रोहिणी (उपग्रह)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
रोहिणी उपग्रह श्रृंखला
संगठन Flag of भारत इसरो
लक्ष्य प्रकार प्रायोगिक उपग्रह
का उपग्रह पृथ्वी
कक्षीय प्रविष्टि तिथि १८ जुलाई १९८० (आर एस - १),
३१ मई १९८१ (आर एस - डी १),
१७ अप्रैल १९८३ (आर एस - डी २)
लॉन्च तिथि १० अगस्त १९७९ (आर टी पी),
१८ जुलाई १९८० (आर एस - १),
३१ मी १९८१ (आर एस - डी १),
१७ अप्रैल १९८३ (आर एस - डी २)
लॉन्च वाहन उपग्रह प्रक्षेपण यान (एस एल वी)
धारक रॉकेट उपग्रह प्रक्षेपण यान (एस एल वी)
लॉन्च स्थल सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र
अभियान काल २० महिने (आर एस - १), ९ दिन (आर एस - डी १), १७ महिने (आर एस - डी २)
कक्षीय डिके ०८ जून १९८१ (आर एस - डी १),
१९ अप्रैल १९९० (आर एस - डी २)
गृह पृष्ठ http://www.isro.org/satellites/experimentalsmallsatellite.aspx
द्रव्यमान ३० किलोग्राम (आर टी पी),
३५ किलोग्राम (आर एस - १),
३८ किलोग्राम (आर एस - डी १),
४१.५ किलोग्राम (आर एस - डी २)
शक्ति ३ वॉट (आर टी पी),
१६ वॉट (आर एस - १,आर एस - डी १,आर एस - डी २)
बैटरियां निकल - कैडमियम
कक्षीय तत्व
व्यवस्था ४०० किलोमीटर परिपत्र पृथ्वी की निचली कक्षा
झुकाव ४६°(आर एस - १, आर एस - डी १, आर एस - डी २)
ऊँचाई ३०५ x ९१९ किलोमीटर (आर एस - १),
१८६ x ४१८ किलोमीटर (आर एस - डी १),
३७१ x ८६१ किलोमीटर (आर एस - डी २)
उपकरण
मुख्य उपकरण प्रक्षेपण वाहन निगरानी, ठोस अवस्था कैमरा (आर एस - डी २)

रोहिणी भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन द्वारा शुरू की गई उपग्रहों की एक श्रृंखला है। रोहिणी श्रृंखला मे चार उपग्रह थे, जो सभी भारतीय उपग्रह प्रक्षेपण वाहन द्वारा प्रक्षेपित किए गये थे और जिसमे से तीन सफलतापूर्वक कक्षा मे स्थापित हो गये। श्रृंखला ज्यादातर प्रयोगात्मक उपग्रहों को प्रायोगिक प्रक्षेपण वाहन एसएलवी द्वारा लाँच करने पर आधारित थी।

श्रृंखला में उपग्रह[संपादित करें]

रोहिणी प्रौद्योगिकी पेलोड (आर टी पी)[संपादित करें]

यह एक 35 किलो प्रयोगात्मक स्पिन स्थिर उपग्रह है जो कि ३ वॉट बिजली का इस्तेमाल करता है और सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से १० अगस्त १९७९ को प्रक्षेपित किया गया था। यह अपनी उद्देश्य कक्षा प्राप्त नहीं कर पाया क्योंकि इसका वाहक रॉकेट एसएलवी केवल आंशिक रूप से ही सफल हो पाया।

आर एस - १[संपादित करें]

यह एक 35 किलोग्राम का प्रयोगात्मक स्पिन स्थिर उपग्रह है जिसमे 16W ऊर्जा का इस्तेमाल होता था और सफलतापूर्वक १८ जुलाई १९८० को सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से 44.7 डिग्री के झुकाव के साथ 305 x 919 किमी की कक्षा में स्थापित किया गया था। उपग्रह ने प्रक्षेपण यान के चतुर्थ मंच का डेटा प्रदान किया था। उपग्रह का कक्षीय जीवन 20 महीने था।

आर एस - डी १[संपादित करें]

यह एक 38 किलो प्रयोगात्मक स्पिन स्थिर उपग्रह है कि सत्ता के 16 डब्ल्यू इस्तेमाल किया गया था और ३१ मार्च १९८१ पर एसएलवी के प्रक्षेपण का शुभारंभ किया इरादा ऊंचाई तक पहुंच नहीं उपग्रह के रूप में एक आंशिक सफलता थी और इस तरह यह केवल रुके कक्षा में लिए गया था 9 दिन. यह 46 के एक झुकाव के साथ 186 x 418 किलोमीटर की कक्षा हासिल डिग्री के उपग्रह सुदूर संवेदन अनुप्रयोगों है कि विनिर्देशों के प्रदर्शन के लिए एक ठोस राज्य कैमरा ले गए।

आर एस - डी २[संपादित करें]

यह एक 41.5 किलो प्रयोगात्मक स्पिन स्थिर उपग्रह है कि सत्ता के 16 डब्ल्यू इस्तेमाल किया गया था और 1983/4/17 पर सफलतापूर्वक 371 x 861 किमी की कक्षा और 46 डिग्री के एक झुकाव में शुरू किया गया था। उपग्रह 17 महीने और उसके मुख्य पेलोड के लिए आपरेशन में था, एक स्मार्ट सेंसर कैमरा 2500 चित्रों पर ले लिया. कैमरा करने के लिए दोनों दृश्य और अवरक्त बैंड में तस्वीरें लेने की क्षमता थी। इसे फिर से 1990/04/19 पर वातावरण में प्रवेश किया


इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • भारतीय उपग्रहों की सूची

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]