वेतन (सैलरी)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वेतन किसी नियोक्ता से किसी कर्मचारी को मिलने वाले आवधिक भुगतान का एक स्वरूप है जो एक नियोजन संबंधी अनुबंध में निर्देशित किया गया हो सकता है. यह टुकड़ों में मिलने वाली मजदूरी के विपरीत है जहाँ आवधिक आधार पर भुगतान किये जाने की बजाय प्रत्येक काम, घंटे या अन्य इकाई का अलग-अलग भुगतान किया जाता है.

एक कारोबार के दृष्टिकोण से वेतन को अपनी गतिविधियाँ संचालित करने के लिए मानव संसाधनों की प्राप्ति की लागत के रूप में भी देखा जा सकता है और उसके बाद इसे कार्मिक खर्च या वेतन खर्च का नाम दिया जा सकता है. लेखांकन में वेतनों को भुगतान संबंधी (पेरोल) खातों में दर्ज किया जाता है.

इतिहास[संपादित करें]

पहले वेतन का भुगतान[संपादित करें]

चूंकि पहले कार्य-संबंधी-भुगतान विनिमय के लिए कोई पहला भुगतान का अंश (पे स्टब) मौजूद नहीं है, पहले वेतनभोगी कार्य में मानव समाज को इतना अधिक विकसित होने की जरूरत रही होगी कि उसके पास वस्तुओं या अन्य कार्य के बदले वस्तु के विनिमय को संभव बनाने के लिए वस्तु-विनिमय प्रणाली मौजूद हो. इससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण है कि यह संगठित नियोक्ताओं - संभवतः एक सरकार या धार्मिक निकाय - की मौजूदगी को पहले से मानकर चलता है जो इस हद तक नियमित आधार पर कार्य के बदले मजदूरी के आदान-प्रदान की सुविधा प्रदान करते हैं कि यह एक वेतनभोगी कार्य बन जाता है. इससे ज्यादातर लोग यह अनुमान लगाते हैं कि पहले वेतन का भुगतान नियोलिथिक क्रांति के दौरान, 10,000 बीसीई (BCE) और 6.000 बीसीई (BCE) के बीच किसी समय एक गाँव या शहर में किया गया होगा.

लगभग 3100 बीसीई (BCE) की तारीख में एक कीलाक्षर से खुदी हुई मिट्टी का टेबलेट मेसोपोटामिया के श्रमिकों के लिए दैनिक बियर राशनों का एक रिकॉर्ड प्रदान करता है. बियर का मतलब नुकीले आधार वाला एक सीधा खड़ा मटका होता है. एक कटोरे में से खाता हुआ एक मानव सिर राशनों के लिए प्रतीक स्वरूप है. गोल और अर्द्ध-वृत्ताकार छापे माप का प्रतिनिधित्व करते हैं.[1]

एजरा की हिब्रू पुस्तक (550-450 ईसा पूर्व (बीसीई)) के समय तक किसी व्यक्ति से नमक स्वीकार करने का मतलब जीविका प्राप्त करने, भुगतान लेने या उस व्यक्ति की सेवा में होने के सामान था. उस समय नमक के उत्पादन को सम्राट या शासक जमींदार द्वारा कड़ाई से नियंत्रित किया जाता था. एजरा 04:14 के अनुवाद की आधार पर फारस (पर्सिया) के राजा अर्ताक्सरेक्सेस प्रथम के सेवकों ने अपनी वफादारी इस प्रकार अलग-अलग तरीके से व्यक्त करते थे "क्योंकि हम महल के नमक के कर्जदार हैं" या "क्योंकि हमें राजा से रख-रखाव का खर्च मिलता है" या "क्योंकि हम राजा के प्रति जिम्मेदार हैं."'

रोमन शब्द सैलरियम[संपादित करें]

इसी तरह रोमन शब्द सैलरियम रोजगार, नमक और सैनिकों से जुड़ा है, लेकिन सटीक संबंध स्पष्ट नहीं है. कम से कम सामान्य सिद्धांत यह है कि स्वयं सोल्जर शब्द ही लैटिन के साल डेयर (नमक देना) से निकला है. वैकल्पिक रूप से, रोमन इतिहासकार प्लिनी द एल्डर ने समुद्री जल की अपनी प्राकृतिक इतिहास की चर्चा में परोक्ष रूप से कहा था, कि "रोम में... सैनिकों का भुगतान मूल रूप से नमक (साल्ट) था और वेतन (सैलरी) शब्द इसी से निकला है..." प्लिनियस नेचुरेलिस हिस्टोरिया XXXI (Plinius Naturalis Historia XXXI) . अन्य लोगों की टिपण्णी यह है कि सोल्जर (सैनिक) के गोल्ड सोलिडस से उत्पन्न होने की कहीं अधिक संभावना है, जिसके जरिये सैनिकों को भुगतान किये जाने की जानकारी है, और इसके बदले उनका यह कहना है कि सैलरियम या तो नमक की खरीद के लिए एक भत्ता था या फिर नमक की आपूर्तियों का सामना करने और रोम को जाने वाले नमक मार्गों की सुरक्षा (सैलरियम से होकर ) के लिए सैनिकों को रखने की कीमत थी.

रोमन साम्राज्य और मध्ययुगीन एवं पूर्व-औद्योगिक यूरोप में भुगतान[संपादित करें]

सटीक संबंध पर ध्यान दिए बगैर, रोमन सैनिकों को भुगतान किये गए सैलरियम को तब से पश्चिमी देशों में कार्य के बदले मजदूरी के रूप में परिभाषित किया गया है और इसने "किसी के नमक का हक़ अदा करने" के रूप में उन अभिव्यक्तियों को बढ़ावा दिया है.

अभी तक रोमन साम्राज्य के भीतर या (बाद में) मध्ययुगीन और पूर्व-औद्योगिक यूरोप और उसके व्यापारिक कालोनियों में ऐसा प्रतीत होता है कि वेतनभोगी रोजगार अपेक्षाकृत दुर्लभ और विशेषकर सेवकों और उच्च-स्तरीय भूमिकाओं, ख़ास तौर पर सरकारी सेवा तक सीमित रहा है. इस तरह की भूमिकाओं का वैतनिक भुगतान काफी हद तक आवास और भोजन की व्यवस्था और वर्दी संबंधी कपड़ों के जरिये किया जाता था लेकिन नगदी का भी भुगतान किया जाता था. कई दरबारियों, जैसे कि मध्ययुगीन दरबारों में वैलेट्स डी चेंबर को वार्षिक राशि का भुगतान किया जाता था, कभी-कभी पूरक के रूप में उन्हें अप्रत्याशित अतिरिक्त बड़ी राशियाँ दी जाती थीं. सामाजिक स्तर के दूसरे छोर पर रोजगार के कई स्वरूपों में लोगों को या तो कोई भुगतान नहीं किया जाता था, जैसे कि गुलामी (हालांकि कई गुलामों को कम से कम कुछ राशि का भुगतान किया जाता था), दासत्व और करारनामे वाली ताबेदारी के मामले में होता था, या साझेदारी में फसल उगाने के मामले में उन्हें उपज का सिर्फ थोड़ा सा हिस्सा प्राप्त होता था. कार्य के अन्य सामान्य वैकल्पिक मॉडलों में स्वयं या सहभागिता आधारित रोजगार शामिल था जैसे कि कारीगरों की श्रेणी में विशेषज्ञों को मिलता था जो अक्सर अपने साथ वेतनभोगी सहायक रखते थे या कार्य और स्वामित्व का साझा करते थे, जैसा कि मध्यकालीन विश्वविद्यालयों और मठों में होता था.

वाणिज्यिक क्रांति के दौरान भुगतान[संपादित करें]

यहाँ तक कि 1520 से 1650 के बीच के वर्षों में वाणिज्यिक क्रांति द्वारा शुरुआत में कई सृजित रोजगारों और बाद में 18वीं और 19वीं सदियों में औद्योगीकरण के दौरान कोई वेतन नहीं दिया जाता था, लेकिन एक हद तक उन्हें कर्मचारियों के रूप में भुगतान किया जाता था, संभवतः घंटे या दैनिक आधार पर मजदूरी दी जाती थी या प्रति इकाई उत्पादन के आधार (जिसे पीस वर्क भी कहा जाता था) पर भुगतान किया जाता था.

भुगतान के रूप में आमदनी का साझा[संपादित करें]

इस समय के निगमों जैसे कि कई ईस्ट इंडिया कंपनियों में कई प्रबंधकों को मालिक-शेयरधारक के रूप में वेतन दिया जाता था. इस तरह के पारिश्रमिक की स्कीम लेखांकन, निवेश और कानूनी फर्म की साझेदारियों में अभी भी सामान्य है जहाँ प्रमुख पेशेवर व्यक्ति शेयर (इक्विटी) के भागीदार होते हैं और तकनीकी रूप से वेतन नहीं लेते हैं लेकिन इसकी बजाय अपनी वार्षिक आमदनी के हिस्से के आधार पर एक नियतकालिक "निकासी" प्राप्त कर लेते हैं.

दूसरी औद्योगिक क्रांति और वेतनभोगी भुगतान[संपादित करें]

1870 से 1930 तक दूसरी औद्योगिक क्रांति ने रेलमार्गों, बिजली और टेलीग्राफ एवं टेलीफोन की सुविधाओं के जरिये आधुनिक व्यावसायिक निगमों को उभरने का मौक़ा दिया. इस युग में वेतनभोगी अधिकारियों और प्रशासकों के एक वर्ग को बड़े पैमाने पर उभरते देखा गया जिन्होंने नए, व्यापक-स्तर पर बनाए जा रहे उद्यमों में कार्य किया.

नई प्रबंधकीय नौकरियों ने कुछ हद तक इस कारण से स्वयं को वेतनभोगी रोजगार के रूप में व्यवस्थित किया कि "कार्यालय संबंधी कार्य" के प्रयास और प्रतिफल को घंटों या टुकड़ों के आधार पर मापना बहुत मुश्किल था और कुछ हद तक इसलिए कि उन्हें शेयर के स्वामित्व से अनिवार्य रूप से कोई पारिश्रमिक नहीं प्राप्त होता था.

जिस तरह 20वीं सदी में जापान का तेजी से औद्योगीकरण हुआ, कार्यालय संबंधी कार्य का विचार इतना आदर्श था कि इस भूमिका में काम करने वाले लोगों और उनके पारिश्रमिक का वर्णन करने के लिए एक नया जापानी शब्द (सैलरीमैन) गढ़ लिया गया.

20वीं सदी में वेतनभोगी रोजगार[संपादित करें]

20वीं सदी में सेवा अर्थव्यवस्था के उद्भव ने विकसित देशों में वेतनभोगी रोजगार को कहीं अधिक सामान्य बना दिया, जहाँ औद्योगिक उत्पादन संबंधी नौकरियों के संबंधित हिस्से में गिरावट आयी और आधिकारिक, प्रशासनिक, कम्प्युटर, मार्केटिंग और रचनात्मक नौकरियों - जिनमें से सभी वेतनभोगी होते थे - की हिस्सेदारी बढ़ गयी.

आज के वेतन और भुगतान के अन्य स्वरुप[संपादित करें]

आज, एक वेतन का विचार नियोक्ताओं द्वारा कर्मचारियों को दिए जाने वाले सभी तरह के संयुक्त पुरस्कारों की एक प्रणाली के हिस्से के रूप में निरंतर विकसित हो रहा है. वेतन (जिसे अब एक निश्चित भुगतान (फिक्स्ड पे) रूप में भी जाना जाता है) को एक "कुल जमा पुरस्कारों" की प्रणाली के एक हिस्से के रूप में देखा जाने लगा है (जिसमें बोनस, प्रोत्साहन भुगतान और कमीशन, लाभ और अनुलाभ (या भत्ते), और कई अन्य उपकरण शामिल होते हैं जो एक कर्मचारी की मापी गयी कार्यकुशलता से साथ पुरस्कारों का संबंध जोड़ने में नियोक्ता की मदद करता है.

अमेरिका में वेतन[संपादित करें]

Further information: Income in the United States

संयुक्त राज्य अमेरिका में, नियतकालिक वेतन (जिनका भुगतान आम तौर पर कार्य के घंटों पर ध्यान दिए बगैर किया जाता है) और घंटों के पारिश्रमिक (एक न्यूनतम पारिश्रमिक जाँच में सफल होना और अतिरिक्त समय तक कार्य करना) के अंतर को पहली बार 1938 के फेयर लेबर स्टैण्डर्ड्स एक्ट द्वारा संहिताबद्ध किया गया था. उस समय, पाँच श्रेणियों की पहचान न्यूनतम पारिश्रमिक और ओवरटाइम सुरक्षा से "मुक्त" होने के रूप में की गई थी और इसीलिये वेतन के योग्य थी. 1991 में, कुछ कंप्यूटर कर्मियों को छठी श्रेणी के रूप में शामिल किया गया था लेकिन 23 अगस्त, 2004 के प्रभावी इन श्रेणियों को संशोधित किया गया और वापस नीचे पाँच (आधिकारिक, प्रशासनिक, पेशेवर, कंप्यूटर, और बाहर के बिक्री कर्मचारी) तक कम कर दिया गया था. वेतन आम तौर पर एक वार्षिक आधार पर निर्धारित किया जाता है.

"एफएलएसए (FLSA) की अनिवार्यता है कि संयुक्त राज्य अमेरिका में ज्यादातर कर्मचारियों को काम के सभी घंटों और अतिरिक्त समय के भुगतान के लिए एक समय में कम से कम संघीय न्यूनतम वेतन का और एक कार्य-सप्ताह में 40 घंटे से अधिक काम किये गए सभी घंटों के लिए नियमित दर के वेतन के आधे का भुगतान किया जाए.

हालांकि, एफएलएसए (FLSA) का सेक्शन 13(ए) प्रामाणिक अधिकारियों, प्रशासनिक, पेशेवर और बाहरी बिक्री संबंधी कर्मचारियों के रूप में नियुक्त कर्मचारियों के लिए न्यूनतम पारिश्रमिक और अतिरिक्त समय के भुगतान दोनों से छूट प्रदान करता है. सेक्शन 13(ए)(1) और सेक्शन 13(ए)(17) भी कुछ ख़ास कंप्यूटर कर्मचारियों को भी छूट देता है. छूट की अर्हता प्राप्त करने के लिए कर्मचारियों को आम तौर पर अपनी नौकरी के दायित्व (ड्यूटी) के संदर्भ में एक जाँच परीक्षा में अनिवार्य रूप से सफल होना पड़ता है और उन्हें वेतन के आधार पर कम से कम 445 डॉलर प्रति सप्ताह का भुगतान किया जाता है. नौकरी का पदनाम छूट की स्थिति को निर्धारित नहीं करता है. एक छूट के लिए आवेदन करने के क्रम में कर्मचारी के विशिष्ट कार्य संबंधी दायित्वों और वेतन के मामले में विभाग के नियमों की सभी अर्हताओं को अनिवार्य रूप से पूरा करना होगा." [2]

इन पाँच श्रेणियों में से केवल कंप्यूटर संबंधी कर्मचारियों को घंटे के पारिश्रमिक के आधार पर छूट (23.63 डॉलर प्रति घंटा) मिलाती है जबकि बाहरी बिक्री संबंधी कर्मचारी एकमात्र प्रमुख श्रेणी में आते हैं जिसे न्यूनतम वेतन (455 डॉलर प्रति सप्ताह) की जाँच परीक्षा नहीं देनी होती है हालांकि पेशेवरों (जैसे कि क़ानून या चिकित्सा के शिक्षकों और प्रैक्टिशनरों को) के अधीन कुछ उप-श्रेणियों में भी न्यूनतम वेतन संबंधी जाँच परीक्षा नहीं ली जाती है.

नियतकालिक वेतनों की तुलना घंटों के पारिश्रमिक से करने का एक सामान्य नियम 40 घंटा प्रति सप्ताह और वर्ष में 50 हफ्ते (छुट्टी के लिए दो हफ़्तों को छोड़कर) के मानक कार्य पर आधारित है. (उदाहरण: 40,000 डॉलर/वर्ष के नियतकालिक वेतन को 50 हफ़्तों से विभाजित करने पर 800 डॉलर/सप्ताह के वेतन के बराबर होता है. 800 डॉलर/सप्ताह को 40 मानक घंटों से विभाजित करने पर मान 20 डॉलर/घंटा होता है. अमेरिकी जनगणना ब्यूरो द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका में वास्तविक औसत घरेलू आय 2006 और 2007 के बीच 1.3 प्रतिशत चढ़ कर 50,233 डॉलर पर पहुँच गयी थी. यह वास्तविक औसत घरेलू आय में तीसरी वार्षिक वृद्धि है.

जापान में वेतन[संपादित करें]

Further information: Salaryman

जापान में मालिक अपने कर्मचारियों को वेतन वृद्धि की सूचना "जिरी" के माध्यम से देते थे. यह अवधारणा अब भी मौजूद है और बड़ी कंपनियों में इसकी जगह एक इलेक्ट्रॉनिक स्वरुप या ई-मेल का इस्तेमाल किया जाने लगा है.

भारत में वेतन[संपादित करें]

भारत में वेतन का भुगतान आम तौर पर हर महीने की 7वीं तारीख को किया जाता है. भारत में न्यूनतम पारिश्रमिक का निर्धारण न्यूनतम मजदूरी अधिनियम, 1948 द्वारा किया जाता है. इसके बारे में विस्तृत विवरण को http://labourbureau.nic.in/wagetab.htm पर देखा जा सकता है. भारत में कर्मचारियों को उनकी वेतन वृद्धि के बारे में उनको एक हार्ड कॉपी लेटर देकर सूचित किया जाता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

Wiktionary-logo-en.png
salary को विक्षनरी,
एक मुक्त शब्दकोष में देखें।
  • अधिशासी मुआवजा
  • प्रत्येक देश के आधार पर औसत पारिश्रमिक की सूची
  • एकल अंक में वेतन अर्जित करने वालों की सूची
  • सबसे बड़े खेल अनुबंधों की सूची
  • सैलरीमैन (जापान)
  • सर्वाधिक आय वाले साल

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Early writing tablet recording the allocation of beer, British Museum. "BBC History of the World in 100 Objects". http://www.britishmuseum.org/explore/highlights/highlight_objects/me/t/tablet,_allocation_of_beer.aspx. अभिगमन तिथि: 2010 - 11 - 11. 
  2. http://www.dol.gov/whd/regs/compliance/fairpay/main.htm डीओएल (DOL) का फेयरपे ओवरटाइम इनिशिएटिव

साँचा:Employment