संरचनावाद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

संरचनावाद मानव विज्ञान की एक ऐसी पद्धति है जो संकेत विज्ञान (यानी संकेतों की एक प्रणाली)और सहजता से परस्पर संबद्ध भागों की एक पद्धति के अनुसार तथ्यों का विश्लेषण करने का प्रयास करती है। स्वीडन के प्रसिद्ध भाषाविद फर्डिनेंड डी सौसर (1857-1913)FARDINAND DE SAUSSURE इसके प्रवर्तक माने जाते हैं,जिन्हें हिन्दी में सस्यूर नाम से जाना जाता है । तर्क के संरचनावादी तरीके को विभिन्न क्षेत्रों जैसे, नृविज्ञान, समाजशास्त्र, मनोविज्ञान, साहित्यिक आलोचना और यहां तक कि वास्तुकला में भी लागू किया गया है. इसने एक विधि के रूप में नहीं बल्कि एक बौद्धिक आंदोलन के रूप में संरचनावाद की भोर में प्रवेश किया, जो 1960 के दशक में फ्रांस में अस्तित्ववाद की जगह लेने आया था.[1]

1970 के दशक में, यह आलोचकों के आन्तरिक गुस्से का शिकार हुआ, जिन्होंने इस पर बहुत ही अनमनीय तथा अनैतिहासिक होने का आरोप लगाया. हालांकि, संरचनावाद के कई समर्थकों, जैसे कि जैक्स लेकन ने महाद्वीपीय मान्यताओं और इसके आलोचकों की मूल धारणाओं पर ज़ोर देकर प्रभाव डालना शुरू किया कि उत्तर-संरचनावाद संरचनावाद की निरंतरता है.[1]

एलीज़न एसिस्टर के अनुसार, संरचनावाद से संबंधित चार आम विचार एक 'बौद्धिक प्रवृत्ति' की रचना करते हैं. सबसे पहले, संरचना वह है, जो पूर्णता के प्रत्येक तत्व की स्थिति को निर्धारित करता है. दूसरा, संरचनावादियों का मानना है कि हर प्रणाली की एक संरचना होती है. तीसरा, संरचनावादी 'संरचनात्मक' नियमों में ज्यादा रूचि लेते हैं जो बदलाव की जगह सह-अस्तित्व से संबंधित होते हैं. और आखिर में संरचनाएं वे 'असली वस्तुएं' है जो अर्थ के धरातल या सतह के नीचे विद्यमान रहती हैं.[2]

संरचनावाद शब्द को अक्सर एक विशिष्ट प्रकार के मानववादी संरचनावादी विश्लेषण के सन्दर्भ में इस्तेमाल किया जाता है जहां तथ्यों को संकेतों के विज्ञान (यानी संकेतों की एक प्रणाली) से उल्लेखित किया जाता है. महाद्वीपीय दर्शन में इस शब्द का आम तौर पर इसी तरह प्रयोग किया जाता है. हालांकि, इस शब्द का प्रयोग संरचनात्मक दृष्टिकोण के विविध संदर्भ जैसे कि सामाजिक नेटवर्क विश्लेषण और वर्ग विश्लेषणमें भी किया जाता है.[3] इस अर्थ में संरचनावाद संरचनात्मक विश्लेषण या संरचनात्मक समाजशास्त्र का पर्याय बन गया है, जिनमें से बाद वाले को इस प्रकार परिभाषित किया गया है "एक ऐसी पहल जिसमें सामाजिक संरचना, अवरोध और अवसरों को अधिक स्पष्ट तौर पर देखा जाये यह सांस्कृतिक मानदंडों या अन्य व्यक्तिपरक चीज़ों की तुलना में मानव व्यवहार पर अधिक प्रभाव डालता है."[4]

इतिहास[संपादित करें]

20वीं सदी के उत्तरार्द्ध में संरचनावाद को शिक्षा में शामिल किया गया और भाषा, संस्कृति तथा समाज के विश्लेषण से संबंधित शिक्षा के क्षेत्रों में यह सबसे अधिक लोकप्रिय तरीकों में से एक बन गया. फर्डिनेन्ड डी सौसर के भाषा शास्त्र से संबंधित कार्य को साधारण तौर पर संरचनावाद का प्रारंभिक बिंदु माना जाता है. फ्रांसीसी मानवविज्ञानी क्लॉड लेवी-स्ट्रॉस के कार्यों में खुद "संरचनावाद" शब्द प्रकट हुआ और फ्रांस में "संरचनावादी आंदोलन" को बढ़ावा दिया, जिसने लुई अल्थूजर , मनोविश्लेषक जैक्स लेकन जैसे विचारकों को ही नहीं संरचनावादी मार्क्सवादी निकोस पोलन्टज़ास के कार्यों को भी प्रेरित किया. इस आंदोलन के अधिकांश सदस्यों ने अपने को ऐसे किसी भी आंदोलन का एक हिस्सा होने के रूप में वर्णित नहीं किया है. संरचनावाद सांकेतिकता से बहुत गहराई से जुड़ा हुआ है. उत्तर-संरचनावाद ने खुद को संरचनात्मक विधि के सरल प्रयोग से अलग करने का प्रयास किया. डिकन्शट्रक्शन(Deconstruction) संरचनात्मक विचारों से खुद को अलग करने की कोशिश थी. उदाहरण के लिए, जूलिया क्रिस्टेवा जैसे कुछ बुद्धिजीवियों ने बाद में उत्तर-संरचनावादी बनने के लिए संरचनावाद (और रूसी रीतिवाद) को एक प्रारंभिक बिंदु के रूप में लिया. सामाजिक विज्ञान में संरचनावाद के प्रभाव की कई स्थितियां हैं: जो समाजशास्त्र के क्षेत्र में काफी मायने रखता है.

भाषा विज्ञान में संरचनावाद[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Structural linguistics

संरचनावाद बताता है कि मानव संस्कृति को संकेतों की एक प्रणाली समझा जाना चाहिए. रॉबर्ट स्कोल्स ने संरचनावाद को आधुनिकतावादी अलगाव और निराशा की प्रतिक्रिया के रूप में परिभाषित किया है. संरचनावादियों ने एक सांकेतिक विज्ञान (संकेतों की प्रणाली) विकसित करने का प्रयास किया. फर्डिनेंड डी सौसर 20 वीं सदी के संरचनावाद के प्रवर्तक माने जाते हैं और इसके सबूत हमें उनकी मृत्यु के बाद उनके छात्रों के नोटों पर आधारित उनके सहयोगियों द्वारा लिखे गये कोर्स इन जनरल लिंग्विस्टिक में मिल सकते हैं, जिसमें उन्होंने भाषा (शब्द या भाषण ) के इस्तेमाल पर नहीं बल्कि भाषा (लैंगुए)की अंतर्निहित प्रणाली पर ध्यान केंद्रित किया है और अपने सिद्धान्त को संकेत विज्ञान कहा है. हालांकि, भाषण (पेरोल) की जांच करने के माध्यम से ही अंतर्निहित प्रणाली की खोज की जा सकती है. जैसे कि संरचनात्मक भाषाविज्ञान असल में कोष भाषा विज्ञान (कारपस लिंग्विस्टिक्स) (प्रमात्रीकरण) का पूर्व स्वरूप है. इस दृष्टिकोण ने यह परीक्षण करने पर ध्यान केंद्रित किया कि वर्तमान में भाषा संबंधित तत्व आपस में किस तरह से जुडे़ हुए हैं, वह ये कि, कालक्रमिक तौर पर न कि 'समकालीन' तरीके से. अंत में, उन्होंने तर्क दिया कि भाषाई संकेत दो भागों में बने हैं, शब्द रूप (सिग्निफायर) (शब्द की ध्वनि के लक्षण , या तो मानसिक प्रक्षेपण में, जैसा कि हम कविता की पंक्तियां चुपचाप अपने लिए पढ़ते हैं- या फिर वास्तविक रूप में, वाचक के रूप में भौतिक तौर पर बोलते हुए) और एक अवधारणा (शब्द की अवधारणा या अर्थ का प्रारूप) के रूप में. यह पिछले दृष्टिकोणों से काफी अलग था जिसने दुनिया में शब्दों और उनसे सम्बंधित वस्तुओं के बीच के रिश्ते पर ध्यान केंद्रित किया (रॉय हैरिस और टैलबोट टेलर, लैंडमार्क्स इन लिंग्विस्टिक थॉट, प्रथम अंक [1989], पृ.) 178-179).

संरचनात्मक भाषाविज्ञान में प्रतिमान, वाक्य विन्यास और मूल्य कुंजी या मुख्य विचार हैं, हालांकि सौसर के विचार में अभी तक इन विचारों को पूरी तरह से विकसित नहीं किया गया था. एक संरचनात्मक प्रतिमान असल में भाषाई इकाइयों (शब्दिम, रूपीम, यहां तक कि निर्माण भी) का एक वर्ग है, जो किसी निर्धारित स्थिति में दिए गए भाषाई पर्यावरण में (जैसे कि दिए गए वाक्य में) हो, जो सिन्टैम है. प्रतिमान के इन प्रत्येक सदस्यों के विभिन्न कार्यों की भूमिका को वैल्यू (फ्रेंच में वैल्यूर) कहा जाता है. संरचनावादी आलोचना संरचना के एक बड़े व्यापक साहित्यिक पाठ से संबंधित है जो रूपांकन हो सकता है एक विशेष शैली, अंतर-वाचनिक संबंधों की श्रेणी, एक सार्वभौमिक वाचिक संरचना का नमूना या आवर्ती नमूनों या रूपांकन की एक व्यवस्था की कथा की एक धारणा भी हो सकती है.[5]

सौसर के पाठ्यक्रम (कोर्स) ने प्रथम विश्वयुद्ध (WWI) और द्वितीय विश्वयुद्ध (WWII) के बीच कई भाषाविदों को प्रभावित किया था, उदाहरण के लिए, संयुक्त राज्य अमेरिका में लिओनार्ड ब्लूमफिल्ड ने, डेनमार्क में लुई जेमस्लेभ ने और नॉर्वे में ऑल्फ सामरफेल्ट ने अपना निजी संरचनात्मक भाषा विज्ञान विकसित किया. फ्रांस में एनटोनी मिलेट और एमिली बेनवेनिस्ट सौसर का कार्यक्रम जारी रखेंगे. हालांकि, सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि भाषा विज्ञान के प्राग स्कूल के सदस्य, जैसे रोमन जेकॉबसन और निकोलाइ ट्रूबेजकोय ने शोध किया, जो काफी प्रभावशाली होगा.

प्राग स्कूल के संरचनावाद का सबसे स्पष्ट उदाहरण स्वनिम के दृष्ट (फोनेमिक्स) में निहित है. प्राग स्कूल में भाषा की विभिन्न आवाज़ों का संकलन कर सिर्फ उनकी सूची ही नहीं बनायी जाती थी बल्कि यह जांच भी की जाती थी कि वे आपस में किस तरह से जुड़े थे. उन्होंने साबित कर दिया कि भाषा में ध्वनियों का संकलन कर उनके व्यतिरेक की श्रृंखला बनाकर उन्हें विश्लेषित किया जा सकता था. इस प्रकार लगता है कि अंग्रेजी में /पी/ और /बी/ अलग ध्वनिग्राम का प्रतिनिधित्व करते हैं क्योंकि ऐसे मामले हैं (कम से कम जोड़ों) जहां दोनों के बीच केवल दो विपरीत शब्दों (जैसे 'पैट' और 'बैट') जितना अंतर है. विरोधी वैशिष्ट्यों की दृष्टि से ध्वनियों का विश्लेषण तुलनात्मक क्षेत्र प्रस्तुत करता है, उदाहरण के लिए, यह स्पष्ट करता है कि जापानी वक्ताओं को अंग्रेजी की /आर/ और /एल/ ध्वनियों में अंतर करने में जो कठिनाई होती है, वह इसलिए है क्योंकि जापानी में ये ध्वनियां परस्पर विरोधी नहीं हैं. हालांकि यह दृष्टिकोण अब भाषाविज्ञान में मानक है, पर उस समय यह क्रांतिकारी था. ध्वनि विज्ञान विभिन्न क्षेत्रों में संरचनावाद के लिए निर्देशनात्मक आधार बन जाएगा.

नृविज्ञान और समाजशास्त्र में संरचनावाद[संपादित करें]

नृविज्ञान और सामाजिक नृविज्ञान में संरचनात्मक सिद्धांत के अनुसार अर्थ एक संस्कृति के अन्दर विभिन्न तरीकों, घटनाओं और गतिविधियों के माध्यम से उत्पादित और पुनरुत्पादित होता है, जिसका महत्वपूर्ण प्रणालियों के रूप में प्रयोग किया जाता हैं. एक संरचनावादी भोजन बनाने और परोसने की तैयारी, धार्मिक संस्कारों, खेल, साहित्यिक और गैर साहित्यिक ग्रंथों के रूप में विविध गतिविधियों तथा मनोरंजन के अन्य रूपों का अध्ययन कर एक संस्कृति के भीतर उन गंभीर संरचनाओं का पता लगाता है जिनके द्वारा अर्थ को उत्पादित और पुनरुत्पादित किया जाता है. उदाहरण के लिए, संरचनावाद के एक प्रारम्भिक एवं प्रमुख वृत्तिक, नृवंशविज्ञानशास्री और मानव विज्ञानी क्लॉड लेवी स्ट्रास ने 1950 में पौराणिक कथाओं, संबंधों (गठबंधन सिद्धांत और कौटुम्बिक व्यभिचार निषेधों) तथा भोजन की तैयारी (संरचनात्मक नृविज्ञान भी देखें) सहित सांस्कृतिक घटनाओं का विश्लेषण किया. इन अध्ययनों के अलावा उन्होंने अधिक भाषायी-केंद्रित लेखन किया जहां उन्होंने मानव मस्तिष्क की मौलिक संरचनाओं की खोज के लिए भाषा और पैरोल के बीच सौसर के पार्थक्य का व्यवहार किया, उनका तर्क है कि समाज के "गंभीर व्याकरण" की रचना करने वाली संरचनाएं हमारे दिमाग में उत्पन्न होती हैं और हमारे अन्दर अनजाने में कार्य करती रहती हैं. लेवी स्ट्रास जानकारी सिद्धांत[तथ्य वांछित] और गणित[तथ्य वांछित] द्वारा प्रेरित थे.

एक अन्य अवधारणा प्राग स्कूल से उधार ली गयी, जिसमें रोमन जैकब्सन और अन्य लोगों ने कतिपय विशेषताओं की उपस्थिति या अनुपस्थिति के आधार पर (जैसे मौन बनाम व्यक्त) ध्वनियों का विश्लेषण किया. लेवी स्ट्रास ने इसे अपने मस्तिष्क की सार्वभौमिक संरचनाओं की अवधारणा में शामिल किया, जिसका उसने गर्म-ठंडा, पुरुष-महिला, संस्कृति-प्रकृति, पक्के-कच्चे या विवाह बनाम निषिद्ध औरतों के विपरीत युग्मक जोड़ों पर आधारित प्रवर्तन में उपयोग किया. एक तीसरा प्रभाव मार्सेल मौस से आया जिसने उपहार विनिमय प्रणाली पर लिखा है. उदाहरण के लिए, मौस के आधार पर लेवी स्ट्रास ने तर्क दिया कि सम्बन्ध प्रणालियां समूहों के बीच महिलाओं के आदान-प्रदान ('गठबंधन सिद्धांत' के रूप में ज्ञात एक स्थिति) पर आधारित है जैसा कि एडवर्ड इवांस प्रिचर्ड और मेयर फोर्टेस द्वारा वर्णित 'वंश' के सिद्धांत के विरोध में किया गया है.

1960 और 1970 के दशक में अपने इकोले पर्तिकुए हौतेस इतुदेस (Ecole Pratique des Hautes Etudes) चेयर में मार्सेल मौस को हटा कर लेवी स्ट्रास का लेखन बहुत लोकप्रिय हुआ और इसने खुद "संरचनावाद" शब्द को काफी विस्तार दिया. ब्रिटेन में रॉडने नीद्हम और एडमंड लीच जैसे लेखक संरचनावाद द्वारा अत्यधिक प्रभावित थे. फ्रांस में मौरिस गॉडलियर और एमैनुअल टेरी जैसे लेखकों ने मार्क्सवाद को संरचनात्मक नृविज्ञान के साथ जोड़ा. संयुक्त राज्य अमेरिका में मार्शल सलिन्स और जेम्स बून जैसे लेखक मानव समाज का अपना विश्लेषण उपलब्ध कराने के लिए संरचनावाद के सहारे आगे बढे. 1980 के दशक में कई कारणों की वजह की संरचनात्मक नृविज्ञान ने अपनी लोकप्रियता खो दी. डी अन्द्रेड (1995) की मान्यता है कि नृविज्ञान में संरचनावाद अंततः त्याग दिया गया क्योंकि इसमें मानव मस्तिषक की सार्वभौमिक संरचना के बारे में प्रमाणित न की जा सकने योग्य मान्यताओं को प्रचलित किया गया था. एरिक वुल्फ जैसे लेखकों ने तर्क दिया कि राजनीतिक अर्थव्यवस्था और उपनिवेशवाद को नृविज्ञान के मामले में और अधिक आगे रखा जाना चाहिए. और आम तौर पर, पियरे और्दिउ द्वारा संरचनावाद की आलोचनाएं इस विचार की ओर ले गयीं कि मानव संस्थाएं तथा व्यवहार किस प्रकार सांस्कृतिक और सामाजिक संरचनाओं को बदल रहे थे, एक ऐसा चलन जिसे शेरी आटनर ने 'अभ्यास सिद्धांत' कहा है.

हालांकि, कुछ नृविज्ञानी सिद्धान्तवादी जो लेवी स्ट्रास के संरचनावाद के संस्करण में उल्लेखनीय गलतियां खोज चुके थे, मानव संस्कृति के लिए एक बुनियादी संरचनात्मक आधार से पीछे नहीं हट सके. जीवात्जीवोत्पत्ति संबंधी संरचनावाद समूह ने तर्क दिया कि संस्कृति के लिए किसी तरह का संरचनात्मक आधार होना चाहिए क्योंकि हर इंसान के मस्तिष्क के ढांचे की प्रणाली एक ही तरह की होती है. उनहोंने एक प्रकार के न्यूरोएनथ्रोपोलॉजी को प्रस्तावित किया जो सांस्कृतिक एकरूपता का आधार बनता और सांस्कृतिक एंथ्रोपोलॉजी तथा न्यूरोसाइंस के बीच एकीकरण में विभिन्नता कायम करता-एक ऐसा कार्यक्रम जिसे विक्टर टर्नर जैसे सिद्धांतकार ने अपनाया था.

साहित्यिक सिद्धांत और साहित्यिक आलोचना में संरचनावाद[संपादित करें]

साहित्यिक सिद्धांत में संरचनावाद अंतर्निहित अपरिवर्तनीय संरचना की जांच द्वारा वाचन सामग्री के विश्लेषण करने की व्यवस्था है जो फर्डिनेन्ड डी सौसर की भाषाई संकेत प्रणाली पर आधारित है. संरचनावादियों का मानना है कि हर पाठ में संरचना होनी चाहिए, जो इसकी व्याख्या करता हैं कि अनुभवी पाठकों के लिए किसी पाठ को समझना किसी गैर अनुभवी पाठक के मुकाबले किस तरह से ज्यादा आसान है. इसलिए, वे कहते हैं कि जो कुछ भी लिखा है वह "साहित्य के व्याकरण"[6] के विशिष्ट नियमों द्वारा नियंत्रित प्रतीत होता है, जिसे लोग शैक्षिक संस्थान में सीखते हैं और इसे अनावृत किया जाना चाहिए. संरचनावादियों के स्पष्टीकरण की एक संभावित समस्या यह है कि वह बेहद संक्षिप्त हो सकता है जैसा कि विद्वान कैथरीन बेल्सी ने कहा है, "सभी मतभेदों को ढहा सकने वाला संरचनावादी खतरा".[7] ऐसे पठन का उदाहरण तब हो सकता है जब कोई छात्र वेस्ट साइड स्टोरी पढ़ने के बाद लिखता है कि लेखक ने "वास्तव" में कुछ नया नहीं लिखा है, क्योंकि उनके लेखन में शेक्सपियर की रोमियो जूलियट जैसी संरचना है. दोनों ही अवतरणों में एक लड़की और एक लड़के में प्यार दर्शाया गया है (उन दोनों के बीच में प्रतीकात्मक ऑपरेटर "सूत्र" होगा "लड़का + लड़की ") जबकि वे दोनों ऐसे समूहों से जुड़े हुए थे जो आपस में नफरत करते थे ("लड़के का समूह-लड़की का समूह" या "विपक्षी गुट ") और यह संघर्ष उनकी मौत के बाद ही खत्म हुआ. संरचनावादी पाठन में इस बात पर अधिक ध्यान दिया जाता है कि एकल पाठ किस प्रकार से कथा की संरचनाओं में अंतर्निहित तनाव को मिटाता है. अगर एक संरचनावादी पाठन कई पाठों पर केंद्रित होता है, तब उनमें ऐसी कोई सुसंगत प्रणाली अवश्य होनी चाहिए जिससे वे पाठ एक दूसरे से जुड़े रहे. संरचनावाद में ऐसी बहुमुखी प्रतिभा है कि एक ही कहानी को साहित्यिक आलोचना से अलग रूप दिया जा सकता है, जैसे कि दो मित्रवत परिवार ("लड़के का परिवार + लड़की का परिवार ") अपने बच्चों की शादी तय कर देते हैं, यह जानते हुए कि दोनों बच्चे ("लड़का - लड़की ") एक-दूसरे से नफरत करते हैं, और आखिर में इस शादी से दूर रहने के लिए वे दोनों आत्महत्या कर लेते हैं; इसका निष्कर्ष यह है कि दूसरी कहानी की संरचना पहली कहानी की संरचना के एकदम विपरीत है: दो प्यार करने वालों और दोनों जोड़ों की परिवार के रिश्ते में एकदम उल्टा संबंध दिखाया गया है.

संरचनावाद की साहित्यिक आलोचना का तर्क है कि "साहित्यिक पाठ का नवीन मूल्य" नई संरचना की बजाय चरित्र विकास और आवाज की बारीकियों में विद्यमान हो सकता है, जिससे संरचना व्यक्त की जाती है. साहित्यिक संरचनावाद की एक शाखा, जैसे कि फ्रायडवाद, मार्क्सवाद, और परिवर्तनकारी व्याकरण, एक गहरी और एक सतही संरचना, दोनों को मानते हैं. फ्रायडवाद और मार्क्सवाद में गहरी संरचना एक कहानी है, फ्रायड के मामले में लड़ाई अंतत: जिंदगी और मौत की सहज प्रवृति के बीच है और मार्क्स में संघर्ष वर्गों के बीच है जिसकी जड़ें आर्थिक आधार में "निहित" हैं.

साहित्यिक संरचनावाद कथाओं, मिथकों और हाल ही में लघुकथाओं में आधारभूत गहरे तत्वों की तलाश के लिए अक्सर व्लादिमीर प्राप, अलग्रिडस जूलियन ग्रेमस और क्लॉड लेवी स्ट्रास के दृष्टान्तों का अनुसरण करते हैं, जो विभिन्न प्रकार से उर-कहानी (ur-story) या उर-मिथकों (ur-myth) के अनेक संस्करणों के उत्पादन से संयुक्त हैं. फ्रायड और मार्क्स की तरह लेकिन परिवर्तनकारी व्याकरण के विपरीत ये बुनियादी तत्व अर्थ-वाहक हैं.

संरचनात्मक साहित्यिक सिद्धांत और नार्थरोप फ्राई की आद्यप्ररूपीय आलोचना के बीच काफी समानता है, जो मिथकों के मानवशास्त्रीय अध्ययन का भी ऋणी है. कुछ आलोचकों ने व्यक्तिगत कार्यों के सिद्धांत को भी लागू करने की कोशिश की लेकिन व्यक्तिगत काम में अनूठी संरचनाओं को खोजने का प्रयास संरचनात्मक कार्यक्रम के प्रतिकूल चलता है और इसका नई आलोचना से सादृश्य है.

साहित्यिक संरचनावाद की अन्य शाखा सांकेतिकता है और यह फर्डिनेन्ड डी सौसर के काम पर आधारित है.

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद संरचनावाद[संपादित करें]

1940 और 1950 के दशकों में जीन पॉल सारट्रे द्वारा प्रतिपादित अस्तित्ववाद प्रमुख भाव था. फ्रांस में प्रथम विश्वयुद्ध डब्ल्यूडब्ल्यूआईआई (WWII) के बाद और विशेष रूप से 1960 के दशक में संरचनावाद सुर्खियों में आया. फ्रांस में संरचनावाद की आरंभिक लोकप्रियता ने इसे दुनिया भर में प्रसारित कर दिया. सामाजिक विज्ञान इससे बहुत अधिक प्रभावित थे.

संरचनावाद ने मानव स्वतंत्रता और पसंद की अवधारणा को खारिज कर दिया और इस बात पर जोर दिया कि मानव व्यवहार विभिन्न संरचनाओं से निर्धारित होता है. इस बारे में सबसे महत्वपूर्ण प्रारंभिक काम क्लॉड लेवी स्ट्रास का 1949 का संस्करण एलिमेंटरी स्ट्रक्चर्स ऑफ किनशिप था. लेवी स्ट्रास प्रथम विश्वयुद्ध डब्ल्यूडब्ल्यूआईआई (WWII) के दौरान न्यूयार्क में जैकब्सन के संपर्क में आए थे और वे जैकब्सन के संरचनावाद और अमेरिकी मानव विज्ञान परंपरा दोनों से प्रभावित थे. एलीमेंट्री स्ट्रक्चर्स में उन्होंने संरचनात्मक दृष्टिकोण से संबंध (कीनशिप) प्रणाली की जांच की और बताया कि वास्तव में विभिन्न सामाजिक संगठन कितने स्पष्ट रूप से कुछ आधारभूत संबंध संरचनाओं का परिवर्तित रूप हैं. 1950 के दशक के उत्तरार्द्ध में उन्होंने स्ट्रक्चरल एंथ्रोपोलाजी (संरचनावादी मानवविज्ञान) प्रकाशित किया जो संरचनावाद के लिये उनके कार्यक्रम की रूपरेखा पर लिखे निबंधों का एक संग्रह है.

1960 के दशक के पूर्वार्द्ध तक संरचनावाद स्वयं एक आंदोलन के रूप में सामने आने लगा और कुछ लोगों का मानना था कि यह मानव जीवन के लिए एक ऐसा एकीकृत तरीका प्रस्तुत करता है जो सभी दृष्टिकोणों को गले लगाएगा. रोलाण्ड बर्थेस और जैक्स डेरिडा ने इस बात पर ध्यान केंद्रित किया कि संरचनावाद को किस तरह से साहित्य में प्रयोग किया जा सकता है.

फ्रायड और डी सौसर का सम्मिश्रण कर फ्रांसीसी (उत्तर) संरचनावादी जैक्स लेकन ने संरचनावाद को मनोविश्लेषण में प्रयुक्त किया और जीन पिगेट ने अलग तरीके से संरचनावाद को मनोविज्ञान के अध्ययन में प्रचलित किया. लेकिन जीन पिगेट जो खुद को बेहतर रचनावादी के रूप में परिभाषित करते हैं, संरचनावाद को "सिद्धांत नहीं एक विधि" मानते हैं क्योंकि उनके लिए "संरचना के बगैर कोई निर्माण नहीं होता, चाहे वह अमूर्त हो या आनुवंशिक"[8]

मिशेल फोकाल्ट की पुस्तक द ऑर्डर ऑफ़ थिंग्स ने यह पता लगाने के लिए विज्ञान के इतिहास की जांच की कि ज्ञानमिमांसा या ज्ञान की संरचनाओं ने किस तरह ऐसा मार्ग बनाया जिससे लोगों ने ज्ञान और जानकारी की कल्पना की (हालांकि फोकाल्ट ने बाद में स्पष्ट रूप से इसके साथ संबद्धता से इनकार कर दिया).

ठीक इसी तरह से, विज्ञान के अमेरिकी इतिहासकार थॉमस कून ने अपने मौलिक विज्ञान की संरचनाओं में भी द स्ट्रक्चर ऑफ साइंटिफिक रिवोल्यूशन्स - जैसा कि शीर्षक से ही जाहिर है, अपने कठोर संरचनावादी होने का ही अहसास कराया. हालांकि "ज्ञान" ("episteme") से कम सम्बन्ध रखने के बावजूद भी कून ने टिप्पणी की कि वैज्ञानिकों की गोष्ठी ने एक मानक 'प्रतिमान' से हटकर केवल परस्पर-विरोधी विसंगतियों की अवस्था में 'सामान्य विज्ञान' को किस प्रकार लागू और संचालित किया, जो उनके कार्य के महत्वपूर्ण ढांचे पर प्रश्न उठाता है.

मार्क्स और संरचनावाद का सम्मिश्रण कर एक अन्य फ्रांसीसी विचारक लुई एल्थुजर ने संरचनात्मक सामाजिक विश्लेषण के अपने निजी ब्रांड को परिचित कराया और संरचनात्मक मार्क्सवाद" को विस्तार दिया. तब से फ्रांस और विदेशों में अन्य लेखकों ने संरचनात्मक विश्लेषण को हर व्यवस्था में व्यावहारिक रूप से विस्तारित किया.

अपनी लोकप्रियता के परिणाम स्वरुप 'संरचनावाद' की परिभाषा भी स्थानांतरित हो गयी. एक आंदोलन के रूप में अपनी लोकप्रियता के विस्तृत होने और फीके पड़ जाने के बाद कुछ लेखकों ने केवल बाद में इस लेबल का त्याग करने के लिए अपने को 'संरचनावादी' माना.

फ्रेंच और अंग्रेजी में इस शब्द का अर्थ कुछ अलग है. उदाहरण के लिए अमेरिका में डेरिडा को उत्तर संरचनावाद का प्रतिमान माना गया है जबकि फ्रांस में उसे संरचनावादी चिह्नित किया गया है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] अंतत:, कुछ लेखकों के कई अलग-अलग शैलियों में लिखा. उदाहरण के लिए, बर्थेस ने कुछ किताबें लिखीं जो स्पष्ट रूप से संरचनावादी हैं और दूसरी स्पष्ट रूप से ऐसी नहीं हैं.

संरचनावाद पर प्रतिक्रियाएं[संपादित करें]

आज संरचनावाद, उत्तर-संरचनावाद और डिकन्शट्रक्शन (deconstruction) जैसे दृष्टिकोणों की तुलना में कम लोकप्रिय है. इसके कई कारण हैं. अक्सर, संरचनावाद की आलोचना अनैतिहासिक होने तथा व्यक्तिगत क्षमता से कार्य करने की अपेक्षा नियतात्मक संरचनात्मक बलों का पक्ष लेने के लिए की गई है. 1960 और 1970 के दशक की राजनीतिक हलचल (और विशेष रूप से मई 1968 के छात्र विक्षोभ) शिक्षा को प्रभावित करने लगी, शक्ति और राजनीतिक संघर्ष के मुद्दों को लोगों के ध्यान के केन्द्र में ले जाया गया. एथनोलाजिस्ट (Ethnologist) रॉबर्ट जुलिन ने एक अलग एथनोलाजिकल विधि को परिभाषित किया जिसने स्पष्ट रूप से संरचनावाद के खिलाफ अपने को दागदार बनाया.

1980 के दशक में डिकन्शट्रक्शन (deconstruction) और भाषा की बुनियादी अस्पष्टता पर इसका प्रभाव- अपनी पारदर्शी तार्किक संरचना की अपेक्षा- अधिक लोकप्रिय बन गया. सदी के अंत तक संरचनावाद को विचारों के एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक सम्प्रदाय के रूप में देखा जाने लगा लेकिन यह खुद संरचनावाद की जगह, इसके द्वारा आरम्भ किये जानेवाले आंदोलन थे, जिन्होंने ध्यान आकर्षित किया था.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • संरचनात्मक व्यावहारिकता
  • संरचनात्मक अर्थशास्त्र
  • फिल्म संरचनात्मक सिद्धांत

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. जॉन स्टुरॉक, स्ट्रक्चरालिज़म एण्ड सिंस , परिचय.
  2. अस्सिटर, ए 1984, 'ऑल्टहज़र और संरचनावाद,' द ब्रिटिश जर्नल ऑफ सोशियोलॉजी, खंड. 35, नं. 2, ब्लैकवेल प्रकाशन, पीपी.272-296.
  3. मेह्यु, ब्रूस. 1979. "संरचनावाद बनाम व्यक्तिवाद: भाग 1, अंधेरे में शैडोबौक्सिंग." सोशियल फोर्सेस , 59:3 (मार्च 1981).
  4. मिज्रूची, मार्क. 1994. "सामाजिक नेटवर्क विश्लेषण: हाल की उपलब्धियां और वर्तमान विवाद". एक्टा सोशियोलॉजिका (1994)37:329
  5. बैरी, पी 2002, 'संरचनावाद', आरम्भिक सिद्धांत: सांस्कृतिक सिद्धांत और साहित्यिक के लिए परिचय, मानचेस्टर यूनिवर्सिटी प्रेस, मैनचेस्टर, पीपी. 39-60.
  6. सेल्डेन, रमन / विडोसन, पीटर / ब्रूकर, पीटर: ए रीडर्स गाइड टू कंटेम्पोररी लिटेररी थ्योरी पांचवें संस्करण. हर्लोव: 2005. पेज 76
  7. बेल्सेय, कैथरीन. "साहित्य, इतिहास, राजनीति." साहित्य और इतिहास 9 (1983): 17-27.
  8. जीन पियगेट, ले स्ट्रक्चरालिज़म , एड. पीयुऍफ़ (PUF), 1968

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  • एलिज़ाबेथ रॉडीनेस्को, फिलोज़ौफी इन टरबुलेंट टाइम्स: कैंगुइल्हेम, सार्टट्रे, फौकॉल्ट, ऑल्टअशर, डेल्यूज़, डेर्रिडा , कोलंबिया यूनिवर्सिटी प्रेस, न्यूयॉर्क, 2008.

साँचा:Philosophy of language