उपचार के लिए आभासी उड़ान और आभासी हवाई अड्डा को विकसित किया गया है. सामाजिक भय और जनातंक जोखिम के लिए चिकित्सा को विकसित करना वीई का मुख्य उद्देश्य है हालांकि टीयू डेल्फ़्ट के मिडियामेटिक्स विभाग ने अभी तक इसे विकसित नहीं किया है. [7][8]

आभासी वास्तविकता (VR) एक आभासी सेटिंग में अनावरण उपचार के तीसरे विकल्प की अनुमति देता है जो कि वास्तविक विश्व स्थितियों के पुनरुत्पादन की तुलना में सुरक्षित, कम शर्मनाक, और कम महंगा होता है. इसके अलावा ऐसी स्थितियों को बनाया जा सकता है जिन्हें वास्तविक जीवन में खोजना मुश्किल हो सकता है और यह खतरे की कल्पना करने की तुलना में अधिक वास्तविक होता है. हालांकि कुछ प्रयोगों ने कुछ विशिष्ट भय के उपचार में वीआर को उपयोगी उपकरण के रूप में साबित किया है जिसमें ऊंचाई का डर, मकड़ियों का डर, उड़ने का डर और संवृतिभीति का डर और साथ ही साथ भीड़ से डर भी शामिल है. हालांकि अधिकांश अनुसंधान, जो वीआर एक्सपोज़र पर किए जाते हैं वह एकल मामला अध्ययन से निर्मित होता है और निष्कर्ष के समर्थन के लिए नियंत्रित समूह अध्ययन आवश्यक होते हैं. इस क्षेत्र में अनुसंधान अभी भी प्रारंभिक अवस्था में ही है, लेकिन तेजी से प्रगति कर रही है.

प्रयोगात्मक प्रयोगशाला और मनोवैज्ञानिकों के दैनिक अभ्यास से आभासी वास्तविकता (वर्गीकृत) अनावरण (वीआरई) लेने के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है. डेल्फ़्ट यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी और एम्स्टर्डम विश्वविद्यालय ने इस चुनौती को लिया है. दी गई कार्यात्मक स्थिति के लिए हमने चार साल के भीतर एक पूरी तरह इष्टतम प्रणाली का निर्माण किया है. इसके अलावा भय का उपचार (ऊंचाई का भय, संवृतिभीति, उड़ने का डर) करने के लिए वीआरई के प्रभावपूर्ण सहायता के लिए हमारे पास पर्याप्त मात्रा में डाटा है. डोमेन को इन दो कोणों से समझा जा रहा है:

मनोविज्ञान मानव कम्प्यूटर संपर्क

दोनों कोणों को परियोजना टीम में एक समूह द्वारा प्रतिनिधित्व किया जाता है.

1999 में कम बजट के वी.आर. उपकरणों के साथ हमने एक पायलट अध्ययन पूरा किया है. इस अध्ययन का उद्देश्य कम बजट की आभासी वास्तविकता एक्सपोज़र का आकलन बनाम इन विवो में उत्तुंगता भीति (ऊंचाई का भय) (एम्मेलकंप, ब्रुयंजील, ड्रोस्ट एंड वेन डेर मस्ट) से पीड़ित दस व्यक्तियों के भीतर समूह डिजाइन अनावरण का मूल्यांकन करना है.

प्रतिबंध के भय से घुटन के भय को अलग करना[संपादित करें]

कई विशेषज्ञ जिन्होंने संवृतिभीति का अध्ययन किया है, दावा किया है कि इसमें दो वियोज्य घटक शामिल है; घुटन काभय और प्रतिबंध का भय. इस दावे को साबित करने के प्रयास में तीन विशेषज्ञों द्वारा स्पष्ट रूप से अंतर साबित करने के लिए एक अध्ययन का आयोजित किया गया. 78 रोगियों को प्रश्नावली देने के माध्यम से अध्ययन को आयोजित किया गया जिन्होंने एमआरआई परीक्षण करवाया था.

आंकड़ों को भय पैमाने में संकलित किया गया जहां घुटन और परिरोध के लिए अलग उपपैमाने थे. सिद्धांततः, ये उपस्केल अलग हो सकते हैं अगर योगदान कारक वास्तव में अलग होंगे. अध्ययन यह साबित करने में सफल हुआ कि लक्षण अलग-अलग हैं. इसलिए, इस अध्ययन के अनुसार, प्रभावी ढंग से संवृतिभीति से मुकाबला करने के लिए इन मूल दोनों कारणों को समझना जरूरी है.

चूंकि यह अध्ययन केवल उन लोगों पर लागू होता है जिन्होंने अपनी एमआरआई को पूरा किया, जो एमआरआई पूरा करने में असमर्थ थे वे इस अध्ययन में शामिल नहीं थे. यह संभावना है कि संवृतिभीति के गंभीर रोगी होने के चलते कई लोगों को इससे बाहर कर दिया गया. इसलिए, उन लोगो का अभाव जो गंभीर संवृतिभीति से पीड़ित थे, वे इन आंकड़ों को विषम कर सकते थे. [5]

ऑस्टिन के टेक्सास विश्वविद्यालय के कुछ छात्रों को प्रारम्भिक निदान दिया गया और उनके संवृतिभीति की संभावना के आधार पर 1 से 5 के बीच अंक दिए गए. जिन्होंने 3 या उच्चतर अंक हासिल किया उन्हें अध्ययन में प्रयोग किया गया. छात्रों से फिर पूछा गया कि वे कितना बेहतर महसूस करते हैं यदि उन्हें एक विस्तारित अवधि के लिए एक छोटे से कक्ष में रहने के लिए मजबूर किया जाए. संवृतिभीति के कारणों में से दो मुख्य कारणों के बीच मतभेद करने के लिए घुटन और परिरोध से संबंधित कारणों को अलग करते हुए प्रश्न पूछे गए. इस अध्ययन के नतीजे यह बताते हैं अधिकांश छात्रों में घुटन के भय से कहीं अधिक परिरोध का भय था. भय के इस अंतर के चलते स्पष्ट रूप से अभी भी यह कहा जा सकता कि इन दो कारणों में स्पष्ट अंतर विद्यमान है. [9]

संवृतिभीति के रोगी और गैर-संवृतिभीति में संभावित रेटिंग[संपादित करें]

इस अध्ययन को 98 लोगों पर लागू किया गया, जिसमें 49 का संवृतिभीति निदान किया गया और 49 "समुदाय नियंत्रण" किया गया ताकि यह पता लगाया जा सके कि यदि संवृतिभीति दिमाग, अधीरता-उद्दीपन (यानी संवृतिभीति घटनाएं) द्वारा विकृत होता है, इस हद तक कि वे उन घटनाओं के घटित होने की संभावना पर विश्वास करते हैं. प्रत्येक व्यक्ति को तीन घटनाएं दी गई थीं; एक संवृतिभीति घटना, एक सामान्यतया नकारात्मक मामला, और एक सामान्यतया सकारात्मक मामला- और उनसे पूछा गया कि कितनी संभावना है कि यह घटना उनके साथ हो सकती है. जैसी उम्मीद थी, संवृतिभीति के संभावित रोगियों ने नियंत्रण समूह की तुलना में उस संवृतिभीति वाली घटना के होने के बारे में काफी अधिक संभावना व्यक्ति की. सकारात्मक या नकारात्मक घटनाओं में कोई उल्लेखनीय अंतर नहीं था. हालांकि, यह अध्ययन संभवतः त्रुटिपूर्ण था क्योंकि संवृतिभीति के रोगियों का निदान पहले ही हो गया था.[कृपया उद्धरण जोड़ें] विकार का निदान संभावित रूप से व्यक्ति के इस विश्वास को पूर्वाग्रहग्रस्त कर सकती है कि संवृतिभीति घटना के उनके साथ होने की संभावना हो सकती है. [10]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • भय की सूची
  • अधीरता विकार
  • असामयिक दफ़न
  • घबड़ाहट के दौरे
  • संवृतिभीति के कारण

संदर्भ[संपादित करें]

  1. फोबिअस: ए हैंडबुक ऑफ थिउरी, रिसर्च, एंड ट्रीटमेंट. चिचेस्टर, न्यूयार्क: विले, 1997.
  2. ost, लार्स-गोरान. "द संवृतिभीति स्केल: ए साइकोमेट्रिक इवालुशन." व्यवहार अनुसंधान और थेरेपी 45.5 (2007): 1053-64.
  3. चोय, युजुआन एबी, जे फ्येर, और जोश डी. लिप्सिज. "ट्रीटमेंट ऑफ स्पेसिफिक फोबिया इन एडल्ट्स." नैदानिक मनोविज्ञान समीक्षा 27.3 (2007): 266-86.
  4. माकइसाक, हीथर के., एट अल. "संवृतिभीति और चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग प्रक्रिया." व्यवहार चिकित्सा की पत्रिका. 21.3 (1998): 255–68.
  5. हैरिस, ल्य्न्ने एम., और जॉन रॉबिन्सन. "एविडेंस फोर फियर ऑफ रेस्ट्रिक्शन एंड फियर ऑफ सफोकेशन एज कंपोनेंट्स ऑफ संवृतिभीति." व्यवहार अनुसंधान एवं थेरेपी 37.2 (1999): 155.
  6. अजुसना गार्सिया-पालसियो, हंटर जी. हॉफमैन, टोड आर. रिचर्ड्स, एरिक जे सेबल, सैम आर. शरार. साइबरसाइक्लॉजी एंड बिहेवियर. जून 2007, 10 (3): 485-488. doi: 10.1089/cpb.2006.9926.
  7. पीडीएफ ईबुक वर्चुअल रिएलिटी फोर सोसियल फोबिया एंड एगोराफोबिया ट्रीटमेंट
  8. पीडीएफ ईबुक वर्चुअल रिएलिटी फोर सोसियल फोबिया एंड एगोराफोबिया ट्रीटमेंट
  9. वलेंटिनेर, डेविड पी., और माइकल जे. तेल्च. "कॉगनिटीव मेकानिज्म इन संवृतिभीति: एन एक्जामिनेशन ऑफ रेएस एंड मैकनेलीज एक्सपेकटेंसी मॉडल एंड बंडुरास सेल्फ एफिसेसी थिउरी." संज्ञानात्मक थेरेपी और रिसर्च 20.6 (1996): 593-612.
  10. ओस्ट, लार्स-गोरान, और पीटर सत्लोस. "प्रोबाबिलिटी रेटिंग्स इन क्लौस्ट्रफ़ोबिक्स पेसेंट्स एंड नोर्मल कंट्रोल्स." बिहेवियर रिसर्च एंड थेरेपी 38.11 (2000): 1107.