विकिपीडिया:चौपाल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
विकिपीडिया पर आपका स्वागत है!
यह एक मुक्त ज्ञानकोश है, जहाँ सभी को ज्ञानप्रसार का अधिकार है।

प्रायः पूछे जाने वाले प्रश्न · नया पृष्ठ कैसे आरम्भ करें? · लेख को कैसे बदलें? · लेखों का आकलन करने में सहायता करें · देवनागरी में कैसे टंकण करें? · मनचाहे बदलाव करके देखें · आप कैसे लेख न बनायें · लेखों का नाम कैसे रखें ·

विकिपीडिया चौपाल पर आपका स्वागत है
नये आगंतुकों का स्वागत है। विकिपीडिया एक ऐसा माध्यम है जो सभी सदस्यों के ज्ञान को एक जगह एकत्रित करता है। विकिपीडिया के द्वारा हम संस्कृति, विज्ञान, कला व दर्शन की जानकारी दुनिया भर में हिन्दी पढ़ने-लिखने वालों तक पहुँचा सकते हैं। अतः सही हिन्दी जानने वालों से अनुरोध है कि आप के पास यदि समय हो तो अपनी जानकारी को हिन्दी में विकिपीडिया पर सहेजें। यहाँ पर विकिपीडिया के सदस्य विकिपीडिया से जुड़े प्रश्न पूछ सकते हैं। तकनीकी मामलों पर भी यहाँ प्रश्न पूछे जा सकते है। नया मत लिखने के लिए सम्पादन टैब पर क्लिक करें। परंतु पहले स्क्रॉल कर पढ़ लें:
  • तथ्यपरक और अन्य प्रकार के प्रश्नों हेतु खोज संदूक या रिफरेन्स डेस्क का प्रयोग करें।
  • अपनी सुरक्षा हेतु कृपया अपना ई-मेल या संपर्क ब्यौरा यहाँ न दें। आपके उत्तर इस पृष्ठ पर ही मिलेंगे। हम ई-मेल से उत्तर नहीं देते हैं।
खोजें या पढ़ें प्रायः पूछे जाने वाले प्रश्न
चौपाल पुरालेख में खोजें
सीधे आज के प्रश्न पर जाएं · नीचे जाएँ · विशिष्ट सहायक सेवाएं · पुरानी चर्चाएं · उत्तर कैसे दें


Archive
पुरालेख



विकिपीडिया पर क्या चल रहा है


इस परियोजना पृष्ठ का अंतिम संपादन Sushilmishra (योगदानलॉग) द्वारा किया गया था।
     पिछला                               लेख संख्या:1,17,225                               नया जोड़ें     

क्राइस्ट विश्वविद्यालय के छात्रों द्वारा हिन्दी विकिस्रोत पर कार्य, CIS-A2K परियोजना तीसरी कडी[संपादित करें]

मैने लगभग एक महीने पहले समूह के सदस्यों से अनुरोध किया था कि विकिस्रोत पर टंकण के लिए किसी किताब का सुझाव दें। मै समूह के सदस्यों से फिर से अनुरोध कर रहा हूँ, कृपया जल्द से जल्द इस विषय पर सुझाव दे। क्राइस्ट में फिर से इस हफ्ते यह कार्य शुरू होगा। साथ ही साथ आखिरी साल पढने वाले छात्र विकिपीडिया पर लेख भी लिखेंगे, समूह सदस्य इस विषय में अपना योगदान दें। --रहमानुद्दीन शेख (वार्ता) 10:31, 4 जनवरी 2015 (UTC)

कृपया समूह के सदस्य इस विषय पर अपनी राय जल्द से जल्द दें। अगर समूह से कोई सुझव नही आता है तो डीएलआई में उपलब्ध अर्थशास्त्र ज्ञानकोश और विज्ञानकोश को ही टंकण के लिए छात्रों को देना पडेगा। --रहमानुद्दीन शेख (वार्ता) 08:27, 20 जनवरी 2015 (UTC)

हिन्दी विकि सम्मेलन के सम्बंध में बैठक और सदस्यों की महत्वपूर्ण राय (कृपया चर्चा में भाग लीजिए)[संपादित करें]

विशेष अनुरोध[संपादित करें]

कृपया सभी चर्चाओं को केंद्रीकृत करने के लिए इस मंच का उपयोग करें - https://hi.wikipedia.org/wiki/विकिपीडिया:सम्मेलन धन्यवाद| AbhiSuryawanshi (वार्ता) 05:26, 14 जनवरी 2015 (UTC)

हिन्दी विकि ईमेल सूची[संपादित करें]

नमस्ते दोस्तों, पिछले कई दिनों से मैं और मुज़म्मिल जी की चर्चा के बाद मुझे समझ में आया कि wikihi-l ईमेल सूची के प्रबन्धक मयुर जी हैं। शायद उन्होंने ही यह सूची आरम्भ की थी लेकिन वर्तमान में वो न ही तो किसी ईमेल का उत्तर दे रहे हैं और न ही विकिपीडिया पर सक्रिय हैं। यदि कोई अन्य व्यक्ति इस सूची का प्रबन्धक बनना चाहे तो आपका स्वागत है। अभी मैं (संजीव कुमार) स्वयं का नामांकन इस हेतु कर रहा हूँ लेकिन यदि कोई अन्य व्यक्ति इस जिम्मेदारी को लेना चाहे तो मैं अपना नामांकन वापस ले लुँगा। मेरे नामांकन पर अपना मत व्यक्त करें:— इस अहस्ताक्षरित संदेश के लेखक संजीव कुमार है, (वार्तायोगदान)। 10:22, 14 जनवरी 2015 (UTC)

समर्थन[संपादित करें]

विरोध[संपादित करें]

चर्चा[संपादित करें]

Train-the-Trainer Program - 2015 (Announcement)[संपादित करें]

Dear Wikimedians,

Apologies for posting this in English. If any friends could translate this in Hindi please help in translating.

As most of you are aware, the Centre for Internet and Society's Access To Knowledge program (CIS-A2K) conducted the first Wikipedia Train-the-Trainer (TTT) programme in 2013 with an aim to support and groom leadership skills in the community members. We are extremely thankful to all the senior Wikimedians who acted as Resource Persons for the 2013 event. Achal, Arjuna, Hari, Shymal, Tinu and Viswa! Without your help we could not have conducted it so successfully.

This message is to let you all know that we have scheduled to conduct the second iteration of this program at the end of February 2015. We are inviting applications from interested Indian Wikimedians. Please see this page on Meta for more details.

Some important dates: January 27, 2015 - Last date for registration.
January 30, 2015 - Confirmation of selected participants
February 26 to March 1, 2015 - TTT-2015 workshop

We are working on the schedule and other details. You are welcome to leave your suggestions and inputs here. Please write to us at tanveer@cis-india.org and vishnu@cis-india.org if you have any further queries.

Best,
--Subhashish Panigrahi (वार्ता) 03:31, 16 जनवरी 2015 (UTC)
Accesss To Knowledge (CIS-A2K),
Centre for Internet and Society

निराला की कृतियों के पृष्ठों का शीघ्र हटाने के नामाँकन का विरोध[संपादित करें]

निराला की कृतियों के पृष्ठों का खाली पृष्ठ का कारण देकर शीघ्र हटाने का नामाँकन किया गया है। एक एक पृष्ठ पर जाने की बजाय मैं यहाँ इन सभी नामाँकनों का विरोध दर्ज कराना चाहता हूँ। पृष्ठों पर ज्ञानसंदूक मौजूद है और इनके विस्तार हेतु आधार टैग लगाकर इन्हें रखना चाहिए।--मनोज खुराना 13:34, 16 जनवरी 2015 (UTC)

मनोज जी, लेख बच सकते हैं लेकिन आप कम से कम एक दो लेख में आवश्यक सुधार तो करो।☆★संजीव कुमार (✉✉) 15:21, 16 जनवरी 2015 (UTC)
संजीव जी, मैं इस समय किसी और विषय (चुनाव परियोजना) में उलझा हूँ। हर बार एसा नहीं हो सकता कि धड़ाधड़ लेखों को हटाने का नामाँकन होता रहे और कोई और बाकी सारे काम छोड़ कर उसे बचाने के लिए सुधारने में जुट जाए। फिलहाल मैं इसे सुधार नहीं सकता, आप हटाना चाहें तो हटा दें। हिंदी विकि जितना मेरा है उतना आपका भी है। इसे बचाना और समृद्ध करना जितना मेरा उद्देश्य है उतना आपका भी है। झगड़ा सिर्फ संतुलनबिंदु को स्थापित करने का है। उत्तम क्वालिटी के सर्वकलासंपन्न १०००-२००० लेख या आधार, आधे अधूरे १ लाख लेख। मैं १ लाख अधूरे लेखों को हटाने के पक्ष में नहीं हूँ लेकिन सभी लेखों को सुधार पाऊं, इतना ज्ञान व क्षमता भी नहीं रखता। यदि आपको लगता है कि एसे लेख हटाने चाहिएं तो बताएं, मैं एसे कम से कम ५० हजार पेज नामाँकित कर सकता हूँ।--मनोज खुराना 04:24, 17 जनवरी 2015 (UTC)
मनोज जी, यदि मुझे ये पृष्ठ हटाने लायक लगते तो अब तक हटा चुका होता। मैंने पीयूष जी को भी मेरे वार्ता पन्ने पर यह ही कहा था कि इन पृष्ठों को सुधारा जा सकता है और प्रयास करूँगा कि इन्हें सुधारा जाये। लेकिन उचित कारण (नियमावली में वर्णित) के साथ हटाने के लिए नामांकित पृष्ठों में बिना सुधार किये उन्हें रखा जाये! क्या यह उचित होगा?☆★संजीव कुमार (✉✉) 07:18, 17 जनवरी 2015 (UTC)
संजीव जी, पीयूष जी : नियमावली का पालन करने की आपकी कमिटमेंट का मैं आदर करता हूँ। लेकिन कई बातें समझनी ज़रूरी हैं- सबसे पहली यह कि हर नियम, हर स्थिति में अनुकरणीय़ नहीं हो सकता। कई बार उदाहरण दिया जाता है कि बदमाशों से बचकर भागती कोई लड़की आपकी शरण में आ जाए और वो बदमाश आपसे उसका पता पूछें तो आप क्या करेंगे? 'नियमावली' के अनुसार सत्य बोलना चाहिए। लेकिन यहाँ नियमावली का उल्लंघन करके झूठ बोलना श्रेयस्कर है। ठीक इसी प्रकार नियमजाल में फँसकर ऐसे पृष्ठों को हटाने का नामाँकन भीष्म द्वारा पाँडवों से युद्ध करने की घोषणा जैसा ही है। कृष्ण द्वारा महाभारत में यही सबक दिया गया है कि धर्म/नियम आदि का पालन होना चाहिए किंतु यदि जिन मूल्यों की रक्षा हेतु ये नियम बनाए गए थे, जब ये नियम उन्हीं मूल्यों के विरोध में आ खड़े हों तो इन नियमों को तोड़ने, बदलने में संकोच नहीं करना चाहिए। सत्य, उद्देश्य की रक्षा सर्वोपरि है। यहाँ पर हमें मात्र नियमावली को नहीं देखना चाहिए, हिंदी विकि का हित देखना चाहिए। यदि नियमावली के उल्लंघन में विकि का हित है तो उल्लंघन कर देना चाहिए। यदि ऐसा एक-आध बार हो तो ऐसा करते समय यह स्पष्ट घोषणा कर देनी चाहिये कि यह अपवादरूप है, जिससे कि नियमावली की मान्यता बनी रहे। यदि इस की आवश्यकता बार-बार पड़ने लगे तो नियमावली का पुनर्मूल्यांकन करते हुए नए नियम बना देने चाहिए। --मनोज खुराना 08:33, 17 जनवरी 2015 (UTC)
अगर मैं गलत नहीं हूँ तो मनोज जी का मतलब है कि इन "लेखों" को 6 साल और इसी अवस्था में छोड़ दिया जाए। इसमें मुझे तो विकिपीडिया का कोई भला नजर नहीं आता।--पीयूष (वार्ता)योगदान 11:19, 17 जनवरी 2015 (UTC)
पीयूष जी, आपने मनोज जी का सही मतलब शायद नहीं समझा। मनोज जी कहना है कि नियमावली का एक पहलू नहीं बल्कि सिक्के के दोनों तरफ देखो। हो सकता है आपने नियमावली ढ़ंग से अथवा पूर्ण रूप से पढ़ी ही न हो।
मनोज जी, अब मेरा प्रश्न आपसे है कि आपके लड़की वाले उदाहरण में यदि आप समर्थ होते हुये भी कहते हो कि नहीं मैं झूठ बोलकर भी काम निकालुँगा तो वो ही लोग किसी और के पीछे पड़ जायेंगे लेकिन यदि उन्हें उसी समय मजा चखा दिया जाये तो वो भविष्य में ऐसी हरकत नहीं करेंगे। मेरा कहने का मतलब यह है कि हममें उन पृष्ठों को अच्छा बनाने और सुधारने की क्षमता है अतः हमें उन्हें सुधारना चाहिए न की चर्चा आरम्भ करके उसी स्थिति में।☆★संजीव कुमार (✉✉) 11:39, 17 जनवरी 2015 (UTC)
जब मनोज जी सुधार नहीं करना चाहते। लेखों को अपवाद स्वरूप रखने को कह रहे है तो यही मतलब हुआ कि हमें इन्हें ऐसे ही छोड़ देना चाहिये। जाने कितने साल बाद शायद कोई सही कर दे।--पीयूष (वार्ता)योगदान 14:27, 17 जनवरी 2015 (UTC)
मनोज जी सुधार करना चाहते हैं। लेकिन अभी वो किसी अन्य परियोजना पर व्यस्त हैं और उसके बाद इसमें सुधार करने में हमारा पूर्ण सहयोग करेंगे।☆★संजीव कुमार (✉✉) 14:56, 17 जनवरी 2015 (UTC)
संजीव जी, पीयूष जी आप दोनों ही सही हैं। मैं इन लेखों में समय मिलते ही सुधार कर दूँगा। लेकिन वह समय ६ दिन भी हो सकता है, ६ साल भी। और हाँ, यदि ६० साल भी ये लेख एसे ही पड़े रहें तो भी मिटाने से तो बेहतर ही है। यदि हम इन लेखों का सुधार नहीं भी कर सकते तो ये मतलब तो नहीं कि इन्हें हटा दें ! --मनोज खुराना 16:47, 18 जनवरी 2015 (UTC)
मनोज जी, फिर तो आप कुछ ज्यादा ही कर रहे हो। इससे अच्छा तो इनकी एक सूची बनाकर केवल एक ही पृष्ठ में समेटा जा सकता है। केवल संख्या बढ़ाने का तो कोई अर्थ नहीं रह जाता। मैं आपको नहीं कह रहा लेकिन कोशिश की जाये तो अच्छा है।☆★संजीव कुमार (✉✉) 18:40, 18 जनवरी 2015 (UTC)

सेँट मैरीस फोरॉना चर्च एटूर[संपादित करें]

--सत्यम् मिश्र (वार्ता) 09:59, 27 जनवरी 2015 (UTC)