रतनपुर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
रतनपुर
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य छत्तीसगढ
ज़िला बिलासपुर
जनसंख्या १९,८३८ (२००१ के अनुसार )

Erioll world.svgनिर्देशांक: 22°18′N 82°10′E / 22.3, 82.17


रतनपुर छत्तीसगढ राज्य के बिलासपुर जिले का एक नगर पन्चायत है ।

इतिहास[संपादित करें]

रतनपुर राज और रायपुर राज क्रमशः शिवनाथ के उत्तर तथा दक्षिण में स्थित थे। प्रत्येक राज में स्पष्ट और निश्चित रूप अठारह-अठारह ही गढ़ होते थे। गढ़ों की संख्या अठारह ही क्यों रखी गई थी इसका निश्चित् पता तो नहीं है किन्तु रतनपुर में सन् 1114 में प्राप्त एक उल्लेख के अनुसार चेदि के हैहय वंशी राजा कोकल्लदेव के अठारह पुत्र थे और उन्होंने अपने राज्य को अठारह हिस्सों में बाँट कर अपने पुत्रों को दिया था। सम्भवतः उसी वंश परंपरा की स्मृति बनाये रखने के लिये राज को अठारह गढ़ों में बाँटा जाता रहा हो। प्रत्येक गढ़ में सात ताल्लुका और प्रत्येक ताल्लुका में कम से कम बारह गाँव होते थे। इस प्रकार प्रत्येक गढ़ में कम से कम चौरासी गाँव होना अनिवार्य था। ताल्लुका में गाँवों की संख्या चौरासी से अधिक तो हो सकती थी किन्तु चौरासी से कम कदापि नहीं हो सकती थी। चूँकि राज्य सूर्यवंशियों का था अतः सूर्य की साता किरणों तथा बारह राशियों को ध्यान में रख कर ताल्लुकों और गाँवों की संख्या क्रमशः सात और कम से कम बारह रखी गईं थी। इस प्रकार सर्वत्र सूर्य देवता का प्रताप झलकता था। [1]

भूगोल एवं जलवायु[संपादित करें]

तापमान: गर्मी में ४५ से २९ सेल्सिअस सर्दी में २७ से १० सेल्सिअस वर्षा लगभग १२० से मी (जुलाई से सितम्बर)

शिक्षा[संपादित करें]

  • शासकीय महामाया महाविद्यालय


दर्शनीय स्थल[संपादित करें]

  • महामाया मंदिर
  • काल-भैरव मंदिर
  • लखनी देवी मंदिर
  • वृद्धेश्वर नाथ मंदिर (बूढ़ा महादेव)
  • श्री गिरिजाबंध हनुमान मंदिर
  • रामटेकरी मंदिर

संदर्भ[संपादित करें]

  1. धान के देशो मे --रतनपुर राज और रायपुर राज