वैरामुत्तु

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साँचा:Fansite

Vairamuthu
जन्म 13 जुलाई 1953
Vadugapatti, Theni District, Tamil Nadu, India
व्यवसाय Poet
Lyricist
राष्ट्रीयता Indian
जीवनसाथी Ponmani Vairamuthu
संतान Madhan Karki Vairamuthu
Kabilan Vairamuthu

वैरामुत्तु (तमिल: வைரமுத்து) (जन्म: 13 1953 जुलाई) एक पुरस्कार विजेता तमिल कवि और गीतकार हैं.

निड़लगल (1980) फिल्म से शुरूआत करते हुए तथा 'पोनमलई पोड़ुडु' के लिए बोल लिखते हुए, यथा जनवरी 2009 अब उनके नाम 5800 गीतों का श्रेय है. [1]. संगीतकार इलियाराजा और फिर बाद में एआर रहमान के साथ उनकी सहभागिता ने उन्हें आलोचनात्मक प्रशंसा, पुरस्कार और बॉक्स ऑफिस हिट दिए हैं.

सर्वश्रेष्ठ गीत की श्रेणी में उन्हें पांच बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है. वे कलाईमामानी पुरस्कार के प्राप्तकर्ता हैं और तमिल साहित्य में उनके योगदान के लिए उन्हें तमिलनाडु राज्य सरकार पुरस्कार से तीन बार नवाज़ा गया.

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा[संपादित करें]

वैरामुत्तु का जन्म मेट्टुर के एक मध्यम वर्गीय परिवार में रामास्वामीथेवर और अंगम्माल के यहां हुआ था. जब वे चार वर्ष के थे, तो उनके गांव ने वैगई बांध के लिए स्वीकृति दी और उनका परिवार वादूगपत्ति गांव चला गया, यह गांव पेरियाकुलम के पास थेनी में एक कृषक समुदाय था.

माना जाता है कि इस गांव के वातावरण ने उन्हें कविता लिखने के लिए प्रेरित किया.उनके अनुसार, तमिल और साठ के दशक के बुद्धिवादी आंदोलनों ने उनके काव्य उत्साह को प्रेरित किया. पेरियार और अन्ना के भाषण, करुणानिधि के लेखन और प्रख्यात कवियों जैसे भारती, भारथिदासन, कन्नडासन के कार्यों और गांव के जीवन ने इस युवा कवि की कल्पना को आकार दिया. चौदह वर्ष की उम्र में, वे तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल से कविता के वेंबा संकलन को लिखने के लिए प्रेरित हुए, जिसमें उन्होंने तमिल कविता के यप्पू व्याकरण नियमों का पालन किया.

उन्होंने चेन्नई में पछाइयप्पा कॉलेज में दाखिला लिया जहां उन्हें सबसे बेहतरीन वक्ता और कवि माना गया. बीए के अपने द्वितीय वर्ष में और उन्नीस साल की उम्र में, वैरामुत्तु ने अपना पहला संकलन वैगाराई मेगंगल प्रकाशित किया. इसे अध्ययन के लिए विमेन्स क्रिस्चियन कॉलेज के पाठ्यक्रम में शामिल किया गया था. इस प्रकार, उन्हें एक ऐसे छात्र होने का गौरव हासिल हुआ जिसकी कृति को उसके छात्र रहते ही पाठ्यक्रम में शामिल कर लिया गया.

उनकी दूसरी कृति, थिरुथ्थी येड़ुधिया थीर्प्पुगल थी, जो पुढू कविधई (मुक्त छंद) शैली में 1979 में प्रकाशित हुई. फिल्मों में उन्होंने अपनी शुरुआत अगले वर्ष की जब उन्होंने भारतीराजा के निड़लगल के लिए गीतों की रचना की.

साहित्यिक प्रभाव[संपादित करें]

उन पर पर्सी बायशी शेली, जॉन कीट्स, खलील जिब्रान, फिरदौसी और निज़ामी का गहरा प्रभाव है.


जहां अच्छा लगता है वहां वैरामुत्तु मुक्त छंद (तमिल में पुथु कविथाई) का उपयोग करते हैं. उनके लिए विषयवस्तु, रूप से अधिक अधिक महत्वपूर्ण है.

5,600 गीतों के श्रेय के साथ, उन्होंने कविताओं के नौ संग्रह प्रकाशित किए हैं. उनकी लेखन विधा के अंतर्गत उपन्यास, निबंध, जीवनी, और यात्रा वृत्तांत भी आते हैं. वास्तव में, पिछले 30 वर्षों में प्रकाशित 32 में से 20 किताबें गद्य में हैं.

उल्लेखनीय कार्य[संपादित करें]

साहित्य के मोर्चे पर, उनके उल्लेखनीय कार्यों में शामिल हैं इन्नोरू देसिया गीतम, इन्धा पूक्कल विर्प्पनाई-क्कला, सिगारंगालाई नोक्की, विलोदु वा निलावे और कई अन्य जो कुल 30 हैं.

उन्होंने कुछ विदेशी कवियों और उनकी कृतियों को तमिल में अपनी कृति एला नाधियिलुम एन ओडुम में पेश किया है. उनकी कुछ कृतियों को मलयालम, कन्नड़ और तेलुगु में अनुवाद किया गया है. यह परम्परा जारी है क्योंकि उनके सैकड़ों फ़िल्मी गीतों को हिन्दी में अनुवाद किया जा रहा है.

थान्नेर थेसम

यह अरिवियल कावियम 'समुद्री यात्रा' के बारे में है. कलाइवनन नायक है; तमिलरोजा नायिका है.'समुद्र, पानी, और ब्रह्मांड के बारे में बहुत से वैज्ञानिक तथ्यों को इस आधुनिक कविता (पुढुक कविधई) में पिरोया गया है. यह कविता समुद्र में मछुआरों के जीवन के साहसिक कारनामों को दर्शाती है. "read". http://www.tamil.net/projectmadurai/pub/pm0011/pm0011.pdf. 

कलिकट्टू इढिहसम

कलिकट्टू इढिहसम (शाब्दिक अनुवाद में, कल्लिक्कडु का महाकाव्य) उनके उपन्यासों में से एक है. यह दक्षिणी तमिलनाडु में थेनी बेल्ट की एक नदी के किनारे के एक सीमांत किसान की मार्मिक कहानी कहता है. कल्लिकट्टू इथिकासम - विभिन्न भावनाओं का एक संगम जैसे दुख, पीड़ा और अवसाद - ने चार से अधिक दशकों तक उसके मन को कचोटा. अंत में, जब इसका विस्फोट हुआ, तो 'कलिकडुगल' के वासियों ने उस पुस्तक में अपनी जीवनी पाई. लेकिन एक चांदी के अस्तर के साथ. इस उपन्यास के लिए उन्हें 2003 में सर्वश्रेष्ठ साहित्यिक कार्य का साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त हुआ.

करुवाची कावियम

इसमें हमारे देश के एक दूरदराज के ग्रामीण जीवन के पहलुओं को प्रभावशाली रूप में दर्शाया गया है, और इसे एक लोकप्रिय क्षेत्रीय धारावाहिक, आनंद विकटन के तौर पर हर सप्ताह दिखाया गया, और इसे काफी प्रशंसा मिली. इसकी भारी लोकप्रियता के कारण, इस श्रृंखला को एक उपन्यास के रूप में जारी किया गया.

सिर्पिये उन्नई सेधूकुकिरेन इस शक्तिशाली पुस्तक में जीवन और व्यक्तित्व विकास, आत्म नियंत्रण, जीवन के उद्देश्य, और उस प्रत्येक हिस्से के बारे में चर्चा की गई है जिससे एक पूर्ण व्यक्तित्व का सृजन होता है. इसे 25 रूपए की एक भगवत गीता कहा जा सकता है

इडुवरई नान

यह उनकी 28 साल की उम्र में लिखी जीवनी है

पुरस्कार और सम्मान[संपादित करें]

भारतीराजा द्वारा निर्देशित मुधल मरियथाई (1985) में उन्हें अपनी रचनाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ गीतकार का राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त हुआ. उन्हें यह पुरस्कार दूसरी बार मणिरत्नम द्वारा निर्देशित रोजा के लिए 1993 में मिला. उन्हें अपने गीतों के लिए यह पुरस्कार तीसरी बार प्राप्त करने का सम्मान हासिल हुआ, यह फिल्म भारतीराजा द्वारा निर्देशित करुथाम्मा थी, और इसके बाद मणि रत्नम द्वारा निर्देशित संगमम और कन्नातिल मुत्तमितल के लिए भी मिला. वे और जावेद अख्तर ही ऐसे एकमात्र गीतकार हैं जिन्हें सर्वश्रेष्ठ गीतकार का पांच राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला.

तमिलनाडु सरकार के क्षेत्रीय पुरस्कारों में, उन्हें 1981 में तत्कालीन मुख्यमंत्री, एम.जी. रामचंद्रन से प्राप्त हुआ, इसके बाद 1989 में फिल्मों के सर्वश्रेष्ठ वास्तुकार का एक पुरस्कार, और 1990 में प्रतिष्ठित कलाइममानी पुरस्कार. तमिल विकास सोसायटी मद्रास ने उन्हें 1986 में कवियारासू की उपाधि से नवाज़ा.उनकी कविराजन कविधई जो भारती के जीवन का पुधू कविधई में वर्णन करती है, एक सराहनीय प्रयास था. इसके लिए उन्हें भारती साहित्य पुरस्कार प्रदान किया गया.

2003 में, वैरामुत्तु को पद्म श्री से सम्मानित किया गया.

वे इंडो-रशियन मैत्री सोसायटी के तमिलनाडु अध्यक्ष है. रूसी सरकार के निमंत्रण पर, वैरामुत्तु ने 1987 में एक भारतीय सांस्कृतिक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए रूस का दौरा किया. विभिन्न तमिल समूहों के निमंत्रण की प्रतिक्रिया स्वरूप, उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, कनाडा, हांगकांग, चीन, सिंगापुर, मलेशिया, थाइलैंड और श्रीलंका का दौरा किया.

उनके लेखन में मानवतावाद का अन्तर्निहित तत्त्व होता है जो क्षेत्रवाद और जातिवाद के अवरोधों से परे जाता है. उन्होंने बैंकॉक, कनाडा और हांगकांग में तमिल स्कूल खोले और वहां रहने वाले तमिल बच्चों को तमिल सीखने के लिए प्रेरित किया.

2009 में उनका अपना एलबम तिरुपुर जिले के एक गांव में जारी किया गया था. इस एल्बम में पूरी तरह से मानवीय गतिविधियों और मृत्यु का उल्लेख किया है.

आंशिक फिल्मोग्राफी[संपादित करें]

  • एन्धिरन
  • रावनन
  • असल
  • मोढी विलायाडू (2009)
  • सिवप्पू मड़ई (2009)
  • आनंद तांडवम (2009)
  • आयन (2009)
  • दसावथारम (2008)
  • शिवाजी: द बॉस (2007)
  • मोड़ी (2007)
  • गुरु
  • वरलारू (2006)
  • अन्नियन (2006)
  • उल्लम केत्कुमाए (2005)
  • चेल्लमाए (2004)
  • अट्टगासम (2004)
  • आयुथा एड़ुथु (2004)
  • वसूल राजा_एमबीबीएस (2004)
  • अनबे सिवम (2003)
  • इयार्कई (2003)
  • कन्नातिल मुत्तममित्ताल (2002)
  • विलेन (2002)
  • जेमिनी (2002)
  • पोवलम उन वासम (2001)
  • मजुनु (2001)
  • शाहजहां (2001)
  • सिटिज़न (2001)
  • कुशी (2000)
  • रिदम (2000)
  • आलावंधन (2000)
  • मुगावारी (2000)
  • अलाईपयुथे (2000)
  • कंडुकोंडैंन कंडुकोंडैंन (2000)
  • पार्थेन रसिथेन (2000)
  • थुल्लथा मनमुम थुल्लम (1999)
  • वाली (1999)
  • अमरकालम (1999)
  • मुधल्वन (1999)
  • पड़यप्पा (1999)
  • संगमम (1999)
  • जोड़ी (1999)
  • निलावे वा (1998)
  • कादल मन्नन (1998)
  • जीन्स (1998)
  • इरुवर (1997)
  • इंडियन (1996)
  • मुथु (1995)
  • इंदिरा (1995)
  • बाशा (1995)
  • करुथम्मा (1994)
  • काधलन (1994)
  • पवित्रा (1994)
  • डुएट (1994)
  • पुड़िया मुगम (1993)
  • जेंटलमन (1993)
  • किलाकू चीमायिले (1993)
  • कोडी परकुथू (1989)
  • वेधम पुड़िथु (1987)
  • पुन्नगाई मन्नान (1986)
  • मुधलमरियथई (1985)

पुरस्कार विजेता गीत[संपादित करें]

वैरामुत्तु को अपने कैरिअर में अब तक 5 बार राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त हुआ है.

उन्हें यह पुरस्कार मुथल मरियथई, रोज़ा, करुथम्मा, संगमम और कन्नातिल मुत्तमित्ताल के लिए मिला है.

5 में से 4 फिल्मों के संगीतकार ए.आर.रहमान थे.

संदर्भ[संपादित करें]


बाह्य लिंक[संपादित करें]