वीर बल्लाला तृतीय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वीर बल्लाला तृतीय (1291-1343), वर्तमान में दक्षिण भारत के कर्नाटक नाम से जाने जानेवाले क्षेत्र पर शासन करने वाले होयसला साम्राज्य के अंतिम महान शासक थे। वीर बल्लाला के सेनापति हरिहर (लोकप्रिय नाम हक्का) तथा बुक्काराया (लोकप्रिय नाम बुक्का) को कन्नड़ लोककथाओं में संभवतः विजयनगर साम्राज्य के संस्थापक के रूप में बेहतर तरीके से जाना जाता है। उन्होंने काफी अनिश्चितता भरे राजनीतिक और सांस्कृतिक काल में शासन किया था, जब दक्खन और दक्षिण भारत के अन्य सभी प्रमुख हिन्दू साम्राज्यों ने इस्लामी आक्रमण के सामने घुटने टेक दिए थे।

पांड्या मामले[संपादित करें]

बल्लाला तृतीय ने वीर पांड्या (सुंदर पांड्या के प्रतिद्वंदी) की बजाय सुंदर पांड्या को ही पांड्या राजा नियुक्त करके तमिल देश के मामलों को सफलतापूर्वक हल किया। यह 1311 की बात है। हालांकि तमिल मामलों में उलझने के कारण उनकी उत्तरी सीमाएं असुरक्षित हो गयीं और दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी के सेनापति मलिक काफूर द्वारा आक्रमण किये जाने का खतरा मंडराने लगा. हलेबीडु पर हमला करके उसे पूरी तरह लूट लिया गया। वीर बल्लाला को दिल्ली के सुल्तान के हाथों पराजय स्वीकार करनी पड़ी और उनके पुत्र वीर वीरुपक्ष बल्लाला को शांति स्थापित करने के प्रतीक स्वरूप दिल्ली भेजा गया। उनके पुत्र 1313 में वापस लौटे.

दिल्ली से आक्रमण[संपादित करें]

1318 तक, सेउना साम्राज्य को पूर्णतया नष्ट कर दिया गया था और देवगिरी पर दिल्ली सल्तनत का कब्जा हो गया था। तुंगभद्रा नदी के मुहाने पर स्थिति काम्पिल्य नामक एक छोटा राज्य, जिसकी राजधानी कुम्माता (वर्तमान के हम्पीके निकट), केन्द्र बिंदु के रूप में उभर कर सामने आया। वीर बल्लाला तृतीय ने काम्पिल्य पर नियंत्रण प्राप्त करने के लिए लड़ाई की लेकिन उन्हें सफलता हाथ नहीं लगी. बल्लाला तृतीय ने दिल्ली के सुल्तान को समर्थन देना भी बंद कर दिया था, जिसने बल्लाला तृतीय को सबक सिखाने के उद्देश्य से 1327 में हलेबीडु के खिलाफ एक अभियान छेड़ दिया. 1336 तक दिल्ली के सुल्तान द्वारा दक्षिण भारत की सभी हिंदू सल्तनतों (होयसला को छोड़कर) को पराजित कर उनके बड़े क्षेत्रों पर कब्जा कर लिया गया। मदुरै सल्तनत का भी गठन किया गया। तिरुवन्नामलाई को अपनी नई राजधानी घोषित कर वीर बल्लाला तृतीय ने अपनी बची-खुची संपूर्ण शक्ति के साथ, हिंदू दक्षिण भारत के ऊपर एक विदेशी शक्ति के शासन के खिलाफ जंग का एलान कर दिया. मुस्लिम आक्रमण को टक्कर देने के इरादे से बल्लाला तृतीय ने तुंगभद्रा नदी के तट पर होसपट्टना नामक दूसरी राजधानी की स्थापना की जिसे बाद में विजयनगर नाम दे दिया गया।[1]

वीर बल्लाला को उनके प्रमुख परामर्शदाता संगमा का उत्कृष्ट समर्थन प्राप्त था। संगमा तुंगभद्रा नदी के तट पर हम्पी शहर के निकट स्थित होयसला साम्राज्य के कुछ हिस्सों के संरक्षक थे। संगमा के सबसे बड़े पुत्र हरिहर प्रथम को होयसला साम्राज्य के उत्तरी हिस्सों का "महामंडलेश्वर", अर्थात कई छोटे शासकों का सरदार नियुक्त किया गया।

1336 में, हक्का और बुक्का के सैन्य नेतृत्व में होयसला साम्राज्य अपने उत्तर में दिल्ली के सुल्तान के हमलों और अतिक्रमण का सफलतापूर्वक सामना करने में सफल रहा. वीर बल्लाला ने मदुरै क्षेत्र में सुल्तान की संपत्तियों पर हमला करने के लिए स्वयं एक सैन्य अभियान का नेतृत्व किया। दिल्ली सल्तनत के ऊपर होयसला की जीत के बाद, बुक्का को पुनर्-एकीकृत साम्राज्य का युवराज घोषित कर दिया गया।

विजयनगर[संपादित करें]

1336 की लड़ाई में जीते गए नए क्षेत्रों के साथ होयसला साम्राज्य को विजयनगर साम्राज्य के नाम से जाना गया। एक शताब्दी बाद विजयनगर साम्राज्य को राजा कृष्णादेवराय के शासनकाल में राजनीतिक, सैन्य, संगीत और साहित्यिक क्षेत्रों में की गयी अपनी उन्नति के कारण प्रसिद्धि मिली. विजयनगर साम्राज्य की स्थापना के बाद, वीर बल्लाला तृतीय दिल्ली के सुल्तान द्वारा किये जाने वाले आक्रमण के प्रयासों का जवाब देने के लिए मदुरै वापस आये. 1343 में सल्तनत के खिलाफ होने वाली कई छोटी लड़ाइयों में से एक में वीर बल्लाला की मृत्यु हो गयी। इस प्रकार होयसला के अंतिम महान राजा का जीवन समाप्त हुआ।[2]

टिप्पणियां[संपादित करें]

  1. प्रो॰ विलियम कोएल्हो, (होयसला वाम्सा, 1950) और फ़्रे. हेनरी हेरस, (दी एरेविदु डाइनस्टी ऑफ विजयनगर एम्पायर, 1926), कन्साइस हिस्ट्री ऑफ कर्नाटका - डॉ॰ एस.यू. कामथ
  2. इब्न बतूता ने बल्लाला तृतीय की मृत्यु का सजीव विवरण प्रदान किया है। इतिहासकार डॉ॰ एस.यू. कामथ के अनुसार, वे दक्षिण के अंधकारमय राजनीतिक माहौल के सबसे बड़े नायक थे; ए कन्साइस हिस्ट्री ऑफ कर्नाटक, डॉ॰ एस.यू.कामथ.

संदर्भ[संपादित करें]

  • डॉ॰ सूर्यनाथ यू. कामत, ए कन्साइस हिस्ट्री ऑफ कर्नाटका फ्रॉम प्री-हिस्टोरिक टाइम्स टू दी प्रजेंट, जूपिटर बुक्स, एमसीसी, बंगलौर, 2001 (पुनःप्रकाशित 2002) ओसीएलसी: 7796041
पूर्वाधिकारी
Narasimha III
Hoysala
1291–1343
उत्तराधिकारी
Harihara I