रेणु खाटोर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
डा रेणु खाटोर

उत्तर प्रदेश के फरुखाबाद से १९७४ में अट्ठारह वर्ष की अवस्था में अमेरिका आई 53 वर्षीया रेणु खाटोर (Renu Khator) ह्यूस्टन यूनिवर्सिटी की प्रमुख बन गई हैं। रेणु किसी भी प्रतिष्ठित अमेरिकी यूनिवर्सिटी में इतना बड़ा पद पाने वाली पहली भारतवंशी महिला हैं। वे जनवरी 2008 में पदभार संभालेंगी। रेणु कानपुर यूनिवर्सिटी से बैचलर डिग्री लेकर अमेरिका आई थीं। उनके पति श्री सुरेश खाटोर हैं।

ह्यूस्टन यूनिवर्सिटी के बोर्ड ऑफ रीजेंट्स ने एक बैठक के बाद उन्हें संस्थान का अध्यक्ष और यूनिवर्सिटी ऑफ ह्यूस्टन सिस्टम्स का चांसलर घोषित किया। इस घोषणा के बाद अब रेणु ह्यूस्टन के अधीन चार यूनिवर्सिटियों की प्रशासनिक प्रमुख भी बन जाएंगी।

इस यूनिवर्सिटी में 56 हजार से ज्यादा छात्र अध्ययन करते हैं। रेणु को 2003 में साउथ फ्लोरिडा यूनिवर्सिटी का प्रोवोस्ट और सीनियर वाइस प्रेसीडेंट नियुक्त किया गया था।

प्रारम्भिक जीवन[संपादित करें]

रेणु खाटोर का जन्म सन १९५५ में भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के फर्रूखाबाद में हुआ था। उनके पिताजी श्री सतीश चन्द्र माहेश्वरी फर्रूखाबाद के एक सफल वकील थे। रेणु मिशन की प्रारम्भिक शिक्षा मिशन स्कूल में हुई तथा एन ए के पी महाविद्यालय से उन्होने स्नातक की उपाधि अर्जित की। उस समय यह महाविद्यालय कानपुर विश्वविद्यालय के अन्तर्गत था किन्तु बाद में इलाहाबाद विश्वविद्यालय में चला गया।

शिक्षा[संपादित करें]

  • बी ए (कला) - १९७३ - कानपुर विश्वविद्यालय, भारत
  • एम ए (राजनीति शास्त्र) - १९७५ - पुर्डू विश्वविद्यालय, यूएसए
  • पीएच डी (राजनीति शास्त्र / लोक प्रशासन) - १९८५ - पुर्डू विश्वविद्यालय

सम्मान[संपादित करें]

सन २००७ में उन्हे भारत सरकार के तरफ् से हिन्द रत्न का सम्मान दिया गया।

वाह्य सूत्र[संपादित करें]