रुहोल्ला खोमैनी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(रुहोल्ला खोमैनि से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
यह लेख निर्वाचित लेख बनने के लिए परखने हेतु रखा गया है। अधिक जानकारी के लिए निर्वाचित लेख आवश्यकताएँ देखें।

अयातोल्ला अल-उज़्मा सायद रुहोल्ला मोसावि खोमैनी (फ़ारसीروح الله موسوی خمینی), (24 सप्तम्बर, 1902 – 3 जून, 1989) शिया मुसल्मान इमाम(अथवा मर्जा) थे । वे ईरान में जन्मे थे । ईरानी क्रान्ति के बाद, उन्होने ईरान में ग्यारह वर्ष शासन किया । वे 1979 से 1989 तक वे ईरान के रहबरे इंकिलाब रहे। उनको सन् १९७९ में टाइम पत्रिका ने साल के सबसे प्रभावशाली नेता के रूप में चुना था ।

भारतीय मूल के ब्रितानी लेखक सलमान रुश्दी के ख़िलाफ़ फतवा जारी करने और कई राजनैतिक क़ैदियों को मरवाने के आदेश भी उन्होंने ही दिए ।

मूल और आरंभिक जीवन[संपादित करें]

युवा रुहोल्ला

रुहोल्ला खोमैनि का जन्म खोमैन शहर में हुआ था । तेहरान के दक्षिण से खोमैन ३०० किमी था । उनके पिता का नाम अयतोल्ला सय्यद मुस्ताफ़ा मुसावि था और उनकी माँ का नाम हज्जे आघा खानुम था । रुहोल्ला सैय्यद थे, और उनका परिवार मुहम्मद का वंशज था वे अन्तिम इमाम (इमाम मूसा कानम) से थे । उनके दादा सैय्यद आख्मद मूसावि हिंदि, उत्तर प्रदेश के किन्तूर गांव में जन्मे थे । हिंदी 1834 में ईरान आए और 1939 में खोमैन में घर लिया । उनकी तीसरी पत्नी, सकिने ने, मुस्ताफ़ा को १८५६ में जन्म दिया । खोमैनि के नाना मिर्ज़ा आख्मद मोज्तहेद-ए-खोंसारी जी थे। मिर्ज़ा खोंसरी मध्य ईरान में बहुत अच्छे इमाम थे ।

मार्च 1903 में, पंच मास रुहोल्ला के जन्म के बाद , लोगों ने उसके पिता की हत्या कर दी[1] । रुहोल्ला की माँ व नानी ने उनको पाला। छठे साल से उनकी कुरान व फ़ारसी भाषा की शिक्षा शुरु हुई । उनकी प्रारंभिक शिक्षा मुल्ला अब्दुल कसीम व शैख जफ़्फ़र के साथ हुई । रुहोल्ला की माँ व नानी का तब देहान्त हो गया जब वे 15 वर्ष के थे । इसके बाद वे अयतोल्ला के साथ रहने लगे| जब वे 18 के हुए तो ईस्लामी शिक्षा प्राप्त करने के लिये अरक मादिसे में गये। उनके गुरु अयतोल्ला अब्दुल-करिम हैरि-यज़्दि थे ।

1921 में , अरक उंच्च मद्रसा, में उन्होने इस्लामी पढाई शुरु की । 1922 में उन्होने और उनके गुरु ने माद्रसा अरक छोड़ कर कोम में एक नया माद्रसा बनाया । खोमैनि ने दार-अल-शाफ़ा विद्यालय में पढाई की । इसके बाद नाजफ़, ईराक़ को चल दिये । पढाई के बाद वे फ़िख, फ़िलासफ़, सूफ़ी, व शरीअ को पढाया ।

खोमैनि ने शिक्षा में राजनीति व धर्म के साथ का समर्थन किया । उनका आदर्श शासन धर्मतंत्र था ।

राजनीति में[संपादित करें]

1961 में, अयतोल्ला सायद मुहाम्मद बुरुजेर्दी की मृत्यु हुई । एक साल के बाद अयतोल्ला अबोल-हशेम कशानी की मृत्य भी हो गयी । इस वक़्त , अयतोल्ला 60 वर्ष के हो गये थे । फिर उन्होने नेत्रित्व का मार्ग चुना , दो इमाम की मृत्य के बाद ईरान के शाह इमाम को यह रास नहीं था । इमामों को नाराज होता देख रेज़ा पहलवी का _____ को । पह्लवी के पुत्र मोहाम्मद रेज़ शा जी थे , उन्होने इंक़िलाब-ए-सफेद इमाम को परेशानियाँ दीं ।

इस्लामी क्रांति[संपादित करें]

The Imam arrives in Iran on February 1

संदर्भ[संपादित करें]

  1. (अंग्रेज़ी में) अयतोल्ल रुहोल्ला मुसावी खोमैनी - ईरान इतिहास परिषद

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]