विंगसूट फ़्लाइंग (उड़ान)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
उड़ान में विंगसूट

विंगसूट फ़्लाइंग (उड़ान) , विंगसूट नामक एक विशेष जंपसूट का इस्तेमाल कर मानव शरीर को हवा में उड़ाने का खेल है. यह विंगसूट मानव शरीर के सतही आकार में वृद्धि कर उसे उड़ान में काफी मदद करता है. आधुनिक विंगसूट डिजाइनों में सतही आकार वाले भाग को कपड़ों से पैरों के बीच और बाहों के नीचे बानाया जाता है. विंगसूट को बर्डमैन सूट या स्क्विरल सूट भी कहा जा सकता है.

विंगसूट उड़ान पैराशूट के खुलने के साथ समाप्त हो जाता है, इसलिए विंग सूट को ऐसे किसी भी स्थान से उड़ाया जा सकता जो हवा में गोते लगाने के लिए पर्याप्त ऊंचाई प्रदान करता है, जैसे कि हवा में गोते लागाने वाले (स्काइडाइविंग) विमान या बेस (BASE) जम्पिंग एग्जिट प्वाइंट, साथ ही यह पैराशूट का उपयोग करने की अनुमति भी देता है.

विंगसूट उड़ाका स्काइडाइविंग या बेस जम्पिंग के लिए डिजाइन किया गया पैराशूट उपकरण पहनता है. उड़ाका एक सुनियोजित ऊंचाई पर जाकर पैरासूट का उपयोग करता है और आवश्यकता पड़ने पर बांहों के पंखों को खोलता है, जिससे कि वह नियंत्रण टॉगल तक पहुँच सके और एक सामान्य पैराशूट लैंडिंग के स्तर पर उड़ सके.

इतिहास[संपादित करें]

चित्र:Gypsymoths.jpg
शुरुआती विंगसूट डिजाइन 1969 की फिल्म दी जिप्सी मौथ्स में दिखाई दिया था.

पंखों का उपयोग पहली बार 1930 के दशक में क्षैतिज गति को बढ़ाने के प्रयास के रूप में किया गया था. इन प्रारंभिक विंगसूटों को कैनवास, लकड़ी, रेशम, इस्पात और यहाँ तक कि व्हेल की हड्डी जैसी चीजों से बनाया गया था. ये बहुत विश्वसनीय नहीं थे. कुछ "बर्डमैन", विशेष रूप से क्लेम सोन और लियो वैलेन्टिन ने मीलों तक गोते लगाने का दावा किया है. विंगसूट को बर्ट लंकास्टर और जीन हैकमैन द्वारा अभिनीत 1969 की फिल्म जिप्सी मॉथ्स में प्रदर्शित किया गया था.

. 

31 अक्टूबर, 1997 को फ्रेंच स्काईडाइवर पैट्रिक डी गयार्डन ने संवाददाताओं को एक ऐसा विंग सूट दिखाया था जिसमें अद्वितीय सुरक्षा और कार्यक्षमता थी.[1][2] डी गयार्डन की मृत्यु 13 अप्रैल, 1998 को हवाई में अपने पैराशूट कंटेनर में एक नए बदलाव का परीक्षण करते समय हो गयी थी; उनकी मौत के लिए एक रस्सी संबंधी दोष को जिम्मेदार ठहराया जाता है जो सूट की डिजाइन में किसी चूक की बजाय एक नए बदलाव का हिस्सा था.

1998 की शुरुआत में, ऑस्ट्रेलिया के एक बेस जम्पर, टॉम बेजिक ने पैट्रिक डी गेयार्डन के चित्र और अपने विचारों पर आधारित अपना स्वयं का एक विंग सूट बनाया और उड़ाया था. सूट को यूरोप की ऊंची चट्टानों से कूदते समय बेस जम्परों की मुक्त रूप से गिरती हुई फुटेज को पकड़ने में बेजिक की सहायता करने के लिए विकसित किया गया था. 1999 की शुरुआत में रॉबर्ट पेक्निक से मिलने और एक विंगसूट निर्माता कंपनी गठित करने की योजनाओं का पता चलने के बाद बेजिक ने अपने सूट को विकसित करना बंद कर दिया था. फीनिक्स फ्लाई की शुरुआत 2000 के दशक के मध्य में हुई थी.

व्यावसायिक क्षेत्र[संपादित करें]

1999 में फिनलैंड के जरी कुओस्मा और क्रोएशिया के रॉबर्ट पेक्निक ने मिलकर एक ऐसा विंग सूट तैयार किया जो सभी स्काईडाइवरों (हवा में गोता लगाने वालों) के लिए सुरक्षित और सुलभ था. कुओस्मा ने उसी वर्ष बर्ड-मैन इंटरनेशनल लिमिटेड की स्थापना की थी. पेक्निक द्वारा डिजाइन किया गया बर्डमैन का क्लासिक आम जनता को पेश किया गया पहला विंगसूट था. बर्डमैन एक प्रशिक्षक कार्यक्रम बनाकर विंगसूट के सुरक्षित उपयोग का समर्थन करने वाले पहले निर्माता थे. कुओस्मा द्वारा बनाए गए प्रशिक्षक कार्यक्रम का उद्देश्य इस कलंक को दूर करना कि विंगसूट खतरनाक थे और विंगसूट का प्रारंभिक उपयोग करने वालों (आम तौर पर कम से कम 200 कूद वाले स्काइडाइवर) को सुरक्षित रूप से उस रोमांच का मजा लेने का माध्यम प्रदान करना था जिसे स्काइडाइविंग की दुनिया में कभी सबसे खतरनाक करतब माना जाता था. बर्डमैन के प्रशिक्षकों स्कॉट कैम्पोस, चक ब्लू और किम ग्रिफिन की मदद से प्रशिक्षण का एक मानक कार्यक्रम विकसित किया गया जिसने प्रशिक्षकों को तैयार किया.[3] फीनिक्स-फ्लाई, फ्लाई योर बॉडी और नित्रो रिगिंग ने भी एक प्रशिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरूआत की है.

गैर-तकनीकी यांत्रिकी[संपादित करें]

विंगसूट उड़ाका विंगसूट और पैराशूट उपकरण दोनों को पहनकर फ्रीफॉल में प्रवेश करता है. विंगसूट में किसी विमान से बाहर निकालने के लिए कुशल तकनीक की जरूरत होती है जो विमान के दरवाजे की स्थिति और आकार के आधार पर अलग-अलग होती है. इन तकनीकों में शामिल हैं विमान के सापेक्ष अनुकूलन और बाहर निकलते समय हवा की गति, और वह मार्ग जिसमें उड़ाका अपने पैरों और बांहों को उचित समय पर फैलाएगा जिससे कि वह विमान से ना टकरा जाए या सापेक्ष हवा में अस्थिर ना हो जाए. विमान की अग्रगामी गति से उत्पन्न सापेक्ष हवा में विमान से बाहर निकलने के बाद विंगसूट तुरंत उड़ना शुरू कर देगा. किसी ऊंची चट्टान जैसे बेस जम्पिंग साइट से बाहर निकलना या किसी हेलिकॉप्टर, पैराग्लाइड या गर्म हवा के गुब्बारे से बाहर निकलना बुनियादी रूप से किसी गतिमान विमान से बाहर निकलने से अलग है, क्योंकि इसमें बाहर निकालने पर हवा की प्रारंभिक गति अनुपस्थित रहती है. इन स्थितियों में हवा की गति उत्पन्न करने के लिए तीव्रता लाने वाले गुरुत्वाकर्षण बलों का उपयोग कर एक लंबवत गिरावट की आवश्यकता होती है जिसे बाद में विंगसूट उड़ान में बदल सकता है.


जमीन से ऊपर एक सुनियोजित ऊंचाई पर जिसमें कोई स्काइडाइवर या बेस जम्पर आम तौर पर अपने पैराशूट का उपयोग करता है, विंगसूट उड़ाका भी अपने पैराशूट का उपयोग करेगा. पैराशूट को विशेष स्काइडाइविंग या बेस जंपिंग तकनीकों का उपयोग कर एक वांछित लैंडिंग स्थान पर एक नियंत्रित लैंडिंग के लिए उड़ाया जाएगा.

एक विंगसूट उड़ाका एक वांछित मात्रा की उड़ान और खिंचाव बनाने के लिए अपने शरीर के आकार को बदलता रहता है हालांकि ज्यादातर विंग सूट में 2.5 से 1 तक का अनुपात होता है. इसका मतलब यह है कि आगे बढ़ते हुए प्रत्येक फुट की गिरावट से ढ़ाई फीट की बढ़त होती है. शरीर के आकार में हेरफेर से और विंगसूट की डिजाइन संबंधी विशेषताओं का चयन कर कोई उड़ाका अपनी आगे बढ़ने की गति और गिरावट की दर, दोनों को बदल सकता है. पायलट अपने धड़ के आकार को बदलकर, चाप का आकार बनाकर या अपने कंधों, कूल्हों और घुटनों को मोड़कर, और उस आक्रमण के कोण को बदलकर जिसमें विंगसूट सापेक्ष हवा में उड़ान भरता है, और सूट के कपड़ों के पंखों पर प्रयोग की गयी तन्यता की मात्रा को बदलकर उड़ान की इन विशेषताओं में हेरफेर कर सकता है. एक लंबवत स्थिर करने वाले सतह की अनुपस्थिति के परिणाम स्वरूप विचलन अक्ष के आसपास थोड़ी नमी पैदा हो जाती है इसलिए कमजोर उड़ान की तकनीक से एक ऐसा चकरान पैदा होता है जिसके लिए स्काइडाइवर की ओर से रोकने के एक सक्रिय प्रयास की आवश्यकता होती है.

विंगसूट उड़ाके उन फ्रीफॉल कंप्यूटरों के उपयोग से अपने लक्ष्यों के सापेक्ष अपनी क्षमता को माप सकते हैं जो यह बताता है कि कितनी देर तक वह विमान में था, किस ऊंचाई पर उन्होंने अपने पैराशूट का प्रयोग किया और किस ऊंचाई पर उन्होंने फ्रीफॉल में प्रवेश किया. गिरावट की दर गति की गणना और पिछले उड़ानों से इसकी तुलना इस आंकड़े से की जा सकती है. सूट के उड़ान मार्ग का पता लगाने और दर्ज करने के लिए जीपीएस रिसीवरों का भी इस्तेमाल किया जा सकता है, और विश्लेषण करने पर इससे उड़ान के दौरान उड़ने की दूरी की मात्रा का भी पता चल सकता है. बेस जम्पर निकास बिंदुओं पर लैंडमार्कों का उपयोग करने के साथ-साथ पिछली उड़ानों और उसी स्थान पर अन्य बेस जम्परों के उड़ानों के सापेक्ष अपनी क्षमता के निर्धारण के लिए जमीनी चालक दल द्वारा उनके रिकॉर्ड किये गए वीडियो का भी उपयोग कर सकते हैं.

बेली से पृथ्वी के अभिविन्यास तक एक आम स्काइडाइवर का टर्मिनल वेग 110 से 140 मील प्रति घंटा (180-225 किमी/घंटा) के दायरे में होता है. एक विंगसूट इस गति को नाटकीय रूप से कम कर सकता है. एक तात्कालिक वेग -25 मील प्रति घंटा (-40 किमी/घंटा) का दर्ज किया गया है.[4]

त्रि-विंग विंगसूट में बाहों के नीचे और पैरों के बीच तीन अलग-अलग रैम-एयर विंग जुड़े होते हैं. मोनो-विंग विंगसूट डिजाइन में पूरी सूट एक विशाल विंग में शामिल रहती है.

अतिरिक्त विकास[संपादित करें]

विंगपैक[संपादित करें]

एक जेट संचालित विंगपैक

एक अन्य विविधता तथाकथित विंगपैक है जिस पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है जो कार्बन फाइबर में एक स्ट्रैप-ऑन रिजिड विंग से मिलकर बना है.[5] यह एक हैंग-ग्लाइडर और एक विंगसूट के बीच का एक मिश्रण है. विंगपैक 6 के एक ग्लाइड-अनुपात तक पहुंच सकता है और ऑक्सीजन बोतलों तथा अन्य सामग्री के परिवहन की अनुमति देता है.[6]

31 जुलाई को, 2003 एक ऑस्ट्रियाई, फेलिक्स बॉमगार्टनर ने 29,360 फीट (9 किमी) से कूद लगाकर 35 किमी (21.8 मील) से अधिक की दूरी को पार करते हुए 14 मिनट में इंग्लिश चैनल को सफलतापूर्वक पार कर लिया था.[7]

2006 में जर्मन उद्यम ईएसजी ने ग्राइफोन को पेश किया था जिसे विशेष बलों के गुप्त हमलों के उद्देश्य से विशेष रूप से बनाया गया था.[8]

विजबेस (WISBASE)[संपादित करें]

2003 के बाद से [9] कई बेस जम्परों ने विंगसूटों का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है जिसने विजबेस (WiSBASE) को जन्म दिया है जिसे कुछ लोग बेस जम्पिंग का भविष्य और विंगसूट उड़ान के विकास का सर्वोत्तम कोर्स मानते हैं.

एक जोखिम भरा और शानदार तकनीक नजदीकी उड़ान (प्रोक्सिमिटी फ़्लाइंग) है जो पहाड़ों के छोरों और मेड़ों के निकट की उड़ान है.

विजबेस (WiSBASE) का अभ्यास करने वाले मुख्य स्थानों में यूरोप में इसे जेराग और नॉर्वे में ट्रोल्स्टिजेन, स्विट्जरलैंड में लॉटरब्रुनेन और इटली में मोंटे ब्रेंटो बताया जाता है जहां लैंडिंग फील्ड ड्रो के निकट है.


सबसे लंबा सत्यापित विजबेस (WiSBASE) कूद अगस्त 2009 में डीन पॉटर[10] द्वारा लगाई गयी 5.8 किमी (3.6 मील) की कूद है. पॉटर ने आइजर से कूद लगाई थी और उड़ान में 2 मिनट 50 सेकंड का समय बिताकर 7900 फीट (2.4 किमी) की ऊंचाई को कवर किया था.

जेट-संचालित विंगसूट[संपादित करें]

हालांकि यह अभी भी बहुत प्रयोगात्मक है, पावर्ड विंगसूट जिसमें अक्सर पैरों से सटे छोटे जेट इंजिनों[11] या एक विंगपैक सेट-अप का इस्तेमाल किया जाता है, यह एक समान अधिक क्षैतिज यात्रा और एक सामान चढ़ाव की अनुमति देता है.

25 अक्टूबर 2005 को फिनलैंड के लाटी में वीजा पारवाइनेन ने अपने पैरों में लगे दो छोटे टर्बोजेट जेट इंजनों के साथ विंगसूट में एक गर्म हवा के गुब्बारे से छलांग लगाई थी. प्रत्येक टर्बोजेट ने लगभग 16 केजीएफ़ (160 एन, 35 एलबीएफ) का थर्स्ट प्रदान किया और इन्हें मिट्टी के तेल (जेट ए-1) रूपी ईंधन से संचालित किया गया. पारवाइनेन ने ऊंचाई में किसी ध्यान देने योग्य कमी के बिना स्पष्ट रूप से लगभग 30 सेकंड की क्षैतिज उड़ान हासिल की.[11]

क्रिस्टियन स्टैडलर बर्डमैन के मुख्य प्रशिक्षक ने 2005 में जर्मनी से पुरस्कार राशि के साथ पहली अंतरराष्ट्रीय विंग सूट प्रतियोगिता स्काइजेस्टर्स विंग्स ओवर मार्ल का आयोजन किया था. उनकी पहली विश्वस्तरीय उपलब्धि वेगावी3 विंगसूट प्रणाली में एक इलेक्ट्रॉनिक समायोज्य हाइड्रोजन पेरोक्साइड रॉकेट [12] का इस्तेमाल किया जाता है. इस रॉकेट ने 100 केजीएफ़ का थ्रस्ट प्रदान किया है और कोई धुंआ या विषैला धुंआ उत्पन्न नहीं करता है. उनका पहला सफल पावर्ड विंगसूट 2007 में आया था जिसमें 160 मील प्रति घंटे से अधिक की क्षैतिज गति थी.[13]

एक पावर्ड विंगपैक का इस्तेमाल कर यवेस रोसी सिर्फ अपने शरीर की हरकतों से स्टीयरिंग करते हुए एक विमान की कलाबाजी (मेन्युवरेबिलिटी) हासिल करने वाले पहले व्यक्ति बने; हालांकि उनका प्रयोगात्मक विंगपैक पंखों द्वारा इस्तेमाल किये गए ईंधन और निर्माण के लिए आवश्यक सामग्रियों की अत्यधिक लागत के कारण व्यावसायिक रूप से व्यावहारिक नहीं है. फिर भी स्विस आल्पस के ऊपर उनकी आठ-मिनट की उड़ान ने दुनिया भर में सुर्खियां बटोरी और अभी तक "जेट-विंगपैक" सक्षम उड़ान क्षमता वाला एकमात्र विकल्प बना हुआ है.

प्रशिक्षण[संपादित करें]

विंगसूट को उड़ाना किसी स्काइडाइव के लिए काफी जटिल होता है. युनाइटेड स्टेट्स पैराशूट एसोसिएशन (यूएसपीए) के स्काइडाइवरों के सूचना मैनुअल में यह आवश्यकता है कि पहली बार विंगसूट उड़ाने वाले किसी भी जम्पर के पास पिछले 18 महीनों के भीतर निर्मित कम से कम 200 फ्रीफॉल स्काइडाइव होने चाहियें और उसे एक अनुभवी विंगसूट जम्पर से आमने-सामने प्रशिक्षण प्राप्त किया होना चाहिए या किसी प्रशिक्षक के बिना आगे बढ़ने के लिए 500 कूदों का अनुभव होना चाहिए.[14] अन्य देशों में भी आवश्यकताएं एक समान हैं. विंगसूट निर्माता प्रशिक्षण पाठ्यक्रमों की पेशकश करते हैं और प्रशिक्षकों को प्रमाणित करते हैं.

रिकॉर्ड[संपादित करें]

24 सितम्बर 2010 को जापानी विंगसूट पायलट शिन इतो (बर्डमैन इंक 'टॉप गन" टीम) ने कैलिफोर्निया के डेविस उपनगर पर गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स की उड़ान बनायी. 34,620 फीट (10,550 मीटर) एमएसएल 33,430 फीट (10.180 मीटर) एजीएल X पीएसी750एक्सएल की ऊंचाई पर उन्होंने 10.19 मील (16.4 किमी) की क्षैतिज दूरी की उड़ान भरी. निकास बिंदु से लैंडिंग बिंदु तक कुल उड़ान दूरी 11.68 मील (18.8 किमी), सीधी रेखा में दूरी 10.87 मील (17.5 किमी) थी. फ्रीफॉल समय 4 मिनट 57 सेकंड का था. अधिकतम क्षैतिज गति 177.7 मील प्रति घंटे (286 किमी/घंटा) थी.

विंगसूट में उड़ान भरी गयी सबसे लंबी अनधिकृत रिकॉर्ड क्षैतिज दूरी अल्वारो बुल्टो, सैंटी कोरेला और टोनी लोपेज द्वारा तय की गयी 20.45 किलोमीटर (12.7 मील) की दूरी है.[15] तीनों स्पेनियार्डों ने 23 जून, 2005 को 35,000 फीट (10.67 किलोमीटर) की ऊंचाई पर एक विमान से छलांग लगाने के बाद जिब्राल्टर के जलडमरूमध्य को पार किया था.

24 जुलाई 2008 को ऑस्ट्रेलियाई जोड़ी हीथर स्वान और ग्लेन सिंगलमैन ने मध्य ऑस्ट्रेलिया के ऊपर 37,000 फुट (11.27 किमी) की ऊंचाई से छलांग लगाकर सर्वोच्च विंगसूट कूद का एक विश्व रिकॉर्ड बनाया था.[16][17]

फेडरेशन एयरोनॉटिक इंटरनेशनेल ने विंगसूट संरचनाओं के आधिकारिक विश्व रिकॉर्ड के लिए कोई निर्णायक मानदंड स्थापित नहीं किया है. हालांकि कई राष्ट्रीय संगठनों ने रिकॉर्ड श्रेणियां स्थापित की हैं और यह निर्णय देने के लिए कि विंग सूट संरचना पूर्ण है या नहीं, मापदंड स्थापित किया है.

एक राष्ट्रीय रिकॉर्ड के लिए मापदंड पूरा करने की आधिकारिक रूप से मान्यता प्राप्त सबसे बड़ी विंगसूट संरचना में एक एरोहेड संरचना के अंदर 68 जम्पर शामिल थे जिन्होंने 12 नवंबर 2009 को कैलिफोर्निया के लेक एल्सिनोर में एक अमेरिकी राष्ट्रीय रिकॉर्ड कायम किया था.[18]

सबसे बड़ा अनधिकृत रिकॉर्ड एक बी-2 संरचना के रूप में है जिसमें नवंबर 2008 में कैलिफोर्निया के लेक एल्सिनोर में 71 जम्पर शामिल थे.[19]

इन्हें भी देंखे[संपादित करें]

  • बेस (BASE) जंपिंग
  • पैराशूटिंग
  • पतंग में प्रयोग
  • दी जिप्सी मौथ्स
  • हेजार्फेन अहमद सेलेबी

टिप्पणियां[संपादित करें]

  1. "L'uomo volante ce l'ha fatta" (Italian में). Corriere della Sera. 1997-11-01. http://archiviostorico.corriere.it/1997/novembre/01/uomo_volante_fatta_co_0_9711017008.shtml. अभिगमन तिथि: 2011-05-18. 
  2. "Patrick, l'uomo shuttle" (Italian में). La Gazzetta dello Sport. 1997-11-01. http://archiviostorico.gazzetta.it/1997/novembre/01/Patrick_uomo_shuttle_ga_0_971101468.shtml. अभिगमन तिथि: 2011-05-18. 
  3. "Bird-Man Worldwide Instructors list". http://bird-man.com/index.cgi?n=skydivers&q=bmilist. अभिगमन तिथि: 2008-01-28. 
  4. "Wingsuit Flying and Basic Aerodynamics 1". phoenix-fly.com. http://www.phoenix-fly.com/userfiles/PF_Wingsuit%20flying%20and%20Basic%20Aerodynamics_1.pdf. अभिगमन तिथि: 2011-05-18. 
  5. "A Modern-day Lilienthal: Alban Geissler constructs wings for people without nerves". SPELCO GbR. http://www.spelco.eu/edit/content/file/DV141089_en/Press%20Release_1_en.pdf/Get.aspx. अभिगमन तिथि: 2011-05-19. 
  6. "Daily Mail". London: Daily Mail. 2006-06-07. http://www.dailymail.co.uk/news/article-389357/Special-forces-use-strap-Batwings.html. अभिगमन तिथि: 2010-05-18. 
  7. "Birdman Flies Atair Parachutes Across English Channel". Atairaerospace.com. 2003-11-21. http://www.atairaerospace.com/press/2003/11/birdman-flies-atair-parachutes-across.html. अभिगमन तिथि: 2010-05-18. 
  8. "Press release: ESG gives you wings – the parachute system for special operations". ESG. May 15, 2006. http://www.esg.de/en/press/pressreleases/?tid=877. 
  9. मैट गर्डीस, दी ग्रेट बुक ऑफ बेस (BASE) , बर्डब्रेन प्रकाशन, 2010, पृष्ठ 216
  10. आइगर से डीन पॉटर की रिकॉर्ड तोड़ उड़ान,
  11. "First jet powered Birdman flight". Dropzone.com. http://www.dropzone.com/cgi-bin/safety/detail_page.cgi?ID=613. अभिगमन तिथि: 2010-05-18. 
  12. "First living rocket airplane in the world! :: News by". Peroxide Propulsion. 2008-01-03. http://www.peroxidepropulsion.com/news/first-living-rocket-airplane-in-the-world. अभिगमन तिथि: 2010-05-18. 
  13. "First living rocket plane in the world". YouTube. 2008-09-29. http://www.youtube.com/watch?v=OrBbT-uMbI8. अभिगमन तिथि: 2010-05-18. 
  14. "U.S. Parachute Association > SIM > Read > Section 6". Uspa.org. http://www.uspa.org/SIM/Read/Section6/tabid/169/Default.aspx#984. अभिगमन तिथि: 2010-05-18. 
  15. E-Citron SA, www.e-citron.ch. "Wingsuit distance record". Proyecto Alas. http://www.proyecto-alas.com/es/challenges_det.php?id=208. अभिगमन तिथि: 2010-05-18. 
  16. "Central Australia Jump, Sixty Minutes". Video.msn.com. http://video.msn.com/video.aspx?mkt=en-au&brand=ninemsn&playlist=videoByUuids:uuids:45fee8c3-8324-4725-b564-07a1425652ad&showPlaylist=true&from=inline&fg=sixtyminutes. अभिगमन तिथि: 2010-05-18. 
  17. "Furthest Flight Website". Furthestflight.com. http://www.furthestflight.com. अभिगमन तिथि: 2010-05-18. 
  18. "USPA Records: largest wingsuit formation jump". Uspa.org. 2006-05-01. http://www.uspa.org/USPAMembers/RecordsAwards/ExistingRecords/National/tabid/144/Default.aspx. अभिगमन तिथि: 2010-05-18. 
  19. "B-2 formation with 71 jumpers". teamillvision.blogspot.com. 2008-11. http://teamillvision.blogspot.com/2009/01/world-record-wingsuit-71.html. अभिगमन तिथि: 2009-01-15. 

संदर्भ[संपादित करें]

बाह्य कड़ियाँ[संपादित करें]

साँचा:Extreme Sports