रोमानिया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(रूमानिया से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
România
Romania
Romania का ध्वज Romania का कुल चिन्ह
ध्वज कुल चिन्ह
राष्ट्रगान: Deşteaptă-te, române!
Awaken, Romanian!
Romania की स्थिति
 रोमानिया  की स्थिति (dark green)

– Europe  (light green & dark grey)
– the European Union  (light green)  —  [Legend]

राजधानी Bucharest (Bucureşti)
44°25′ N 26°06′ E
सबसे बडा़ नगर capital
राजभाषा(एँ) Romanian1
सरकार Unitary semi-presidential republic
 - President Traian Băsescu
 - Prime Minister Victor Ponta
Formation  
 - Transylvania 10th century 
 - Wallachia 1290 
 - Moldavia 1346 
 - First Unification 1599 
 - Reunification of Wallachia and Moldavia January 24, 1859 
 - Officially recognised independence July 13, 1878 
 - Unification with Transylvania December 1, 1918 
यूरोपीय संघ में अधिमिलन January 1, 2007
क्षेत्रफल
 - कुल {{{area}}} किमी² (82nd)
{{{areami²}}} मील²
 - जल(%) 3
जनसंख्या
 - 1 January 2009 अनुमान &&&&&&&021498616.&&&&&02,14,98,616[1] (52nd)
 - 2002 जनगणना 21,680,974
 - जन घनत्व {{{population_density}}}/किमी² (104th)
{{{population_densitymi²}}}/मील²
सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) (पीपीपी) 2008 अनुमान
 - कुल US$270.330 billion[2] ()
 - प्रति व्यक्ति US$12,579[2] ()
मानव विकास सूचकांक  (2008) Green Arrow Up Darker.svg 0.825 (high) (62nd)
मुद्रा Leu (L)2 (RON)
समय मंडल EET (यूटीसी +2)
 - ग्रीष्म (DST) EEST (यूटीसी +3)
इंटरनेट टीएलडी .ro .eu
दूरभाष कोड +40
1 Other languages, such as Hungarian, German, Turkish, Crimean Tatar, Greek, Romani, Croatian, Ukrainian and Serbian, are official at various local levels.
2 Romanian War of Independence.
3 Treaty of Berlin.

रोमानिया (उच्चारित/roʊˈmeɪniə/ (Speaker Icon.svg सुनें);प्राचीन: Rumania (रूमानिया) , Roumania (रौमानिया) ;साँचा:Lang-roसाँचा:IPA-ro) काले सागर की सीमा पर, कर्पेथियन चाप के बाहर और इसके भीतर, निचले डेन्यूब पर, बाल्कन प्रायद्वीप के उत्तर में, दक्षिणपूर्वी और मध्य यूरोप में स्थित एक देश है[3]. लगभग पूरा डेन्यूब डेल्टा इसी क्षेत्र के भीतर स्थित है. इसकी सीमा पश्चिम में हंगरी और सर्बिया से, उत्तर पूर्व में यूक्रेन और माल्दोवा के गणराज्य से, और दक्षिण में बुल्गेरिया से जुडी है.

इस क्षेत्र के इतिहास में देकियन्स, रोमन साम्राज्य, बुल्गारिया साम्राज्य, हंगरी के साम्राज्य, और ओटोमन साम्राज्य का शासन रहा. एक राष्ट्र-राज्य के रूप में, देश का निर्माण 1859 में मोल्दाविया और वलाकिया के विलय से हुआ और 1878 में इसकी स्वतंत्रता को मान्यता प्राप्त हुई. बाद में, 1918 में, ट्रांसिल्वेनिया, बुकोविना, और बेसर्बिया भी इसमें शामिल हो गए. द्वितीय विश्व युद्ध के अंत में, इसके प्रदेशों के कुछ हिस्सों (मोटे तौर पर वर्तमान का माल्दोवा) पर सोवियत संघ का कब्जा था और रोमानिया वर्साय की संधि का एक सदस्य बन गया. 1989 में लौह परदे के पतन के साथ, रोमानिया ने राजनैतिक और आर्थिक सुधारों की श्रृंखला शुरू कर दी. क्रांति के बाद की आर्थिक समस्याओं के एक दशक बाद, रोमानिया ने आर्थिक सुधार किये जैसे 2005 में फ्लैट कर की दर को कम कर दिया और 1 जनवरी, 2007 को यूरोपीय संघ में शामिल हो गया. हालांकि रोमानिया का आय स्तर यूरोपीय संघ में सबसे कम स्तरों में से एक रहता है, सुधार ने विकास की गति को बढाया है. रोमानिया अब एक उच्च मध्यम आय वर्ग की अर्थव्यवस्था से युक्त देश है.

रोमानिया यूरोपीय संघ के सदस्य राज्यों में नौवां सबसे बड़ा क्षेत्र है और इसकी जनसंख्या सातवें स्थान पर अधिकतम (21.5 मिलियन लोगों के साथ)[4] है. इसकी राजधानी और सबसे बड़ा शहर बुकेरेस्ट है (साँचा:Lang-roसाँचा:IPA-ro), जो 1.9 मिलियन लोगों के साथ यूरोपीय संघ का छठा सबसे बड़ा शहर है. 2007 में, ट्रांसिल्वेनिया में एक शहर सिबियु, को यूरोप की सांस्कृतिक राजधानी चुना गया.[5] रोमानिया 29 मार्च 2004 को नाटो में भी शामिल हो गया, और यह लैटिन संघ का एक सदस्य है, साथ ही OSCE के फ्रान्कोफोनिए का भी सदस्य है, और CPLP का एक सहयोगी सदस्य है. रोमानिया एक अर्द्ध राष्ट्रपति संघात्मक राज्य है.

परिचय[संपादित करें]

रोमानिया स्थिति : 43°6' से 48°5' उ.अ. तथा 20°4' से 31°0' पू.दे.। यह यूरोप महाद्वीप में स्थित एक स्वतंत्र देश है। इसका क्षेत्रफल 91,671 वर्ग मील यहाँ के लगभग 85 प्रतिशत निवासी रोमानिया की भाषा बोलते हैं।

रोमानिया 'अन्न का देश' कहा जाता है। यहाँ पर लोहे और कोयले की कमी है एवं पूँजी का अभाव तथा बाजार सीमित है, इसलिए यहाँ के 10 प्रतिशत मनुष्य ही उद्योग धंधों पर आश्रित हैं। ट्रैसिलवनिया के पूर्वी तथा पश्चिमी प्रदेशों में गेहूँ तथा मक्के की खेती होती है। प्राचीन ढंग से खेती होते हुए भी यहाँ गेहूँ अधिक पैदा होता है। चुकंदर, तंबाकू तथा अंगूर गौण उपज है।

रोमानिया में अनेक खनिज पदार्थ भी उपलब्ध हैं, जैसे खनिज तेल, सोना, ताँबा, सीसा, चाँदी, मैंगनीज, ऐंटीमनी, जस्ता आदि। पूर्वी मैदानों के पहाड़ी पेद्रश में खनिज तेल का वार्षिक उत्पादन 60 लाख टन से भी अधिक होता है। तेल के उत्पादन में संसार में रोमानिया का छठा स्थान है। नलों द्वारा तेलक्षेत्र काले सागर पर स्थित कॉन्स्टानत्सा बंदरगाह से संबद्ध है। कच्चा लोहा ट्रैसिलबेनिया में मिलता है।

रोमानिया के पश्चिमी प्लेटों में ओक, बांज (beech) बीच आदि के वृक्ष पाए जाते हैं। शराब, कागज, आटा और रासायनिक पदार्थ बनाना यहाँ के प्रमुख उद्योग हैं।

बुकारेस्ट यहाँ की राजधानी तथा रेलों का केंद्र है। गोलाट्ज़ डैन्यूब नदी पर स्थित बंदरगाह है, जहाँ से गेहूँ तथा तेल का निर्यात होता है। कॉन्स्टानत्सा काले सागर पर स्थित रोमानिया का मुख्य बंदरगाह है।

व्युत्पत्ति[संपादित करें]

रोमानिया का नाम (साँचा:Lang-ro) से आया है साँचा:Lang-roजो साँचा:Lang-lat(रोमन) का व्युत्पन्न है.[6] एक तथ्य कि खुद रोमानियन अपने आप को Romanus (रोमानस) (साँचा:Lang-ro) का व्युत्पन्न कहते हैं, का उल्लेख 16 वीं शताब्दी में कई लेखकों के द्वारा किया गया, इस तथ्य का उल्लेख करने वालों में ट्रांसिल्वेनिया, मोलदाविया और वलाकिया में यात्रा करने वाले मानवतावादी इटालवी लेखक भी शामिल हैं.[7][8][9][10] रोमानियाई भाषा में लिखित सबसे पुराना उपस्थित दस्तावेज एक 1521 पत्र है जिसे "Câmpulung (केम्पुलंग) से Neacşu (नेक्सू) के पत्र" के रूप में जाना जाता है.[11] यह दस्तावेज एक रोमानियाई लिखित पाठ में पहली "रुमानियन" उपस्थिति के लिए भी महत्वपूर्ण है. यहाँ पर वलाकिया को रुमानियन भूमि- Ţeara Rumânească (तेरा रुमानेस्का) (Ţeara (तेरा) लातिन : Terraभूमि से) के रूप में जाना जाता है. बाद की शताब्दियों में, रोमानियाई दस्तावेजों में एक दूसरे के लिए दो वर्तनी के रूपों का प्रयोग किया गया है: Român (रोमन) और Rumân (रुमन) .[note 1] सत्रहवीं शताब्दी के अंत में सामाजिक-भाषायी विकास ने विभेदन की प्रक्रिया को जन्म दिया: "rumân (रुमन)" रूप निम्न वर्गों में अधिक आम है, जिस अर्थ "बंधक व्यक्ति" से है, जबकि român (रोमन) रूप का अर्थ एथ्नो-भाषायी है.[12] 1746 में दासत्व की समाप्ति के बाद, "rumân (रुमन)" रूप धीरे धीरे गायब हो गया और वर्तनी निश्चित रूप से "roman (रोमन)", "românesc (रोमानेस्क)" पर आकर स्थिर हो गयी.[note 2] नाम "România (रोमानिया)" सभी रोमानियन लोगों के लिए सामान्य भूमि है जिसका दस्तावेजीकरण 19 वीं शताब्दी के आरंभ में किया गया. [note 3] यह नाम 11 दिसम्बर 1861 के बाद से आधिकारिक तौर पर उपयोग किया जा रहा है.[13]

अंग्रेजी भाषा के स्रोत अभी भी शब्द "Rumania (रूमानिया)" या "Roumania (रौमानिया) " का उपयोग करते हैं, जिसे द्वितीय विश्व युद्ध के समय फ्रांसीसी वर्तनी "Roumanie (रौमानी)" से लिया गया,[14] लेकिन तब से इन शब्दों को बड़े पैमाने पर अधिकारिक [15] वर्तनी "Romania (रोमानिया) " से प्रतिस्थापित कर दिया गया है.

इतिहास[संपादित करें]

प्रागितिहास और धरोहर[संपादित करें]

सबसे पुराने आधुनिक मानव अवशेष यूरोप में "अस्थियों से युक्त गुफाओं (Cave With Bones)" में मिलते हैं, जो वर्तमान में रोमानिया में है.[16] ये अवशेष लगभग 42,000 साल पुराने हैं और यूरोप के सबसे पुराने होमो सेपियन्स के अवशेष हैं, ये महाद्वीप में प्रवेश करने वाले ऐसे पहले लोगों का प्रतिनिधित्व करते हैं.[17] लेकिन वर्तमान रोमानिया के राज्य क्षेत्र में रहने वाले लोगों के सबसे पुराने लिखित प्रमाण हिरोडोटस के इतिहास की पुस्तक IV में मिले हैं, जो 440 BCE में लिखी गयी थी, जहां वे गेटे जनजातियों के बारे में लिखते हैं.[18]

देकियन जिसे इस गेटे का एक भाग माना जाता है, ये थ्रकियन्स की एक शाखा थे, ये देकिया में रहते थे (आधुनिक रोमानिया, माल्दोवा, और उत्तरी बुल्गेरिया से सम्बंधित) देकियन साम्राज्य 82 ई.पू. के आसपास राजा बुरेबिस्ता के काल में अपने अधिकतम विस्तार पर पहुँच गया, और जल्दी ही पडौसी रोमन साम्राज्य के दायरे में आ गया. 87 ई. में देकियन्स के द्वारा मोजिया के रोमन प्रान्त पर आक्रमण के बाद, रोमन लोगों ने युद्धों की एक श्रृंखला शुरू कर दी (देकियन युद्ध) जिसमें अंत में सम्राट ट्राजन को 106 ई. में विजय प्राप्त हुई, और साम्राज्य के केंद्र को रोमन देकिया के प्रान्त में रूपान्तरित कर दिया गया.[19]

इस प्रान्त में बहुत अधिक अयस्क पाए जाते थ और विशेष रूप से सोना और चांदी पर्याप्त मात्रा में थे.[20] जिसने रोम को एक भारी औपनिवेशिक प्रान्त बना दिया.[21] इससे असभ्य लैटिन आ गयी और तीव्र रोमानीकरण की अवधि शुरू हुई, जिसने प्रोटो रोमानियन लोगों को जन्म दिया.[22][23] फिर भी, तीसरी शताब्दी ई. में, प्रवासी आबादी जैसे गोथ्स के आक्रमण के बाद, रोमन साम्राज्य पर 271 ई. में देकिया को बाहर निकालने का दबाव बन गया, इस प्रकार से यह छोड़ दिया जाने वाला पहला प्रान्त बन गया.[24][25]

कई प्रतिस्पर्धी सिद्धांत उत्पन्न हुए जो आधुनिक रोमानियन लोगों की उत्पत्ति की व्याख्या करते हैं. भाषाई और भू-ऐतिहासिक विश्लेषण इंगित करता है कि रोमानियन डेन्यूब के उत्तरी और दक्षिणी दोनों के एक प्रमुख जातीय समूह के रूप में पाए जाते हैं.[26] आगे की चर्चा के लिए, देखें ओरिजिन ऑफ़ रोमानियन्स अर्थात रोमानियन की उत्पत्ति.

मध्य युग[संपादित करें]

ब्रान कास्टल को 1212 में बनाया गया, और यह कई मिथकों के बाद ड्रेकुला के कास्टल के रूप में जाना जाने लगा, ऐसा कहा जाता था की यह इम्पेलर के व्लेड III का घर था.

रोमन सेना और प्रशासन के द्वारा देकिया को छोड़ दिए जाने के बाद, क्षेत्र पर गोथ के द्वारा आक्रमण किया गया,[27] उसके बाद, चौथी शताब्दी में हून ने इन पर आक्रमण किया[28]. इसके बाद खानाबदोश जनजातियों ने इसका अनुसरण किया, इसमें शामिल थे गेपिड,[29][30] अवर्स,[31] बुल्गर्स,[29] पेचेनेग्स,[32] और क्युमन्स.[33]

मध्य युग में, रोमानियन लोग तीन अलग अलग रियासतों में रहते थे: वलाकिया (साँचा:Lang-ro -"रोमानियाई भूमि"), मोल्दाविया (साँचा:Lang-ro) और ट्रांसिल्वेनिया. 11 वीं सदी तक ट्रांसिल्वेनिया हंगरी के राज्य का एक स्वायत्त भाग बन गया,[34] और 16 वीं सदी से[35] 1711 तक,[36] ट्रांसिल्वेनिया की रियासत के रूप में स्वतंत्र हो गया. अन्य रोमानियाई रियासतों में कई छोटे राज्य विकसित हुए जिनका स्वतंत्रता का अंश अलग अलग था, लेकिन केवल चौदहवीं शताब्दी में ही बड़ी रियासतें वलाकिया (1310) और मोल्दाविया (लगभग 1352) विकसित हुईं जिन्होंने ओटोमन साम्राज्य के साथ युद्ध का सामना किया.[37][38] व्लेद III द इम्पेलर (Vlad III the Impaler) ने ओटोमन साम्राज्य के संबंध में एक स्वतंत्र नीति को बनाए रखा, और, 1462 में, द नाईट अटैक (रात के हमले) के दौरान महमद II को हरा दिया.[39]

1541 तक पूरा बाल्कन प्रायद्वीप और हंगरी का अधिकांश भाग तुर्क प्रान्त बन गए. इसके विपरीत, मोल्दाविया, वलाकिया, और ट्रांसिल्वेनिया, तुर्क आधिपत्य के अर्न्तगत आ गए, लेकिन इन्होने पूरी तरह से आंतरिक स्वायत्तता को संरक्षित रखा, और 18 वीं शताब्दी तक, कुछ बाहरी स्वतंत्रता को भी बनाये रखा. इस अवधि के दौरान रोमानियाई भूमि धीरे धीरे सामंती व्यवस्था के कारण गायब होने लगी; मोल्दाविया, मतेइ बसारब, व्लेद III द इम्पेलर (Vlad III Impaler) में कुछ शासकों जैसे स्टीफन द ग्रेट, वेसेल लुपू, और डिमीट्री कन्तेमीर और वलाकिया में कोन्सटेनटिन ब्रंकोवेनु) (Constantin Brâncoveanu), ट्रांसिल्वेनिया में गेब्रील बेथ्लेन; फ़नारिओत युग; और रुसी साम्राज्यों की उत्पत्ति एक राजनैतिक और सैन्य प्रभाव के रूप में उभरी.[40]

16 वीं सदी के अंत में मोलदाविया, वलाकिया और ट्रांसिल्वेनिया

1600 में, वलाकिया, मोल्दोवा, और ट्रांसिल्वेनिया की रियासतों पर एक साथ वलाकिया के राजकुमार, माइकल द ब्रेव (मिहाई विटेज़ुल ), बेन ऑफ़ ओल्तेनिया का शासन था, लेकिन केवल एक ही साल के बाद, एक ऑस्ट्रियाई सेना जनरल जिओर्जियो बास्ता के द्वारा मिहाई के मारे जाने के बाद संलयन की सम्भावना ख़त्म हो गयी. मिहाई विटेज़ुल, जो एक साल से भी कम समय के लिए ट्रांसिल्वेनिया के राजकुमार रहे, उन्होंने पहली बार तीनों रियासतों को मिलाने का इरादा बनाया था, और उन्होंने आज के रोमानिया की तुलना में एक ही क्षेत्र में एक ही राज्य की नींव रखी.[41]

उनकी मृत्यु के बाद, मातहत सहायक राज्यों के रूप में, मोल्दोवा और वलाकिया ने आंतरिक स्वायत्ता को और एक बाहरी स्वतंत्रता को पूरा कर लिया था, जो अंततः 18 वीं सदी में खो गयी. 1699 में, ट्रांसिल्वेनिया हेब्स्बर्ग के ऑस्ट्रिया के साम्राज्य का क्षेत्र बन गया, जिसके बाद महान तुर्की युद्ध में तुर्क पर ऑस्ट्रिया की विजय हुई. अपनी बारी में ऑस्ट्रियाई लोगों ने, तेजी से अपने साम्राज्य को विस्तृत किया: 1718 में, वलाकिया का एक महत्वपूर्ण भाग जो ओल्तेनिया कहलाता था, उसे ऑस्ट्रिया के राजतंत्र में शामिल किया गया और यह केवल 1739 में वापस आया. 1775 में ऑस्ट्रिया के साम्राज्य में मोल्दाविया का उतरी पश्चिमी भाग शामिल था, जो बाद में बुकोविना कहलाया, जबकि रियासत का आधा पूर्वी भाग (बेसर्बिया कहलाता था) 1812 में रूस के कब्जे में आ गया.[40]

स्वतंत्रता और राजतन्त्र[संपादित करें]

प्रथम विश्व युद्ध से पहले वे प्रान्त जहां रोमानियन रहते थे.

ट्रांसिल्वेनिया में ऑस्ट्रो-हंगेरियन शासन की अवधि के दौरान, और मोल्दाविया और वलाकिया पर तुर्क आधिपत्य के दौरान, क्षेत्र में अधिकांश रोमानियन दूसरी श्रेणी के नागरिकों की श्रेणी में थे, (या यहाँ तक की गैर-नागरिक),[42] जहां उन्होंने जनसंख्या के बहुमत का निर्माण किया.[43][44] कुछ ट्रांसिल्वेनिया के शहरों में जैसे ब्रसोव (Braşov) (उस समय क्रोंसटेड के ट्रांसिल्वेनियाई सेक्सन गढ़) में, रोमानियाई लोगों को यहां तक की शहर की दीवारों के भीतर रहने की अनुमति नहीं थी.[45]

1848 की असफल क्रांति के बाद, महान शक्तियों ने रोमानियाई लोगों की अधिकारिक रूप से एक राज्य में बदल जाने की इच्छा को समर्थन नहीं दिया, जिससे रोमानिया पर एक दबाव बन गया कि वह तुर्क के विरुद्ध अकेले आगे बढे. मोल्दाविया और वलाकिया दोनों में निर्वाचकों ने 1859 में एक ही व्यक्ति –एलेग्जेंडरु इओअन क्युजा (Alexandru Ioan Cuza)– को राजकुमार (रोमानियन में Domnitor (डोमनीटर) )चुना.[46] इस प्रकार, रोमानिया एक निजी संघ बन गया, हालांकि इस रोमानिया में ट्रांसिल्वेनिया को शामिल नहीं किया गया था. यहां उच्च वर्ग और अभिजात वर्ग मुख्य रूप से हंगरी रहे, और 19 वीं सदी में रोमानियाई राष्ट्रवाद अनिवार्य रूप से हंगरी के खिलाफ हो गया. पिछले 900 वर्षों में, ऑस्ट्रिया-हंगरी ने, विशेष रूप से 1867 के दोहरे राजतन्त्र में, हंगरी को भारी नियंत्रण में रखा, यहां तक कि ट्रांसिल्वेनिया के भागों में भी जहां रोमानिया का स्थानीय बहुमत है.

1866 में तख्तापलट d'état में, क्यूज़ा को निर्वासित कर दिया गया और होहेनज़ोलर्न-सिग्मारिन्गेन (Hohenzollern-Sigmaringen) के राजकुमार कार्ल ने उन्हें प्रतिस्थापित कर दिया, जो रोमानिया के राजकुमार कैरोल के रूप में जाने गए. रूसी-तुर्की युद्ध के दौरान, रोमानिया रूस के पक्ष में लड़ा,[47] 1878 की बर्लिन की संधि में रोमानिया को महान शक्तियों ने एक स्वतंत्र राज्य का दर्जा दिया.[48][49] बदले में, रोमानिया ने बेसर्बिया के तीन दक्षिणी जिलों को रूस को सौंप दिया और दोब्रुजा को ले लिया. 1881 में, रियासत एक साम्राज्य में बदल गयी, और राजकुमार राजा कैरोल I बन गया.

1878-1914 की अवधि रोमानिया के लिए स्थिरता और प्रगति की अवधि थी. दूसरे बाल्कन युद्ध के दौरान, रोमानिया बुल्गारिया के खिलाफ ग्रीस, सर्बिया, मोंटेनेग्रो और तुर्की में शामिल हो गया. और बुकेरेस्ट की शांति संधि (1913) में रोमानिया ने दक्षिणी दोब्रुज़ा का प्राप्त कर लिया.[50]

विश्व युद्ध और ग्रेटर रोमानिया[संपादित करें]

(1916-1945)
20 वीं सदी के दौरान रोमानियाई क्षेत्र: बैंगनी 1913 से पहले पुराने साम्राज्य इंगित करता है, गुलाबी ग्रेटर रोमानिया क्षेत्रों को इंगित करता है, जो प्रथम विश्व युद्ध के बाद मिल गए और द्वितीय विश्व युद्ध के बाद ऐसे ही बने रहे, और नारंगी उन क्षेत्रों को इंगित करता है जो प्रथम विश्व युद्ध के बाद मिल गए और दुसरे बाल्कन युद्ध के बाद कब्जा कर लिए गए, लेकिन द्वितीय विश्व युद्ध के बाद खो गए. छोटे हर्तज़ा क्षेत्र भी बैंगनी लेकिन सीमांकित हैं, ये 1913 से पहले पुराने साम्राज्य का भाग थे, लेकिन द्वितीय विश्व युद्ध के बाद खो गए.

अगस्त 1914 में जब प्रथम विश्व युद्ध हुआ, रोमानिया ने तटस्थता की घोषणा कर दी. दो साल बाद, सहयोगियों (खासकर फ्रांस, जो एक नया मोर्चा खोलने के लिए बेताब था) के दबाव में, 14/27 1916 अगस्त को, रोमानिया सहयोगी दल में शामिल हो गया, और ऑस्ट्रिया-हंगरी पर युद्ध की घोषणा कर दी. इस कार्रवाई के लिए, गुप्त सैनिक सम्मेलन की शर्तों के तहत, रोमानिया को सभी रोमानियाई लोगों के लिए अपनी राष्ट्रीय एकता के लक्ष्य के लिए समर्थन का वादा किया गया.[51]

रोमानियाई सैन्य अभियान का अंत रोमानियाके लिए एक विनाश के रूप में हुआ, क्योंकि केन्द्रीय शक्तियों ने देश के दो तिहाई हिस्से पर विजय प्राप्त कर ली या चार माह के भीतर इसकी सेना के अधिकांश भाग को मार डाला. फिर भी, 1917 में आक्रमणकारी बालों के रुक जाने के बाद मोल्दाविया रोमानिया के हाथों में ही रहा. युद्ध के अंत तक, ऑस्ट्रिया-हंगरी और रूसी साम्राज्य गिर कर विघटित हो गया; 1918 में बेसर्बिया, बुकोविना, और ट्रांसिल्वेनिया ने रोमानिया के साम्राज्य के साथ मिल जाने की घोषणा की. 1914 से 1918 तक समकालीन सीमाओं के भीतर, सैनिकों और नागरिकों, की होने वाली कुल मौतों की संख्या, अनुमानतः 748,000 थी.[52] 1920 तक ट्राईनोन की संधि में, हंगरी ने रोमानिया के पक्ष में ट्रांसिल्वेनिया पर ऑस्ट्रो-हंगरी राजतन्त्र के सभी दावों को छोड़ दिया.[53] बुकोविना के साथ रोमानिया के विलेय की पुष्टि 1919 में सेन्ट जर्मन की संधि में हुई,[54] और बेसर्बिया के साथ 1920 में पेरिस की संधि में हुई.[55]

रोमानियाई अभिव्यक्ति România Mare (रोमानिया मेयर) (शाब्दिक अनुवाद "महान रोमानिया", लेकिन अधिक सामान्यतया "ग्रेटर रोमानिया") का सन्दर्भ सामान्यतः युद्ध के दौरान की अवधि में, और विस्तार से, रोमानियाई राज्य से है, वह रोमानिया प्रान्त जो उस समय पर कवर हो रहा है (नक्शा देखें). रोमानिया ने उस समय अपनी अधिकतम क्षेत्रीय सीमा प्राप्त की (लगभग 3,00,000 कि.मी./1,20,000 वर्ग मील),[56] इसने सम्पूर्ण रोमानियन भूमि को विलेय कर लिया.[56]

Romania1941.png

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, रोमानिया ने फिर से तटस्थ रहने की कोशिश की, लेकिन 28 जून 1940 को इसे एक सोवियत चेतावनी दी गयी की गैर-अनुपालन की स्थिति में उस पर हमला किया जा सकता है.[57] मास्को और बर्लिन के दबाव के चलते, रोमानियाई प्रशासन और सेना को युद्ध से बचने के लिए बेसर्बिया और उत्तरी बुकोविना से पीछे हटना पडा.[58] इसने, अन्य कारकों के साथ संयोजन में, सरकार को अक्षीय शक्तियों में शामिल होने के लिए प्रेरित किया. इसके बाद, दक्षिणी दोब्रुजा को बुल्गारिया को दे दिया गया, जबकि अक्षीय मध्यस्थता के परिणामस्वरूप हंगरी को उत्तरी ट्रांसिल्वेनिया प्राप्त हुआ.[59] सत्तावादी राजा कैरोल II को 1940 में राष्ट्रीय लीजन राज्य के द्वारा हटा दिया गया, इस दौरान शक्तियां संयुक्त रूप से इओन एंटोनेस्क्यु (Ion Antonescu) और आयरन गार्ड (Iron Guard) के पास थीं. महीने के भीतर, एंटोनेस्क्यु (Antonescu) ने आयरन गार्ड को कुचल डाला, और अगले वर्ष में रोमानिया अक्षीय शक्तियों की तरफ से युद्ध में शामिल हो गया. युद्ध के दौरान रोमानिया नाजी जर्मनी के लिए तेल का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत था,[60] जिसने सहयोगी दल द्वारा कई बम हमलों को आकर्षित किया. सोवियत संघ के अक्षीय आक्रमण के माध्यम से, रोमानिया ने जनरल आयन एन्टोंनेस्क्यु के नेतृत्व में सोवियत रूस से बेसर्बिया और उत्तरी बुकोविना को वापस ले लिया. एन्टोंनेस्क्यु शासन ने विध्वंस में एक प्रमुख भूमिका निभायी,[61] जिसके बाद रोमन और यहूदियों के नरसंहार और उत्पीडन की नाजी निति की सीमा कुछ कम हो गयी, और प्राथमिक रूप से पूर्वी प्रदेशों में रोमानिया ने सोवियत संघ (ट्रांसनिस्ट्रिया) से माल्दोविया में कब्जा वापस ले लिया.[62]

अगस्त 1944 में, एन्टोंनेस्क्यू को रोमानिया के राजा माइकल I के द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया. रोमानिया ने पक्ष बदल दिया और सहयोगी दल में शामिल हो गया, लेकिन नाजी जर्मनी की हार में इसकी भूमिका को 1947 में पेरिस शांति सम्मलेन के द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं हुई.[63] युद्ध के अंत तक, रोमानियाई सेना को 300,000 हताहतों का सामना करना पड़ा था.[64] यहूदी नरसंहार के पीड़ितों की संख्या 1939 की सीमाओं के भीतर 469,000 थी, जिसमें बेसर्बिया और बुकोविना के 325,000 पीड़ित भी शामिल थे.[65]

साम्यवाद[संपादित करें]

(1945-1989)

[[चित्र:Coat_of_arms_of_PCR.svg‎IMAGE_OPTIONSThe coat of arms of the [[]] देश में अभी भी तैनात रेड आर्मी बालों के साथ और डी-फेक्टो नियंत्रण के साथ, कम्युनिस्ट से प्रभावित सरकार ने नए चुनाव बुलाये, जिसमें चुनावी धोखाधडी और धमकियों के माध्यम से 80% वोटों के साथ विजय प्राप्त की.[66] इस तरह से उन्होंने अपने आप को तेजी से प्रमुख राजनीतिक शक्ति के रूप में स्थापित कर लिया.

1947 में, साम्यवादियों ने राजा माइकल I पर दबाव डाला कि वह देश छोड़ दे, और रोमानिया को एक जनवादी गणराज्य घोषित कर दिया.[67][68] रोमानिया 1950 के अंत तक प्रत्यक्ष सैन्य व्यवसाय और के सोवियत संघ के आर्थिक नियंत्रण के अर्न्तगत बना रहा. इस अवधि के दौरान, रोमानिया के विशाल प्राकृतिक संसाधन लगातार व्यर्थ होते रहे,[69] इन्हें शोषक प्रयोजनों के लिए मिश्रित सोवियत रोमानियन कम्पनियों (सोवरोम्स) के द्वारा व्यर्थ किया जाता रहा.[69][70]

1940 के दशक के अंत से 1960 के दशक के शुरू तक कम्युनिस्ट सरकार ने आतंक के एक राज्य की स्थापना की, इसे मुख्य रूप से सेक्युरीटेट (नयी गुप्त पुलिस)के माध्यम से किया गया . इस अवधि के दौरान उन्होंने "राज्य के दुश्मनों" को नष्ट करने के लिए कई अभियान शुरू किये, जिसमें मनमाने राजनैतिक और आर्थिक कारणों के लिए असंख्य लोगों को मर दिया गया या जेल में डाल दिया गया.[71] सजा में शामिल था निर्वासन, आंतरिक निर्वासन, और मजबूर श्रम शिविरों और जेलों पर नजर; असंतोष को तेजी से दबा दिया गया. इस अवधि में एक पायटेस्टी जेल में एक कुख्यात प्रयोग किया गया, जिसमें राजनीतिक विरोधियों के एक समूह को यातना के माध्यम से पुनः शिक्षित किया गया. ऐतिहासिक रिकॉर्ड में लोगों की एक बड़ी संख्या के खिलाफ गलत व्यवहार, मौतों और यातना की घटनाओं के सैंकडों हजारों उदाहरण मिलते हैं, ये लोग या तो आम नागरिक थे या राजनैतिक विरोधी.[72]

1965 में, Nicolae Ceauşescu सत्ता में आये और उन्होंने स्वतंत्रता की नीतियों को लागू करना शुरू किया, जैसे एकमात्र वर्साय संधि का देश होते हुए सोवियत की निंदा की-चेकोस्लोवाकिया के 1968 के आक्रमण का नेतृत्व किया, और 1967 के छह दिन के युद्ध के बाद इजराइल के साथ कूटनीतिक संबंध जारी रखे; जर्मनी के संघीय गणराज्य के साथ आर्थिक (1963) और कुटनीतिक (1967) सम्बन्ध स्थापित किये.[73] इसके अलावा, अरब देशों के साथ घनिष्ठ संबंध (और PLO)) की वजह से रोमानिया ने इजराइल-इजिप्ट और इजराइल-PLO शांति प्रक्रियाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी.[74] लेकिन जैसे जैसे 1977 और 1981 के बीच रोमानिया का विदेशी ऋण बहुत तेजी से बढ़ गया (3 बिलियन अमेरिकी डॉलर से बढ़ कर 10 बिलियन हो गया),[75] अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय संगठन का प्रभाव जैसे IMF या विश्व बैंक का प्रभाव बढा, जिससे निकोले सिसेसू (Nicolae 'Ceauşescu) की निरंकुश नीतियों के प्रति विरोध बढ़ गया. अंत में उन्होंने विदेशी ऋण की पूर्ण प्रतिपूर्ति की एक परियोजना शुरू की, इसके लिए ऐसी नीतियां लागू की जिनसे रोमानियाई लोगों और थक चुकी रोमानियाई अर्थव्यवस्था में सुधार हुआ, साथ ही पुलिस राज्य के प्राधिकरण का भी बहुत विस्तार हुआ, और व्यक्तित्व के एक पंथ को अध्यारोपित किया गया. इससे सिसेसू (Ceauşएस्कु) की लोकप्रियता में काफी कमी हुई और अंततः उसे हटा दिया गया और 1989 की खूनी रोमानियन क्रांति ख़त्म हो गयी.

2006 में, रोमानिया में कम्युनिस्ट तानाशाही के अध्ययन के लिए राष्ट्रपति आयोग ने दो मिलियन लोगों पर कम्युनिस्ट दमन के प्रत्यक्ष पीड़ितों की संख्या का अनुमान लगाया.[76][77] इस संख्या में वे लोग शामिल नहीं थे जो कम्युनिस्ट जेलों में अपने इलाज के परिणाम स्वरुप स्वतंत्रता में मारे गए, ना ही वे लोग शामिल थे जो देश की गंभीर आर्थिक परिस्थितियों के कारण मर गए.

वर्तमान लोकतंत्र[संपादित करें]

क्रांति के बाद, आयन लिस्क्यु के नेतृत्व में राष्ट्रीय मुक्ति मोर्चा ने आंशिक बहुदलीय लोकतंत्र और मुक्त बाजार के तरीके अपनाए.[78][79] युद्ध पूर्व क्षेत्र के कई मुख्य राजनैतिक दल जैसे क्रिश्चियन डेमोक्रेटिक नेशनल पीजेंट्स पार्टी, नेशनल लिबरल पार्टी और रोमानियाई सोशल डेमोक्रेट पार्टी को पुनर्जीवित किया गया. कई प्रमुख राजनीतिक रैलियों के बाद, अप्रैल 1990 में, विश्वविद्यालय स्क्वायर में हाल ही में आयोजित संसदीय चुनावों के परिणाम स्वरुप एक विरोध बैठक हुई, बुकेरेस्ट पर पूर्व साम्यवादियों और सेक्युरीटेट के सदस्यों से बने होने का आरोप लगाया गया. विरोध करने वाले लोग चुनाव के परिणामों को पहचान नहीं पाए, उन्हें अलोकतांत्रिक समझते रहे, और पूर्व उच्च श्रेणी के कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्यों को राजनीतिक जीवन से अपवर्जन के लिए कहा. विरोध तेजी से बढा और इसने एक बड़े पैमाने पर प्रदर्शन का रूप ले लिया, (जो गोलानिआड के रूप में जाना जाता है.) शांतिपूर्ण प्रदर्शन भड़क कर हिंसा में बदल गया, और जियू घाटी से कोयला खनिकों के हिंसक हस्तक्षेप के परिणामस्वरूप एक ऐसी घटना का जन्म हुआ जिसे जून 1990 के मिनेरिआड के रूप में याद किया जाता है.[80]

इसके बाद मोर्चे के विघटन से कई राजनैतिक दल उत्पन्न हुए, जिसमें रोमानियन डेमोक्रेट सोशल पार्टी (बाद में सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी), द डेमोक्रेटिक पार्टी और (अलायंस फॉर रोमानिया) शामिल हैं. 1990 से 1996 तक नियंत्रित रोमानिया के कई गठबंधन और सरकारें थीं, और आयन लिस्क्यु राज्य प्रमुख थे. तब से सरकार में तीन लोकतांत्रिक परिवर्तन हुए: 1996 में, लोकतांत्रिक-उदारवादी विपक्ष और इसके नेता एमिल कोंसटेंटीनेस्क्यु के पास शक्तियां आ गयीं; 2000 में सोशल डेमोक्रेट सत्ता में आ गया और लीस्क्यु एक बार फिर से राष्ट्रपति बना गए; और 2004 में ट्रायन बसेस्क्यु को राष्ट्रपति चुना गया, साथ ही एक चुनावी गठबंधन था जो जस्टिस एंड ट्रुथ अलायंस कहलाता था. सरकार एक बड़े गठबंधन से बनी थी जिसमें कंजर्वेटिव पार्टी और एथनिक हंगेरियन पार्टी भी शामिल थी.

शीत युद्ध के बाद रोमानिया ने पश्चिमी यूरोप के साथ घनिष्ठ संबंधों को विकसित किया, अंत में 2004 में NATO में शामिल हो गया, और बुकेरेस्ट के 2008 के शिखर सम्मलेन में मेजबानी की.[81] देश ने 1993 में यूरोपीय संघ की सदस्यता के लिए आवेदन किया, और 1995 में यूरोपीय संघ का एक सहयोगी राज्य बन गया, 2004 में स्वीकृत देश बन गया, और 1 जनवरी 2007 को एक सदस्य बन गया.[82]

इन्हें भी देखें: Accession of Romania to the European Union

शीत युद्ध के बाद की अवधि में और मुफ्त यात्रा समझौते के बाद और साथ ही 1990 के बाद आर्थिक मंदी के कारण जीवन की कठिनाई के चलते, रोमानिया में प्रवासियों की संख्या बहुत अधिक बढ़ गयी है, अनुमानतः यह संख्या 2 मिलियन लोगों से अधिक है. मुख्य उत्प्रवास लक्ष्य हैं ्पेन, इटली, जर्मनी, ऑस्ट्रिया, ब्रिटेन, कनाडा और अमरीका हैं.[83]

भूगोल[संपादित करें]

रोमानिया का स्थलाकृतिक नक्शा

2,38,391-वर्ग-कि.मी. (92,043 वर्ग मील)के सतह क्षेत्र के साथ, रोमानिया दक्षिणीपूर्वी यूरोप में सबसे बड़ा देश है और यूरोप में बारहवां सबसे बड़ा देश है.[84] सर्बिया और बुल्गारिया के साथ रोमानिया सीमा का एक बड़ा हिस्सा डेन्यूब से ही बना है. डेन्यूब प्रुट नदी से जुड़ा हुआ है, जो मोल्दोवा के गणराज्य के साथ सीमा बनाता है.[84] डेन्यूब बह कर काले सागर में जाती है, और रोमानिया के क्षेत्र में डेन्यूब डेल्टा का निर्माण करती है, जो यूरोप में दूसरा सबसे बड़ा और सबसे अच्छी तरह से संरक्षित डेल्टा है, साथ ही जैव मंडल का संरक्षित क्षेत्र और जैव विविधता की दृष्टि से विश्व का हेरिटेज स्थल है.[85] अन्य महत्वपूर्ण नदियां हैं सिरेट, जो मोल्दाविया से होकर उत्तर दक्षिण में बहती है, ऑल्ट, जो ओरियंटल कार्पेथियन पर्वत से ओलतेनिया को बहती है, और म्यूर्स, जो ट्रांसिल्वेनिया में से होकर पूर्व से पश्चिम की ओर बहती है.[84]

रोमानिया का इलाका मोटे तौर पर, पहाडों, पर्वतों और तराई प्रदेशों के बीच समान रूप से वितरित है, कार्पेथियन पर्वत रोमानिया के केंद्र पर है, इसकी चौदह पर्वत श्रृंखलाएं 2,000 मीटर से अधिक ऊंचाई तक पहुंचती हैं.[84] रोमानिया में उच्चतम पर्वत मोल्दोवेनु चोटी है (2,544 मी./8,350 फुट). दक्षिण-केन्द्रीय रोमानिया में, Bărăgan Plains की ओर कार्पेथियन पर्वत पहाडियों में बदल जाता है. रोमानिया की भौगोलिक विविधता में वनस्पतियों और पौधों की विविधता पायी जाती है.[84]

पर्यावरण[संपादित करें]

हिम नदी की झीलों के भीतर रेटजेट राष्ट्रीय उद्यान

देश की एक उच्च प्रतिशतता (भूमि क्षेत्र का 47%) प्राकृतिक और अर्द्ध प्राकृतिक पारिस्थितिकी तंत्रों से ढकी हुई है.[86] चूंकि रोमानिया में सभी वनों का लगभग आधा क्षेत्र (देश का 3%) उत्पादन के बजाय संरक्षण के लिए प्रबंधित किया गया है, रोमानिया के पास यूरोप में अनछुए वनों का सबसे बड़ा क्षेत्र है.[86] रोमानियाई वन पारिस्थितिकी प्रणालियों की अखंडता यूरोपीय वनों के जंतुओं की पूरी रेंज के द्वारा इंगित होती है, जिसमें यूरोपीय भूरे भालू और भेड़ियों का क्रमशः 60% ओर 40% शामिल है.[87] साथ ही रोमानिया में स्तनधारियों (जिनमें कार्पेथियन सांबर सबसे ज्यादा जाने जाते हैं), पक्षियों, सरीसृपों, ओर उभयचरों की लगभग 400 अनूठी प्रजातियां भी हैं.[88]

यहां रोमानिया के संरक्षित क्षेत्रों का लगभग 10,000 कि.मी. (3,900 वर्ग मील) (कुल क्षेत्र का लगभग पांच प्रतिशत) भाग है.[89] इनमें से डेन्यूब डेल्टा रिजर्व बायोस्फीयर यूरोप में सबसे बड़ा और कम से कम क्षतिग्रस्त आर्द्रभूमि परिसर है, जो के 5,800 कि.मी. (2,200 वर्ग मील)क्षेत्र को कवर करता है.[90] डेन्यूब डेल्टा की जैव विविधता के महत्व को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता दी गयी है. सितम्बर 1990 में इसे एक बायोस्फीयर रिजर्व घोषित किया गया, मई 1991 में एक रामसर साईट घोषित किया गया, और इसके पचास प्रतिशत से ज्यादा क्षेत्र को दिसम्बर 1991 में विश्व हेरिटेज सूची में रखा गया.[91] अपनी सीमाओं के भीतर यह दुनिया में सबसे व्यापक रीड बेड प्रणालियों में से एक है.[92] यहां दो अन्य जैवमंडल भण्डार हैं: रेटेजेट नेशनल पार्क और रोड़ना नेशनल पार्क.

वनस्पति और जंतु (फ्लोरा और फोना)[संपादित करें]

डेन्यूब डेल्टा में पेलिकन

रोमानिया में 3,700 पोधों की प्रजातियों को पहचाना गया है, जिसमें से 23 की घोषणा प्राकृतिक स्मारक के रूप में की गयी है, 74 प्रजातियां ल


सन्दर्भ त्रुटि: <ref> टैग मौजूद हैं, किन्तु कोई <references/> टैग नहीं मिला
सन्दर्भ त्रुटि: "note" नामक सन्दर्भ-समूह के लिए <ref> टैग मौजूद हैं, परन्तु समूह के लिए कोई <references group="note"/> टैग नहीं मिला। यह भी संभव है कि कोई समाप्ति </ref> टैग गायब है।