वेब २.०

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
एक टैग क्लाउड (अपने आप में एक विशिष्ट Web 2.0 घटना) द्वारा प्रदर्शित Web 2.0 विषय

"Web 2.0" शब्द सामान्यतः ऐसे वेब प्रोग्रामों/एप्लीकेशन्स के लिए प्रयुक्त होता है जो पारस्पारिक क्रियात्मक जानकारी बांटने, सूचनाओं के आदान प्रदान करने, उपयोगकर्ता को ध्यान में रख कर डिज़ाइन बनाने[1] और वर्ल्ड वाइड वेब से जोड़ने की सुविधा प्रदान करते हैं। Web 2.0 के उदाहरणों में वेब आधारित कम्यूनिटी/समुदाय, होस्ट सर्विस, वेब प्रोग्राम, सोशल नेटवर्किंग साइट, वीडियो शेयरिंग साइट, wiki, ब्लॉग, तथा मैशप (दो या अधिक स्त्रोतों से जानकारी एकत्रित करके बनाया गया वेब पेज) व फोक्सोनोमी (टैगिंग) शामिल हैं। एक Web 2.0 साइट अपने उपयोगकर्ताओं को अन्य उपयोगकर्ताओं के साथ वेबसाइट की सामग्री देखने या बदलने की अनुमति देती है जबकि नॉन-इंटरएक्टिव वेब साइटों के द्वारा उपयोगकर्ता किसी जानकारी को केवल उतना ही देख सकते हैं जितनी जानकारी उन्हें देखने के लिए उपलब्ध कराई जाती है।


2004 में ओ रेली मीडिया Web 2.0 सम्मेलन होने के कारण यह शब्द टिम ओ रेली से जुड़ा हुआ है।[2][3] हालांकि शब्द से वर्ल्ड वाइड वेब के एक नए संस्करण का पता चलता है, यह किसी तकनीकी विशेषताओं को अपडेट करने का उल्लेख नहीं करता, अपितु एक एंड यूज़र/उपयोगकर्ता और सॉफ्टवेयर डेवलपर द्वारा वेब को प्रयोग करने के तरीकों में आये बदलावों को परिलक्षित करता है। क्या Web 2.0 पहली वेब प्रौद्योगिकियों से गुणात्मक रूप से अलग है - यह चुनौती वर्ल्ड वाइड वेब के आविष्कारक टिम बर्नर्स ली द्वारा दी गयी है जो कि इस शब्द को[4]"शब्दजाल का एक हिस्सा" मानते हैं - क्योंकि उनके अनुसार वेब पहले से ही इन सब विशेषताओं को प्रदर्शित करता है।


इतिहास : वेब 1.0 से 2.0 तक[संपादित करें]

शब्द "Web 2.0" 1999 में बनाया गया था। डार्सी दिनुच्ची अपने लेख "खंडित भविष्य" में लिखती हैं:[5]

The Web we know now, which loads into a browser window in essentially static screenfulls, is only an embryo of the Web to come. The first glimmerings of Web 2.0 are beginning to appear, and we are just starting to see how that embryo might develop. The Web will be understood not as screenfulls of text and graphics but as a transport mechanism, the either through which interactivity happens. It will [...] appear on your computer screen, [...] on your TV set [...] your car dashboard [...] your cell phone [...] hand-held game machines [...] maybe even your microwave oven.


उनके द्वारा यह शब्द मुख्यतः वेब डिज़ाइन तथा सृजनात्मक कार्यों के लिए प्रयुक्त होता है। उनका तर्क है कि दुनिया भर में फैले पोर्टेबल वेब के लिए तैयार उपकरणों की वजह से वेब का विखंडन हो रहा है। उनका लेख मुख्यतः डिज़ाइनरों को लक्ष्य बनाते हुए उन्हें हार्डवेयर की बढ़ती विविधता के लिए कोड बनाने की याद दिलाता है। इस प्रकार उनके द्वारा प्रयुक्त यह शब्द संकेत तो करता है - लेकिन वर्तमान में प्रयुक्त होने वाले शब्द से सीधे तौर पर सम्बंधित नहीं है।


यह शब्द 2003 तक प्रचलन में नहीं था।[6][7][8] इन लेखकों ने इस शब्द से जुड़ी हुयी अवधारणाओं पर ध्यान केन्द्रित किया, जैसा कि स्कॉट डाइटजन कहते हैं, "वेब एक विश्वव्यापी, मानकों पर आधारित अखंड मंच है".[9]


2004 में, शब्द की लोकप्रियता में वृद्धि हुई, जब ओ रेली मीडिया और मीडिया लाइव ने पहले Web 2.0 सम्मेलन की मेजबानी की. अपने उदघाटन भाषण में, जॉन बैटल और टिम ओ रेली ने अपनी "वेब एक मंच" की परिभाषा पर प्रकाश डाला कि किस प्रकार सॉफ्टवेयर प्रोग्राम/एप्लीकेशन डेस्कटॉप पर बनने की बजाए वेब पर बन रहे हैं। उन्होनें तर्क दिया कि इस प्रवास/बदलाव का एक अनूठा पहलू यह है कि "ग्राहक आप के लिए आपके व्यवसाय का निर्माण कर रहे हैं".[10] उन्होंने दलील दी कि उपयोगकर्ता द्वारा निर्मित सामग्री (विचार, लेख, वीडियो, या चित्र) का प्रयोग उपयोगिता बढ़ाने के लिए किया जा सकता है।


ओ रेली तथा अन्यों ने Web 2.0 की तुलना तथाकथित "वेब 1.0" से की. उन्होंने वेब 1.0 को नेटस्केप और ऑनलाइन एनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका के व्यापार मॉडल से जोड़ा. उदाहरण के लिए,

नेटस्केप ने "वेब एक मंच" को पुराने सॉफ्टवेयर के रूप में निरुपित किया है : उनका प्रमुख उत्पाद वेब ब्राउज़र, एक डेस्कटॉप प्रोग्राम था और उनकी रणनीति ब्राउज़र के बाज़ार में अपने प्रभुत्व का प्रयोग करके ऊंची कीमतों वाले सर्वर उत्पादों के बाज़ार पर काबिज़ होने की थी। एक ब्राउज़र में सामग्री और प्रोग्राम के प्रदर्शन के मानकों पर नियंत्रण ने नेटस्केप को बाज़ार में वो स्थान दिया जिसे Microsoft ने PC (पर्सनल कम्प्यूटर) बाज़ार में भुनाया. जिस प्रकार बिना घोड़े के ऑटोमोबाइल का ढांचा बना, उसी विस्तार के रूप में नेटस्केप ने डेस्कटॉप की जगह वेबटॉप के प्रयोग को बढ़ावा दिया और नेटस्केप सर्वर खरीदने वाले सूचना प्रदाताओं, जो वेबटॉप में सूचना अपडेट करेंगे तथा एपलेट का प्रयोग करेंगे, के द्वारा इसे लोकप्रिय बनाने की योजना बनाई.[11]


संक्षेप में, नेटस्केप ने सॉफ्टवेयर बनाने, विभिन्न अवसरों पर इसे अपडेट करने तथा इसे अंतिम उपयोगकर्ता तक पहुँचाने पर ध्यान केंद्रित किया। इसके विपरीत ओ रेली गूगल का उदाहरण देते हैं, एक ऐसी कंपनी जो ब्राउज़र जैसे सॉफ्टवेयर उत्पादन पर ध्यान केंद्रित नहीं करती अपितु इसकी बजाय एक डाटा के आधार पर सेवा प्रदान करने पर जोर देती है। यहाँ डाटा का अभिप्राय बेशक उन लिंक से है जो वेब पेज लेखक साइटों में बनाते हैं। गूगल अपनी "पेज रैंक एल्गोरिथ्म" के माध्यम से उपयोगकर्ता द्वारा निर्मित इस सामग्री का प्रयोग वेब पर खोज की सुविधा प्रदान करने के लिए करता है। सॉफ्टवेयर, जिसे एक निश्चित समय पर रिलीज़/ज़ारी किया जाता है, के विपरीत गूगल जैसी सेवा एक प्रक्रिया के माध्यम से लगातार अपडेट होती रहती है जिसे "the perpetual beta" कहते हैं।


ऐसा ही एक अंतर ऑनलाइन एनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका और विकिपीडिया के बीच देखा जा सकता है: जबकि ब्रिटैनिका अपने लेखों के लिए विशेषज्ञों पर निर्भर है और समय समय पर उन्हें प्रकाशन के लिए जारी करता है, विकिपीडिया सामग्री को लगातार तथा ज़ल्दी बनाने के लिए अज्ञात उपयोगकर्ताओं पर अटूट विश्वास रखता है। विकिपीडिया विशेषज्ञता पर आधारित नहीं है बल्कि मुक्त स्त्रोतों से सॉफ्टवेयर को इस उक्ति को चरितार्थ करते हुए ग्रहण करता है - "ज़्यादा लोगों द्वारा देखने पर एक समस्या आसानी से सुलझ सकती है" और यह अपने लेखों का निरंतर निर्माण तथा उन्हें अपडेट करता रहता है।


2004 के बाद से ओ रेली Web 2.0 सम्मेलन प्रत्येक वर्ष आयोजित किया जाता है, जो उद्यमियों, बड़ी कंपनियों और प्रौद्योगिकी पत्रकारों को आकर्षित कर रहा है। आम जनता की भाषा में, शब्द Web 2.0 मुख्यतः ब्लॉगर्स और प्रौद्योगिकी पत्रकारों द्वारा सफल बनाया गया, जैसा कि [[2006 टाइम पत्रिका में पर्सन ऑफ़ द इयर (वर्ष के सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति) के संदर्भ में व्यक्त किया गया है -"आप".]][12] अथार्त, टाइम ने आम उपयोगकर्ताओं को चुना है जो सामाजिक नेटवर्क, ब्लॉग्स, wikis पर सामग्री के निर्माण में भाग ले रहे थे। आवरण कथा लेखक लेव ग्रॉसमैन बताते हैं:

यह एक समुदाय के बारे में कहानी है जो आपसी सहयोग के उस स्तर को दर्शाती है जिसे पहले कभी देखा नहीं गया। यह ज्ञान के अथाह संग्रह विकिपीडिया और लाखों लोगो द्वारा संचालित नेटवर्क यूट्यूब और ऑनलाइन मेट्रोपोलिस माइस्पेस के बारे में है। यह कुछ लोगो से शक्ति प्राप्त कर के बिना किसी स्वार्थ के एक दूसरे की मदद करने के बारे में है और ना केवल यह दुनिया के बदलने के बारे में है अपितु दुनिया के बदलने के ढंग को बदलने के बारे में है।


उस समय से, Web 2.0 को शब्दकोश में एक स्थान मिल गया है, वैश्विक भाषा मॉनिटर द्वारा इसे हाल ही में दस लाखवाँ अंग्रेज़ी शब्द घोषित किया गया है।[13]


विशेषताएं[संपादित करें]

चित्र:Flickr-screenshot.jpg
Flickr, एक Web 2.0 वेब साइट है जो अपने उपयोगकर्ताओं को तस्वीरें अपलोड और शेयर करने की अनुमति देती है

Web 2.0 वेबसाइटें उपयोगकर्ताओं को जानकारी प्राप्त करने के अलावा और बहुत कुछ करने की अनुमति देती हैं। वे "वेब 1.0" की पारस्पारिक क्रियात्मक सुविधाओं द्वारा निर्माण के लिए "नेटवर्क एक मंच" कम्प्यूटिंग उपलब्ध कराने के अलावा, उपयोगकर्ताओं को पूर्ण रूप से एक ब्राउज़र के माध्यम से सॉफ्टवेयर चलाने की अनुमति दे सकती हैं।[3] उपयोगकर्ता एक Web 2.0 साइट पर डाटा के मालिक हो सकते हैं तथा डाटा पर नियंत्रण कर सकते हैं।[3][14] इन साइटों में "भागीदारी द्वारा निर्मित डिज़ाइन" व्यवस्था हो सकती है जो उपयोगकर्ता को स्वयं द्वारा प्रयुक्त किये जा रहे प्रोग्राम की उपयोगिता बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करती है।[2][3]


भागीदारी के लिए मंच के रूप में वेब की अवधारणा में ऐसी कई विशेषताएं हैं। बर्ट डेक्रेम, Flock के संस्थापक और पूर्व CEO, Web 2.0 को "वेब भागीदारी" कहते हैं[15] और वेब 1.0 को - वेब जानकारी का स्त्रोत, के रूप में मानते हैं।

समूह के उन सदस्यों को, जो लाभ बांटने के लिए कोई योगदान नहीं देते, निकालने की सम्भावना का कोई प्रावधान नहीं होने से इस सम्भावना को बल मिलता है कि तर्कसंगत लोग भी अपने योगदान को रोकने को प्राथमिकता देंगे और दूसरों के योगदान का मुफ़्त में फ़ायदा उठाने का मज़ा लेंगे.[16] इस रोकने के लिए वेबसाइट के प्रबंधन द्वारा रेडिकल ट्रस्ट की आवश्यकता है। बेस्ट के अनुसार[17], Web 2.0 की विशेषताएं हैं: उपयोगकर्ताओं का गहन अनुभव, उपयोगकर्ता की भागीदारी, गतिशील सामग्री, मेटाडाटा, वेब मानक और मापने की योग्यता. अतिरिक्त विशेषताओं जैसे कि खुलापन, स्वतंत्रता[18] और उपयोगकर्ताओं की भागीदारी के माध्यम से सामूहिक बुद्धिमत्ता[19] को भी Web 2.0 के आवश्यक गुणों के रूप में देखा जा सकता है।


प्रौद्योगिकी का सारांश[संपादित करें]

Web 2.0 सामग्री सिंडिकेशन और नेटवर्क प्रोटोकॉल का उपयोग करके ग्राहक और सर्वर के सॉफ्टवेयर की क्षमताओं को एक साथ मिलाता है। मानक आधारित वेब ब्राउज़र प्लगइन और सॉफ्टवेयर विस्तार का प्रयोग सामग्री इकट्ठी करने और उपयोगकर्ता से संपर्क करने के लिए कर सकते हैं। Web 2.0 साइटें उपयोगकर्ता को सूचना का संग्रहण, सृजन और प्रसार क्षमताएं उपलब्ध कराती हैं जो उस वातावरण में संभव नहीं थी जिसे अब "वेब 1.0" के नाम से जाना जाता है।


Web 2.0 वेबसाइटों में आमतौर पर निम्नलिखित सुविधाएं और तकनीकें शामिल हैं। एंड्रयू मैकेफी ने इनका परिचय कराने के लिए इसे इसके लघु रूप SLATES का नाम दिया है:[20]


S - खोजें


कीवर्ड खोज के माध्यम से जानकारी ढूँढना.
L - लिंक


वेब मॉडल का उपयोग कर के सभी सूचनाओं को एक पारिस्थितिकी तंत्र में सार्थक जानकारी के रूप में जोड़ना और कम बाधा वाले सोशल टूल (सामजिक उपकरण) प्रदान करना.
A - लेखन


सामग्री का निर्माण और अपडेट करने की क्षमता कुछ वेब लेखकों के अलावा कई लोगों का सामूहिक रूप से किया गया काम है। Wikis में, उपयोगकर्ताओं विस्तार कर सकते हैं, पूर्ववत कर सकते हैं (पिछली स्थिति में लौट सकते हैं) और एक दूसरे के काम को फिर से कर सकते हैं। ब्लॉग में, व्यक्तियों की टिप्पणियों को समय समय पर बनाया और पोस्ट किया जाता है।
T - टैग


पहले से बनी श्रेणियों पर निर्भर हुए बगैर, खोज की सुविधा के लिए, एक शब्द से विवरण जोड़ कर, उपयोगकर्ताओं द्वारा सामग्री का वर्गीकरण. इसे "फोल्क्सोनोमी" के रूप में जाना जाता है।
E - विस्तार


सॉफ्टवेयर है जो वेब को एप्लीकेशन प्लेटफॉर्म के साथ साथ एक डोक्युमेंट सर्वर के रूप में बदलता है।
S - सिग्नल


सिंडिकेशन प्रौद्योगिकी का प्रयोग जैसे कि उपयोग की सामग्री में परिवर्तन के बारे में उपयोगकर्ताओं को सूचित करने के लिए RSS.


जबकि SLATES Enterprise 2.0 का बुनियादी ढांचा बनाता है, यह सभी उच्च स्तर के Web 2.0 डिज़ाइन पैटर्न और व्यापार मॉडल को अस्वीकृत नहीं करता. और इस तरह से, ओ रेली की Web 2.0 की नई रिपोर्ट, Enterprise 2.0 के विशिष्ट पहलुओं के साथ Web 2.0 की कहानी को मिलाने में काफी प्रभावी तथा सही है। इसमें सेल्फ सर्विस IT, IT उद्योग की मांग की लम्बी कहानी और उद्योग में Web 2.0 युग के कई परिणामों की चर्चा शामिल हैं। रिपोर्ट में छोटी प्रायोगिक परियोजनाओं को शुरू करने और उनके परिणाम मापने की कई उचित सिफारिशें की गयी हैं जिनकी सूची काफी लम्बी है।


[21]


यह कैसे काम करता है[संपादित करें]

क्लाइंट साइड/वेब ब्राउज़र प्रौद्योगिकियां जो Web 2.0 में प्रयुक्त होती हैं - Asynchronous JavaScript और XML (Ajax), Adobe Flash और JavaScript / Ajax Fremwork जैसे कि Yahoo! UI Library, Dojo Toolkit, MooTools और jQuery. Ajax प्रोग्रामिंग वेब सर्वर से एक पूरा पृष्ठ पुनः लोड किए बिना, नया डाटा अपलोड और डाउनलोड करने के लिए जावास्क्रिप्ट का प्रयोग करती है।


उपयोगकर्ता को पेज पर काम करने की अनुमति देने के लिए, सर्वर से होने वाले संचार जैसे कि डाटा अनुरोधों को पेज पर वापिस आ रहे डाटा से अलग किया जाता है। (बिना किसी क्रम के). अन्यथा, उपयोगकर्ता को उस पेज पर कुछ भी करने से पहले नियमित रूप से डाटा के वापिस तक प्रतीक्षा करनी पड़ेगी, जिस प्रकार उपयोगकर्ता एक पेज को पुनः लोड करने के लिए प्रतीक्षा करता है। इससे साइट का समग्र प्रदर्शन भी बढ़ता है, चूंकि बिना किसी बाधा या लाइन के तेज़ी से अनुरोध भेजे जा सकते हैं और ग्राहक को डाटा भेजा जा सकता है।


Ajax अनुरोध द्वारा लिया गया डाटा आमतौर पर XML या JSON (जावास्क्रिप्ट ऑब्जेक्ट नोटेशन), दो व्यापक रूप से प्रयुक्त होने वाले संरचित डाटा स्वरूप हैं, के रूप में फॉर्मेट होता है। चूंकि इन दोनों प्रारूपों को जावास्क्रिप्ट आसानी से समझ सकती है, एक प्रोग्रामर आसानी से उनका उपयोग अपने वेब प्रोग्राम में संरचित डाटा ट्रांसमिट करने के लिए कर सकते हैं। जब यह डाटा Ajax द्वारा प्राप्त किया जाता है, तो जावास्क्रिप्ट प्रोग्राम डोक्युमेंट ऑब्जेक्ट मॉडल (DOM) का प्रयोग करके नये डाटा के आधार पर वेब पेज को स्वचालित ढंग से अपडेट कर देता है, जिससे एक तीव्र तथा पारस्पारिक क्रियात्मक प्रयोक्ता का अनुभव मिलता है। संक्षेप में, इन तकनीकों का प्रयोग करके वेब डिज़ाइनर अपने पेजों को डेस्कटॉप प्रोग्रामों के रूप में कार्य करने के लिए बना सकते हैं। उदाहरण के लिए, Google Docs इस तकनीक का उपयोग वेब आधारित वर्ड प्रोसेसर बनाने के लिए करता है।


Adobe Flash अक्सर Web 2.0 में प्रयुक्त होने वाली एक और तकनीक है। व्यापक रूप से उपलब्ध प्लगइन जो W3C (वर्ल्ड वाइड वेब कंसोर्टियम, वेब मानकों और प्रोटोकॉल पर नज़र रखने वाली कार्यकारिणी) मानकों के अधीन नहीं हैं, फ्लैश से ऐसा बहुत कुछ किया जा सकता है जो वर्तमान में HTML में संभव नहीं है, एक भाषा जिसका प्रयोग वेब पेज बनाने के लिए किया जाता है। फ्लैश की कई क्षमताओं में से Web 2.0 में सबसे अधिक इस्तेमाल होने वाली इसकी ऑडियो और वीडियो फ़ाइलों को चलाने की क्षमता है। इससे Web 2.0 साइटें जैसे कि YouTube का निर्माण हो सका है जिसमें वीडियो मीडिया को सामान्य HTML के साथ जोड़ दिया गया है।


Flash और Ajax के अतिरिक्त, JavaScript / Ajax Fremworks अभी हाल ही में Web 2.0 साइटें बनाने का एक बहुत लोकप्रिय साधन बन गए हैं। अपने मूल में, ये फ्रेमवर्क JavaScript, Ajax और DOM से अलग कोई प्रौद्योगिकी का प्रयोग नहीं करते. फ्रेमवर्क वेब ब्राउज़र की विसंगतियों को हटा देते हैं और और डेवलपर्स के लिए उपलब्ध कार्यक्षमता का विस्तार करते हैं। इनमे से कई बदलाव करने योग्य, तथा पूर्वनिर्मित 'widgets' के साथ आते हैं जो सामान्य कार्यों, जैसे कि कैलेंडर से एक तिथि लेना, डाटा चार्ट प्रदर्शित करना या टैब युक्त पैनल बनाना, को पूरा करते हैं।


सर्वर साइड पर Web 2.0, वेब 1.0 की कई समान तकनीकों का प्रयोग करता है। जैसे कि PHP, Ruby, ColdFusion, Perl, Python और ASP भाषाओँ का प्रयोग डेवलपर्स द्वारा फाइलों और डाटाबेस से जानकारी का उपयोग स्वचालित रूप से आउटपुट डाटा के लिए किया जाता है। Web 2.0 द्वारा डाटा को फॉर्मेट करने के ढंग में बदलाव शुरू हुआ है। इंटरनेट के प्रारंभिक दिनों में, अलग अलग वेबसाइटों द्वारा परस्पर सम्पर्क करने और डाटा शेयर करने की आवश्यकता बहुत कम थी। लेकिन नई "वेब भागीदारी" में, साइटों के बीच डाटा शेयर करना एक आवश्यक क्षमता बन गया है। अपना डाटा अन्य साइटों के साथ शेयर करने के लिए, एक वेब साइट को मशीन द्वारा पढने योग्य फॉर्मेट, जैसे कि XML, RSS और JSON, उत्पन्न करने में सक्षम होना चाहिए. जब एक साइट का डाटा इन स्वरूपों में से किसी एक में उपलब्ध होता है, दूसरी वेबसाईट दोनों को जोड़ कर उस साईट के एक हिस्से की कार्यक्षमता को अपने में एकीकृत कर सकती है। जब यह डिज़ाइन पैटर्न लागू किया जाता है, तो यह अंततः उस डाटा की ओर ले जाता है जो ढूँढने में आसान है और अच्छी तरह से वर्गीकृत है, जो Web 2.0 क्रियान्वन की एक सच्ची पहचान है।


उपयोग[संपादित करें]

Web 2.0 शब्द की लोकप्रियता और ब्लॉगों, wikis और सामाजिक नेटवर्किंग प्रौद्योगिकी के बढ़ते प्रयोग ने, शिक्षा और व्यापार में 2.0s[22] की झड़ी लगा दी है, जिसमें Library 2.0,[23]Social Work 2.0,[24] Enterprise 2.0, PR 2.0,[25] Classroom 2.0, Publishing 2.0, Medicine 2.0, Telco 2.0, Travel 2.0, Government 2.0[26] और यहां तक कि Porn 2.0.[27] भी शामिल हैं। इन 2.0s में से कई स्वयं से संबंधित विषयों और क्षेत्रों में नए संस्करण के स्रोत के रूप में Web 2.0 प्रौद्योगिकियों का उल्लेख करते हैं। उदाहरण के लिए, Talis White Paper "Library 2.0 : विघटनकारी अविष्कार की चुनौती", में पॉल मिलर का तर्क है


ब्लॉग, wikis और RSS अक्सर Web 2.0 के विशिष्ट उदाहरण के रूप में दर्शाए जाते हैं। एक ब्लॉग या wiki के पाठक को ऐसे टूल प्रदान किये जाते हैं जिससे वह ब्लॉग में अपनी टिप्पणी डाल सकता है या wiki के मामले में सामग्री को संपादित कर सकता है। इसे हम पढ़ने/लिखने योग्य वेब कहते हैं। टालिस का मानना है कि Library 2.0 का अर्थ है इस प्रकार की भागीदारी का उपयोग, जिससे पुस्तकालय तेज़ी से बढ़ते कैटलॉग प्रयासों का लाभ प्राप्त कर सकते हैं, जैसे साथी पुस्तकालयों से सहयोग करके तथा प्रकाशकों व अन्यों से किताबों या मूवी फ़ाइलों के रूप में रिकॉर्ड जोड़ कर विस्तार करके.[28]


यहाँ, मिलर Web 2.0 प्रौद्योगिकियों और भागीदारी की संस्कृति को जोड़ते है कि पुस्तकालय विज्ञान के क्षेत्र में इनका सहयोग, अब "Library 2.0" में उनके दावे का समर्थन करता है। नये 2.0s के अधिकतर समर्थकों ने समान तरीकों का उल्लेख किया है।


बेशक, "वेब 3.0" को बने अभी अधिक समय नहीं हुआ था। वेब 3.0 की परिभाषा अलग है। अमित अग्रवाल का तर्क है कि यह सीमेंटिक वेब है।[29] एंड्रयू कीन जो द कल्ट ऑफ़ द एमेच्योर (शौकीनों का समूह) के लेखक हैं, का तर्क है कि वेब 3.0 द्वारा विशेषज्ञों और वेब के अधिकारियों की वापसी हुई है। उदाहरण के लिए, वे एनसाइक्लोपीडिया के एक संपादित प्रिंट संस्करण के निर्माण के लिए जर्मन विकिपीडिया से बेर्टेल्समेन के सौदे की ओर संकेत करते हैं।[30] CNN Money के जेस्सी हेम्पेल का सरल तर्क है कि वेब 3.0 Web 2.0 की तरह ही है पर एक लाभदायक व्यवसायिक मॉडल के साथ है।[31]


वेब आधारित एप्लीकेशन और डेस्कटॉप[संपादित करें]

Ajax ने इस तरह की वेबसाइटों का विकास किया है जो डेस्कटॉप एप्लीकेशन की नकल करती हैं जैसे वर्ड प्रोसेसर, स्प्रेडशीट और स्लाइड शो प्रेज़ेन्टेशन. WYSIWYG wiki साइटें पीसी ऑथरिंग एप्लीकेशन की कई विशेषताओं की नकल करती हैं। 2006 में Google, Inc ने इस व्यापक वर्ग की सर्वश्रेष्ठ साइटों में से एक राइटली का अधिग्रहण कर लिया।[32]


कई ब्राउज़र आधारित "ऑपरेटिंग सिस्टम" उभरें हैं जिनमें EyeOS[33] और YouOS[34] शामिल हैं। हालांकि इस तरह से बनी अधिकतर सेवाएं एक पारंपरिक ऑपरेटिंग सिस्टम के रूप में कम और एक एप्लीकेशन प्लेटफ़ॉर्म के रूप में अधिक कार्य करती हैं। वे उपयोगकर्ता के डेस्कटॉप संचालन के अनुभव की नकल कर के, एक पीसी के समान फीचर और एप्लीकेशन प्रदान करती हैं और उनमें किसी भी आधुनिक ब्राउज़र में चलने की अतिरिक्त क्षमता भी है। हालांकि, ये ऑपरेटिंग सिस्टम ग्राहक कंप्यूटर के हार्डवेयर पर नियंत्रण नहीं करते.


कई वेब आधारित एप्लीकेशन सेवाएं 1997-2001 के डॉट कॉम चमक के साथ दिखीं और महत्वपूर्ण ग्राहकों के अभाव में गायब हो गयीं. 2005 में, WebEx ने 45 करोड़ डॉलर की राशी से इनमे से एक बेहतर एप्लीकेशन, Intranets.com, का अधिग्रहण कर लिया।[35]


इंटरनेट एप्लीकेशन[संपादित करें]


XML और RSS[संपादित करें]

"Web 2.0" के समर्थक साइट सामग्री के इकठ्ठा करने को बेशक Web 2.0 की एक सुविधा के रूप में देख सकते हैं, क्योंकि यह प्रोटोकॉल का मानकीकरण करती है जो एंड यूज़र को साईट के डाटा का इस्तेमाल दूसरे रूप में करने की अनुमति देते हैं। (जैसे कि एक और वेबसाइट में, एक ब्राउज़र प्लगइन के रूप में, या एक अलग डेस्कटॉप एप्लीकेशन में). वे प्रोटोकॉल जो सिंडिकेशन की अनुमति देते हैं उनमें, RSS (रियली सिम्पल सिंडिकेशन - "वेब सिंडिकेशन" के रूप में भी जाना जाता है), RDF (RSS 1.1 के रूप में) और Atom, सभी XML-आधारित फॉर्मेट, शामिल हैं। पर्यवेक्षकों ने इन प्रौद्योगिकियों को "वेब फ़ीड Web 2.0 के रूप में प्रयोग करने का संदर्भ देना शुरू कर दिया है और उपयोगकर्ता के अनुकूल फ़ीड आइकन RSS आइकन में बदल रहे हैं।


विशिष्ट प्रोटोकॉल

विशिष्ट प्रोटोकॉल जैसे कि FOAF और XFN (दोनों सामाजिक नेटवर्किंग के लिए) साइटों की कार्यक्षमता बढ़ाते हैं या एंड यूज़र को केंद्रीकृत वेबसाइटों के बिना संपर्क करने की अनुमति देते हैं।


अन्य प्रोटोकॉल, जैसे XMPP मैसेन्जर सेवाओं की तरह उपयोगकर्ताओं को सेवा प्रदान करते हैं।


वेब APIs[संपादित करें]

मशीन आधारित संपर्क, जो Web 2.0 साइटों की एक आम सुविधा है, वेब API, के प्रयोग के लिए दो तरीकों का प्रयोग करते हैं, जो डाटा और कार्यों के लिए वेब आधारित अनुमति देते हैं:REST और SOAP.


  1. REST (रिप्रेज़ेंटेशनल स्टेट ट्रांसफर) वेब APIs संपर्क करने के लिए अकेले HTTP का उपयोग XML (एक्स्टेंसिबल मार्कअप लैंग्वेज) या JSON पेलोड के साथ करते हैं;
  2. SOAP सर्वर पर अधिक विस्तृत XML संदेश या अनुरोध पोस्ट करता है जिसमे सर्वर के पालन करने के लिए काफी जटिल, लेकिन पूर्व परिभाषित निर्देश हो सकते हैं।


अक्सर सर्वर निर्मित किये गये APIs उपयोग करते हैं, लेकिन मानक APIs (उदाहरण के लिए, एक ब्लॉग पोस्ट करने या एक ब्लॉग अपडेट के बारे में सूचित करने के लिए) भी व्यापक रूप से प्रयोग किये जाते हैं। APIs के माध्यम से होने वाले अधिकांश संचार में XML या JSON पेलोड शामिल होता है।


वेब सर्विस डिस्क्रिप्शन लैंग्वेज (WSDL) एक सोप API के प्रकाशन का मानक तरीक़ा है और वेब सेवा विनिर्देशों की विस्तृत किस्में मौजूद हैं।


ओपन मैशप एलायंस द्वारा एंटरप्राइज़ मैशप के लिए EMML भी देखें.


आलोचना[संपादित करें]

शब्द के आलोचकों का दावा है कि "Web 2.0" वर्ल्ड वाइड वेब के एक नए संस्करण का बिल्कुल प्रतिनिधित्व नहीं करता, बल्कि केवल तथाकथित "वेब 1.0" की तकनीकों और अवधारणाओं का प्रयोग आगे बढ़ाता है। सबसे पहले, AJAX जैसी तकनीक HTTP जैसे मूलभूत प्रोटोकॉल की जगह नहीं लेती, लेकिन उन से विवरण की एक अतिरिक्त परत जोड़ती है। दूसरे, Web 2.0 की कई योजनाओं को "Web 2.0" शब्द के आने से बहुत पहले ही नेटवर्क सिस्टम पर प्रदर्शित कर दिया गया था। उदाहरण के लिए, Amazon.com, ने खुद के प्रकाशन के रूप में, उपयोगकर्ताओं को 1995 में अपनी शुरुआत के बाद से ही समीक्षाएँ और उपभोक्ता गाइड लिखने के लिए अनुमति दे दी है। अमेज़न ने अपनी API भी 2002 में बाहर के डेवलपर्स के लिए खोल दी थी।[36] कंप्यूटर समर्थित-सामूहिक शिक्षा और कंप्यूटर समर्थित-सामूहिक कार्य पर हुए शोध और लोटस नोट्स और लोटस डोमिनो की तरह स्थापित उत्पादों से पिछला विकास हुआ था और ये सब घटनाएं Web 2.0 के आरंभ से पहले की हैं।


लेकिन शायद सबसे आम आलोचना यह है कि शब्द अस्पष्ट है या केवल एक नारा है। उदाहरण के लिए, एक पॉडकास्ट साक्षात्कार[4] में, टिम बेर्नेर्स-ली ने "Web 2.0" शब्द को "भाषा का एक टुकड़ा" बताया:

"वास्तव में कोई भी नहीं जानता है कि इसका मतलब क्या है।..यदि आप के लिए Web 2.0 ब्लॉग और wikis है, तो यह लोगों से लोगों तक है। लेकिन वेब में यही सब कुछ होना चाहिए था।[4]


अन्य आलोचक Web 2.0 को "एक दूसरे बुलबुले" (1995-2001 के डॉट कॉम बुलबुले की चर्चा करते हुए) का नाम देते हुए बताते हैं कि व्यापार मॉडल की कमी के साथ कई Web 2.0 कम्पनियां एक ही उत्पाद विकसित करने का प्रयास करती हैं। उदाहरण के लिए, The Economist ने 2000 के मध्य से अंत तक वेब कंपनियों पर ध्यान केंद्रित करते हुए "Bubble 2.0" का नाम दिया है।[37] उद्यमी जोश कोपेलमैन ने ध्यान दिया कि Web 2.0 ने केवल 53,651 लोगों को उत्साहित किया था (TechCrunch के अनुसार उस समय के ग्राहकों की संख्या, एक वेबलॉग जो Web 2.0 की शुरूआती और प्रौद्योगिकी खबरों को कवर कर रहा था), उपयोगकर्ताओं की यह संख्या उनके द्वारा आर्थिक रूप से व्यवहारिक सीमा के अन्दर उपभोक्ता एप्लीकेशन बनाने के लिए बहुत कम थी।[38] हालांकि ब्रूस स्टर्लिंग के अनुसार वे Web 2.0 के प्रशंसक है, वे सोचते हैं कि समर्थन जुटाने की एक अवधारणा के रूप में यह अब खत्म हो चुका है।[39]


आलोचकों ने Web 2.0 के हाइप साइकिल (प्रचार चक्र)[40] का वर्णन करने वाली भाषा को[41] तकनीकी काल्पनिक भाषण कला का एक उदाहरण बताया है।[42]


Web 2.0 के सामाजिक प्रभाव के संदर्भ में, एंड्रयू कीन जैसे आलोचकों का तर्क है कि Web 2.0 डिजिटल आत्ममोह और शौक रखने वालों का समूह बना दिया है है, जिसमें अनुचित राय - अपनी किसी भी विषय के बारे में अपनी राय और सामग्री के किसी भी प्रकार की अपनी विशेष प्रतिभा, ज्ञान, पहचान, पूर्वाग्रह या संभावित छिपी हुई योजना की परवाह किए बिना, किसी को भी, कहीं भी शेयर करने की अनुमति देकर विशेषज्ञता की अवधारणा को नजरअंदाज किया है। वे कहते हैं कि Web 2.0 की मूल धारणा, कि सभी विचार और उपयोगकर्ता-द्वारा निर्मित सामग्री समान रूप से मूल्यवान और प्रासंगिक हैं, गुमराह करने वाली है और इसकी बजाय यह है "औसत दर्जे का एक अंतहीन डिजिटल वन: बेख़बर राजनीतिक टिप्पणी, अनुपयुक्त घरेलू वीडियो, शर्मनाक बचकाना संगीत, ना पढ़ी जा सकने वाली कविताएँ, निबंध और उपन्यास", साथ ही कहते हैं कि विकिपीडिया "गल्तियों, आधा सच और गलतफहमियों" से भरा है।[43]


ट्रेडमार्क[संपादित करें]

नवंबर 2004 में, CMP मीडिया ने लाइव घटनाओं के सेवा चिह्न में "Web 2.0" शब्द के उपयोग के लिए USPTO में आवेदन दिया.[44] इस आवेदन के आधार पर, CMP मीडिया ने एक आयरिश नॉन-प्रोफिट संगठनIT@Cork को 24 मई 2006 को काम रोकने व बंद करने का प्रस्ताव भेजा,[45] लेकिन दो दिन बाद इसे वापिस ले लिया।[46] "Web 2.0" सेवा चिह्न पंजीकरण 10 मई 2006 पर अंतिम PTO की जांच अटार्नी समीक्षा द्वारा पारित कर दिया गया और 27 जून 2006 को पंजीकृत किया गया।[44] यूरोपीयन संघ का आवेदन (आवेदन संख्या 004972212, जो आयरलैंड में स्पष्ट स्थिति प्रदान करेगा) 23 मार्च 2006 को आवेदन जमा करवाने के बाद से ही लंबित है।currently के अनुसार 


इन्हें भी देखें[संपादित करें]



एप्लीकेशन डोमेन



संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Core Characteristics of Web 2.0 Services". http://www.techpluto.com/web-20-services/. 
  2. Paul Graham (November 2005). "Web 2.0". http://www.paulgraham.com/web20.html. अभिगमन तिथि: 2006-08-02. ""I first heard the phrase 'Web 2.0' in the name of the Web 2.0 conference in 2004."" 
  3. Tim O'Reilly (2005-09-30). "What Is Web 2.0". O'Reilly Network. http://www.oreillynet.com/pub/a/oreilly/tim/news/2005/09/30/what-is-web-20.html. अभिगमन तिथि: 2006-08-06. 
  4. "developerWorks Interviews: Tim Berners-Lee". 2006-07-28. http://www.ibm.com/developerworks/podcast/dwi/cm-int082206txt.html. अभिगमन तिथि: 2007-02-07. 
  5. DiNucci, D. (1999). "Fragmented Future". Print 53 (4): 32. http://www.cdinucci.com/Darcy2/articles/Print/Printarticle7.html. 
  6. इडेहेन, किंग्सले. 2003. RSS: INJAN (यह सिर्फ समाचार के बारे में नहीं है). ब्लॉग ब्लॉग डाटा स्पेस. 21 अगस्त. http://www.openlinksw.com/dataspace/kidehen@openlinksw.com/weblog/kidehen@openlinksw.com%27s%20BLOG%20%5B127%5D/241.
  7. इडेहेन, किंग्सले. 2003. जेफ बेज़ोस की वेब सेवाओं के बारे में टिप्पणियाँ. ब्लॉग ब्लॉग डाटा स्पेस. 25 सितम्बर. http://www.openlinksw.com/blog/~kidehen/index.vspx?id=373.
  8. नोर, एरिक. 2003. वेब सेवाओं का वर्ष. CIO, 15 दिसम्बर.
  9. ibid
  10. ओ रेली, टिम और जॉन बैटल. 2004. उदघाटन में आपका स्वागत है: इंटरनेट उद्योग राज्य. में सान फ्रांसिस्को, कनाडा, 5 अक्टूबर.
  11. ओ रेली, टी., 2005.
  12. ग्रॉसमैन, लेव. 2006. वर्ष का सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति: आप. दिसम्बर 25. http://www.time.com/time/covers/0, 16641,20061225,00. html.
  13. "दस लाखवां अंग्रेज़ी शब्द घोषित". बीबीसी समाचार. http://news.bbc.co.uk/1/hi/world/americas/8092549.stm
  14. Dion Hinchcliffe (2006-04-02). "The State of Web 2.0". Web Services Journal. http://web2.wsj2.com/the_state_of_web_20.htm. अभिगमन तिथि: 2006-08-06. 
  15. Bart Decrem (2006-06-13). "Introducing Flock Beta 1". Flock official blog. http://www.flock.com/node/4500. अभिगमन तिथि: 2007-01-13. 
  16. गेराल्ड मार्वेल और रुथ इ. एम्स: "सार्वजनिक वस्तुओं के प्रावधान पर प्रयोग. I. संसाधन, रुचि, समूह का आकार और फ्री राइडर समस्या". अमेरिकी समाजशास्त्र की पत्रिका, संस्करण 84, नंबर 6 (मई, 1979), pp. 1335-1360
  17. बेस्ट, डी., 2006 Web 2.0 अगली बड़ी बात या अगला कोई बड़ा इंटरनेट शगूफा? वेब सूचना सिस्टम पर व्याख्यान. Techni sche Universiteit Eindhoven.
  18. Greenmeier, Larry and Gaudin, Sharon. "Amid The Rush To Web 2.0, Some Words Of Warning -- Web 2.0 -- InformationWeek". www.informationweek.com. http://www.informationweek.com/news/management/showArticle.jhtml;jsessionid=EWRPGLVJ53OW2QSNDLPCKHSCJUNN2JVN?articleID=199702353&_requestid=494050. अभिगमन तिथि: 2008-04-04. 
  19. ओ रेली, टी., 2005. Web 2.0 क्या है। सॉफ्टवेयर की अगली पीढ़ी के लिए डिज़ाइन पैटर्न और बिजनेस मॉडल, 30, p.2005
  20. मैकेफी, ए. (2006). Enterprise 2.0 : नवोदित सहयोग का उदय. MIT Sloan प्रबंधन समीक्षा. संस्करण 47, न. 3,p. 21-28.
  21. http://blogs.zdnet.com/Hinchcliffe/?p=71
  22. शिक, एस., 2005. मैं उस भावना से सहमत हूँ. IT Business.ca (कनाडा).
  23. Miller, P., 2008. Library 2.0 : विघटनकारी अविष्कार की चुनौती. यहां उपलब्ध है: http://www.google.com/url?sa=t&source=web&ct=res&cd=1&url=http%3A%2F%2Fwww.talis.com%2Fresources%2Fdocuments%2F447_Library_2_prf1.pdf&ei=qTUWSsWsH5SJtgeAlNTiDA&usg=AFQjCNER9YGaOBSyJFzz4lQ_GszwcQVqlw&sig2=_TunJ0srmZ8pio8Qzkzq-Q
  24. Singer, Jonathan B. (2009). The Role and Regulations for Technology in Social Work Practice and E-Therapy: Social Work 2.0. In A. R. Roberts (Ed).. New York, U.S.A.: Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0195369373. http://www.us.oup.com/us/catalog/general/subject/SocialWork/~~/dmlldz11c2EmY2k9OTc4MDE5NTM2OTM3Mw==. 
  25. ब्रेकएनरिज़, डी., 2008. PR 2.0 : नया मीडिया, नये उपकरण, नये दर्शक प्रथम संस्करण, FT प्रेस.
  26. Eggers, William D. (2005). Government 2.0: Using Technology to Improve Education, Cut Red Tape, Reduce Gridlock, and Enhance Democracy. Lanham MD, U.S.A.: Rowman & Littlefield Publishers, Inc.. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0742541757. http://www.manhattan-institute.org/government2.0/. 
  27. Rusak, Sergey (2009). Web 2.0 Becoming An Outdated Term. Boston, MA, U.S.A.: Progressive Advertiser. http://www.progressiveadvertiser.com/web-2-0-becoming-an-outdated-term/. 
  28. मिलर 10-11
  29. अग्रवाल, अमित. "वेब 3.0 सरल अंग्रेज़ी में समझाई गयी अवधारणाएं". http://www.labnol.org/internet/web-3-concepts-explained/8908/
  30. कीन, एंड्रयू. "वेब 1.0 + Web 2.0 = वेब 3.0." http://web.archive.org/20080504073919/andrewkeen.typepad.com/the_great_seduction/2008/04/web-10-web-20-w.html
  31. हेम्पेल, जेस्सी. "Web 2.0 समाप्त है। वेब 3.0 में आपका स्वागत है". CNN Money. http://money.cnn.com/2009/01/07/technology/hempel_threepointo.fortune/index.htm
  32. "Google buys Web word-processing technology". www.news.com. http://www.news.com/2100-1032_3-6048136.html. अभिगमन तिथि: 2007-12-12. 
  33. "Can eyeOS Succeed Where Desktop.com Failed?". www.techcrunch.com. http://www.techcrunch.com/2006/11/27/eyeos-open-source-webos-for-the-masses/. अभिगमन तिथि: 2007-12-12. 
  34. "Tech Beat Hey YouOS! - BusinessWeek". www.businessweek.com. http://www.businessweek.com/the_thread/techbeat/archives/2006/03/hey_youos.html. अभिगमन तिथि: 2007-12-12. 
  35. "PC World — WebEx Snaps Up Intranets.com". www.pcworld.com. http://www.pcworld.com/article/id,122068-page,1/article.html. अभिगमन तिथि: 2007-12-12. 
  36. Tim O'Reilly (2002-06-18). "Amazon Web Services API". O'Reilly Network. http://www.oreillynet.com/pub/wlg/1707?wlg=yes. अभिगमन तिथि: 2006-05-27. 
  37. "Bubble 2.0". The Economist. 2005-12-22. http://www.economist.com/business/displaystory.cfm?story_id=E1_QQNVDDS. अभिगमन तिथि: 2006-12-20. 
  38. Josh Kopelman (2006-05-11). "53,651". Redeye VC. http://redeye.firstround.com/2006/05/53651.html. अभिगमन तिथि: 2006-12-21. 
  39. ""Bruce Sterling presenta il web 2.0"". "LASTAMPA.it". http://www.lastampa.it/multimedia/multimedia.asp?p=1&IDmsezione=29&IDalbum=8558&tipo=VIDEO#mpos. 
  40. ""Gartner 2006 Emerging Technologies Hype Cycle". http://www.gartner.com/it/page.jsp?id=495475. 
  41. ""Gartner 2006 Emerging Technologies Hype Cycle". http://www.gartner.com/it/page.jsp?id=495475. 
  42. ""Critical Perspectives on Web 2.0", Special issue of First Monday, 13(3), 2008.". http://www.uic.edu/htbin/cgiwrap/bin/ojs/index.php/fm/issue/view/263/showToc. 
  43. ""Thinking is so over". http://technology.timesonline.co.uk/tol/news/tech_and_web/personal_tech/article1874668.ece. 
  44. USPTO क्रमांक संख्या 78322306
  45. "O'Reilly and CMP Exercise Trademark on 'Web 2.0'". Slashdot. 2006-05-26. http://yro.slashdot.org/article.pl?sid=06/05/26/1238245. अभिगमन तिथि: 2006-05-27. 
  46. Nathan Torkington (2006-05-26). "O'Reilly's coverage of Web 2.0 as a service mark". O'Reilly Radar. http://radar.oreilly.com/archives/2006/05/more_on_our_web_20_service_mar.html. अभिगमन तिथि: 2006-06-01. 


संसाधन[संपादित करें]

पुस्तकें


  • "Web 2.0, 3.0 और X.0 पर अनुसंधान पुस्तिका, : प्रौद्योगिकी, व्यापार और सोशल एप्लीकेशंस", सैन मुरुगेसन (संपादक), सूचना विज्ञान अनुसंधान, हर्शेय - न्यूयार्क, अक्टूबर 2009, ISBN 978-1-60566-384-5


लेख


बाहरी लिंक[संपादित करें]