शिरडी के सांई बाबा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाबासाँचा:Infobox Philosopher साईंबाबा (जन्म: अज्ञात, मृत्यु: १५ अक्टूबर १९१८) जिन्हें शिरडी साईंबाबा भी कहा जाता है एक भारतीय गुरु, योगी और फकीर थे जिन्हें उनके भक्तों द्वारा संत कहा जाता है। उनके सत्य नाम, जन्म, पता और माता पिता के सन्दर्भ में कोई सूचना उपलब्द्ध नहीं है। जब उन्हें उनके पूर्व जीवन के सन्दर्भ में पुछा जाता था तो टाल-मटोल उत्तर दिया करते थे। साईं शब्द उन्हें भारत के पश्चिमी भाग में स्थित प्रांत महाराष्ट्र के शिरडी नामक कस्बे में पहुंचने के बाद मिला। बाबा के बारे में विस्तृत जानकारी रघुनाथ दाभोलकर द्वारा रचित बाबा की जीवनी श्री साईं सत्चारित्र और बी.वि. स्वामी द्वारा लिखी गई पुस्तक "sai baba's charters and sayings" & "the wonderous saint sai baba" में मिलती हैं।

पूर्व जीवन[संपादित करें]

भक्तों और ऐतिहासकार इस बात से सहमत हैं कि जन्म स्थान और तिथि के सन्दर्भ में कोई भी विश्वनीय स्रोत उपलब्द्ध नहीं है। यह ज्ञात है कि उन्होंने काफ़ी समय मुस्लिम फकीरों संग व्यतित किया लेकिन माना जाता है कि उन्होंने किसी के साथ कोई भी व्यवहार धर्म के आधार पर नहीं किया। उनके एक शिष्य दास गनु द्वारा पथरी गांव पर तत्कालीन काल पर शोध किया जिसके चार पृष्ठों में साईं के बाल्यकाल का पुनःनिर्मित किया है जिसे श्री साईं गुरुचरित्र भी कहा जाता है। दास गनु के अनुसार उनका बाल्यकाल पथरी ग्राम में एक फकीर और उनकी पत्नी के साथ गुजरा।[1] लगभग सोलह वर्ष की आयु में वो अहमदनगर, महाराष्ट्र के शिरडी ग्राम में पहुंचे और मृत्यु पर्यंत वहीं रहे।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Rigopoulos, The Life and Teachings of Sai Baba of Shirdi
  2. शिरडी साईं बाबा टेम्पल
कृपया विषयवस्तु सन्दर्भ सहित डालें। बिना सन्दर्भ के विवादित सामग्री डालने पर वह हटा दी जायेगी और बार-बार ऐसा करने वाले सदस्य को प्रतिबंधित भी किया जा सकता है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]