रिसर्च एंड एनालिसिस विंग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
रिसर्च एंड एनालिसिस विंग
धर्मो रक्षति रक्षित:
धर्मो रक्षति रक्षित:
संस्था अवलोकन
स्थापना 21 सितंबर 1968
मुख्यालय नई दिल्ली, भारत
संस्था कार्यपालक संजीव त्रिपाठी, सचिव
मातृ संस्था प्रधानमंत्री का कार्यालय, भारत सरकार
अधीनस्थ संस्थान एविएशन रिसर्च सेंटर

द रेडियो रिसर्च सेंटर

द इलेक्ट्रानिक एंड टेक्नीकल सर्विसेस

नैशनल टेक्नीकल फैसेलिटीज़ ओर्गानिजेशन

स्पेशल फ्रंटियर फ़ोर्स

रिसर्च एंड एनालिसिस विंग या संक्षेप में रॉ (हिन्दी अनुवाद: अनुसंधान और विश्लेषण स्कंध)[1] भारत की अंतर्राष्ट्रीय गुप्तचर संस्था है। इसका गठन सितंबर १९६८ में किया गया था जब अन्वेषण ब्यूरो (जो पहले घरेलु व अंतर्राष्ट्रीय मामले संभालती थी) १९६२ के भारत-पाक युद्ध व १९५६ के भारत-पाकिस्तान युद्ध में अच्छी तरह कार्य नहीं कर पाई थी जिसके चलते भारतीय सरकार को एक ऐसी संस्था की ज़रूरत महसूस हुई जो स्वतन्त्र और सक्षम तरीके से बाहरी जानकारियाँ जमा कर सके।

रॉ का मुख्य कार्य जानकारी इकठ्ठा करना, आतंकवाद को रोकना व गुप्त ऑपरेशनों को अंजाम देना है। इसके साथ ही यह विदेशी सरकारों, कंपनियों व इंसानों से मिली जानकारी पर कार्य करना है ताकि भारतीय नीति निर्माताओं को सलाह दी जा सके।[2][3][4]

रॉ का मुख्यालय नई दिल्ली में है और इसके निदेशक संजीव त्रिपाठी है जो उत्तर प्रदेश में १९७३ के आईपीएस बैच के अधिकारी है।[5]

इतिहास[संपादित करें]

रिसर्च एंड एनालिसिस विंग के गठन से पहले विदेशी जानकारी को जमा करने का काम अन्वेषण ब्यूरो (आईबी) करती थी जिसे ब्रिटिशों ने बनाया था। १९३३ में विश्व में राजनैतिक अनिश्चितता को देखते हुए, जिसके चलते द्वितीय विश्व युद्ध की शुरुआत हुई, अन्वेषण ब्यूरो की ज़िम्मेदारिया बढ़ा दी गयीं ताकि भारत के सीमावर्ती इलाकों से जानकारी इकठ्ठा की जा सके। १९४७ में स्वतंत्रता के बाद संजीवी पिल्लई ने आईबी के प्रथम भारतीय निदेशक के रूप में भूमिका संभाली. ब्रिटिशों के जाने के बाद मनुष्यबल में आई गिरावट के कारण पिल्लई ने ब्यूरो को एमआई५ का अनुसरण करते हुए चलाने की कोशिश की। १९४९ में पिल्लई ने एक छोटे विदेशी जानकारियों के ऑपरेशन को शुरू किया परन्तु १९६२ के भारत-चीन युद्ध में अक्षमता सामने आई। विदेशी जानकारी की भारत-चीन युद्ध (अक्टूबर २०-नवंबर २१, १९६२) के दौरान नाकामयाबी के कारण प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु ने एक विदेशी गुप्तचर संस्था के गठन का आदेश दिया।[2][4] १९६५ के भारत-पाकिस्तान युद्ध के बाद भारतीय थल सेना के सचिव (चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ) जनरल जयंता नाथ चौधरी ने और अधिक जानकारी इकठ्ठा करने की ज़रूरत बताई।[2][3]

१९६२ के अंत में एक अलग स्वतन्त्र विदेशी गुप्तचर संस्था को बनाने की योजना आकार लेने लगी। १९६८ में इंदिरा गाँधी के प्रधानमंत्री बनने के बाद यह निश्चय किया गया की एक पूर्णतया अलग सुरक्षा संस्था की आवश्यकता है। आर.एन काओ,[6] जों उस वक्त अन्वेषण ब्यूरो के उपनिदेशक थे, ने एक नई संस्था का ढांचा पेश किया। काओ को भारत की पहली अंतर्राष्ट्रीय गुप्तचर संस्था, रिसर्च और एनालिसिस विंग, का सचिव बनाया गया। रॉ को योजनाबद्ध विदेशी जानकारी, मनुष्य व तकनीकी और डायरेक्टर-जनरल ऑफ मिलिट्री इंटेलिजंस के सामानांतर ज़िम्मेदारी सौंपी गई जिसमे सीमा पार की जानकारी इकठ्ठा करना शामिल है।[2][4]

भारतीय गुप्तचर संस्था का ढांचा।

रॉ ने अन्वेषण ब्यूरो के एक विभाग के रूप में २५० कार्यकर्ताओं के साथ २ करोड़ रूपए ($४४०,०००) के वार्षिक बजट पर काम करना शुरू किया। सत्तर के दशक की शुरूआत में इसका वार्षिक बजट बढ़ कर ३० करोड़ हो गया जब इसके कार्यकर्ताओं की संख्या कई हज़ार हो गई। १९७१ में काओ ने सरकार को एविएशन रिसर्च सेंटर (एआरसी) का गठन करने के लिए मन लिया। एआरसी का काम हवाई सर्वेक्षण करना था।[7] इसने भारतीय वायुसेना के पुराने टोही विमानों की जगह ले ली और १९७० के मध्य में रॉ ने एआरसी के ज़रिए चीनी और पाकिस्तानी सीमा के निकट के बंकरों के उच्च दर्जे के हवाई चित्र प्राप्त कर लिए। वर्तमान में रॉ का बजट $१५० मिलियन[8][9] से $३१ मिलियन तक चढ़ता उतरता रहता है।[10] धीरे धीरे वक्त के साथ द रेडियो रिसर्च सेंटर और इलेक्ट्रोनिक एंड टेक। सर्विसेस जैसी संस्थाएं रॉ में १९७० व १९९० में जुड गई। १९९० में स्पेशल फ्रंटियर फ़ोर्स रॉ की सशक्त बल बन गई और गोपनीय सैन्य अभियानों में सहकार्य प्रदान करने लगे। २००४ में भारतीय सरकार नैशनल टेक्नीकल फैसिलिटीज़ ऑर्गनैजेशन (राष्ट्रिय तकनिकी सहकार्य संस्था) का गठन किया जिसे माना जाता है की वह रॉ का ही एक विभाग है परन्तु अबतक इसकी विचार धारा गुप्त रही है। अबतक इसका कार्य गुप्त रखा गया है परन्तु यह माना जाता है की इसका कार्य जानकारी व चित्रों पर कई तकनीकों का उपयोग करके ध्यान रखना है।[2][3][3]

जोइंट इंटेलिजंस कमिटी (जीआईसी), जों कैबिनेट मंत्रियों के अंतर्गत आती है, का कार्य रॉ, अन्वेषण ब्यूरो व डिफेन्स इंटेलिजंस एजंसी (डीआईए) के बिच सहकार्य स्थापित करना व उनके द्वारा डी गई जानकारी का विश्लेषण करना है।[11] १९९९ में राष्ट्रीय सुरक्षा काउंसिल के गठन के साथ जेआईसी का कार्य इसके साथ जोड़ दिया गया है। रॉ का कानूनी स्तर काफ़ी उलझा हुआ है जिसके अनुसार यह एक "संस्था" नहीं बल्कि कैबिनेट का एक "विभाग" है और इसी वजह से रॉ भारतीय संसद को जवाबदार नहीं है और इसी कारण यह सुचना का अधिकार के अंतर्गत नहीं आती।[12][13]

उद्देश्य[संपादित करें]

वर्तमान में रॉ का उद्देश्य निचे दिए गए है[14], परन्तु इन तक सिमित नहीं है:

  • विदेशी सरकारों व सेना की गतिविधियों पर ध्यान रखना जिनसे भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा हो सकता है।
  • अंतर्राष्ट्रीय जनता के मन में भारत के प्रति जागरूकता निर्माण करना है।[2][3]

भारत-चीन युद्ध के बाद से भारत और पाकिस्तान के बिच की बिगड़ती स्तिथि के कारण रॉ के उद्देश्यों में यह भी शामिल हो गए है:

  • सोवियत संघचीन के बिच घट रही घटनाओं पर ध्यान रखना क्योंकि दोनों ही भारत की कम्युनिस्ट पार्टियों को प्रभावित करने में सक्षम है।
  • पाकिस्तान को ज़्यादातर यूरोपीय देशों, अमरीकाचीन से मिल रही सैन्य मदद को नियंत्रित करना।[2][3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. रमण, B. (7-3-2000). "साऊथ एशिया एनेलिसिस ग्रुप: पेपर्स: द कारगिल रिव्यू कमिटी रिपोर्ट". साऊथ एशिया एनेलिसिस ग्रुप. http://www.southasiaanalysis.org/%5Cpapers2%5Cpaper108.html. अभिगमन तिथि: 2009-09-28. 
  2. "B-Net:Reference Publications:India, Intelligence and Security:Encyclopedia of Espionage, Intelligence, and Security (2004)". Findarticles.com. 2009-06-02. http://findarticles.com/p/articles/mi_gx5211/is_2004/ai_n19126352/. अभिगमन तिथि: 2009-10-11. 
  3. "फेडरेशन ऑफ अमेरिकन साइंटिस्ट". Fas.org. http://www.fas.org/irp/world/india/raw/index.html. अभिगमन तिथि: 2009-10-11. 
  4. जॉन पाईक. "ग्लोबल सेक्युरिटी". ग्लोबल सेक्युरिटी. http://www.globalsecurity.org/intell/world/india/raw.htm. अभिगमन तिथि: 2009-10-11. 
  5. कुमार, विनय (2010-12-26). "संजीव त्रिपाठी टू हेड रॉ". द हिंदू (चेन्नई). http://www.thehindu.com/news/national/article979257.ece. 
  6. सेनिस, सुनील (मार्च–अप्रैल 2002). "मृत्युलेख:रामेश्वर नाथ काओ (1918-2002)". वोल्यूम 4(5) (भारत रक्षक मोनिटर). http://www.bharat-rakshak.com/MONITOR/ISSUE4-5/sainis.html. अभिगमन तिथि: 2009-09-28. 
  7. "द CIA's सीक्रेट वार इन तिब्बत". Vayu-sena.tripod.com. http://vayu-sena.tripod.com/other-cia-tibet-conboy.html. अभिगमन तिथि: 2009-09-28. 
  8. इण्डिया वि. पाकिस्तान last accessed on 11.04.2007
  9. द स्पिन एंड स्विंग ऑफ रॉ ओर्केस्ट्रा as accessed on 11.04.2007
  10. Henderson, Robert W.. ब्रसिज़ इंटरनैशनल इंटेलिजंस ईयरबुक 2003 संस्करण. ब्रसिज़ इंक. प॰ 78. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-57488-550-7. http://books.google.com/books?id=NEp9FjHckLYC. 
  11. Dixit, J. N. (Jyotindra Nath) (1996). My South Block years: memoirs of a foreign secretary. New Delhi: UBS Publishers' Distributors. प॰ 418. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7476-132-3. http://books.google.com/books?id=6lFuAAAAMAAJ. 
  12. सुचना के अधिकार का विभाग जिन्हें छुट दी गई है
  13. However notwithstanding that they are exempt from the Right to Information Act, Research and Analysis Wing (R&AW) has conveyed, in response to an RTI petition filed by Anuj Dhar, that they aren't holding any information on Subhas Chandra Bose RAW says no info on Netaji, but the slip shows
  14. रैना, असोका (1981). इनसाइड रॉ: द स्टोरी ऑफ इंडियाज़ सीक्रेट सर्विस. नई दिल्ली: विकास. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-7069-1299-9. http://books.google.com/books?id=0zYmAAAAMAAJ.