रघुवरन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
रघुवरन
जन्म 1958[1]
मृत्यु मार्च 19, 2008(2008-03-19) (उम्र 49)[1]
Chennai, Tamil Nadu, India
व्यवसाय Film actor
जीवनसाथी Rohini (divorced)
सन्तान 1 son

रघुवरन (मलयालम: രഘുവരന്‍; तमिल: ரகுவரன்; कन्नड़: ರಘುವರನ್; तेलुगू రఘువరన్) (1958 – 19 मार्च 2008)[1] एक भारतीय अभिनेता थे जिन्होंने मुख्य रूप से दक्षिण भारत में बनी फिल्मों में काम किया. वे तमिल फिल्मों में खलनायक और चरित्र-भूमिकाएं करने के कारण प्रसिद्ध हो गये. उन्होंने 150 से अधिक मलयालम, तमिल, तेलुगू, कन्नड़ और हिंदी फिल्मों में काम किया है. हिन्दुस्तान टाइम्स के अनुसार, "इस अभिनेता ने अपनी विशेष शैली और आवाज़ के साथ अपने लिए एक खास स्थान बना लिया था."[1]

एक तमिल धारावाहिक, ओरु मानिदानिन कदाई में वे नायक की भूमिका के लिए प्रसिद्ध हो गए थे, जिसमें एक भला आदमी शराबी बन जाता है. मलयालम फिल्म दैवातिन्टे विक्रितिकल में उनकी भूमिका के लिए उनकी बहुत प्रशंसा की गयी. इस फिल्म का निर्देशन लेनिन राजेंद्रन ने किया था और यह एम मुकुन्दन के इसी नाम के उपन्यास पर आधारित थी.

निजी जीवन[संपादित करें]

उनका जन्म 1958[1] में केरल के पलक्कड़ जिले में कोलेंगोड़े नामक स्थान में हुआ.[कृपया उद्धरण जोड़ें] वे श्री एन. राधा कृष्णा मेनन और सत्यवती अम्मा के पोते और श्री वेलायुद्धन और श्रीमती कस्तूरी के पुत्र थे.[कृपया उद्धरण जोड़ें]


वे कोयंबटूर में (सरकारी आर्ट्स कॉलेज) से अपनी बैचलर ऑफ आर्ट्स की शिक्षा प्राप्त कर रहे थे, जिसे बीच में ही छोड़ कर उन्होंने अभिनय के कैरियर की शुरुआत की. शुरू में उन्होंने मलयालम फिल्म उद्योग में काम करने की कोशिश की, परन्तु तभी उन्होंने यह जाना कि इसमें उन्हें ज्यादा फायदा नहीं होगा, और इस उद्योग में अपनी जगह बनाने के लिए पैसे की जरुरत है. उन्होंने कन्नड़ फिल्म स्वप्ना तिंगलगल में एक छोटी सी भूमिका के साथ शुरुआत की, जिसमें एक कन्नड़ अनुभवी कलाकार अम्ब्रारीश मुख्य भूमिका निभा रहे थे. उन्होंने तेलुगू और कन्नड़ फिल्मों में छोटी छोटी भूमिकाओं के साथ काम करना शुरू किया, इसमें उदय में दो मिनट का एक दृश्य भी शामिल है, जिसमें उन्होंने एक बलात्कारी की भूमिका निभाई थी. इस फिल्म में कन्नड़ अभिनेता विष्णुवर्धन ने मुख्य भूमिका निभाई थी.

1979 से 1983 तक उन्होंने चेन्नई में ड्रामा मंडली, चेन्नई किंग्स में काम किया, इसमें भी लोकप्रिय कन्नड़/तमिल अभिनेता नस्सर शामिल थे. उन्होंने एज़ावाथू मनिथन में एक भूमिका निभाई, यह उनकी अब तक की सबसे बड़ी भूमिका थी. उसके बाद वे सफलता पर सफलता प्राप्त करते चले गए.

उन्होंने मलयालम अभिनेत्री रोहिणी (मगलिर मट्टुम से प्रसिद्ध) से विवाह किया. उन्हें एक पुत्र है, जिसका नाम साईं ऋषिवरन है. बाद में यह दंपती अलग हो गया और उनके बीच तलाक हो गया.[1]

रघुवरन की कई बुरी आदतों ने उनके कैरियर को प्रभावित किया और उन्होंने बार बार अस्पतालों में रहना पडा.[2]

कैरियर[संपादित करें]

मंच पर शुरुआत के बाद, 1982 में रघुवरन ने तमिल फिल्म एलावाथू मानिथम (सेवन्थ मेन ) के साथ फिल्म जगत में प्रवेश किया.[2] तमिल, मलयालम और तेलुगू फिल्मों में उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए उन्हें कई राज्य स्तरीय और फिल्मफेयर पुरस्कारों से सम्मानित किया गया. उन्होंने तमिल में कई फिल्मों में एक सहायक अभिनेता के रूप में काम करते हुए अपने कैरियर की शुरुआत की थी.इसमें मणिरत्नम् की फिल्म अंजलि शामिल है, जिसमें उन्होंने एक स्वलीन बालक के पिता की भूमिका निभाई थी. एक सहायक अभिनेता के रूप में उनकी इस भूमिका को उनके सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शनों में से एक माना जाता है. हालांकि वह बाद में उन्होंने एक मंजे हुए खलनायक की यादगार भूमिकाएं निभायीं, जैसे बाशा में मार्क एंथोनी की भूमिका, मुधालवन में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री की भूमिका, शिवा और मुथु रजनीकांत के भतीजे इलेमरण की भूमिका. इसके बाद भी कभी कभी उन्होंने अलाई (सिम्बस का पिता), यारादी नी मोहिनी (धनुष का पिता), तिरुमलाई (विजय का मित्र और गुरु) और बाला (श्याम का गुरु) जैसी फिल्मों में पिता की या गुरु की सहायक भूमिकाएं निभाई.

उन्होंने कई हिंदी फिल्मों में भी अभिनय किया, जैसे कि लाल बादशाह .

रघुवरन की आवाज़ अद्वितीय है और कई बार इसकी नक़ल भी की गयी है. उन्होंने कई पुरस्कार भी जीते हैं.

रजनीकांत, जिन्होंने रघुवरन के साथ कई सफल फिल्मों में अभिनय किया है, उन्हें अपने लिए एक भाग्यशाली अभिनेता मानते है. रजनीकांत ने दावा किया कि फिल्म बाबा सफल नहीं हुई होती अगर रघुवरन ने इसमें काम नहीं किया होता.

बाद में फिल्म शिवाजी के लिए रजनीकांत ने निर्देशक एस. शंकर से कहा कि रघुवरन को भी इसमें कोई भूमिका दी जानी चाहिए; यह फिल्म बहुत अधिक सफल हुई.

मृत्यु[संपादित करें]

19 मार्च 2008 को सूर्य ग्रहण के दौरान सुबह 6 बजकर 15 मिनट पर दिल का दौरा पड़ने से रघुवरन की मृत्यु हो गई. ऐसा कहा जाता है कि लम्बे समय से बहुत अधिक शराब पीने के कारण उन्हें जिगर की बीमारी हो गई थी.[1] नींद में ही उनकी मृत्यु हो गई.

उनके निधन के समय वे कई फिल्मों में काम कर रहे थे, इनमें उंचे बजट की तमिल फिल्म कांथास्वामी शामिल थी. इसमें रघुवरनने दिए हुए अभिनय का उपयोग नहीं किया गया, उनकी जगह आशीष विद्यार्थी ने काम किया, जिसके कारण फिल्म की रिलीज़ में देरी हुई. उनकी मृत्यु से दक्षिण भारतीय फिल्म उद्योग को बहुत बड़ा झटका लगा.

फिल्मों की सूची[संपादित करें]

वर्ष फिल्म भूमिका नोट
2009 कोडिस्वरन मरणोपरांत फिल्म
देरी से बनी
2009 नलवरवु मरणोपरांत फिल्म
उनके दृश्यों को हटा दिया गया; दृश्य हटा दिए गए.
2009 कंदास्वामी मरणोपरांत फिल्म
उनके दृश्यों को हटा दिया गया; दृश्य हटा दिए गए
2009 मंजीरा
2008 अडडा ऐना अलकू मरणोपरांत फिल्म
2008 एल्लाम अवन सेयल मरणोपरांत फिल्म
2008 यारडी नी मोहिनी वासु के पिता मरणोपरांत फिल्म
2008 सिला नेरंगलिल कृष्णन
2008 तोडक्कम
2008 पेल्लिकनी प्रसाद गोपाल राव
2008 अशोका
2008 बीमा पेरियावर
2007 मरुदामलई सूर्या नारायणन
2007 शिवाजी: द बॉस डा. चेज़ीयन अतिथि उपस्थिति
2007 दीपावली डॉक्टर अतिथि उपस्थिति
2007 इवड़ते नकेंटी
2006 सिवापदिहारम इलांगो
2005 सचिन गोवथम (सचिन के पिता) अतिथि उपस्थिति
2004 दुर्गी
2004 मास सत्या
2004 जाना जाना के पिता
2003 तिरुमलई कलाकार
2003 आन्जनेया वेंकटेशवरन
2002 बाला
2002 अलाउदीन गंगाधर
2002 रन माधवन का बहनोई
2002 रोजा कूट्टम श्रीकांत के पिता
2002 दोस्त
2002 दया मेजर रुद्राया
2002 बॉबी
2002 रेड विकटन संपादक
2001 मजनू गजपति
2001 ग्रहण वकील रघु सिन्हा
2000 आज़ाद
2000 मुगवरी शिवा
2000 कंडुकुंडेन कंडुकुंडेन सौम्या का मालिक
2000 पार्तेन रसितेन पन्नीर
1999 निलावे वा
1999 एन स्वासा काट्रे प्रकाश राज के पिता
1999 अमरकलम तुलसी दास
1999 लाल बादशाह विक्रम सिंह उर्फ विक्की बादशाह
1999 मुदल्वन मुख्यमंत्री अरंगानाथान
1997 अनगनगा ओका रोजू
1997 अरुणाचलम विश्वनाथन
1997 आहा रघुराम
1997 लव टुडे डॉ. चंद्रशेखर
1997 नेर्रुक्कू नेर
1997 रट्चगन ईश्वर
1997 उल्लासम जे के विक्रम के पिता
1997 सुस्वागतम गणेश के पिता
1996 रक्षक
1995 तोट्टा चिनुन्गी गोपाल
1995 बाशा मार्क एंथनी
1995 मुत्तु राजशेखर
1994 कादलन मल्लिकार्जुन
1992 दैवातिन्टे विक्रितिकल
1992 सूर्या मानसम संपत्ति प्रबंधक
1990 अंजलि शेखर
1990 पुरियादा पुदिर
1990 इज्ज़तदार
1986 सम्सारम अदु मिन्सारम चिदंबरम
1989 राजा चिन्ना रोजा भास्कर
1989 लंकेश्वरुदू
1989 रुद्रनेत्रा
1989 शिवा भवानी
1988 एन बोम्मुकुट्टी अम्मावुक्कु एलेक्स
1988 अन्नानगर मुदल तेरू
1987 जेबू दोंगा
1987 पूविली वासलिले
1987 माइकल राज
1987 कूटू पुलुक्कल
1987 मक्कल एन पक्कम
1986 मिस्टर भरत
1983 ओड़ई नदियाकिरतु
1983 रुगमा
1982 पसिवादी प्रणाम वेणु
1982 एलावदु मनिदन

बाहरी लिंक[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]