विकिपीडिया:निर्वाचित लेख

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(विकिपीडिया:प्रमुख लेख से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
लघु पथ:
WP:FA

विकिपीडिया में निर्वाचित लेख

यह सितारा विकिपीडिया पर निर्वाचित लेख का प्रतीक है।

निर्वाचित लेख विकिपीडिया के संपादकों द्वारा चुने गए श्रेष्ठतम् लेख हैं। यहाँ चुने जाने से पहले यह लेख विकिपीडिया:निर्वाचित लेख उम्मीदवार पर निर्वाचित लेख आवश्यकताओं के अनुसार तथ्यों की सच्चाई, तटस्थता, सम्पूर्णता तथा लेखन पद्धति के लिए परखे जाते हैं।

फिलहाल ११५५८१ में से ३१ निर्वाचित लेख है। यहाँ जो लेख आवश्यकताओं पर खरे नहीं उतरते उन्हें सुधारने के लिए विकिपीडिया:निर्वाचित लेख परख पर भेजे जाने के लिए प्रस्तावित किया जा सकता है।

लेख के दाँए कोने पर एक छोटा पीला सितारा, लेख का निर्वाचित लेख होना दर्शाता है।

निर्वाचित विषय वस्तु

निर्वाचित लेख उपकरण

प्रथम निर्वाचित लेख[संपादित करें]

रामायण (फरवरी २००७)

चित्र:Lord Ram.jpg
श्रीराम, सीता, लक्ष्मण और हनुमान
रामायण संस्कृत का सर्वप्रथम महाकाव्य है जिसकी रचना वाल्मीकि ऋषि ने की। प्रथम महाकाव्य की रचना करने के कारण ही उन्हें ‘आदिकवि’ की उपाधि मिली। उनकी यह रचना न केवल भारत में वरन, उन दिनों विश्वव्यापी प्रचार-प्रसार का नगण्य साधन होने के बावजूद भी, विश्वप्रसिद्ध रचना बन गई तथा उनकी ये रचना सम्पूर्ण विश्व में लोकप्रिय हो गई। विश्व के अधिकांश देशों में वाल्मीकि रामायण के आधार पर राम के चरित्र पर विभिन्न नामों से रचनायें की गईं।

आज हम यदि किसी विषय पर कुछ रचना करना चाहते हैं तो हम सर्वप्रथम यह देखते हैं कि उस विषय पर पहले किसने क्या लिखा है, और उन पूर्वलिखित रचनाओं से प्रेरणा लेकर हम अपना लेख लिखते हैं। महर्षि वाल्मीकि तो आदिकवि हैं अतएव उनके समक्ष प्रेरणा देने वाली कोई अन्य रचना नहीं थी। वास्तव में वे संस्कृत तथा हिंदी साहित्य के महान प्रेरक हैं।

आदिकवि वाल्मीकि की रचना से ही प्रभावित होकर सन्त श्री तुलसीदास जी ने अवधी भाषा में रामचरितमानस की रचना की जो कि आज हिंदू परिवार का अंग बन गई हैं। अतः महाकवि वाल्मीकि के बाद राम के चरित्र का द्वितीय लोकप्रिय वर्णन करने वाले का श्रेय सन्त श्री तुलसीदास जी को जाता है। तुलसीदास जी के पश्चात् भी अन्य हज़ारों रचयिताओं ने राम के चरित्र पर अनेक भाषाओं में रचनायें कीं। संपूर्ण लेख पढ़ें...


वर्तमान निर्वाचित लेख[संपादित करें]

नूर इनायत ख़ान
नूर इनायत ख़ान भारतीय मूल की ब्रिटिश गुप्तचर थीं, जिन्होंने द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान मित्र देशों के लिए जासूसी की। ब्रिटेन के स्पेशल ऑपरेशंस एक्जीक्यूटिव के रूप में प्रशिक्षित नूर द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान फ्रांस के नाज़ी अधिकार क्षेत्र में जाने वाली पहली महिला वायरलेस ऑपरेटर थीं। जर्मनी द्वारा गिरफ्तार कर यातना दिए जाने और गोली मारकर उनकी हत्या किए जाने से पहले द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान वे फ्रांस में एक गुप्त अभियान के अंतर्गत नर्स का काम करती थीं। फ्रांस में उनके इस कार्यकाल तथा उसके बाद आगामी 10 महीनों तक उन्हें यातना दी गई और पूछताछ की गयी, किन्तु पूछताछ करने वाले नाज़ी जर्मनी की खुफिया पुलिस गेस्टापो द्वारा उनसे कोई राज़ नहीं उगलवाया जा सका। उनके बलिदान और साहस की गाथा युनाइटेड किंगडम और फ्रांस में प्रचलित है। उनकी सेवाओं के लिए उन्हें युनाइटेड किंगडम एवं अन्य राष्ट्रमंडल देशों के सर्वोच्च नागरिक सम्मान जॉर्ज क्रॉस से सम्मानित किया गया। उनकी स्मृति में लंदन के गॉर्डन स्क्वेयर में स्मारक बनाया गया है, जो इंग्लैण्ड में किसी मुसलमान को समर्पित और किसी एशियाई महिला के सम्मान में इस तरह का पहला स्मारक है। विस्तार से पढ़ें...