रुपे कार्ड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

परिचय[संपादित करें]

रुपे कार्ड (अंग्रेज़ी: RuPay) स्वदेशी एटीएम कार्ड है। यह कार्ड स्वदेशी भुगतान प्रणाली पर आधारित है। इसे वीजा व मास्टर कार्ड की तरह प्रयोग किया जाता है। अभी देश में भुगतान के लिए वीजा व मास्टर कार्ड के डेबिट कार्ड तथा क्रेडिट कार्ड प्रचलन में हैं। ये कार्ड विदेशी भुगतान प्रणाली पर आधारित है। रुपे कार्ड को अप्रैल 2011 में विकसित गया था। इसे भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) ने विकसित किया है।[1]

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई)[संपादित करें]

एनपीसीआई भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा गठित संस्था हैं। रिजर्व बैंक ने वर्ष 2009 में इंडियन बैंक्स एसोसिएशन से गैर-लाभकारी कंपनी शुरू करने और वीजा तथा मास्टर कार्ड की तरह घरेलू स्तर पर एक कार्ड डिजाइन करने को कहा था।

प्रारंभ[संपादित करें]

In its Payment System Vision document 2009-12, the Reserve Bank had envisaged the possibility of launching a domestic card. Accordingly, NPCI was authorised for a pilot launch of RuPay debit card. The card has since been launched in March 2012. The RuPay card is meant to promote a payments and settlement platform for card transactions at a low processing fee, making it viable for smaller merchant establishments to accept card payments for even low-value transactions. This is expected to provide a further fillip to card transactions in the country, thereby reducing the use of currency.[2]


एनपीसीआई ने 14 मई 2011 को महाराष्ट्र में शहरी सहकारी क्षेत्र के गोपीनाथ पाटिल पर्तिक जनता सहकारी बैंक के साथ पहला रुपे कार्ड लाँच किया था। इसके बाद काशी-गोमती संयुक्त ग्रामीण बैंक (केजीएसजी) ने 24 मई 2011 में इस कार्ड को जारी किया था। एनपीसीआई ने अभी तक चार बैंकों को अपने साथ जोड़ा है। इनमें दो शहरी सहकारी बैंक, एक क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक और एक मुख्यधारा का वाणिज्यिक बैंक, बैंक ऑफ़ इंडिया है। इन बैंकों ने वित्तीय समावेशन के तहत जोड़े गए ग्राहकों को यह कार्ड जारी किया है। शीघ्र ही मुख्य धारा वाले अन्य बैंक भी इस कार्ड को जारी करेंगे। अभी यह कार्ड सीमित सेवाएँ दे रहा है। बाद में यह क्रेडिट कार्ड के रूप में भी जारी किया जाएगा। व्यावसायिक तौर पर जारी होने के बाद यह कार्ड वीजा और मास्टर कार्ड जैसी वैश्विक भुगतान प्रणाली की जगह ले लेगा। चीन भी इसी तरह का कार्ड `यूनियन पे ऑफ चाइना' के नाम से पहले ही विकसित कर चुका है।


संदर्भ[संपादित करें]

  1. http://rbi.org.in/Scripts/BS_SpeechesView.aspx?Id=594, Shri H. R. Khan, Deputy Governor, Reserve Bank of India
  2. Monetary Policy Statement 2012-13, Dr. D. Subbarao, Governor, Reserve Bank - http://rbi.org.in/Scripts/NotificationUser.aspx?Mode=0&Id=7136