वित्त परियोजना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वित्त परियोजना , ऐसे बुनियादी ढांचे और औद्योगिक परियोजनाओं का दीर्घ कालींन वित्तपोषण है जो प्रायोजकों की बैलेंस-शीट के स्थान पर परियोजनाओं के अनुमानित नकदी प्रवाह पर आधारित होता है. आमतौर पर, एक परियोजना की वित्तपोषण संरचना अनेक इक्विटी निवेशकों को समाहित करती है, जो बैंकों के सिंडिकेट की तरह परियोजना को ऋण प्रदान करते हैं, प्रायोजक कहलाते हैं. ऋण, सबसे अधिक सामान्यतः प्रतिभूति-सीमित ऋण हैं, जो परियोजना की परिसंपत्तियों के द्वारा सुरक्षित रहते हैं और प्रायोजकों की सामान्य परिसंपत्तियों या ऋण पात्रता के स्थान पर परियोजना के नकदी प्रवाह द्वारा प्रदत्त किया जाता है, यह वित्तीय मॉडलिंग द्वारा समर्थित भाग में एक निर्णय है.[1] वित्तपोषण, राजस्व उत्पादन ठेके सहित परियोजना की समस्त परिसम्पत्तियों द्वारा विशिष्ट रूप से सुरक्षित है. परियोजना उधारदाताओं को इन सभी परिसम्पत्तियों पर एक ग्रहणाधिकार दिया गया है, और अगर परियोजना कंपनी को परियोजना की ऋण शर्तों के अनुपालन में कठिनाइयां है तो, वे परियोजना का नियंत्रण समझ सकते हैं.

प्रायः प्रत्येक परियोजना में विशेष उद्देश्य से एक इकाई बनायी जाती है जिसके द्वारा परियोजना के प्रायोजकों के स्वमित्ववाली अन्य परिसम्पत्तियों को इस परियोजना के निष्फल होने पर होनेवाले क्षतिकारक प्रभावों से सुरक्षित किया जाता है. एक विशेष प्रयोजन इकाई के रूप में, परियोजना कंपनी परियोजना के अतिरिक्त अन्य कोई परिसंपत्तियां नहीं रखती है. कभी कभी परियोजना कंपनी के मालिकों द्वारा पूंजी योगदान की प्रतिबद्धता, परियोजना की आर्थिक सुद्र्ढ्ता सुनिश्चित करने के लिये आवश्यक होती है. परियोजना वित्त अक्सर वैकल्पिक वित्तपोषण तरीकों की तुलना में अधिक जटिल होते है. परंपरागत रूप से, परियोजना वित्तपोषण खनन, परिवहन, दूरसंचार और सार्वजनिक उपयोगिता के उद्योगों में सबसे अधिक इस्तेमाल किया गया है. अभी हाल ही में, विशेष रूप से यूरोप में, परियोजना के वित्तपोषण के सिद्धांतों को निजी सार्वजनिक भागीदारी (पीपीपी) के तहत बुनियादी ढांचे या, ब्रिटेन में, निजी वित्त पहल (PFI) लेनदेन के लिए लागू किया गया है.

जोखिम की पहचान और नियतन वित्त परियोजना का एक महत्वपूर्ण घटक है. एक परियोजना विकासशील देशों और उभरते बाज़ारों में अनेक तकनीकी, पर्यावरण, आर्थिक और राजनीतिक जोखिमों की विषय वस्तु हो सकती है. वित्तीय संस्थायें और परियोजना के प्रायोजक यह निर्णय कर सकते हैं कि परियोजना के विकास और संचालन में निहित जोखिम अस्वीकार्य हैं (आर्थिक प्रबन्धन योग्य नहीं हैं). इन जोखिमों का सामना करने के लिए, इन उद्योगों में परियोजना के प्रायोजक (जैसे कि बिजलीघर या रेलवे लाइनें) प्रायः कार्य को अनेकों विशेषज्ञ कंपनियों द्वारा पूर्ण करते हैं जो एक दूसरे के साथ एक अनुबंध नेटवर्क में सक्रिय हैं और वित्तपोषण की अनुमति के मार्ग में जोखिम को नियत करती हैं.[2] कार्यान्वयन के विभिन्न पैटर्न कभी कभी "परियोजना वितरण विधि" के रूप में संदर्भित किये जाते है. इन परियोजनाओं के वित्तपोषण कई दलों के बीच वितरित किया जाना चाहिए, ताकि परियोजना के साथ जुड़े जोखिम और साथ ही प्रत्येक पार्टी के लिये निहित लाभ सुनिश्चित किये जा सकें.

एक अधिक जोखिम भरी या अधिक महंगी परियोजना के लिए प्रायोजकों से प्रतिभू द्वारा सुरक्षित सीमित सहायता वित्तपोषण की आवश्यकता होती है. एक जटिल वित्त परियोजना संरचना में अनियत जोखिम को कम करने के लिए कॉर्पोरेट वित्त, प्रतिभूतिकरण, विकल्पों, बीमा प्रावधानों या अन्य प्रकार के संपार्श्विक वृद्धि को शामिल कर सकते हैं.[2]

वित्त परियोजना समुद्री वित्त और विमान वित्त के साथ कई विशेषताऐं बांटती है तथापि, बाद के दो अधिक विशिष्ट क्षेत्र हैं.

मूल योजना[संपादित करें]

चित्र:Project finance.png
काल्पनिक वित्त परियोजना योजना

ऐसीएमई कोल कम्प्नी कोयला आयात करती है. एनर्ज़ेन कोर्पोरेशन उपभोक्ताओं को ऊर्जा की आपूर्ति करती है. दोनों कंपनियां उनके संबंधित लक्ष्यों को पूरा करने के लिए एक बिजली संयंत्र के निर्माण के लिए सहमत हैं. आमतौर पर, पहला कदम दोनो दलों के इरादों को समझने के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करना होगा. यह एक संयुक्त उद्यम बनाने हेतु एक करार द्वारा अनुसरित किया जायेगा.

ऐसीएमई कोल और एनर्ज़ेन एक एसपीसी (विशेष प्रयोजन निगम) बनाते हैं इसे पावर होल्डिंग्स कोर्पोरेशन कहते है और उनके योगदान के अनुसार उन दोनों के बीच शेयर विभाजित करते हैं. ऐसीएमई कोल, अधिक स्थापित होने के कारण अधिक पूंजी का योगदान करती है और शेयरों के 70% लेती है. एनर्ज़ेन एक छोटी कंपनी है और शेष 30% लेता है. नई कंपनी की कोई संपत्ति नहीं है.

पावर होल्डिंग्स ऊर्जा संयंत्र के निर्माण के लिए ऐसीएमई निर्माण के साथ एक अनुबंध हस्ताक्षरित करता है. ऐसीएमई निर्माण ऐसीएमई कोल का एक सहभागी है और केवल एकमात्र कंपनी है जिसे ऐसीएमई वितरण विनिर्देश के अनुसार एक बिजली संयंत्र का निर्माण करने का तजरबा है.

एक बिजली संयंत्र के लिये सैकड़ों करोड़ों डॉलर का खर्च आ सकता है. ऐसीएमई निर्माण का भुगतान करने के लिए, पावर होल्डिंग्स एक विकास बैंक और एक वाणिज्यिक बैंक से वित्त पोषण प्राप्त करता है. ये बैंक एसीएमई निर्माण के फाइनेंसर के लिए एक गारंटी प्रदान करते हैं कि कंपनी निर्माण पूरा करने के लिए भुगतान करने में सक्षम है. आम तौर पर निर्माण के लिए भुगतान इस प्रकार किया हैं जैसे: सामने के निर्माण पर 10% भुगतान, मध्य रास्ते के निर्माण पर 10%, 10% काम पूरा होने से कुछ पहले, और 70% पावर होल्डिंग्स को स्वत्वाधिकार हस्तांतरण पर, जो ऊर्जा संयंत्र के मालिक होगी.

ऐसीएमई कोल और एनर्ज़ेन, सुविधा प्रबंधन के लिए, एक अन्य एसपीसी बिजली प्रबंधन इंकार्पोरेशन (Power Manage Inc) बनाते हैं. दोनो एसपीसीयों (पॉवर होल्डिंग और पावर प्रबंधित) के अंतिम उद्देश्य, मुख्य रूप से ऐसीएमई कोल और एनर्ज़ेन को सुरक्षित रखना है. अगर संयंत्र में कोई आपदा होती है, तो संभावित अभियोगी ऐसीएमई कोल या एनर्ज़ेन पर मुकदमा नहीं कर सकते और उनकी संपत्ति को लक्ष्य नहीं बना सकते क्योंकि कंपनी संयंत्र का स्वामित्व या संचालन नहीं रखती है.

एक और बिजली प्रबंधन और एसीएमई के बीच बिक्री खरीद समझौता (एसपीऐ) कोयला बिजली संयंत्र के लिए कच्चे माल की आपूर्ति करता है. फिर एक थोक वितरण अनुबंध द्वारा बिजली एनर्ज़ेन को दी गयी है. इस सौदे से ऐसीएमई कोल और एनर्ज़ेन दोनों की नकदी प्रवाह का उपयोग वित्तपोषको के ऋण चुकाने के लिए किया जाएगा.

जटिलता के कारक[संपादित करें]

ऊपर एक सरल व्याख्या है जो खनन, शिपिंग, और कोयला आयात में शामिल वितरण ठेके कवर नहीं करती है (जो अपने आप में वित्तपोषण योजना की तुलना में अधिक जटिल हो सकते है), और न ही उपभोक्ताओं को बिजली पहुंचाने के लिए अनुबंध शामिल करती है. विकासशील देशों में, एक या एक से अधिक सरकारी संस्थाओं के लिए यह असामान्य नहीं है की वो परियोजना के प्राथमिक उपभोक्ताओं, उपभोक्ता आबादी के लिए "पिछले मील" वितरण उपक्रम है. सरकारी एजेंसियों और परियोजना के बीच प्रासंगिक खरीद समझौतों में एक मिनिमम उठाव गारंटी खंड शामिल हो सकता है और इससे राजस्व का एक निश्चित स्तर की गारंटी होगी. सड़क परिवहन सहित अन्य क्षेत्रों में सरकार सड़कों के लिए टोल लागू कर सकती है और राजस्व संग्रह कर सकती, जबकि एक गारंटीकृत वार्षिक राशि (स्पष्ट रूप से निर्दिष्टसकारात्मक व नकारात्मक शर्तों के साथ)परियोजना के लिए उपलब्ध कराती है. यह परियोजना निवेशकों और उधारदाताओं के लिए यातायात की मांग के साथ जुड़े जोखिम को समाप्त या कम से कम करने का कार्य करता है.

एक परियोजना के अल्पसंख्यक मालिक "बंद-तुलनपत्र" वित्तपोषण के उपयोगके लिए इच्छा कर सकते हैं, जिसमे वे परियोजना में निवेश के रूप में अपनी भागीदारी का खुलासा करते हैं, और निवेशजो से संबंधित एक फुटनोट के रूप प्रकट करके ऋण को वित्तीय बयानों में शामिल नहीं करते है. संयुक्त राज्य अमेरिका में यह पात्रता वित्तीय लेखांकन मानक बोर्ड द्वारा निर्धारित की जाती. विकासशील देशों में कई परियोजनायें युद्ध जोखिम बीमा से कवर की जानी चहिये, जो युद्ध संबंधी हमले, परित्यक्त खानों और टोर्पेडोस, और असैन्य अशांति के कृत्यों को भी कवर करें जो की आम तौर पर "मानक" बीमा नीतियों में शामिल नहीं हैं. आज, कुछ बदली नीतियों को जिनमें आतंकवाद शामिल है आतंकवाद बीमा या राजनीतिक जोखिम बीमा कहा जाता है. कई मामलों में, एक बाहर की बीमा कंपनी के ठेकेदार द्वारा परियोजना समय पर पूरा होने की गारंटी के लिए प्रदर्शन बंध जारी करेगा.

सार्वजनिक रूप से वित्त पोषित परियोजनायें अतिरिक्त वित्तपोषण तरीकों जैसे कर वेतन वृद्धि वित्त पोषण या निजी वित्त पहल (PFI) का भी उपयोग कर सकता है. ऐसी परियोजनाऐं अक्सर पूंजी सुधार योजना की द्वारा शासित होती हैं जो एक निश्चित लेखापरीक्षा क्षमताओं को जोड़ती है और प्रक्रिया को प्रतिबंधित करती हैं.

इतिहास[संपादित करें]

सीमित प्रतिभूति उधार वित्त प्राचीन ग्रीस और रोम में समुद्री यात्राओं के लिए इस्तेमाल में था. इसका उपयोग पनामा नहर के विकास में बुनियादी ढांचा परियोजनाओं की तिथी के लिए होता था, और 20 वीं सदी के दौरान बड़े पैमाने पर अमेरिका में तेल गैस उद्योग में फैला था. हालांकि, 1970 के दशक और 1980 के दशक में उत्तरी सागर के तेल क्षेत्रों के विकास के साथ उच्च जोखिमवाली बुनियादी योजनाओं के लिए वित्त परियोजना का उद्भव हुआ. इस तरह के निवेशों के लिए प्रत्येक परियोजना के लिए एकाधिक मालिकों और जटिल बीमा योजनाओं के वितरण, ऋण, प्रबंधन और परियोजना संचालन के साथ नए विशेष प्रयोजन निगम (SPCs) बनाये थे. पहले ऐसी परियोजनाओं को उपयोगिता या सरकारी बांड निर्गमों, या अन्य पारंपरिक कॉर्पोरेट वित्त संरचनाओं के माध्यम से पूरा किया गया था.

विकासशील दुनिया में परियोजना वित्तपोषण एशियाई वित्तीय संकट के समय शिखर पर था, लेकिन बाद में औद्योगिक देशों में आर्थिक गिरावट के कारण ओईसीडी देशों में विकास का प्रारम्भ हुआ, जिसके के कारण वित्तपोषण दुनिया भर में परियोजना के लिए 2000 के आसपास शिखर पर था. दुनिया भर में परियोजना के वित्तपोषण के लिए की उच्च जरूरत बनी रहती है जैसे कि और अधिक देशों में सार्वजनिक उपयोगिताओं और बुनियादी सुविधाओं की बढ़ती आपूर्ति की आवश्यकता है. हाल के वर्षों में, वित्त परियोजना योजनाऐं मध्य पूर्व में तेजी से आम बन गयीं हैं, कुछ लोग इस्लामी वित्त को भी शामिल कर रहे हैं.

नई परियोजना की वित्त संरचनाऐं मुख्य रूप से सुविधाओं और सरकारी संस्थाओं से उपलब्ध बिजली खरीदने के लंबे अनुबंध द्वारा उपलब्ध अवसरों के जवाब में उभर कर आती हैं. इन दीर्घकालिक राजस्व धाराऐं PURPA सार्वजनिक उपयोगिताएँ नीतियां नियामक अधिनियम 1978 के नियमों को लागू करने के लिए आवश्यक थे. मूल रूप से एक ऊर्जा पहल की कल्पना की गयी जो घरेलू नवीकरणीय संसाधनों को प्रोत्साहित और संरक्षित करने के लिए डिज़ाइन की गयी, अधिनियम और उद्योग ने बिजली उत्पादन में ढील को बढावा दिया और महत्वपूर्ण रूप से अंतरराष्ट्रीय निजीकरण ने बाद में सार्वजनिक उपयोगिताएं होल्डिंग कंपनी अधिनियम में 1994 के संशोधन कराये. संरचना विकसित हो चुकी है और दुनिया भर में ऊर्जा और अन्य परियोजनाओं के लिए आधार बनाती है.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. आम तौर पर देखें , स्कॉट हॉफमैन, द लॉ एंड बिज़नेस ऑफ़ इंटरनैशनल प्रोजेक्ट फाइनेंस (3रड एड. 2007, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस).
  2. मार्को सोर्ज, द नेचर ऑफ़ क्रेडिट रिस्क इन प्रोजेक्ट फाइनेंस, बीआईएस (BIS) क्वाटर्ली समीक्षा , दिसम्बर 2004, पृष्ठ 91

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]