लम्बवत अक्ष का प्रमेय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

स्थिति विज्ञान में लम्बवत अक्ष का प्रमेय (perpendicular axis theorem) जड़त्वाघूर्ण निकालने का एक समीकरण है। यदि किसी समतल में स्थित दो परस्पर लम्बवत अक्षों के परित: किसी पिण्ड का जड़त्वाघूर्ण ज्ञात हो तो इस प्रमेय का उपयोग करके इस समतल के लम्बवत किसी अक्ष के परित: उस पिण्ड का जड़त्वाघूर्ण निकाला जा सकता है। ये तीनों अक्ष उस तल में एकबिन्दुगामी भी होने चाहिये।

माना कि X, Y, एवं Z तीन परस्पर लम्बवत अक्ष हैं और बिन्दु O पर मिलते हैं; तथा-

  • IX पिण्ड का X अक्ष के परित: जड़त्वाघूर्ण है;
  • IY पिण्ड का Y अक्ष के परित: जड़त्वाघूर्ण है;
  • IZ पिण्ड का Z अक्ष के परित: जड़त्वाघूर्ण है;

तो, लम्बवत अक्षों के प्रमेय के अनुसार,

I_Z = I_X + I_Y.

इस नियम का प्रयोग समान्तर अक्ष का प्रमेय एवं स्ट्रेच नियम के साथ करने पर अनेकानेक स्थितियों में पिण्डों के जड़त्वाघूर्ण निकाले जा सकते हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]