रंगहीनता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(रंगहीनता (ऐल्बिनिज़म) से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Albinism
{{{other_name}}}
वर्गीकरण एवं बाह्य साधन
Albinisitic man portrait.jpg
आईसीडी-१० E70.3
आईसीडी- 270.2
ओएमआईएम 203100 103470, 203200, 606952, 203290, 203300, 203310, 256710, 278400, 214450, 214500, 220900, 300500, 300600, 300650, 300700, 600501, 604228, 606574, 606952, 607624, 609227
मेडलाइन प्लस 001479
ईमेडिसिन derm/12 
एम.ईएसएच D000417

रंगहीनता (ऐल्बिनिज़म) (लैटिन ऐल्बस, "सफ़ेद" से; विस्तारित शब्द व्युत्पत्ति देखें, इसे ऐक्रोमिया, ऐक्रोमेसिया, या ऐक्रोमेटोसिस (वर्णांधता या अवर्णता) भी कहा जाता है), मेलेनिन के उत्पादन में शामिल एंजाइम के अभाव या दोष की वजह से त्वचा, बाल और आँखों में रंजक या रंग के सम्पूर्ण या आंशिक अभाव द्वारा चिह्नित किया जाने वाला एक जन्मजात विकार है। ऐल्बिनिज़म, वंशानुगत तरीके से रिसेसिव जीन एलील्स को प्राप्त करने के परिणामस्वरूप होता है और यह मानव सहित सभी रीढ़धारियों को प्रभावित करता है। ऐल्बिनिज़म से प्रभावित जीवधारियों के लिए सबसे आम तौर पर इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द "रजकहीन जीव (एल्बिनो) " है। अतिरिक्त क्लिनिकल विशेषणों के तहत कभी-कभी जानवरों को संदर्भित करने के लिए "ऐल्बिनोइड" और "ऐल्बिनिक" शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है।

ऐल्बिनिज़म कई दृष्टि दोषों के साथ जुड़ा हुआ है, जैसे फोटोफोबिया (प्रकाश की असहनीयता), नीस्टैगमस (अक्षिदोलन) और ऐस्टिगमैटिज्म (दृष्टिवैषम्य). त्वचा रंजकता के अभाव में जीवधारियों में धूप से झुलसने और त्वचा कैंसर होने का खतरा अधिक होता है।

मानव में वर्गीकरण[संपादित करें]

मनुष्यों में ऐल्बिनिज़म की दो मुख्य श्रेणियाँ हैं:

  • रंजकता के अलग-अलग स्तरो वाले ओक्यूलोक्यूटेनियस ऐल्बिनिज़म टाइप्स 1-4 (इसके लैटिन से व्युत्पन्न नाम के बावजूद जिसका मतलब "आँख और त्वचा" रंगहीनता) में आँखों, त्वचा और बालों में रंजक का अभाव होता है। (गैर मानव जातियों में समान उत्परिवर्तन भी फर, खाल या पंख में मेलेनिन के अभाव का परिणाम है।) ओक्यूलोक्यूटेनियस ऐल्बिनिज़म ग्रस्त लोगों में या तो पूरी तरह से रंजक का अभाव हो सकता है या बहुत कम हो सकता है।
  • ऑक्यूलर ऐल्बिनिज़म में केवल आँखों में रंजक का अभाव होता है। ऑक्यूलर ऐल्बिनिज़म से पीड़ित लोगों की त्वचा और बालों का रंग आम तौर पर सामान्य होता है, हालाँकि सामान्यतः यह अभिभावकों से हल्का होता है। कई लोगों में आँख सामान्य ही लगती है। इसके अलावा, ऑक्यूलर ऐल्बिनिज़म आम तौर पर सेक्स से जुड़ा हुआ है, इसलिए पुरुषों पर इसका असर पड़ने की ज्यादा सम्भावना होती है। पुरुषों में अपने वंशानुक्रम से प्राप्त X पर रिसेसिव एलील्स को छिपाने के लिए अन्य X क्रोमोजोम (गुणसूत्र) का अभाव होता है।

अन्य दशाओं में उनके रंग-रूप के हिस्से के रूप में ऐल्बिनिज़म शामिल है। इनमें हर्मनस्की-पुड्लक सिंड्रोम, चेडियक-हिगाशी सिंड्रोम, ग्रिसेली सिंड्रोम, वार्डेनबर्ग सिंड्रोम और टिएट्ज सिंड्रोम शामिल हैं। इन दशाओं को कभी-कभी ऐल्बिनिज़म के साथ वर्गीकृत किया जाता है।[1] कईयों के उपप्रकार होते हैं। कुछ को उनके रंग-रूप से आसानी से पहचान लिया जाता है, लेकिन ज्यादातर मामलों में आनुवंशिक परीक्षण ही सटीक पहचान करने का एकमात्र तरीका होता है।

ऐल्बिनिज़म को पहले टायरोसिनेस-पॉजिटिव या -निगेटिव के रूप में वर्गीकृत किया जाता था। टायरोसिनेस-पॉजिटिव ऐल्बिनिज़म के मामलों में एंजाइम टायरोसिनेस मौजूद होता है। मेलेनोसाइट (रंगद्रव्य कोशिका) भिन्न-भिन्न कारणों में से किसी भी एक कारण से मेलेनिन का निर्माण करने में अक्षम होती है, जिसमें प्रत्यक्ष रूप से टायरोसिनेस एंजाइम शामिल न हो. टायरोसिनेस-निगेटिव से संबंधित मामलों में या तो टायरोसिनेस एंजाइम का निर्माण नहीं होता है या इसके गैर-क्रियाशील रूप का निर्माण होता है। हाल के अनुसंधानों में यह वर्गीकरण अप्रचलित हो गया है।[2]

संकेत व लक्षण[संपादित करें]

पापुआ न्यू गिनी की ऐलबिनिस्टिक लड़की

ज्यादातर रंजकहीन मनुष्य सफ़ेद या बिल्कुल पीले दिखाई देते हैं क्योंकि उनमें भूरे, काले और कुछ पीले रंगों के लिए जिम्मेदार मेलेनिन रंजक मौजूद नहीं होते हैं।

चूंकि ऐल्बिनिज़म ग्रस्त लोगों की त्वचा में आंशिक रूप से या पूरी तरह से गहरे रंजक मेलेनिन का अभाव होता है, जो त्वचा को सूर्य के पराबैंगनी विकिरण से रक्षा करने में मदद करता है, इसलिए उनकी त्वचा सूर्य की किरणों के अत्यधिक संपर्क में आने पर बड़ी आसानी से जल सकती है।[3]

मानव आँख में आम तौर पर आईरिस को रंग प्रदान करने के लिए पर्याप्त रंजक का निर्माण होता है और आँख को अपारदर्शिता प्राप्त होती है। हालांकि, ऐसे भी कुछ मामले सामने आते हैं जहां एक ऐलबिनिस्टिक व्यक्ति की आँखे लाल या बैंगनी दिखाई देती है, जो उनमें मौजूद रंजक के परिमाण पर निर्भर करता है। आँखों में रंजक या वर्णक के अभाव के परिणामस्वरूप फोटोसेंसिटिविटी से संबंधित और असंबंधित दृष्टि संबंधी समस्याएं भी पैदा होने लगती हैं।

ऐलबिनिस्टिक जीव आम तौर पर अन्य जीवधारियों की तरह स्वस्थ होते हैं (लेकिन नीचे दिए गए संबंधित विकारों को देखें) और उनमें वृद्धि और विकास संबंधी कार्य सामान्य रूप से होते हैं और स्वयं ऐल्बिनिज़म की वजह से मृत्यु नहीं होती है,[4] हालाँकि रंजक के अभाव से त्वचा कैंसर और अन्य समस्याओं के जोखिम में वृद्धि होती है।

दृश्य समस्याएं[संपादित करें]

ऑप्टिकल सिस्टम का विकास काफी हद तक मेलेनिन की मौजूदगी पर निर्भर करता है और ऐलबिनिस्टिक जीवधारियों में इस रंजक की कमी या अनुपस्थिति के फलस्वरूप निम्न समस्याएं पैदा हो सकती हैं:

  • रेटिनोजेनिक्यूलेट प्रोजेक्शन गलत अनुमार्गन जिसकी वजह से ऑप्टिक नर्व फाइबरों का डिक्यूजेशन (क्रॉसिंग) का परिणाम भुगतना पड़ता है।[3]
  • आँख के भीतर प्रकाश के विखराव की वजह से फोटोफोबिया और कम दृश्य तीक्ष्णता[3]
  • फोवियल हाइपोप्लेसिया की वजह से कम दृश्य तीक्ष्णता और संभवतः प्रकाश-प्रेरित रेटिनल क्षति[3]

ऐल्बिनिज़म में आम तौर पर देखी जाने वाली आँख की दशाओं में शामिल हैं:

  • नीस्टैगमस (अक्षिदोलन), आगे-पीछे या गोलाकार गति में आँखों की अनियमित तीव्र आंदोलन[3]
  • अपवर्तक त्रुटियाँ अजिसे मायोपिया या हाइपरोपिया और विशेष रूप से ऐस्टिगमैटिज्म[5]
  • ऐमब्लियोपिया, अक्सर स्ट्राबिस्मस (तिर्यकदृष्टि) जैसे अन्य दशाओं की वजह से मस्तिष्क तक खराब संचरण की वजह से एक या दोनों आँखों की तीक्ष्णता में कमी[3]
  • ऑप्टिक नर्व हाइपोप्लेसिया, ऑप्टिक तंत्रिका का अल्प विकास

मेलेनिन के अभाव की वजह से खराब तरीके से विकसित रेटिनल पिगमेंट एपिथेलियम (आरपीई) की वजह से ऐल्बिनिज़म से जुडी कुछ दृश्य समस्याएं पैदा होती हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें] इस विकृत आरपीई (RPE) की वजह से फोवियल हाइपोप्लेसिया (सामान्य फोविया के विकास में विफलता) का परिणाम भुगतना पड़ता है, जिसके परिणामस्वरूप एक्सेंट्रिक फिक्सेशन (उत्केंद्री स्थिरीकरण) और कम दृश्य तीक्ष्णता और अक्सर तिर्यकदृष्टि के एक लघु स्तर का परिणाम देखना पड़ता है।

आईरिस रंजक ऊतक से बना एक स्फिन्क्टर है जो पुतली से होकर गुजरने वाली प्रकाश की मात्रा को सीमित करके रेटिना की रक्षा करने के लिए, उज्जवल प्रकाश के संपर्क में आँख के आने पर सिकुड़ जाता है। कम प्रकाश स्थितियों में आईरिस आँख में अधिक प्रकाश प्रवेश करने की अनुमति प्रदान करने के लिए ढीला हो जाता है। ऐलबिनिस्टिक विषयों में आईरिस में प्रकाश को रोकने के लिए पर्याप्त रंजक नहीं होता है जिससे पुतली के व्यास में कमी केवल आंशिक रूप से आँख में प्रवेश करने वाली प्रकाश की मात्रा को कम करने में कामयाब है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] इसके अतिरिक्त, आरपीई (RPE) का अनुचित विकास जो सामान्य आँखों में ज्यादातर परावर्तित सूर्य के प्रकाश को अवशोषित कर लेता है, आँख के भीतर प्रकाश के विखराव की वजह से चमक में और वृद्धि करता है।[6] परिणामी संवेदनशीलता (फोटोफोबिया) के फलस्वरूप आम तौर पर उज्जवल प्रकाश में बेचैनी का एहसास होता है, लेकिन इसे धूप में इस्तेमाल किए जाने वाले चश्मों और/या किनारेदार टोपियों के इस्तेमाल से कम किया जा सकता है।[2]

आनुवांशिकी[संपादित करें]

ऐल्बिनिज़म के ज्यादातर रूप किसी व्यक्ति के दोनों माता-पिता से होकर गुजरने वाले आनुवंशिक रिसेसिव एलील्स (जींस) के जैविक विरासत का परिणाम है, हालाँकि कुछ दुर्लभ रूप केवल एक माता या पिता से विरासत में प्राप्त होता है। कुछ अन्य आनुवंशिक उत्परिवर्तन हैं जिनके ऐल्बिनिज़म से संबंधित होने की बात साबित हुई है। हालांकि सभी परिवर्तनों के फलस्वरूप शरीर में मेलेनिन के निर्माण में बदलाव आता है।[4][7]

ऐल्बिनिज़मग्रस्त या ऐल्बिनिज़मरहित किसी जीवधारी की जोड़ी से ऐल्बिनिज़मग्रस्त संतान की उत्पत्ति की सम्भावना कम होती है। हालाँकि चूंकि जीवधारी किसी लक्षण का प्रदर्शन किए बिना ऐल्बिनिज़म के लिए जीन (genes) के वाहक हो सकते हैं, इसलिए गैर-ऐलबिनिस्टिक माता-पिता द्वारा ऐलबिनिस्टिक संतान की उत्पत्ति हो सकती है। ऐल्बिनिज़म आमतौर पर दोनों लिंगों में समान आवृत्ति के साथ होती है।[4] इसका एक अपवाद ऑक्यूलर ऐल्बिनिज़म है जो X-लिंक्ड विरासत के माध्यम से संतान में चले जाते हैं। इस प्रकार, ऑक्यूलर ऐल्बिनिज़म ज्यादातर पुरुषों में होता है क्योंकि केवल एक-एक X और Y क्रोमोजोम होता है जबकि महिलाओं में दो X क्रोमोजोम होते हैं।[8]

ऐल्बिनिज़म के दो अलग रूप हैं; मेलेनिन के आंशिक अभाव को हाइपोमेलेनिज्म या हाइपोमेलेनोसिस और मेलेनिन की सम्पूर्ण अनुपस्थिति को ऐमेलेनिज्म या ऐमेलेनोसिस के नाम से जाना जाता है।

डायग्नोसिस (रोग की पहचान)[संपादित करें]

आनुवंशिक परीक्षण से ऐल्बिनिज़म और इसकी भिन्नता की पुष्टि हो सकती है लेकिन गैर-ओसीए (OCA) विकारों (नीचे देखें) के मामलों को छोड़कर अन्य कोई चिकित्सीय लाभ प्राप्त नहीं होता है, जिसकी वजह से अन्य चिकित्सीय समस्याओं के साथ-साथ ऐल्बिनिज़म भी होता है जिसका इलाज किया जा सकता है। ऐल्बिनिज़म के लक्षणों का इलाज नीचे विस्तारपूर्वक बताए गए विभिन्न तरीकों के माध्यम से किया जा सकता है।

उपचार[संपादित करें]

आँख संबंधी समस्याओं के इलाज में ज्यादातर दृश्य पुनर्वास शामिल होता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] नीस्टैगमस, स्ट्राबिस्मस और सामान्य अपवर्तक त्रुटियों जैसे ऐस्टिगमैटिज्म को कम करने के लिए ऑक्यूलर मांसपेशियों पर सर्जरी करना संभव है।[3] स्ट्राबिस्मस सर्जरी से आँखों के रूप-रंग में सुधार किया जा सकता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] आँखों के आगे-पीछे "हिलने" की समस्या को कम करने के लिए नीस्टैगमस-डैम्पिंग सर्जरी भी की जा सकती है।[9] इन सभी प्रक्रियाओं की प्रभावकारिता में काफी अंतर होता है और वह व्यक्तिगत परिस्थितियों पर निर्भर करता है। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि चूंकि सर्जरी से किसी सामान्य आरपीई (RPE) या फोविया को पुनर्स्थापित नहीं किया जा सकता है, इसलिए सर्जरी से बेहतर द्विनेत्री दृष्टि प्राप्त नहीं हो सकती है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] एसोट्रोपिया (स्ट्राबिस्मस का "क्रॉस्ड आईज" रूप) के मामले में सर्जरी द्वारा दृश्य क्षेत्र (वह क्षेत्र जिसे आँखे किसी एक बिंदु पर देखने के दौरान देख सकती हैं) का विस्तार करके दृष्टि में मदद मिल सकती है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

चश्मा और अन्य दृष्टि सहायक सामग्री, बड़े अक्षरों में मुद्रित सामग्रियां और सीसीटीवी (CCTV) के साथ-साथ उज्जवल लेकिन तिरछी रिडींग लाईट से ऐल्बिनिज़म ग्रस्त व्यक्तियों को मदद मिल सकती है, हालांकि उनकी दृष्टि को पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता है। कुछ ऐल्बिनिज़म ग्रस्त लोग बाइफोकल (एक मजबूत रीडिंग लेंस के साथ), प्रेस्क्रिप्शन रीडिंग ग्लास और/या हाथ से पकड़कर इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरणों जैसे मैग्नीफायर या मोनोक्यूलर (एक अतिसरल टेलीस्कोप) का इस्तेमाल करना अच्छी तरह देख सकते हैं।[2] आईरिस के माध्यम से प्रकाश के संचरण को अवरुद्ध करने के लिए कॉन्टेक्ट लेंसों को रंग किया जा सकता है। लेकिन नीस्टैगमस के मामले में आँखों के हिलने-डुलने की वजह से होने वाली जलन की वजह से ऐसा करना संभव नहीं है। कुछ बायोप्टिक्स नामक चश्मों का इस्तेमाल करते हैं जहां उनके नियमित लेंसों पर, में या उसके पीछे छोटे-छोटे टेलीस्कोप लगे होते हैं जिससे वे या तो नियमित लेंस के माध्यम से या टेलीस्कोप के माध्यम से देख सकें. बायोप्टिक्स के नए डिजाइनों में छोटे और हल्के लेंसों का इस्तेमाल किया जाता है। कुछ अमेरिकी राज्यों में मोटर वाहनों को चलाने के लिए बायोप्टिक टेलीस्कोपों के इस्तेमाल की अनुमति है। (एनओएएच बुलेटिन "लो विज़न एड्स" अर्थात् कम दृष्टि सहायक भी देखें.)

अभी भी विशेषज्ञों के बीच विवाद का विषय होने के बावजूद[कौन?] कई ओप्थाल्मोलॉजिस्ट (नेत्र रोग विज्ञानी) आँखों के सर्वोत्तम संभावित विकास की दृष्टि से एकदम बचपन से ही चश्मों का इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं।

एपीडेमियोलॉजी (महामारी विज्ञान)[संपादित करें]

सभी जाति के लोगों पर ऐल्बिनिज़म का प्रभाव पड़ता है और मनुष्यों में इसके होने की आवृत्ति के अनुमान के अनुसार हर 20,000 में से लगभग 1 व्यक्ति में यह पाया जाता है।[10][11]

समाज और संस्कृति[संपादित करें]

बाहिया कार्निवल के दौरान एफ्रो-ब्राजील के लोगों की एलबिनो प्राइड परेड

शारीरिक दृष्टि से ऐल्बिनिज़म ग्रस्त मनुष्यों को आम तौर पर दृष्टि संबंधी समस्याएँ होती हैं और उन्हें सूर्य संरक्षण की जरूरत पड़ती है। लेकिन वे सामाजिक और सांस्कृतिक चुनौतियों (और खतरों का भी) का भी सामना करते हैं क्योंकि उनकी यह हालत अक्सर उपहास, भेदभाव का कारण बनती है, या यहाँ तक की डर और हिंसा के नज़रिये से भी उसे देखा जाता है। दुनिया भर की संस्कृतियों में ऐल्बिनिज़म ग्रस्त लोगों के बारे में तरह-तरह की आस्थाओं का विकास हुआ है। इस लोकसाहित्य में हानिरहित मिथक से लेकर खतरनाक अन्धविश्वास भी शामिल है, जो मानव जीवन को प्रभावित करते हैं। सांस्कृतिक चुनौतियों की उम्मीद ज्यादातर उन क्षेत्रों में की जा सकती है जहाँ पीली त्वचा और हल्के बालों वाले लोगों की संख्या जातीय बहुतमत की औसत फेनोटाइप से अधिक होती है।

अफ़्रीकी देशों जैसे तंजानिया[12] और बुरुंडी[13][14] में हाल के वर्षों में ऐलबिनो लोगों को जादू-टोने से संबंधित हत्याओं में अभूतपूर्व वृद्धि देखी गई है। इसका कारण यह है कि ऐलबिनो लोगों के शरीर के अंगों का इस्तेमाल जादू-टोना करने वालों द्वारा बेचीं जाने वाली दवाओं में की जाती है। इक्कीसवीं सदी के दौरान अफ्रीका में कई प्रमाणीकृत घटनाएं घटी हैं।[15][16][17][18] उदाहरण के लिए, तंजानिया में, सितम्बर 2009 में, तीन लोगों पर जादू-टोने संबंधी प्रयोजनों के लिए बेचने के लिए एक चौदह वर्षीय ऐलबिनो बच्चे की हत्या करने और उसके पैर काटने का आरोप लगाया गया था।[19] तंजानिया और बुरुंडी में 2010 में एक जारी समस्या के हिस्से के रूप में अदालतों से एक अपहृत ऐलबिनो बच्चे की हत्या और अंगच्छेदन की खबर मिली है।[13]

अन्य उदाहरण: जिम्बाब्वे में किसी ऐलबिनिस्टिक महिला के साथ सेक्स करने से एचआईवी ग्रस्त पुरुष के ठीक होने की आस्था के फलस्वरूप बलात्कार (और उसके बाद एचआईवी संक्रमण) जैसे अपराध हुए हैं।[20]

कुछ जातीय समूहों और द्वीपीय क्षेत्रों में संभवतः आनुवंशिक कारकों (सांस्कृतिक परम्पराओं द्वारा प्रबलित) की वजह से ऐल्बिनिज़म के प्रति अत्यधिक संवेदनशीलता देखी गई है। इसमें उल्लेखनीय रूप से शामिल हैं: मूल अमेरिकी कुना और जूनी राष्ट्र (क्रमशः पनामा और न्यू मेक्सिको से); जापान, जिसमें ऐल्बिनिज़म का एक विशेष रूप असामान्य रूप से आम है; और यूकेरीव द्वीप, जहां के लोगों में ऐल्बिनिज़म के होने की बहुत ज्यादा घटना का पता चलता है।[21]

कई ऐल्बिनिज़म ग्रस्त लोग मशहूर भी हुए हैं, जिनमें कुछ ऐतिहासिक हस्तियाँ जैसे जापान का सम्राट सेईनेई और ऑक्सफोर्ड डॉन विलियम आर्कीबाल्ड स्पूनर; एक्टर-कॉमेडियन विक्टर वर्नाडो; संगीतकार जैसे जॉनी और एडगर विंटर, सलिफ केईटा, विंस्टन "यलोमैन" फ़ॉस्टर, ब्रदर अली, सिवुका, विली "पियानो रेड" पेरीमैन; और फैशन मॉडल कॉनी चिऊ भी शामिल हैं।

कुछ ऐलबिनो पशु भी मशहूर हुए हैं जिनमें ऑस्ट्रेलिया के तट का मिगालू नामक एक हम्पबैक व्हेल; बार्सिलोना के चिड़ियाघर से स्नोफ्लेक नामक एक गोरिल्ला; ब्रिस्टल चिड़ियाघर का स्नोड्रॉप नामक एक पेंगुइन; लुइसियाना का एक गुलाबी डॉल्फिन; और जेम्सटाउन, एनडी[22] का एक ऐलबिनो भैंस जिसे माहपिया स्का के नाम से जाना जाता है जो व्हाईट क्लाउड का सिउक्स है; और स्पर्म व्हेल मोचा डिक भी शामिल हैं, जो हर्मन मेलविल के उपन्यास मॉबी-डिक की प्रेरणा स्रोत है।

अन्य जानवरों में[संपादित करें]

ऐल्बिनिज़म ग्रस्त कई जानवरों में रक्षात्मक छलावरण का अभाव होता है, जिसकी वजह से वे अपने शिकारियों या शिकारों से खुद को छिपाने में अक्षम हो जाते हैं; जंगलों में ऐल्बिनिज़म ग्रस्त जानवरों के जीवित रहने की सम्भावना काफी कम होती है।[23][24] हालांकि ऐलबिनो जानवरों की विलक्षणता को देखते हुए उन्हें समय-समय पर ऐलबिनो स्क्विरल प्रिजर्वेशन सोसाइटी जैसे समूहों का संरक्षण प्राप्त हुआ है।

आंशिक ऐल्बिनिज़म में त्वचा पर केवल एक या एक से अधिक धब्बे होते हैं जिनमें मेलेनिन का अभाव होता है। खास तौर पर ऐलबिनिस्टिक पक्षियों और सरीसृपों में उनके पूरे शरीर पर या धब्बे के रूप में लाल और पीले रंग या अन्य रंग मौजूद रह सकते हैं (जैसा कि कबूतरों में आम तौर पर देखने को मिलता है), क्योंकि अन्य रंजकों की मौजूदगी ऐल्बिनिज़म की वजह से अप्रभावित रह जाती है, जैसे प्रोफिरिंस, टेरिडिंस और सिटेसिंस के साथ-साथ आहार से उत्पन्न कैरोटेनोइड रंजक.

कुछ जानवरों में ऐल्बिनिज़म जैसी अवस्थाओं का असर अन्य रंजकों या रंजक निर्माण प्रक्रियाओं पर पड़ सकता है:

  • "सफ़ेद चेहरा" जो एक ऐसी दशा है जो तोते की कुछ प्रजातियों को प्रभावित करती है जो सिटेसिंस के अभाव की वजह से होता है।[25]
  • ऐक्संथिज्म एक ऐसी अवस्था है जो सरीसृपों और उभयचरों में आम है जिसमें मेलेनिन के संश्लेषण के बजाय जैंथोफोर चयापचय प्रभावित होती है जिसके परिणामस्वरूप लाल और पीले टेरिडीन रंजक कम या अनुपस्थित हो जाते हैं।[26]
  • ल्यूसिज्म ऐल्बिनिज़म से अलग है जहां कम से कम मेलेनिन आंशिक रूप से अनुपस्थिति होता है लेकिन आँखों का सामान्य रंग बना रहता है। कुछ ल्यूसिस्टिक जानवर क्रोमेटोफोर (रंजक कोशिका) दोष की वजह से सफ़ेद या हल्के रंग के होते हैं और उनमें मेलेनिन का अभाव नहीं होता है।
  • मेलेनिज्म ऐल्बिनिज़म का बिल्कुल उल्टा है। असामान्य रूप से अत्यधिक मात्रा में मेलेनिन रंजक (और कभी-कभी उन प्रजातियों में अन्य प्रकार के रंजकों की अनुपस्थिति जिनमें एक से अधिक रंजक होते हैं) की उपस्थिति के परिणामस्वरूप रंग-रूप एक ही जेनेपूल की गैर-मेलेनिस्टिक नमूनों की तुलना में अधिक गहरा या गाढ़ा होता है।[27]

कुछ पशु प्रजातियों से जानबूझकर उत्पन्न की जाने वाली ऐलबिनिस्टिक नस्लों का इस्तेमाल आम तौर पर जैव चिकित्सीय अध्ययन और प्रयोग में मॉडल जीवधारियों के रूप में किया जाता है, हालाँकि कुछ शोधकर्ताओं का तर्क है कि वे हमेशा सर्वोत्तम विकल्प साबित नहीं होते हैं।[28] उदाहरणों में बीएएलबी/सी चूहे और विस्टर और स्प्रेग डाव्ले चूहे की नस्ल शामिल हैं, जबकि ऐलबिनो खरगोशों का इस्तेमाल ऐतिहासिक तौर पर ड्रेज विषाक्तता परीक्षण के लिए किया जाता था।[29] फल मक्खियों में पीला उत्परिवर्तन उनका ऐल्बिनिज़म रूप है।

अण्डों को भारी धातुओं (आर्सेनिक, कैडमियम, तांबा, पारा, सेलेनियम, जस्ता) के संपर्क में लाकर मछलियों में ऐल्बिनिज़म की घटना को कृत्रिम रूप से बढ़ाया जा सकता है।[30]

ऐलबिनो जानवर की आँखे लाल दिखाई देती हैं, क्योंकि अन्तर्निहित रेटिनल रक्त वाहिकाओं में लाल रक्त कोशिकाओं का रंग वहां से होकर दिखाई देता है जहां इसे अस्पष्ट बनाने के लिए कोई रंजक नहीं होता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • लोकप्रिय संस्कृति में एल्बिनिज़म
  • ऐल्बिनिज़म-बहरापन सिंड्रोम
  • विटिलिगो (या ल्यूकोडर्मा) त्वचीय रंजकता की धीरे-धीरे हानि
  • पीबाल्डिज्म, त्वचीय रंजकता की अपूर्ण हानि और जमाव
  • जैंथोक्रोमिज्म और एग्जैंथिज्म, क्रमशः असामान्य पीली रंजकता और पीली रंजकता का अभाव.
  • एरिथ्रिज्म, असामान्य रूप से लाल रंजकता
  • नेवस, या पैदाइशी निशान
  • मानव भिन्नता
  • त्वचा संबंधी दशाओं की सूची
  • मानव में मेंडेलियन लक्षणों की सूची

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "ILDS - ICD10". http://web.ilds.org/icd10_list.php?VIEW=1&START_CODE=E70.3&START_EXT=14. 
  2. "फैक्ट्स एबाउट ऐल्बिनिज़म", डॉ॰रिचर्ड किंग आदि द्वारा.
  3. Chen, Harold (2006). Atlas of genetic diagnosis and counseling. Totowa, NJ: Humana Press. pp. 37–40. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-58829-681-4. http://books.google.com/?id=2VcdAXJ_dZkC&pg=PA36&dq=Albinism&q=Albinism. अभिगमन तिथि: 22 July 2010. 
  4. "ऐल्बिनिज़म" डॉ॰रेमंड ई. बोइसी, डॉ॰जेम्स जे. नोर्डलुंड, आदि, ईमेडिसिन पर, 22 अगस्त 2005 31 मार्च 2007 को प्राप्त किया गया।
  5. Carden SM, Boissy RE, Schoettker PJ, Good WV (February 1998). "Albinism: modern molecular diagnosis". The British Journal of Ophthalmology 82 (2): 189–95. doi:10.1136/bjo.82.2.189. PMC 1722467. PMID 9613388. 
  6. "ऐल्बिनिज़म—रिव्यू ऑफ ऑप्टोमैट्री ऑनलाइन".
  7. ऑनलाइन मेंडेलियन इनहेरिटेंस इन मैन , जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी पर (इस स्रोत की अधिक जानकारी के लिए मेंडेलियन इनहेरिटेंस इन मैन को भी देखें).
  8. "सेक्स-लिंक्ड रिसेसिव", चाड हेल्डमैन-एंगलर्ट, एमडी, डिवीजन ऑफ ह्यूमन जेनेटिक्स, चिल्ड्रेन हॉस्पिटल ऑफ फिलाडेल्फिया, फिलाडेल्फिया, पीए
  9. Lee J (May 2002). "Surgical management of nystagmus". Journal of the Royal Society of Medicine 95 (5): 238–41. doi:10.1258/jrsm.95.5.238. PMC 1279676. PMID 11983764. 
  10. McHugh, Michael P.; MacKenzie, Leslie; David Arwine; Edward J. Shewan (2005). Biology: A Search For Order In Complexity. Christian Liberty Pr. pp. 87. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-930367-92-9. http://books.google.com/?id=khEUYMtmuOQC&pg=PA87&dq=Albinism+frequency&q=Albinism%20frequency. अभिगमन तिथि: 22 July 2010. 
  11. Diseases and Disorders. New York (Box 410, Freeport, NY 11520): Marshall Cavendish Corporation. 2007. pp. 29. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7614-7770-5. http://books.google.com/?id=-HRJOElZch8C&pg=PA29&dq=Albinism+epidemiology&q=Albinism%20epidemiology. अभिगमन तिथि: 22 July 2010. 
  12. "Africa | Living in fear: Tanzania's albinos". BBC News. 2008-07-21. http://news.bbc.co.uk/1/hi/world/africa/7518049.stm. अभिगमन तिथि: 27 February 2010. 
  13. http://www.bbc.co.uk/news/world-africa-11614957
  14. "Africa | Burundian albino murders denied". BBC News. 2009-05-19. http://news.bbc.co.uk/1/hi/world/africa/8057956.stm. अभिगमन तिथि: 27 February 2010. 
  15. "Africa | Man 'tried to sell' albino wife". BBC News. 2008-11-13. http://news.bbc.co.uk/1/hi/world/africa/7726743.stm. अभिगमन तिथि: 27 February 2010. 
  16. "Africa | Tanzania albinos targeted again". BBC News. 2008-07-27. http://news.bbc.co.uk/1/hi/world/africa/7527729.stm. अभिगमन तिथि: 27 February 2010. 
  17. Ntetema, Vicky (2008-07-24). "Africa | In hiding for exposing Tanzania witchdoctors". BBC News. http://news.bbc.co.uk/1/hi/world/africa/7523796.stm. अभिगमन तिथि: 27 February 2010. 
  18. "Africa | Mothers hacked in albino attacks". BBC News. 2008-11-14. http://news.bbc.co.uk/1/hi/world/africa/7730193.stm. अभिगमन तिथि: 27 February 2010. 
  19. "Death for Tanzania albino killers". BBC News. 2009-09-23. http://news.bbc.co.uk/1/hi/world/africa/8270446.stm. अभिगमन तिथि: 27 February 2010. 
  20. Machipisa, Lewis. "RIGHTS-ZIMBABWE: The Last Minority Group to Find a Voice". Inter Press Service News Agency. IPS-Inter Press Service. http://ipsnews.net/interna.asp?idnews=14122. अभिगमन तिथि: 30 January 2010. 
  21. Anon (2009). "Ukerewe Albino Society". southern-africas-children.org.uk/. Southern Africas Children. http://www.southern-africas-children.org.uk/ukerewe-albino.html. अभिगमन तिथि: 21 July 2010. 
  22. "Rare Pink Dolphin Seen in Louisiana Lake - Science News | Science & Technology | Technology News". FOXNews.com. 2007-07-03. http://www.foxnews.com/story/0,2933,287938,00.html. अभिगमन तिथि: 27 February 2010. 
  23. आईआईओ हिलेर, एल्बिनोज. यंग नेचुरललिस्ट . लुईस लिंडसे मेरिक टेक्सास इनवायरमेंट्ल सीरिज. संख्या 6, पीपी. 28-31. टेक्सास एएंडएम (A&M) युनिवर्सिटी प्रेस, कॉलेज स्टेशन (1983)
  24. Dobosz, ByS; Kohlmann, K.; Goryczko, K.; Kuzminski, H. (July 2008). "Growth and vitality in yellow forms of rainbow trout". Journal of Applied Ichthyology 16 (3): 117–20. doi:10.1111/j.1439-0426.2000.00147.x (inactive 2010-02-16). 
  25. "दी पारब्लू पज़ल: पार्ट 4-कॉमन परब्लू वैराईटीज़: दी कॉकटेल [निम्फिक्स हॉलेंडिक्स "] क्लाइव हेस्फोर्ड, दी जेनेटिक्स ऑफ कलर इन दी बडरिगार्ड एंड अदर पैरोट्स, जनवरी 1998
  26. "एम्फ़िबियन बायोलाजी एंड फिजियोलॉजी: कॉडाटा " एम्फ़िबियन इन्फोर्मेशन रिसोर्सेस: एन एजुकेशनल वेब प्रोजेक्ट एबाउट एम्फ़िबियन स्पिशिज़ ; सॉर्सड दिसम्बर 2006, वास्तविक संलेखन/प्रकाशन तिथि अनिर्दिष्ट.
  27. "फेदर कलर्स: वॉट वी सी" अमेरिकन म्यूजियम ऑफ नेचुरल हिस्ट्री (एनवाई) के डॉ॰ जूली फेनस्टेन द्वारा, बिर्डर्स वर्ल्ड मैंगनीज में ऑनलाइन आर्चीव; सॉर्सड दिसंबर 2006, वास्तविक संलेखन/प्रकाशन तिथि अनिर्दिष्ट.
  28. Creel D (June 1980). "Inappropriate use of albino animals as models in research". Pharmacology, Biochemistry, and Behavior 12 (6): 969–7. doi:10.1016/0091-3057(80)90461-X. PMID 7403210. 
  29. Draize, J.H., Woodard, G. and Calvery, H.O. (1944). "Methods for the study of irritation and toxicity of substances applied topically to the skin and mucous membranes". J. Pharmacol. and Exp. Therapeutics. 82: 377–390. 
  30. Brito, Marcelo F. G. de; Caramaschi, ÉRica P. (2005). "An albino armored catfish Schizolecis guntheri (Siluriformes: Loricariidae) from an Atlantic Forest coastal basin". Neotropical Ichthyology 3. doi:10.1590/S1679-62252005000100009. 

बाह्य कड़ियां[संपादित करें]