लोक सत्ता (पार्टी)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Lok Satta Party
गठन October 1, 2006
मुख्यालय

H.No:5-10-180/A&A1, Band Lanes, Hill Fort Road, Adarshnagar,
Hyderabad-500 001,

Phone No.: +91 22 40405050
प्रकाशन http://news.loksatta.org
जालस्थल http://www.loksatta.org
Election symbol
भारत की राजनीति
राजनैतिक दल
चुनाव

लोक सत्ता पार्टी डा. जयप्रकाश नारायण द्वारा स्थापित भारत की राजनीतिक पार्टी है.[1] 2 अक्टूबर, 2006[2] को लोक सत्ता स्वैच्छिक संगठन द्वारा शुरू हुई.

लोकसत्ता आंदोलन ने पिछले 10 वर्षों में प्रशासनिक और राजनैतिक सुधारों में महत्वपूर्ण परिणाम हासिल किए हैं जिनमें दलबदल को खत्म करने, मंत्रिमंडल के आकार को कम करने,सूचना का अधिकार अधिनियम (आरटीआई), सभी उम्मीदवारों द्वारा आपराधिक रिकॉर्ड और संपत्ति का प्रकटीकरण और कई अधिक संवैधानिक संशोधन शामिल हैं.[कृपया उद्धरण जोड़ें]2009 चुनावों में पार्टी ने सीटी प्रतीक चुना.[3]

संस्थापक[संपादित करें]

इसके संस्थापक डॉ. जयप्रकाश नारायण 1980 बैच के पूर्व आईएएस अधिकारी हैं और आंध्र प्रदेश, भारत से कार्यकर्ता हैं. 1996 में उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और पार्टी शुरू करने से पहले शासन और राजनीति के बारे में लोगों को शिक्षित करने के लिए विभिन्न लोकतांत्रिक आंदोलनों पर काम किया.

कार्यसूची[संपादित करें]

लोक सत्ता पार्टी ने शासन के केंद्र में नागरिकों को स्थापित करने के लिए पचास गारंटी का प्रस्ताव दिया. [4]

प्रतीक[संपादित करें]

पार्टी का झंडा पार्टी के प्रतीक चिह्न का भी काम करता है.[5] आयताकार ध्वज गहरे नीले रंग का है जिस पर शुद्ध सफ़ेद वृत्त है जिसके केंद्र में आयत के रंग का पंच-कोणीय सितारा है. [5] गहरा नीला रंग सागर जिसमें अंत में सभी नदियां जा मिलती हैं, की विशालता, गहराई और समावेशी प्रकृति का प्रतीक है.[5] वृत्त का सफ़ेद रंग शुद्धता का प्रतीक है. रंग धर्म, क्षेत्र, जाति, भाषा और मान्यताओं में विविधता के बीच उद्देश्य और कार्रवाई की एकता का प्रतीक है. [5] पंच-कोणीय नीला सितारा प्रतीक है कि पार्टी दूरस्थ सितारे की टिमटिमाहट से अपना पथ तय करती है न कि गुज़रते हुए जहाजों की रोशनी से.

सितारे के पांच कोने सच्चे लोकतंत्र के पांच स्तंभों का प्रतीक हैं:[5]

  1. स्वतंत्रता
  2. स्वयं-शासन
  3. नागरिक सशक्तिकरण
  4. कानून का शासन और
  5. स्वत-सुधार करने वाली संस्थाएं.[5]

इतिहास[संपादित करें]

लोकसत्ता आंध्र प्रदेश में नागरिक आंदोलन "लोकसत्ता आंदोलन" या लोक सत्ता मूवमेंट के रूप में शुरू हुआ और बाद में वोट जुहू अभियान और वोट मुंबई के साथ देश भर में फैल गया.

लोक सत्ता संगठन ने अन्य नागरिक संगठनों के साथ काम करके दस साल से अधिक वर्षों में अनेक राजनीतिक सुधार लाने पर काम किया है. लोकसत्ता पार्टी इस एहसास के साथ स्थापित की गयी कि है प्रत्यक्ष राजनीति में प्रवेश केवल करने के लिए हमारी प्रणाली में मूलभूत परिवर्तन करने और एक नया राजनीतिक संस्कृति के बारे में लाने के विकल्प . सदस्यता में तेज़ी से विस्तार हुआ और अब ग्रेटर हैदराबाद क्षेत्र में 30,000 और आंध्र प्रदेश में 6,00,000 से अधिक सदस्य हैं. लोकसत्ता पार्टी अब लोकसत्ता महाराष्ट्र, लोकसत्ता कर्नाटक, तमिलनाडु लोकसत्ता सहित कई अन्य राज्यों में है.

चुनाव[संपादित करें]

2008 के उपचुनाव[संपादित करें]

लोक सत्ता (पार्टी) ने पहली बार 2008 में विधानसभा उपचुनाव में चुनाव लड़ा और जिन चार सीटों पर से चुनाव लड़ा उनमें से एक (खैरताबाद) में दूसरे स्थान पर रही.[6] लोक सत्ता पार्टी 10% वोट हासिल करने में सक्षम रही.

2009 के चुनाव[संपादित करें]

जिन 249 विधानसभा सीटों पर पार्टी ने चुनाव लड़ा उनमें से कुक्कटपल्ली विधानसभा क्षेत्र जहां डॉ. जयप्रकाश नारायण को मैदान में उतारा गया था, को अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस (आई) 15,000 से अधिक वोटों के बहुमत से जीतने में सक्षम रही.

यह आंध्र प्रदेश की चुनावी राजनीति में एक ऐतिहासिक क्षण है जब मतदाताओं ने परंपरागत दलों को छोड़कर उस उम्मीदवार के लिए मतदान किया जिस पर उन्हें विश्वास था कि वह प्रणाली में बदलाव लाने में मदद करेगा.

राज्य भर में मतदान का 1.9% और शहरी क्षेत्रों में 6.4% वोट प्राप्त करके लोकसत्ता एक महत्वपूर्ण राजनीतिक दल के रूप में उभरा.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • लोक सत्ता आन्दोलन

संदर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.hindu.com/2009/04/03/stories/2009040358670300.htm
  2. "Jayaprakash Narayan launches Lok Satta". The Times of India, India. http://timesofindia.indiatimes.com/articleshow/2066441.cms. अभिगमन तिथि: 2006-10-02. 
  3. http://www.hindu.com/2009/03/28/stories/2009032853910500.htm
  4. http://www.loksatta.org/cms/index.php?option=com_content&view=article&id=86&Itemid=59
  5. http://www.loksatta.org/cms/index.php?option=com_content&view=article&id=93&Itemid=80
  6. http://www.hindu.com/2009/03/24/stories/2009032457370200.htm

बाह्य लिंक[संपादित करें]