वियना कांग्रेस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
वियना कांग्रेस (Jean-Baptiste Isabey द्वारा निर्मित चित्र, 1819)

वियना की कांग्रेस (Viena Congress) यूरोपीय देशों के राजदूतों का एक सम्मेलन था, जो सितंबर 1814 से जून 1815 को वियना में आयोजित किया गया था। इसकी अध्यक्षता ऑस्ट्रियाई राजनेता क्लेमेन्स वेन्ज़ेल फॉन मेट्टरनीच ने की।[1] कांग्रेस का मुख्य उद्देश्य फ्रांसीसी क्रांतिकारी युद्ध, नेपोलियन युद्ध और पवित्र रोमन साम्राज्य के विघटन से उत्पन्न होने वाले कई मुद्दों एवं समस्याओं को हल करने का था।

वियना कांग्रेस के निर्णय[संपादित करें]

  • बूर्वो वंश को पुन फ्रांस में स्थापित किया,
  • फ्रांस की सीमा पर नए राज्यों के बैठाया,
  • प्रशिया को नए साम्राज्य के रूप में महत्व,
  • उत्तरी इटली पर आष्ट्रिया का नियंत्रण,
  • रूस को पौलेण्ड का भाग दिया गया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Bloy, Marjie (30 अप्रैल 2002). "The Congress of Vienna, 1 नवम्बर 1814 – 8 जून 1815". The Victorian Web. http://www.victorianweb.org/history/forpol/vienna.html. अभिगमन तिथि: 2009-01-09.