श्री चक्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
श्री चक्र
श्री चक्र की ज्यामितीय संरचना

श्री चक्र एक यन्त्र है जिसका प्रयोग श्री विद्या में होता है। इसे 'श्री चक्र', 'नव चक्र' और 'महामेरु' भी कहते हैं। यह सभी यंत्रो में शिरोमणि है और इसे 'यंत्रराज' कहा जाता है। वस्तुतः यह एक एक जटिल ज्यामितीय आकृति है। इस यंत्र की अधिष्ठात्री देवी भगवती त्रिपुर सुंदरी हैं। श्री यंत्र की स्थापना और पूजा से लक्ष्मी की प्राप्ति होती है। नवरात्रि, धनतेरस के दिन श्रीयंत्र का पूजन करने से लक्ष्मी जी प्रसन्न होती हैं।

श्री यंत्र के केन्द्र में एक बिंदु है। इस बिंदु के चारों ओर 9 अंतर्ग्रथित त्रिभुज हैं जो नवशक्ति के प्रतीक हैं। इन नौ त्रिभुजों के अन्तःग्रथित होने से कुल ४३ लघु त्रिभुज बनते हैं।

श्री चक्र से युक्त कुछ मन्दिर[संपादित करें]

  • कामाक्षी मंदिर, कांचीपुरम
  • कलिकम्बल मंदिर, चेन्नै
  • कामाक्षी मंदिर, मंगदु, चेन्नै
  • श्री काली मंदिर, जयपुर
  • निमिशम्बा मंदिर, श्रीरंगपत्तन, मैसूर

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]