वॉयस चैट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
वॉयस चैट हेतु प्रयोग किया जाने वाला एक हैडसेट

वॉयस चैट, अंतर्जाल के माध्यम से कंप्यूटर पर बात करने का एक साधन है। इसे वॉयस चैट प्रोटोकॉल भी कहते हैं और ये कंप्यूटर द्वारा संचार का एक तुल्यकालिक कॉन्फ्रेन्सिंग साधन है। इस सुविधा द्वारा इंटरनेट कनेक्शन का लाभ लेकर उपयोक्ता संसार भर में कहीं भी निःशुल्क बात कर सकते हैं। इसे ऑनलाइन या मोबाइल फोन से भी उपयोग में लाया जा सकता है। इसके लिये अनेक वॉयस चैट प्रोग्रामों की सहायता ली जाती है, जैसे स्काइप एक प्रसिद्ध वॉयस चैट प्रोग्राम है।[1] इसके अलावा विभिन्न अन्य चर्चित वॉयस चैट प्रोग्राम उपलब्ध हैं, जो उपयोग में लाए जाते हैं, जैसे याहू मैसेंजर, एओएल इंस्टैंट मैसेंजर, इनस्पीक कम्युनिकेटर, विंडोज़ लाइव मैसेंजर, आदि। इन्हें कंप्यूटर पर इंटरनेट से निःशुल्क डाउनलोड किया जा सकता है। कंप्यूटर पर वॉयस चैट करते हुए हेडसेट लगाना आवश्यक होता है, जिसमें एक भी माइक्रोफोन लगा होता है। हेडसेट कम्प्यूटर से सीधे या यूएसबी पोर्ट पर जुड़ जाता है। कुछ हेडसेट माइक्रोफोन सहित आते हैं और कुछ में इसे अलग से लगाना होता है। इस तरह के हेडसेट ऑनलाइन वीडियो गेम्स खेलते समय भी प्रयोग होते हैं। इंटरनेट पर कई ऑनलाइन गेम्स ऐसे होते हैं, जिनमें खेलने वालों को आपस में ऑनलाइन वार्ता करना होता है, इसके लिये वॉयस चैट अच्छा माध्यम है। इसके अलावा भी कॉल सेंटरों में कार्यरत लोगों के लिए भी वॉयस चैट का प्रयोग अत्यावश्यक होता है। कई बार इनके क्लाइंट अंतर्राष्ट्रीय स्तर के होते हैं और सुदूर के क्षेत्रों में होते हैं, जिनसे समय समय पर चर्चाएं करनी होती हैं। वे अपने काम के लिए वॉयस चैट पर ही निर्भर रहते हैं।

व्यावसायिक कार्यों के साथ ही वॉयस चैट उन कंपनियों के लिए भी उपयोगी होती है, जिनके कार्यालय विश्व के अलग-अलग देशों में हैं। इससे उनमें काम करने वाले लोग यात्रा किए बिना ही साक्षात्कार और ऑनलाइन बैठकें व सम्मेलन (कॉन्फ्रेंसिंग) कर सकते हैं।[1] इससे समय और धन की बचत होती है। अंतर्जाल पर जुड़ने वाले कैमरे, यानि वेबकैम के माध्यम से भी वॉयस चैट की जा सकती है। इसमें प्रायः अलग से हेडसेट के उपयोग की आवश्यकता नहीं रहती है, क्योंकि वेबकैम में माइक्रोफोन अंदर ही लगा होता है। इससे केवल बात ही नहीं कर सकते वरन कैमरे के द्वारा चित्रों व वीडियो का भी आदानप्रदान संभव होता है। दोनों ही उपयोक्ता एक दूसरे से इस प्रकार बात करते हैं, जैसे एक खिड़की से एक-दूसरे को देख रहे हों। यह तकनीक उन लोगों के लिए बहुत उपयोगी है, जो अपने परिवार और दोस्तों से दूर विदेशों में रहते हैं। इस श्रेणी में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग भी एक उन्नत चरण है। इसके प्रयोग से कई कंपनियां अपने अधिकारियों के सम्मेलन ऑनलाइन ही आयोजित करवा लेते हैं।

वॉयस चैट की सुविधा इंटरनेट के अलावा मोबाइल और फिक्स्ड लाइन (लैंडलाइन) फोन के माध्यम से करने की सुविधाएं भी अब फोन सेवा प्रदाता कंपनियों द्वारा दी जा रही हैं। एयरटेल के ब्रॉडबैंड और टेलीफोन सेवाओं के साथ वॉयस चैट भी आरंभ की गई है। फिक्स्ड लाइन पर वॉयस चैट की सुविधा से भी उपभोक्ता बिना अपनी पहचान बताए अन्य एयरटेल मोबाइल और फिक्स्ड लाइन के ग्राहकों से बात कर सकते हैं।[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. वॉयस चैट|हिन्दुस्तान लाइव।२६ मई, २०१०
  2. एयरटेल की ‘वॉयस’ चैट सर्विस।जोश-१८।२९ मई, २००८

बाहरी सूत्र[संपादित करें]